home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Emanzen D: इमान्जेन डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन|डोसेज|उपयोग|साइड इफेक्ट्स|सावधानी और चेतावनी|रिएक्शन|स्टोरेज
Emanzen D: इमान्जेन डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन

इमान्जेन डी (Emanzen D) कैसे काम करता है?

इमान्जेन डी टेबलेट 50 और 10 एमजी में मौजूद है। इसमें डिक्लोफेनाक और सिरोटिपिप्टीडेज पाया जाता है। इस दवा का इस्तेमाल व्यस्कों में एक्यूट पेन का इलाज करने के लिए किया जाता है। डिक्लोफेनाक का सेवन करने से शरीर में होने वाले सूजन के साथ दर्द कम होता है। वहीं सिरोटिपिप्टीडेज (Serratiopeptidase) प्रोटीन को तोड़कर दर्द और जलन को कम करने में मदद करता है। कंपोजिशन की बात करें तो इसमें डिक्लोफेनाक 50 एमजी होता है वहीं सिरोटिपिप्टीडेज की मात्रा 10 एमजी होती है। इसे ऑस्टियोअर्थराइटिस, संधिशोथ और एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के कारण कोमलता, कठोरता और सूजन को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है।

डोसेज

इमान्जेन डी (Emanzen D) का सामान्य डोज क्या है?

डॉक्टर के सुझाए अनुसार ही दवा का सेवन करना चाहिए। इसे चाहे तो खाना के साथ या फिर पानी के साथ सेवन कर सकते हैं, लेकिन समय और डोज को लेकर डॉक्टर से बात करना जरूरी हो जाता है। वहीं उनके सुझाए अनुसार ही दवा का सेवन करना चाहिए। डॉक्टर मरीज की सेहत के साथ उम्र व अन्य कंडीशन को ध्यान में रखते हुए डोज का निर्धारण करते हैं।

ओवरडोज होने पर क्या करना चाहिए?

सुझाए गई खुराक से यदि आप ज्यादा सेवन कर लेते हैं तो जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। नहीं तो इमरजेंसी तक की जरूरत पड़ सकती है।

इमान्जेन डी (Emanzen D) का डोज मिस होने पर क्या करना चाहिए?

यदि दवा का सेवन करना भूल जाए तो जरूरी है कि जितना जल्दी आपको याद आए दवा का सेवन करें। अगर अगली डोज का समय हो गया है तो छूटी हुई खुराक को छोड् दें और निर्धारित दूसरी खुराक का सेवन करें। डबल डोज का सेवन भूलकर भी न करें।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : Unienzyme: युनिएंजाइम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

उपयोग

इमान्जेन डी (Emanzen D) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

डॉक्टरी सलाह के बाद ही दवा का सेवन करना चाहिए। डॉक्टर ने जितनी खुराक बताई है उतना ही सेवन करें। एक बार में ज्यादा खुराक का सेवन करना फायदेमंद नहीं होता है बल्कि जब तक डॉक्टर ने दवा के सेवन के लिए कहा है उसे फॉलो करना फायदेमंद होता है। आप चाहे तो दवा का सेवन खाने के साथ या फिर बिना भोजन के कर सकते हैं। खाने के साथ यदि दवा का सेवन करें तो इसे स्टमक इरीटेशन जैसी परेशानी से बच सकते हैं। वहीं दवा के दुष्प्रभाव दिखाई देने पर जरूरी है कि जितना जल्दी संभव हो डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। बिना डॉक्टरी सलाह लिए दवा का सेवन बंद नहीं करना चाहिए।

इमान्जेन डी टेबलेट का इन बीमारियों में होता है इस्तेमाल

  • कम से लेकर ज्यादा दर्द के लिए: इस दवा इस्तेमाल स्पोर्ट्स इंजुरी के साथ स्प्रेंस और स्ट्रेस का इलाज करने के लिए किया जाता है।
  • माइग्रेन : माइग्रेन की बीमारी में होने वाले दर्द से निजात दिलाने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है।
  • बरसाइटिस (Bursitis): जोड़ों के दर्द और सूजन की समस्या से निजात दिलाने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है।
  • टेंडिनिटिस : हड्डियों और मांसपेशियों से जुड़े टिशू में होने वाले दर्द और सूजन को कम करने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है।
  • डिसमेनोरोइया :पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से महिलाओं को निजात दिलाने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है। इससे मरीज को काफी राहत मिलती है।

और पढ़ें : Caripill: कैरिपिल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

साइड इफेक्ट्स

इमान्जेन डी (Emanzen D) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस दवा का सेवन करने से विभिन्न प्रकार के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। जैसे ;

और पढ़ें : Urimax: यूरिमैक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

सावधानी और चेतावनी

इमान्जेन डी (Emanzen D) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

कई परिस्तिथियों में इस दवा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए या फिर डॉक्टरी सलाह लेने के बाद ही मरीज को इस दवा को देना चाहिए।

  • एलर्जी : ऐसे मरीज जिनको डेक्लोफेंस, एनएसएआईडी, सेराटीपर्प्टीडेज (serratiopeptidase) और अन्य प्रोटियोलिटिक दवाओं से एलर्जी होती है। ऐसे लोगों को इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • पेप्टिक अल्सर : ऐसे मरीज जो पेप्टिक अल्सर की बीमारी से ग्रसित होते हैं उन्हें भी इस दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दवा का सेवन करने से उनकी स्थिति और गंभीर हो सकती है।
  • प्रेग्नेंसी : इस दवा का इस्तेमाल गर्भवती महिलाओं को तब तक नहीं करना चाहिए जब तक जरूरी न हो जाए। डॉक्टर से सलाह लेकर इसके रिस्क व बेनिफिट्स के बारे में चर्चा करना उचित होता है।
  • ब्रेस्टफीडिंग : शिशु को दूध पिलाने वाली महिलाओं को यह दवा नहीं दी जाती है। क्योंकि इसके सेवन से दुष्परिणाम सामने आ सकते हैं। डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही दवा दी जाती है, वो भी एकदम जरूरी कंडिशन में। इसलिए जरूरी है कि दवा का सेवन करने के पूर्व डॉक्टर से सलाह लेकर इसके रिस्क व बेनिफिट्स के बारे में चर्चा कर लें।
  • दिल पर असर : दिल के मरीजों को काफी सावधानीपूर्वक इस दवा का सेवन करना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि इसका सेवन करने से दुष्प्रभाव हो सकता है। खासतौर पर तब जब कोई इस दवा का लंबे समय तक इस्तेमाल करें।
  • कोरोनरी आर्टरी बाइपास सर्जरी : कोरोनरी आर्टरी बाइपास सर्जरी से पहले और बाद में इस दवा का इस्तेमाल दर्द मिटाने के लिए कतई नहीं करना चाहिए। संभावनाएं रहती है कि इस दवा का सेवन करने से समस्या और बढ़ न जाए।
  • गेस्ट्रो इंटेस्टायनल ब्लीडिंग : लंबे समय तक यदि इस दवा का इस्तेमाल किया जाए तो गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग की संभावनाएं रहती हैं। बुजुर्ग व्यक्ति जो गेस्ट्रोइंटेस्टायनल डिजीज से ग्रसित होते हैं यदि वे इस दवा का सेवन करें तो उनकी स्थिति और विकट हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि डॉक्टर से बात कर दवा के इस्तेमाल को लेकर डोज एडजस्टमेंट किया जाए और इस दवा की बजाय दूसरे विकल्पों का इस्तेमाल किया जाए वहीं समय-समय पर डॉक्टरी सलाह ली जाए।
  • लंबे समय तक इस्तेमाल के लिए : बता दें कि चार सप्ताह से ज्यादा समय के लिए इस दवा के इस्तेमाल की सलाह नहीं दी जाती है। एक्सपर्ट का मानना है कि ऐसा करने से दवा के विपरीत असर दिखने लगते हैं।
  • सर्जरी : यदि आने वाले 10 से 14 दिनों में सर्जरी होने वाली है तो ऐसे में इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसका सेवन करने से साइड इफेक्ट की संभावनाएं रहती हैं। इसलिए जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह ली जाए।
  • लिवर डिजीज : डॉक्टरी सलाह को अपनाते हुए एकदम जरूरी केस में ही लिवर डिजीज से ग्रसित मरीजों को इस दवा के सेवन की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दवा के सेवन से साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। वहीं समय-समय पर लिवर फंक्शन का टेस्ट किए जाने के साथ डोज एडजस्टमेंट किया जाना जरूरी होता है। वहीं मरीज की स्थिति को भांपते हुए जरूरत पड़ने पर इस दवा के वैकल्पिक दवाओं के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है।
  • किडनी डिजीज : डॉक्टरी सलाह को अपनाते हुए जरूरी केस में ही किडनी डिजीज से ग्रसित मरीजों को इस दवा के सेवन की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दवा के सेवन से साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। वहीं समय- समय पर किडनी फंक्शन का टेस्ट किए जाने के साथ डोज एडजस्टमेंट किया जाना जरूरी होता है। मरीज की स्थिति को भांपते हुए जरूरत पड़ने पर इस दवा के वैकल्पिक दवाओं के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें : Ondem: ओंडम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

रिएक्शन

कौन-सी दवाइयां इमान्जेन डी (Emanzen D) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

वैसे तो अलग-अलग लोगों पर हर दवा अलग तरीके से रिएक्शन करती है। दवा का सेवन करने के पूर्व डॉक्टरी सलाह ली जाए, वहीं यदि आप किसी बीमारी को लेकर पहले से किसी दवा का सेवन करते हैं या फिर हर्बल प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं तो उचित यही होगा कि डॉक्टरी को इस बारे में पूरी जानकारी दी जाए।

इमान्जेन डी इन दवाओं के साथ कर सकती है रिएक्शन

  • मिथोट्रोक्सेट (Methotrexate)
  • रेमिप्रिल (Ramipril)
  • एस्पीरिन(Aspirin)
  • एडेफोविर (Adefovir)
  • एपिक्साबेन (Apixaban)
  • कीटोरेलेक (Ketorolac)

इन बीमारियों के साथ इमान्जेन डी (Emanzen D) कर सकती है रिएक्शन

लोग जिन्हें अस्थमा, फ्लूड रिटेंशन और एडीमा है। साथ ही जो लोग गेस्ट्रो इंटेस्टेनियल टॉक्सिटी, स्किन रैश, इम्पेयर्ड किडनी फंक्शन, हार्ट अटैक और स्ट्रोक की बीमारी के साथ ब्लीडिंग डिसऑर्डर की बीमारी से ग्रसित होते हैं उन्हें दवा का सेवन करने के पूर्व डॉक्टरी सलाह जरूरी होती है। क्योंकि संभावनाएं काफी ज्यादा रहती हैं कि इन बीमारियों से ग्रसित व्यक्तियों को यदि यह दवा दी जाए तो रिएक्शन हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि यदि आप भी इन बीमारियों से ग्रसित हैं तो डॉक्टर सलाह लेकर ही इलाज कराएं।

और पढ़ें : Ciplox 500: सिप्लोक्स 500 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

स्टोरेज

इमान्जेन डी (Emanzen D) को कैसे स्टोर करूं?

दवा को घर में सामान्य रूम टेंप्रेचर पर ही रखें। कोशिश करें कि उसे सूर्य कि किरणों से बचाकर रखें। 25 डिग्री तापमान दवा के लिए बेस्ट है, लेकिन फ्रीज में रखने की गलती कतई न करें। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह दवा सामान्य रूप से काम नहीं कर पाएगी। इसके अलावा इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। एक्सपायरी होने के पहले ही दवा का सेवन करें, लंबे समय तक सेवन करना हो तो डॉक्टरी सलाह लें।

इमान्जेन डी (Emanzen D) किस रूप में उपलब्ध है?

टेबलेट

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए डॉक्टरी सलाह लें। ।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Heptacalcium;zinc/ https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/compound/72941625#section=Top / Accessed 8 June 2020

Diclofenac/ https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/compound/3033 / Accessed 8 June 2020

Diclofenac/ https://medlineplus.gov/druginfo/meds/a689002.html / Accessed 8 June 2020

TOXNET HAS MOVED/ https://www.nlm.nih.gov/toxnet/index.html / Accessed 8 June 2020

Diclofenac sodium enteric-coated tablets/ https://www.accessdata.fda.gov/drugsatfda_docs/label/2011/019201s039s040lbl.pdf / Accessed 8 June 2020

लेखक की तस्वीर badge
Satish singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड