Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    फंक्शन

    ग्लिजिड एम (Glizid M) काम कैसे करता है?

    ग्लिजिड एम (Glizid M) टैबलेट दो जेनेरिक फॉर्मूला से मिल कर बनी होती है- ग्लिक्लाजिड 40mg और मेटफॉर्मिन 500mg से मिल कर बना होता है। ये दवा ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए टाइप 2 डायबिटीज के मरीज को दी जाती है। इस दवा के साथ डॉक्टर पेशेंट को एक हेल्दी लाइफस्टाइल फॉलो करने की सलाह देते हैं, जिससे मरीज की सेहत में सकारात्मक प्रभाव देखा जा सकता है। मेटफॉर्मिन आंतों में ग्लूकोज के अवशोषण को कम करता है और इंसुलिन के स्रावण पर जोर देता है। ग्लिक्लाजिड पैनक्रियाज को स्टीम्यूलेट करता है और इंसुलिन के लेवल को बढ़ाता है। ग्लिक्लाजिड और मेटफॉर्मिन का कॉम्बिनेशन ब्लड शुगर लेवल के कम करके डायबिटीज के मरीज के जीवन को आसान बनाता है।

    और पढ़ें : Prolomet XL: प्रोलोमेट एक्सएल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    डोसेज

    इस दवा के डोज के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। बिना डॉक्टर के परामर्श के आपको किसी भी दवा का सेवन नहीं करना चाहिए।

    ग्लिजिड एम (Glizid M) की खुराक मिस हो जाए तो क्या करें?

    ग्लिजिड एम (Glizid M) की खुराक अगर छूट जाए या मिस हो जाए तो जितनी जल्दी आपको याद आ सके, उतने जल्दी ही आपको दवा का सेवन कर लेना चाहिए। अगर आपके नेक्स्ट डोज का वक्त हो गया है तो मिस हुई डोज को छोड़ दें। लेकिन दवा का डबल डोज एक साथ ना लें। इससे आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

    अगर गलती से आपने इस टैबलेट का ओवर डोज ले लिया है तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। किसी भी दवा का ओवरडोज होना खुद में एक मेडिकल इमरजेंसी हो सकती है।

    और पढ़ें : Mucopain gel: म्यूकोपेन जेल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    उपयोग

    ग्लिजिड एम (Glizid M) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

    ग्लिजिड एम (Glizid M) दवा का सेवन खाना खाने के बाद अपने डॉक्टर के परामर्श के अनुसार पानी के साथ ले सकते हैं। डॉक्टर के द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन दवा के डोज लेते समय जरूर करना चाहिए। वहीं इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि डॉक्टर के द्वारा बताए गए डोज से न कम और न ही ज्यादा मात्रा का सेवन करना चाहिए। वहीं, इस दवा का सेवन करने के बाद रिएक्शन हो सकता है। इसके अलावा कोई स्वास्थ्य समस्या भी हो सकती है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर के पास जा कर अपना इलाज कराना चाहिए। वहीं दवा का सेवन बिना डॉक्टर से पूछे बंद ना करें। डॉक्टर से पूछने के बाद और जांच के बाद ही दवा के डोज को बंद करें।

    इस दवा का उपयोग इस स्वास्थ्य समस्या के इलाज के लिए किया जाता है :

    टाइप 2 डायबिटीज

    इस टैबलेट का उपयोग एक निर्धारित डायट और एक्सरसाइज के साथ टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति के द्वारा किया जाता है। डॉक्टर मरीज को दवा के साथ डायट और एक्सरसाइज व हेल्दी लाइफस्टाइल के बारे में बताते हैं।

    और पढ़े : Ethamsylate: इथामसाइलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    साइड इफेक्ट्स

    ग्लिजिड एम (Glizid M) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    इस दवा का सेवन करने से निम्न साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जैसे :

    सावधानी और चेतावनी

    ग्लिजिड एम (Glizid M) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

    कब इस दवा का सेवन न करें?

    एलर्जी

    अगर आपको ग्लिक्लाजिड और मेटफॉर्मिन के कॉम्बिनेशन से एलर्जी हो तो इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि इससे आपको सेहत संबंधी समस्या हो सकती है।

    टाइप 1 डायबिटीज मेलिटस

    ये टैबलेट कभी भी टाइप 1 डायबिटीज मेलिटस से ग्रसित व्यक्ति को नहीं दिया जाता है। क्योंकि ये उनके लिए प्रभावी साबित नहीं होता है।

    डायबिटिक किटोएसिडोसिस

    डायबिटिक किटोएसिडोसिस से ग्रसित व्यक्ति को ये दवा डॉक्टर कभी भी नहीं देते हैं। डायबिटिक किटोएसिडोसिस से ग्रसित व्यक्ति के लिए ये दवा खतरनाक साबित हो सकती है। ये दवा मरीज की स्थिति को बदतर कर सकती है।

    हिपैटिक इम्पेयरमेंट

    अगर आपको लिवर से जुड़ी कोई भी समस्या है तो आप इस टैबलेट का प्रयोग ना करें। इस टैबलेट के इस्तेमाल से लिवर इंजरी हो सकती है। मरीज की स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है। अगर आपको लिवर से संबंधित कोई भी समस्या महसूस हो तो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

    किडनी इम्पेयरमेंट

    अगर आपको किडनी से जुड़ी कोई भी बीमारी है तो आप इस टैबलेट का सेवन ना करें। इससे आपकी स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है। अगर आप किडनी का कोई टेस्ट कराने के लिए जा रहे हैं तो इस दवा का सेवन बिल्कुल ना करें। अगर आपको किडनी की कोई भी समस्या है तो दवा को लेने से पहले डॉक्टर को जरूर बता दें।

    मेटैलिक एसिडोसिस

    इस दवा को मेटैलिक एसिडोसिस से पीड़ित व्यक्ति को नहीं दिया जाता है। इससे उसकी तबीयत और ज्यादा बिगड़ सकती है।

    डायबिटिक प्री-कोमा और कोमा

    डायबिटिक प्री-कोमा और कोमा से ग्रसित व्यक्ति को भी इस दवा का सेवन नहीं करने के लिए कहा जाता है। क्योंकि ये दवा टाइप-2 डायबिटीज वाले मरीजों कि लिए होती है।

    और पढ़ें : Caldikind Plus: कैलडिकाइंड प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ग्लिजिड एम (Glizid M) को लेना सुरक्षित है?

    कोई भी डॉक्टर इस टैबलेट को प्रेग्नेंसी में तब तक लेने की सलाह नहीं देते हैं, जब तक कि बहुत जरूरी ना हो। जिससे मां और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए परेशानी पैदा हो सकती है। वहीं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे बच्चे में कई तरह से साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

    इसके अलावा अन्य स्थितियों में भी सावधानी बरतनी चाहिए :

    ड्राइविंग या हैवी मशीन ऑपरेशन

    अगर इस सिरप का सेवन कर के आप ड्राइविंग या हैवी मशीन चलाते हैं तो ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। क्योंकि दवा के सेवन के बाद ऊपर बताए गए साइड इफेक्ट्स, जैसे- बेहोशी, चक्कर आना, सिरदर्द इनमें से कोई भी लक्षण महसूस हो सकते हैं। ऐसे में सही यही होगा कि सिरप का सेवन करने के बाद ना तो ड्राइविंग करें और ना ही कोई हैवी मशीन ऑपरेट करें।

    हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycemia)

    हाइपोग्लाइसीमिया ऐसी स्थिति है, जिसमें ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है। जैसा कि पहले ही बताया गया है कि ग्लिजिड एम (Glizid M) टैबलेट ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। इस स्थिति में ये टैबलेट लेने से हाइपोग्लाइसीमिया से ग्रसित मरीज का ब्लड शुगर लेवल और ज्यादा कम हो सकता है। ये स्थिति उसके लिए जानलेवा साबित हो सकती है।

    स्ट्रेस

    अगर कोई मरीज कुछ कारणों से तनाव से गुजर रहा है, तो इस दवा का सेवन बंद कर देना चाहिए। जैसे- ट्रामा, सर्जरी, एक्सीडेंट या बुखार आदि। इस स्थिति में ये दवा ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में असमर्थ साबित हो सकती है। इसलिए इन स्थितियों में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

    डायरिया

    दवा लेने के शुरुआती दिनों में आपके डायरिया हो सकता है। ज्यादातर मामलों में पाया गया है कि ये दवा डायरिया का कारण बन सकती है। इसके अलावा अगर आप इस दवा का सेवन ज्यादा दिनों तक करने के लिए सोच रहे हैं तो अपने डॉक्टर से इस समस्या के बारे में जरूर बात कर लें।

    बच्चों के लिए हानिकारक

    ये दवा बच्चों के लिए सही नहीं होती है। 18 साल या उससे कम उम्र के बच्चे को इस दवा के सेवन से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

    लैक्टिक एसिडोसिस

    अगर आपको लैक्टिक एसिडोसिस की समस्या है तो आपके लिए इस दवा का सेवन जानलेवा साबित हो सकता है। ये दवा लैक्टिक एसिडोसिस के साथ हार्ट डिजीज, किडनी डिजीजी से ग्रसित लोगों के लिए काफी घातक साबित हो सकती है। ऐसे में अगर आपकों इनमें से कोई भी समस्या है तो आप अपने डॉक्टर को जरूर बताएं।

    और पढ़ें : Cifran CTH : सिफ्रान सीटीएच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    रिएक्शन

    कौन-सी दवाइयां ग्लिजिड एम (Glizid M) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

    यूं तो हर दवा हर व्यक्ति पर अलग-अलग तरह से रिएक्ट करती है। इस दवा को लेने से पहले भी इसके रिएक्शन को लेकर डॉक्टर से सलाह मशवरा जरूर कर लें।

    क्या ग्लिजिड एम (Glizid M) भोजन या शराब के साथ रिएक्शन करती है?

    ये दवा भोजन के साथ रिएक्ट करती है या नहीं, अभी तक इसकी कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

    शराब के साथ इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा शराब के साथ अगर गलती से आपने इस दवा का सेवन कर लिया है तो कुछ स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर से मिलें।

    और पढ़ें : Librium 10: लिब्रियम 10 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    इन दवाओं के साथ हो सकता है रिएक्शन

    इन बीमारियों के साथ भी इस दवा के रिएक्शन की संभावनाएं हैं

    हार्ट डिजीज

    ग्लिजिड एम (Glizid M) हार्ट डिजीज, ब्लड वेसेल्स आदि की समस्या से पीड़ित व्यक्ति के लिए सही दवा नहीं है। ये दवा हार्ट पेशेंट की तबीयत को और ज्यादा बिगाड़ सकती है। इसलिए अगर आप हार्ट के पेशेंट हैं तो डॉक्टर से इस दवा के सेवन से पहले जरूर पूछ लें।

    हिमोलिटिक एनीमिया

    हिमोलिटिक एनीमिया या G6PD डेफिसिएंसी होने पर भी इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि ये ब्लड शुगर लेवल को कम करता है, जिससे हिमोलिटिक एनीमिया में मरीज की स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है।

    विटामिन बी12 डेफिसिएंसी

    इस दवा के सेवन से विटामिन बी12 डेफिसिएंसी के मरीज द्वारा लिए जाने वाले सप्लीमेंट और दवाओं के सेवन के साथ रिएक्शन हो सकता है। इसलिए अपने डॉक्टर के परामर्श पर ही इस दवा का सेवन करें।

    स्टोरेज

    ग्लिजिड एम (Glizid M) को कैसे स्टोर करें?

    ग्लिजिड एम (Glizid M) को रूम टेंप्रेचर में ही रखें, कोशिश करें कि उसे डैरेक्ट सन लाइट में ना रखें यानी कि धूप से बचाकर रखें। ग्लिजिड एम (Glizid M) को फ्रिज में नहीं रखना चाहिए। इसके अलावा इसे बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से दूर रखें। ग्लिजिड एम (Glizid M) एक्सपायर होने के पहले ही इसका सेवन कर लें, वहीं अगर टैबलेट का लंबे समय तक सेवन करना हो तो डॉक्टर का सलाह जरूर लें। दवा एक्सपायर हो जाए तो उसे कैसे डिस्पोज करना है उसको लेकर फॉर्मासिस्ट से सलाह लेनी चाहिए। टैबलेट के रैपर को डस्टबिन में डिस्पोज करें ताकि बाद में इसे रिसाइकिल किया जा सके।

    किस रूप में उपलब्ध है?

    ये टैबलेट के रूप में उपलब्ध है।

    उम्मीद है कि ये आर्टिकल आपके लिए बहुत मददगार होगा। इस आर्टिकल में बताए गए सभी दिशा-निर्देशों के बाद भी अपने डॉक्टर के द्वारा सलाह दिए जाने पर ही इस टैबलेट का सेवन करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 04/07/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement