आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date फ़रवरी 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

शरीर के अन्य अंगों की तरह आंखे भी बेहद महत्वपूर्ण हैं। लेकिन,आंखों का कमजोर होना या खराब होना बहुत ही सामान्य है। आजकल छोटे-छोटे बच्चों की आंखे भी जल्दी खराब हो जाती हैं। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे पढ़ाई, मोबाइल या टीवी को अधिक ध्यान से देखने से आंखों में जोर पड़ता है, जिससे आंखें कमजोर हो सकती हैं या इसका एक कारण पौष्टिक आहार का सेवन न करना भी हो सकता है। अब सवाल यह उठता है कि आंखों कि रोशनी को कैसे बढ़ाया जाए। जानिए, आंखों की रोशनी बढ़ाने के उपाय।

यह भी पढ़ें: आंखों में खुजली/जलन (Eye Irritation) कम करने के घरेलू उपाय

आंखों की रौशनी बढ़ाने के लिए टिप्स

संतुलित भोजन

अपने शरीर के साथ-साथ अपने आंखों के लिए भी संतुलित भोजन का सेवन करें। गाजर को नजरों के लिए अच्छा माना जाता है। गाजर में विटामिन-ए भरपूर मात्रा में होता है। हालांकि, केवल विटामिन-ए ही नहीं, बल्कि अन्य पोषक तत्व भी आंखों के लिए बेहतरीन हैं। इसलिए अपने आहार में विटामिन-सी, विटामिन-ई, कॉपर और जिंक युक्त चीजों को भी शामिल करना न भूलें जैसे अंडे, कद्दू, हरी सब्जियां, चुकंदर, पालक, स्ट्रॉबेरीज आदि। यही नहीं, मछली और अलसी के बीज भी आंखों की रोशनी के लिए बेहतरीन है। इनमे ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है।

आंखों के लिए रोशनी के लिए जरूरी है व्यायाम

आंखों को स्वस्थ रखने और रोशनी को बढ़ाने के लिए आंखों का व्यायाम करना आवश्यक है। सुबह के समय आंखों का व्यायाम करना बेहतरीन है। इसके साथ ही जब आप थकान महसूस करें, तब भी आप इसे कर सकते हैं। अगर आप एक महीने तक इन्हे करेंगे तो अंतर महसूस करेंगे। जैसे:

1 . अपनी हथेलियों को रगड़ें और उसके बाद अपनी आंखों को बंद कर के अपनी हथेलियों को आंखों पर रख दें। इसे तीन बार दोहराएं।

2 . आंखों को घुमाना केवल अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए नहीं होता, बल्कि इससे आंखों के मसल्स की भी अच्छी एक्सरसाइज हो जाती है। अपनी आंखों को दोनों दिशाओं में 10 बार घुमाएं। ऐसे ही आप अपनी आंखों के लिए कई अन्य व्यायामों को भी दोहरा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: आंखों के लिए बेस्ट हैं योगासन, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

फिट रहें

अपने पूरे शरीर के साथ-साथ आंखों को भी सेहतमंद बनाए रखने के लिए कम से कम आधे घंटे तक व्यायाम करें। शरीर के रक्त संचार के सुधरने से भी आंखों को फायदा होता है। यही नहीं, टाइप 2 डायबिटीज जो आजकल बहुत ही सामान्य है और इसका भी मुख्य कारण है मोटापा। इससे आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे बचने के लिए भी आपको अपने आपको फिट रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें: फिटनेस के लिए कुछ इस तरह करें घर पर व्यायाम

आंखों को आराम दें

अपने आंखों को आराम देना भी बेहद आवश्यक है और इससे भी आंखों की रोशनी बढ़ती है। हर घंटे आपको कम से कम कुछ देर के लिए अपनी आंखे बंद रखनी चाहिए। यही नहीं, आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए आपको अपनी नींद का भी ध्यान रखना चाहिए। अगर आप लगातार कंप्यूटर पर काम करते हैं या पढ़ते हैं या कुछ भी ऐसा करते हैं, जिससे आपकी आंखों पर दबाव पड़ता है, तो आपको बीच-बीच में कुछ देर का ब्रेक ले कर अपनी आंखों को आराम अवश्य देना चाहिए। 

धूम्रपान न करें

धूम्रपान न करना न केवल शरीर ही नहीं, बल्कि आंखों के लिए भी बेहतरीन है। अधिक धूम्रपान करने से आंखों की रोशनी कम होती है। धूम्रपान करने से मोतियाबिंद के विकास की संभावना बढ़ जाती है और इससे ऐज-रिलेटेड मैकुलर डिजनरेशन (AMD) भी बढ़ सकता है। यही नहीं, धूम्रपान करने से वो एंटी-ऑक्सिडेंट भी कम हो जाते हैं, जो आंखों के लिए फायदेमंद हैं।

आंखों की रोशनी के लिए जांच कराएं

अधिकतर लोग अपनी आंखों पर ध्यान तब देते हैं, जब उनकी आंखों में कोई समस्या होती है। कई बार इससे बहुत देरी हो जाती है। इसलिए हमें अपनी आंखों की नियमित जांच करानी चाहिए। इससे आपको यह फायदे होंगे:

  • करेक्टिव लेंस के लिए: समय के साथ-साथ आंखों की रोशनी में बदलाव आता है। इसलिए जिन आईग्लासेज का प्रयोग आप लंबे समय से करते आ रहे हैं। हो सकता है कि अब आपके आंखों के लिए वो फायदेमंद न हो।
  • एलाइनमेंट की जांच: रोजाना आंखों की जांच से आपके डॉक्टर आपकी एलाइनमेंट के बारे में पता कर सकते हैं। इससे आंखों को और हानि नहीं होती।
  • रेटिना: रेटिना में मोजूद ब्लड वेसल्स डायबिटीज की तरफ संकेत है। ऑय एग्जाम से आप इन मुद्दों के बारे में भी जान पाएंगे।

यह भी पढ़ें: डब्लूएचओ : एक बिलियन लोग हैं आंखों की समस्या से पीड़ित

आंखों को बचाएं

आंखें हमारे शरीर के नाजुक हिस्सों में से एक है। इसलिए अपनी आंखों की सुरक्षा करना बेहद आवश्यक है। चाहे आप घर के काम कर रहे हों, खेल खेल रहे हों, घर से बाहर हों या अन्य कोई काम कर रहे हो। हर समय आपको अपनी आंखों को बचाना चाहिए। आंखों पर कुछ ऐसा पहनें जिससे आपकी आंखें चोट आदि से बच सके। इसके लिए सेफ्टी ग्लासेज, गॉगल्स, फेस मास्क, वाइसर्स, हेल्मेट्स आदि को पहनें।

सनग्लासेस

सनग्लासेस केवल फैशन के लिए नहीं पहनी जाती, बल्कि इनसे सूर्य की अल्ट्रावॉयलेट (UV) रोशनी से भी बचाव होता है। सूर्य की UV किरणें हमारी आंखों को हानि पहुंचा सकती हैं। इन किरणों से आंखों की अन्य समस्याओं के साथ-साथ आई कैंसर होने की भी संभावना रहती है। इसका प्रभाव हमारी आंखों की रोशनी पर भी पड़ता है, जो लोग अपना अधिकतर समय सूरज की रोशनी में बिताते हैं, उन लोगों को सनग्लासेस अवश्य पहननी चाहिए।

वॉक करें

रोजाना टहलने जायें। नियमित रूप से सुबह-सुबह टहलने से आंखों को रोशनी बढ़ती है। यही नहीं वॉकिंग से डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा भी कम होता है। अगर आप जिम जा कर एक्सरसाइज नहीं कर पा रहें हैं तो रोजाना वॉक करना आपको फिट रखने के साथ-साथ देखने की क्षमता को बेहतर रखने में मददगार होता है।

ग्रीन टी का सेवन करें

रिसर्च के अनुसार रोजाना 2 से 3 कप ग्रीन टी का सेवन से देखने की क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हालांकि कई रिसर्च में ये अच्छी तरह से समझाया गया है की एक दिन में हर्बल टी या ग्रीन टी का सेवन ज्यादा नहीं करना चाहिए। इसका नकारात्मक प्रभाव भी सेहत पर पड़ सकता है।

अपनी आंखों को इंफेक्शन से बचाने और रोशनी को बढ़ाने के लिए अपनी आंखों का खास ध्यान रखें। उम्र के बढ़ने और स्वास्थ्य के किसी खास स्थिति में भी नजर का कमजोर होना स्वभाविक है, लेकिन इन कुछ खास बातों का ध्यान रख कर आप अपनी आंखों की रोशनी को बढ़ा सकते हैं और हमेशा इस खूबसूरत दुनिया को अपनी तेज नजरों से देख सकते हैं।

अगर आप आंखों की रोशनी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें :-

आंखों की अच्छी सेहत के लिए जरूर खाएं ये 10 फूड

आंखों को ड्राई और रेड होने से ऐसे बचाएं

Vitamin B12: विटामिन बी-12 क्या है?

Vitamin O: विटामिन-ओ क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानें किस कलर के सनग्लासेस होते हैं आंखों के लिए बेस्ट, खरीदने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

    सनग्लासेस खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए in hindi. साथ ही जानें sunglass पहनना आपके लिए क्यों आवश्यक है और इससे क्या फायदे हो सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by indirabharti
    आंखों की देखभाल, स्वस्थ जीवन मार्च 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    लेजर आई ट्रीटमेंट के बाद नहीं पहन सकते कॉन्टैक्ट लैंस, क्या आप भी मानते हैं इन बातों को सच

    लेजर आई ट्रीटमेंट क्या है in hindi. लेजर आई ट्रीटमेंट कैसे होता है, आंखों के लेजर ऑपरेशन की कीमत क्या है, लेसिक आई सर्जरी, बुढ़ापे में आंखों का लेजर ऑपरेशन.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    आंखों की देखभाल, स्वस्थ जीवन मार्च 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Blepharitis : ब्लेफेराइटिस (पलकों की सूजन) क्या है?

    पलकों की सूजन क्या है in hindi, पलकों की सूजन के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Eyelid Inflammation (Blepharitis) के लिए घरेलू उपाय क्या हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 18, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Iritis : आईराईटिस क्या है? जानें इसका कारण, लक्षण और उपाय

    आईराईटिस क्या है in hindi, आइरिटिस के कारण,लक्षण और निदान क्या है, Iritis का इलाज और इससे किस तरह बचाव किया जा सकता है? आईराईटिस के बारे में

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 14, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    आई एक्सरसाइज-Eye workout

    बेहद आसानी से की जाने वाली 8 आई एक्सरसाइज, दूर करेंगी आंखों की परेशानी

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Kanchan Singh
    Published on मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ब्रोकली की हेल्दी रेसिपी

    ब्रोकली की हेल्दी रेसिपी जो घर में कुछ मिनटों में हो जाएंगी तैयार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on मार्च 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    आंख से कीचड़ आना हो सकता है इन बीमारियों का संकेत, जान लें इनके बारे में

    आंख से कीचड़ आना हो सकता है इन बीमारियों का संकेत, जान लें इनके बारे में

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on मार्च 25, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    रेटिनल डिटेचमेंट (Retinal Detachment)

    रेटिनल डिटेचमेंट (Retinal Detachment) क्या है? क्यों हो जाता है दिखाई देना बंद

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on मार्च 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें