home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का इलाज क्या संभव है?

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का इलाज क्या संभव है?

वैसे तो मधुमेह (Diabetes) के कारण कई प्रकार की समस्याएं होना आम बात है। इसके कारण पैर दर्द,चक्कर, वजन बढ़ना या घटना और गैस्ट्रोपैरेसिस (gastroparesis) यानि जठरांत्र की भी समस्या हो सकती है। यह समस्या बाकी समस्याओं जैसी नहीं होती है। डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस (Diabetic gastroparesis) के चलते शरीर की पाचन क्रिया पर बहुत प्रभाव पड़ता है। जिससे कई समस्याएं झेलनी पड़ सकती है। समय के साथ, मधुमेह (Diabetes) आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है। उनमें से एक वेगस तंत्रिका है, जिसका कार्य यह नियंत्रित करना है कि आपका पेट कितनी जल्दी खाली हो जाता है। लेकिन जब यह क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो आपकी पाचन क्रिया धीमा हो जाता है और भोजन आपके शरीर में लंबे समय तक रहने लगता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसे गैस्ट्रोपैरीसिस कहा जाता है। यह आपको बेचैनी और उल्टी महसूस करा सकता है। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर (Blood sugar level) पर भी बुरा प्रभाव डाल सकता है। हालांकि यह टाइप 1 मधुमेह (Type 1 Diabetes) वाले लोगों में अधिक आम है, टाइप 2 (Type 2 diabetes) वाले लोगों में भी यह हो सकता है। गैस्ट्रोपैरेसिस वाले अधिकांश लोगों को कम से कम 10 वर्षों से मधुमेह के साथ-साथ अन्य प्रकार की जटिलताएं होती हैं। इस आर्टिकल में हम आपको डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे जिसके अंतर्गत हम इसे लक्षण,जोखिम और इलाज के बारे में बताएंगे। तो आइए जानते हैं, इसके लक्षण क्या हैं।

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लक्षण (Symptoms of diabetic gastroparesis)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लक्षण (Symptoms of diabetic gastroparesis) निम्नलिखित इस प्रकार से हैं,

  • पेट में जलन
  • सूजन
  • भूख में कमी
  • ब्लड शुगर (Blood sugar) को नियंत्रित करने में परेशानी
  • जी मिचलाना
  • अपच भोजन की उल्टी
  • कम भोजन में पेट भरना
  • वजन घटना
  • पेट में ऐंठन (Stomach cramp)
  • एसिड रिफ्लक्स (Reflux)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लक्षण (Symptoms of diabetic gastroparesis) हल्के या गंभीर दोनों हो सकते हैं, जो कि वेगस तंत्रिका को होने वाली क्षति के आधार पर होता है, यह एक लंबी क्रेनियल नर्व होती है जो ब्रेन स्टेम से लेकर पेट के अंगों तक फैली होती है, जिसमें पाचन तंत्र भी शामिल है। यह लक्षण किसी भी समय समस्या पैदा कर सकते हैं, लेकिन यह उच्च फाइबर या उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों के सेवन के बाद अधिक आम हैं, जो बहुत स्लो डाइजेस्ट होता है।

और पढ़ें: जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के जोखिम (Diabetic gastroparesis risk factors)

वो भोजन जो आपके पेट में लंबे समय तक रहता है,वह खराब हो सकता है और बैक्टीरिया के विकास को जन्म दे सकता है। अनडाइजेस्ट भोजन कठोर और एक गांठ का निर्माण कर सकता है जिसे बेजोर (bezoar) कहा जाता है। यह आपके पेट को अवरुद्ध कर सकता है जिससे जो भी आप खाते हैं वह छोटी आंत तक नहीं जा पाता है।डायबिटीज से पीड़ित महिलाओं में गैस्ट्रोपैरीसिस विकसित होने का उच्च जोखिम होता है।तो वहीं अन्य स्थितियां विकार के विकास के आपके जोखिम को कम कर सकती हैं, जिसमें पहले कराई गई पेट की सर्जरी या खाने के विकारों से जुड़ा हेल्थ कंडिशन हिस्ट्री शामिल है। डायबिटीज के अलावा अन्य रोग और स्थितियां डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का कारण बन सकती हैं, जैसे:

  • विषाणु संक्रमण (Bacterial infection)
  • एसिड रिफ्लेक्स विकार (Acid reflex disorder)
  • क्रोनिक पैंक्रियाटाइटिस (Chronic pancreatitis)
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic fibrosis)
  • किडनी की बीमारी (Kidney disease)
  • स्मूद मसल्स विकार (Smooth muscles disorder)
  • पार्किंसंस रोग (Parkinson’s disease)
  • टर्नर सिंड्रोम (Turner syndrome)

इसमें कभी-कभी व्यापक परीक्षण के बाद भी कोई ज्ञात कारण नहीं पाया जा सकता है।

[mc4wp_form id=”183492″]

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का निदान (Diabetic gastroparesis Diagnosis)

निम्नलिखित परीक्षणों में से एक या अधिक के माध्यम से डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के निदान की पुष्टि की जाती है।

रक्त परीक्षण (Blood test)

डॉक्टर रक्त की जांच करने और रासायनिक और इलेक्ट्रोलाइट स्तर को मापने के लिए प्रयोगशाला परीक्षणों का आदेश भी दे सकते हैं। डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के कारणों का पता लगाने के लिए, डॉक्टर एक ऊपरी एंडोस्कोपी या एक अल्ट्रासाउंड कर सकते हैं।

अपर एंडोस्कोपी (Upper Endoscopy)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का पता लगाने के लिए आपको एक सेडेटिव देने के बाद, डॉक्टर मुंह के माध्यम से एक एंडोस्कोप नामक एक लंबी, पतली ट्यूब को अंदर डालता है और धीरे से पेट में अन्नप्रणाली को निर्देशित करता है। एंडोस्कोप के माध्यम से, डॉक्टर किसी भी असामान्यताओं की जांच करने के लिए पेट के अंदर देख सकते हैं। जिसके बाद वह उपचार के विकल्प तक पहुंचता है।

और पढ़ें: बढ़ती उम्र और बढ़ता हुआ डायबिटीज का खतरा

बेरियम एक्स-रे (Barium x-ray)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के निदान के लिए यह एक्स-रे 12 घंटे के उपवास के बाद किया जाता है। इसके लिए आप 12 घंटे के उपवास के बाद, बेरियम नाम का एक गाढ़ा तरल पीएंगे। जो पेट के अंदर को कोट करता है। जिससे यह एक्स-रे पर दिखाई देता है। आम तौर पर, उपवास के 12 घंटे के बाद पेट के सभी भोजन खाली हो जाते हैं। यदि एक्स-रे पेट में भोजन दिखाता है, तो गैस्ट्रोपैरेसिस की संभावना है। यदि एक्स-रे आपका पेट खाली दिखाता है, लेकिन डॉक्टर को अभी भी संदेह है कि आपके पेट के खाली होने में अभी भी देरी हुई है, तो आपको परीक्षण दोहराने की आवश्यकता हो सकती है। यदि आपको मधुमेह है, तो आपके डॉक्टर को उपवास के बारे में विशेष निर्देश हो सकते हैं।

बेरियम बीफस्टेक भोजन (Barium beefsteak meal)

इसमें आपको बेरियम युक्त भोजन कराया जाता है। फिर रेडियोलॉजिस्ट आपके पेट को देखने की अनुमति देता है क्योंकि यह भोजन को पचाता है। बेरियम भोजन को पचाने और पेट को खाली करने में जितना समय लेता है, उससे डॉक्टर को अंदाजा होता है कि पेट कितना अच्छा काम कर रहा है। यह परीक्षण तरल बेरियम एक्स-रे पर दिखाई नहीं देने वाली खाली करने वाली समस्याओं का पता लगाने में मदद कर सकता है। वास्तव में, जिन लोगों को डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस होता है, वे अक्सर तरल पदार्थ को सामान्य रूप से पचाते हैं, इसलिए बेरियम बीफस्टेक भोजन परीक्षण अधिक उपयोगी हो सकता है।

गैस्ट्रिक मैनोमेट्री (Gastric manometry)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लिए यह परीक्षण पेट में विद्युत और मांसपेशियों की गतिविधि को मापता है। डॉक्टर आपके गले से पेट में नीचे एक पतली ट्यूब डालता है। ट्यूब में एक तार होता है जो पेट की विद्युत और मांसपेशियों की गतिविधि को मापता है क्योंकि यह तरल पदार्थ और ठोस भोजन को पचाता है। माप दिखाते हैं कि पेट कैसे काम कर रहा है और क्या पाचन में कोई देरी है।

रेडियोआइसोटोप गैस्ट्रिक (Radioisotope gastric)

रेडियो आइसोटोप गैस्ट्रिक टेस्ट में आपको खाना खाने को कहा जाता है, जिसमें रेडियो आइसोटोप होता है, थोड़ा रेडियोधर्मी पदार्थ जो स्कैन पर दिखाई देगा। रेडियो आइसोटोप परीक्षण करने में बिल्कुल खतरनाक नहीं है। इस परीक्षण में खाने के बाद, आप एक मशीन के नीचे लेट जाएंगे जो रेडियो आइसोटोप का पता लगाता है और पेट में भोजन की एक इमेज दिखाता है और यह पेट को कितनी जल्दी खाली करता है यह भी दिखाता है। यदि 2 घंटे के बाद भी आधे से अधिक भोजन पेट में रहता है, तो गैस्ट्रोपैरेसिस का इलाज किया जाता है।

अल्ट्रासाउंड (Ultrasound)

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरेसिस या पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं को पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड सबसे पहले करने की सलाह दी जाती है। समस्या के रूप में पित्ताशय की थैली की बीमारी या अग्नाशयशोथ का पता लगाने के लिए, आपका अल्ट्रासाउंड परीक्षण हो सकता है, जो पित्ताशय और अग्न्याशय ( pancreatitis) के आकार को परिभाषित करने और परिभाषित करने के लिए हानिरहित ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है।

और पढ़ें: गर्भावस्था की पहली तिमाही में अपनाएं ये प्रेग्नेंसी डायट प्लान

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का इलाज (Diabetic gastroparesis Treatment)

मधुमेह और गैस्ट्रोपैरेसिस के लिए प्राथमिक उपचार का लक्ष्य रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करना होता है। इसके अलावा उपचार में इंसुलिन, मौखिक दवाएं, आप कब और क्या खाते हैं, और गंभीर मामलों में, ट्यूब और अंतःशिरा फीडिंग में बदलाव शामिल हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ज्यादातर मामलों में उपचार गैस्ट्रोपैरीसिस का इलाज नहीं करता है। यह आमतौर पर एक पुरानी स्थिति है। उपचार आपकी स्थिति को कुछ समय के लिए रोकने में मदद करता है ताकि आप स्वस्थ और आरामदायक रह सकें।

रक्त शर्करा नियंत्रण के लिए इंसुलिन (Insulin for blood sugar control)

यदि आपको गैस्ट्रोपैरीसिस है, इसका मतलब आपके भोजन को अधिक धीरे-धीरे और अप्रत्याशित समय पर अवशोषित किया जा रहा है। तो अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए, आपको निम्न की आवश्यकता हो सकती है। जो इस प्रकार से हैं,

  • अधिक बार इंसुलिन लें।
  • पहले की बजाय खाने के बाद अपना इंसुलिन लें।
  • जब भी आप भोजन करें और जब भी आवश्यक हो इंसुलिन का प्रबंध करने के बाद अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करें।
  • आपका डॉक्टर आपकी विशेष आवश्यकताओं के आधार पर आपको विशिष्ट निर्देश देगा।

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस (Diabetic gastroparesis) के लिए दवाई

गैस्ट्रोपैरीसिस के इलाज के लिए कई दवाओं का उपयोग किया जाता है। लेकिन आपका डॉक्टर आपके लिए सबसे प्रभावी उपचार खोजने के लिए विभिन्न दवाओं या दवाओं के संयोजन लेने की सिफारिश कर सकता है।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

मेटोक्लोप्रामिड Metoclopramide (Reglan)

यह दवा पेट को भोजन से खाली करने में मदद करने के लिए पेट की मांसपेशियों को उत्तेजित करती है। यह मतली और उल्टी को कम करने में भी मदद करता है। मेटोक्लोप्रामाइड भोजन से 20 से 30 मिनट पहले और सोते समय यह दवा लिया जाता है। इस दवा के साइड इफेक्ट्स में थकान, नींद और कभी-कभी अवसाद, चिंता शामिल होता हैं।

और पढ़ें: उम्र के हिसाब से जरूरी है महिलाओं के लिए हेल्दी डायट

इरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin)

यह एंटीबायोटिक भी पेट खाली करने में सुधार करता है। यह पेट के माध्यम से भोजन को स्थानांतरित करने वाले संकुचन को बढ़ाकर काम करता है। इसके दुष्प्रभाव में मतली, उल्टी और पेट में ऐंठन हैं।

डोमपेरिडोन (Domperidone)

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन डोमेपरिडोन की समीक्षा कर रहा है, जिसका उपयोग दुनिया में कहीं और गैस्ट्रोपैरेसिस के इलाज के लिए किया गया है। यह मेटोक्लोप्रमाइड जैसा एक प्रचार एजेंट है। डोमपेरिडोन मतली के साथ भी मदद करता है।

अन्य दवाएं (Other medication)

गैस्ट्रोपैरेसिस से संबंधित लक्षणों और समस्याओं के उपचार के लिए अन्य दवाओं का उपयोग किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक एंटीएमेटिक्स (ANTIEMETIC)मतली और उल्टी को रोकने में मदद कर सकता है। एंटीबायोटिक्स जीवाणु संक्रमण को साफ करने में मदद करता है। यदि आपको बेजार (bezoar) है , तो डॉक्टर दवा को इंजेक्ट करने के लिए एक एंडोस्कोप का उपयोग कर सकता है जो इसमें सुधार कर सकता है।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें: Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लिए आहार में बदलाव (Diet changes for diabetic gastroparesis)

अपने खाने की आदतों को बदलने से गैस्ट्रोपैरीसिस को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। आपका डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ आपको कई निर्देश देंगे, लेकिन आपको दिन में तीन बार के बजाय, छह बार कम-कम मात्रा में भोजन करना होगा। आहार विशेषज्ञ यह सुझाव दे सकते हैं कि आपको एक दिन में कई बार तरल भोजन खाने की कोशिश करनी होगी जब तक कि आपके रक्त शर्करा का स्तर स्थिर नहीं होता है और गैस्ट्रोपैरीसिस ठीक हो जाता है। तरल भोजन ठोस खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले सभी पोषक तत्व प्रदान करते हैं। डॉक्टर यह भी सलाह दे सकते हैं कि आप उच्च वसा और उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों से बचें। वसा स्वाभाविक रूप से पाचन को धीमा कर देता है। यदि आपको गैस्ट्रोपैरेसिस है, तो फाइबर को पचाने में मुश्किल हो सकता है। संतरे और ब्रोकली जैसे कुछ उच्च फाइबर खाद्य पदार्थों में पचाया नहीं जा सकता है। इन खाद्य पदार्थों से बचें क्योंकि अपच हिस्सा पेट में बहुत लंबे समय तक रहेगा।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस के लिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Diabetic Gastroparesis: Principles and Current Trends in Management https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6028327/Accessed on 13-08-2020

Nutritional Management of Gastroparesis in People With Diabetes https://spectrum.diabetesjournals.org/content/20/4/231 Accessed on 13-08-2020

DIABETIC GASTROPARESIS https://www.nfb.org/sites/www.nfb.org/files/images/nfb/publications/vodold/diabgast.htmAccessed on 13-08-2020

Gastroparesisi  https://www.diabetes.co.uk/diabetes-complications/diabetes-and-gastroparesis.htmlAccessed on 13-08-2020

Diabetic gastroparesis: recent insights into pathophysiology and implications for management https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23363262/Accessed on 13-08-2020

Gastroparesis https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/gastroparesis?dkrd=hispt0224#7Accessed on 13-08-2020

लेखक की तस्वीर badge
shalu द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/08/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड