home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के जोखिम काे बढ़ाने वाले कारकों और उपचार के बारे में जानें यहां...

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के जोखिम काे बढ़ाने वाले कारकों और उपचार के बारे में जानें यहां...

डायबिटीज एक लाइफस्टाइल डिजीज है और यह अपने साथ और भी कई समस्याओं को लेकर आती है। जिसमें से एक डायबिटिक नेफ्रोपैथी भी है, जो कि किड्नी में होने वाली समस्या है। इसके डायबिटीज किड्नी डिजीज भी कहते हैं। डायबिटिक नेफ्रोपैथी (Diabetic Nephropathy) का प्रभाव शरीर के कई हिस्सों में भी पड़ता है। डायबिटिक नेफ्रोपैथी की समस्या होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। आइए जानते हैं कि डायबिटिक नेफ्रोपैथी (Diabetic Nephropathy) क्या है और सेक्स लाइफ में इसकी क्या जटिलताएं हो सकती हैं।

और पढ़ें: डायबिटीज और हायपरटेंशन में क्या संबंध है? बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

डायबिटिक नेफ्रोपैथी (Diabetic Nephropathy) क्या है?

डायबिटिक नेफ्रोपैथी टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज की एक गंभीर जटिलता है। इसे डायबिटिक किडनी डिजीज भी कहते हैं। मधुमेह से पीड़ित 3 में से लगभग 1 मरीज को डायबिटिक नेफ्रोपैथी (Diabetic Nephropathy) की समस्या होती है। डायबिटिक नेफ्रोपैथी आपके शरीर से अपशिष्ट उत्पादों और अतिरिक्त फ्लूइड को निकालने का कार्य करने वाली किड्नी के फंक्शन की क्षमता को प्रभावित करती है। डायबिटिक नेफ्रोपैथी को रोकने का सबसे अच्छा उपाय है, स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखना। इसी के साथ आपकी डायबिटीज और ब्लड प्रेशर का भी कंट्रोल में होना जरूरी है। शुगर और ब्लड प्रेशर कंट्रोल न होने पर कई वर्षों में, स्थिति धीरे-धीरे गुर्दे फिल्टरिंग प्रणाली को नुकसान पहुंचाती है। प्रारंभिक उपचार इस समस्या को रोक या धीमा कर सकता है। इसी के साथ इसकी जटिलताओं की संभावना को कम कर सकता है। गुर्दे की बीमारी गुर्दे की विफलता की ओर ले जा सकता है, जिसे अंतिम चरण की गुर्दा रोग भी कहा जाता है। गुर्दे की विफलता एक जीवन-धमकी वाली स्थिति है। इस स्तर पर, उपचार के विकल्प डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण हैं।

नेफ्रोपैथी का अर्थ है किडनी की बीमारी। डायबिटिक नेफ्रोपैथी वो बीमारी है जो मधुमेह यानी डायबिटीज की वजह से आपकी किडनी को नुकसान पहुंचाती है। कुछ मामलों में इससे किडनी फेल यानी काम करना बंद भी कर सकती है। लेकिन डायबिटीज वाले सभी मरीज की किडनी खराब नहीं होती है। डायबिटीज में पेशेंट्स के शरीर में ब्लड शुगर लेवल काफी बढ़ जाता है। समय के साथ, ग्लूकोज लेवल के बढ़ने से शरीर के कई अंग खासतौर से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम और किडनी के खराब होने की संभावना होती है। किडनी के डैमेज होने की स्थिति को डायबिटिक नेफ्रोपैथी कहते हैं।

और पढ़ें: बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट के बारे में यह इंफॉर्मेशन है बड़े काम की

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के लक्षण (Symptoms of diabetic neuropathy)

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के शुरुआती चरणों में, सबसे अधिक संभावना है कि आपमें कोई संकेत या लक्षण दिखाई नहीं देंगे। बाद के चरणों में, संकेत और लक्षण शामिल हो सकते हैं:

  • रक्तचाप का बिगड़ा हुआ स्तर
  • पेशाब में प्रोटीन की अधिक मात्रा
  • पैरों, हाथों या आंखों में सूजन
  • पेशाब अधिक होना
  • इंसुलिन या मधुमेह की दवा की कम आवश्यकता
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
  • सांस लेने में दिक्कत महसूस होना
  • भूख में कमी
  • मतली और उल्टी
  • लगातार खुजली
  • थकान

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज और हेरिडिटी: जानिए पेरेंट्स को डायबिटीज होने पर बच्चों में कितना बढ़ जाता है इसका रिस्क

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के कारण (Due to diabetic nephropathy)

किडनी डैमेज शरीर के कई महत्वपूर्ण अंगों में तनाव डालने के साथ नुकान पहुंचा सकता है, जिनमें शामिल हैं। डायबिटिक नेफ्रोपैथी की समस्या धीरे-धीरे विकसित होती है। एक अध्ययन के अनुसार, मधुमेह के निदान के 15 साल बाद एक तिहाई लोगों के यूरिन में एल्ब्यूमिन का हाय लेवल देखा जाता है। हालांकि, इनमें से आधे से भी कम लोग पूर्ण नेफ्रोपैथी विकसित करेंगे। कई आकड़ें बताते हैं कि किडनी की बीमारी उन लोगों में असामान्य है, जिन्हें डायबिटीज बहुत लंबे समय से नहीं है। यदि मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति अपने ग्लूकोज के स्तर को कंट्राेल में कर के रखता है, यानि की डायबिटीज मैनेजमेंट का पूरा ध्यान रखता है, तो डायबिटिक नेफ्रोपैथी की संभावना कम होती है।

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज में एंटीडिप्रेसेंट का यूज करने से हो सकता है हायपोग्लाइसिमिया, और भी हैं खतरे

डायबिटिक नेफ्रोपैथी की जटिलताएं (Complications of diabetic nephropathy)

डायबिटिक नेफ्रोपैथी की जटिलताएं महीनों या वर्षों में धीरे-धीरे विकसित हो सकती हैं और लंबे समय बाद इसके लक्षण नजर आ सकते हैं, उनमें शामिल हो सकते हैं:

  • आपके रक्त में पोटेशियम के स्तर में वृद्धि, जिसे हापरकेलेमिया भी कहा जाता है।
  • हृदय और रक्त वाहिका संबंधित रोग (हृदय रोग), जिससे स्ट्रोक का खतरा हो सकता है।
  • डायबिटीज रेटिनोपैथी की समस्या होना।
  • ऑक्सिजन के प्रवाह में दिक्कत होना और लाल रक्त कोशिकाओं की कम संख्या का कारण बनना यानि कि एनीमिया की समस्या होना।
  • पैरों में घाव, स्तंभन दोष, दस्त, नर्व डैमेज और रक्त वाहिकाओं से संबंधित अन्य समस्याएं होना।
  • रक्त में कैल्शियम और फास्फोरस का सही संतुलन बनाए रखने के लिए किड्नी फंक्शन में दिक्कत का कारण बनना।
  • गर्भावस्था में जटिलताएं उत्पन्न करना, जो मां और भ्रूण के लिए जोखिम का कारण बन सकती हैं।

और पढ़ें:हायपरटेंशन को मैनेज करने के लिए यह खास फ्रूट्स और फ्रूट जूस हो सकते हैं फायदेमंद!

डायबिटिक नेफ्रोपैथी और सेक्स में संबंध (Relationship between diabetic nephropathy and sex)

पेरिफेरल न्यूरोपैथी (पीएन) प्रीडायबिटीज और डायबिटीज की एक सामान्य जटिलता है और यह दुनिया भर में एक बढ़ती हुई समस्या है। मौजूदा पीएन उपचार पूरी तरह से ग्लाइसेमिक नियंत्रण पर निर्भर करते हैं, जो टाइप 1 डायबिटीज में प्रभावी है, लेकिन टाइप 2 डायबिटीज में नहीं। डायबिटीज विरोधी दवाओं को लिंग अंतर प्रभावी पीएन उपचारों को और अधिक जटिल बनाता है। प्रीक्लिनिकल अनुसंधान मुख्य रूप से पुरुषों में किया गया है, जिसमें पीएन मॉडल में सेक्स के विचार में वृद्धि की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया है। हमने पहले मोटे लेप्टिन की कमी वाले ओब / चूहों में पीएन सेक्स डिमॉर्फिज्म की सूचना दी थी। यह आनुवंशिक मॉडल स्वाभाविक रूप से सीमित है, हालांकि, चयापचय में लेप्टिन की भूमिका का कारण माना गया है। इसलिए, वर्तमान अध्ययन लक्ष्य पुरुष और महिला C57BL6 / J चूहों में पीएन और इंसुलिन रेजिस्टेंस की सलाह दी जाती है। एचएफडी महिलाओं बनाम एचएफडी पुरुषों के साथ-साथ एसडी महिलाओं बनाम पुरुषों में एनर्जी की कमी पायी गयी थी। एक रिसर्च के अनुसार एचएफडी पुरुषों की तुलना में, मादा एचएफडी चूहों में इंसुलिन रेजिस्टेंट में रूकावट देखने को मिली। एडिपोकाइन के स्तर में अंतर के साथ सेक्स और मोटापे की स्थिति से भी देख गया था। हालांकि महिलाएं एचएफडी चुनौती पर प्रारंभिक इंसुलिन संवेदनशीलता बनाए रखती हैं।

और पढ़ें: हायपरटेंशन में एक्यूप्रेशर भी पहुंचा सकता है आराम, जानिए ब्लड प्रेशर को कम करने वाले पॉइंट्स के बारे में

डायबिटिक नेफ्रोपैथी से बचाव के लिए डायबिटीज का कंट्रोल होना बहुत जरूरी है। जिसके लिए एक अच्छी लाइफस्टाइल बहुत जरूरी है। लाइफस्टाइल में भी आपको डायट और एक्सरसाइज का विशेष ध्यान रखना होगा। डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जो शरीर को कमजोर कर देती है। शुगर का लेवल हाय होने पर कई बार किड्नी के अलावा शरीर के और भी अंगों के डैमेज होने का खतरा बना रहता है। हार्ट डिजीज का भी खतरा बढ़ जाता है। अगर हम बात करें, डायबिटिक नेफ्रोपैथी की तो यह एक गंभीर स्थिति का कारण बन सकती है। किड्नी का डैमेज होना जीवन के खतरे का संकेत है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को किड्नी की जांच नियमित करवाते रहना चाहिए और इसी के साथ डायबिटीज की भी। इसके अलावा अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क करें। कोई भी दवाएं अपने मन से न लें, डॉक्टर का ही मेडिकेशन फॉलो करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

https://care.diabetesjournals.org/content/early/2021/09/14/dc21-1085

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/34531309/

 

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड