प्रेग्नेंसी के दौरान ट्यूबरक्युलॉसिस यानी डबल खतरा

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

ट्यूबरक्युलॉसिस और प्रेग्नेंसी को क्या जोड़ता है ?

प्रेग्नेंसी के दौरान ट्यूबरक्युलॉसिस होना बेहद खतरनाक होता है । इस स्थिति में प्रग्नेंसी से टीबी बिगड़ सकती है और टीबी प्रेग्नेंसी में खतरा पैदा कर सकता है। पहला यह कि इससे ट्यूबरक्युलाॅसिस और बढ़ सकता है और जन्म लेने वाले बच्चे और गर्भ पर भी इसका असर हो सकता है। ऐसे स्थिति में इसका इलाज बेहद जरूरी हो जाता है।

जानें इन दोनों महत्त्वपूर्ण पहलुओं के बारे में,

गर्भावस्था में होने पर ट्यूबरक्युलॉसिस का पता लगा पाना आसान काम नहीं है, क्योंकि इस स्थिति में ट्यूबरक्युलॉसिस से होने वाले वजन की कमी को सही ढंग से नहीं देखा जा सकता। ऐसा इसलिए है क्योंकि गर्भावस्था में वजन पहले ही बढ़ा हुआ होता है।

आमतौर पर ये बीमारी माइकोबैक्टेरियम (Mycobacterium) नाम के बैक्टीरिया ( Bacteria) से होती है और फेफड़ों को प्रभावित करती है।

ट्यूबरक्युलॉसिस के दौरान दिए जाना वाला इलाज प्रेग्नेंसी के दौरान अलग हो सकता है। कई दवाएं जो  इलाज के समय दी जा सकती हैं उनका इस्तेमाल गर्भावस्था में नहीं किया जाएगा क्योंकि इससे फीटस यानि माता के पेट में बढ़ते हुए शिशु को हानि पहुंच सकती है।

ट्यूबरक्युलॉसिस का प्रेग्नेंसी पर क्या प्रभाव पड़ सकता है ?

इस बीमारी का गर्भावस्था पर क्या प्रभाव होगा ये इन दो बातों पर निर्भर करेगा :

बहुत से मामलों में देर से जांच होने पर परेशानियां बढ़ सकती हैं। आमतौर पर प्रेग्नेंसी के दौरान वजन में बढ़ोतरी हो जाती है, जिसके कारण ट्यूबरक्युलॉसिस की वजह से होने वाली वजन में गिरावट का पता लगाना मुश्किल होता है। साथ ही HIV संक्रमण से ग्रस्त होने पर या फिर शिशु के जन्म के तुरंत बाद ही शरीर में ट्यूबरक्युलॉसिस के पता चलने पर स्थिति गंभीर हो सकती है। कई बार सही इलाज न मिलने पर या देर से इलाज मिलने पर खास हानि हो सकती है।

इसके अलावा ये परेशानियां आ सकती हैं :

  • बार – बार गर्भपात होना।
  • सही वजन का पता न लग पाना।
  • नवजात शिशु की मृत्यु होना।

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन ( NCBI ) की रिपोर्ट के आधार पर देर से जांच होने पर ट्यूबरक्युलॉसिस की वजह से ओब्स्टेट्रिक मोर्बिडिटी ( Obstetric Morbidity) यानि गर्भवती महिलाओं की मृत्युदर में चार गुना बढ़ोतरी हुई है। साथ ही सही ढंग से इलाज न मिलने पर समय से पहले भी शिशु का जन्म हो सकता है जिसकी वजह से बच्चे का विकास सही ढंग से नहीं होगा।

प्रेग्नेंसी का ट्यूबरक्युलॉसिस पर क्या प्रभाव हो सकता है ?

गर्भावस्था के दौरान ट्यूबरक्युलॉसिस होने पर दवाओं के डोज में बदलाव आता है क्योंकि बहुत सी दवाएं जो आमतौर पर हानि नहीं पहुचाएंगी। प्रेग्नेंसी की स्थिति में मां और शिशु दोनों के लिए हानिकारक हो सकती हैं।

NCBI द्वारा दी गई रिपोर्ट के मुताबिक मरीजों की दवाओं में ये बदलाव किए जा सकते हैं :

सभी फर्स्ट लाइन दवाएं जैसे कि आइसोनियाजैड (isoniazid), रैफैम्पिसिन(rifampicin), ऐथामब्यूटोल (ethambutol)और पायराजिनामाइड (pyrazinamide) का इस्तेमाल ट्यूबरक्यूलोसिस के इलाज के लिए किया जा सकता है। इनका फीटस के विकास पर कोई भी हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ेगा। हालांकि, दवाओं की सही मात्रा न मिलने पर परेशानियां आ सकती हैं जैसे कि :

  • आइसोनियाजिद (isoniazid) की मात्रा ज्यादा होने पर लिवर में खराबी आ सकती है।
  • रायफैम्पिसिन (Rifampicin) की वजह से लिवर के एंजाइम्स (Enzymes) में गड़बड़ी आती है जो कि बाकी दवाओं के काम करने के तरीके पर असर डाल सकता है। इस स्थिति में मेथाडोन (Methadone) की मात्रा बढ़ानी पड़ेगी।
  • गर्भावस्था में स्ट्रेप्टोमाइसिन (Streptomycin) का इस्तमाल भी नहीं किया जा सकता क्योंकि इससे गर्भ में विकसित हो रहे बच्चे के सुनने और बोलने की क्षमता में कमी आ सकती है। ट्यूबरक्यूलिन (tuberculin) और बैसिलस कैलीमेटो ग्यूरिन (Bacille Calmette Guérin (BCG)) टीकों के उपयोग सेट्यूबरक्युलॉसिस को नियंत्रित  किया जा सकता है। हालांकि ट्यूबरक्यूलिन टेस्ट प्रेग्नेंसी में उपयोग किया जाता है लेकिन BCG का उपयोग गर्भावस्था के दौरान करना सुरक्षित नहीं है।

इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान कुछ एंटीमाइक्रोबियल एजेंट्स को भी लेना हानिकारक हो सकता है जैसे कि स्ट्रेप्टोमाइसिन (Streptomycin), कैनामायसिन (Kanamycin), अमिकैसीन (amikacin), कैप्रिओमायसिन (capreomycin) और फ्लोरोक्विनोलोन्स (fluoroquinolones)।

स्तनपान पर ट्यूबरक्युलॉसिस का प्रभाव क्या हो सकता है ?

 अगर नवजात शिशु की मां को ट्यूबरक्युलॉसिस की दवाएं दी जा रही हैं तो इसका कुछ भाग शिशु में मा के दूध से जा सकता है। हालांकि, इसकी मात्रा बहुत कम होती है और ये नवजात शिशु पर प्रभाव नहीं डालेंगी। इसी कारण से अगर शिशु को ट्यूबरक्युलॉसिस हो गया है तो भी सिर्फ मां के दवाइयां लेने से शिशु का इलाज नहीं होता। शिशु के ट्यूबरक्युलॉसिस के इलाज के लिए शिशु को दवाइयां देनी पड़ेंगी।

ट्यूबरक्युलॉसिस संक्रमित स्थिति में नवजात शिशु की मां को INH दवाओं के साथ पायरीडॉक्सीन (विटामिन बी 6 ) भी लेना चाहिए ये मां और बच्चे दोनों के लिए लाभदायक है।

“सुरक्षा से सावधानी भली !”

इसलिए अपनी और अपने शिशु की सुरक्षा के लिए पहले ही ट्यूबरक्युलॉसिस का टीका जरूर लगवाएं।

यह भी पढ़ें :

इस क्यूट अंदाज में उन्हें बताएं अपनी प्रेग्नेंसी की खबर

पीएमएस और प्रेग्नेंसी के लक्षण में क्या अंतर है?

गर्भधारण के लिए सेक्स ही काफी नहीं, ये फैक्टर भी हैं जरूरी

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 25, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया नवम्बर 15, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे