Tennis elbow : टेनिस एल्बो की समस्या क्या है? जानें कैसे करें इससे बचाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

टेनिस एल्बो (Tennis elbow) एक प्रकार की कोहनी की सूजन है, इसे कोहनी का दर्द भी कहते हैं। टेनिस एल्बो के कारण बांह और कोहनी में दर्द की समस्या होती है। महान क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर भी इस बीमारी से पीढ़ित रहे हैं। इस बीमारी में टेंडन ( bands of tough tissue) में सूजन आ जाती है, जिसके कारण दर्द होता है। टेंडन निचले हाथ की मसल्स को हड्डियों से जोड़ते हैं। टेनिस एल्बो का नाम सुनते ही लगता है कि टेनिस खेलने से ये समस्या उत्पन्न होती है, जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। टेनिस एल्बो की समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है, जिसने कभी टेनिस खेला हो या फिर नहीं।

टेनिस एल्बो की समस्या उस व्यक्ति को भी हो सकती है जो अंगूठे या फिर दो उंगलियों का इस्तेमाल खास प्रकार की एक्टिविटी को करने के लिए यूज करते हों। टेनिस एल्बो की समस्या या कोहनी में दर्द की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। टेनिस एल्बो की समस्या 40 साल के लोगों में अधिक देखने को मिलती है। अगर आपको कोहनी के दर्द के बारे में जानकारी नहीं है या फिर आप टेनिस एल्बो की समस्या से जूझ रहे हैं, तो ये आर्टिकल आपको जानकारी प्रदान करेगा।

और पढ़ें : मांसपेशियों में दर्द की समस्या क्यों होती है, क्या है इसका इलाज?

क्यों होती है टेनिस एल्बो की समस्या ?

टेनिस एल्बो की समस्या या कोहनी में दर्द समय बीतने के साथ ही बढ़ता जाता है। कुछ रिपिटेटिव मोशन जैसे कि रैकेट खेलते समय ग्रिपिंग करना आदि के कारण मसल्स में तनाव आ जाता है। इस कारण से मसल्स में खिंचाव हो जाता है और टेनिस एल्बो की समस्या शुरू हो जाती है। टेनिस एल्बो की समस्या खेल में विभिन्न प्रकार के मूवमेंट के कारण और जॉब करने वाले लोगों में भी हो सकता है। टेनिस एल्बो निम्न कारणों से हो सकता है,

  • टेनिस या क्रिकेट जैसे खेल की वजह से
  • रैकेटबॉल
  • स्क्वाश
  • फैंसिंग
  • वेट लिफ्टिंग
  • किसी हॉबी की वजह से
  • हाथ के रिपिटीटिव मूवमेंट के कारण
  • ग्रिपिंग के कारण
  • कारपेंटिंग
  • टाइपिंग
  • पेन्टिंग
  • बुनाई

और पढ़ें :सोरियाटिक गठिया की परेशानी होने पर अपनाएं ये उपाय

कोहनी में दर्द के लक्षण क्या हैं ?

टेनिस एल्बो की समस्या में कोहनी के बाहर की तरफ की हड्डी में दर्द होता है। नॉब की जगह में इंजर्ड टेंडन बोन्स से कनेक्ट होती हैं। दर्द की समस्या ऊपरी और निचले हाथ में फैल सकती है। एल्बो में समस्या होने के कारण हाथ का मूवमेंट करने पर अधिक दर्द महसूस होता है। टेनिस एल्बो की समस्या तब अधिक बढ़ जाती है जब,

  • अचानक कुछ भारी उठा लिया हो
  • टेनिस रैकिट को पकड़ने में जब दिक्कत महसूस हो
  • दरवाजा खोलने में दर्द महसूस होना
  • हाथ को ऊपर की तरह उठाने में दर्द

टेनिस एल्बो, अन्य कंडीशन जैसे कि गोल्फर एल्बो की कंडीशन जैसी ही होती है। कोहनी में दर्द की समस्या से राहत पाने के लिए डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर बांह, कलाई और कोहनी का परीक्षण करेगा। डॉक्टर समस्या का पता लगाने के लिए कोहनी, फिंगर और बांह में मूवमेंट करने के लिए कह सकता है। मेडिकल हिस्ट्री और शारीरिक परीक्षण से कई बातों की जानकारी मिल जाती है। डॉक्टर अंदरूनी चेकअप करने के लिए एक्स-रे या फिर एमआरआई जैसे कि इमेजिंग कर सकता है। जरूरत के हिसाब से डॉक्टर अन्य चेकअप की सलाह भी दे सकता है।

और पढ़ें : एड़ी में मोच और दर्द को दूर करने के लिए करें ये आसान एक्सरसाइज

कोहनी में दर्द की समस्या का ट्रीटमेंट क्या है ?

कोहनी में दर्द की समस्या या टेनिस एल्बो कई मामलों में अपने आप ही सही हो जाता है। अगर ओवर-द-काउंटर मेडिसिन या फिर सेल्फ केयर के बावजूद भी टेनिस एल्बो की समस्या से छुटकारा नहीं मिल रहा है तो बेहतर होगा कि डॉक्टर से परामर्श करें और फिजिकल थेरिपी की मदद लें। कुछ टेनिस एल्बो केस में सर्जरी की जरूरत भी पड़ सकती है।

और पढ़ें: इन एक्सरसाइज को करें ट्राई और सेक्स लाइफ में लगाएं तड़का

टेनिस एल्बो से छुटकारे के लिए थेरेपी

डॉक्टर पहले ये जानने की कोशिश करेगा कि आपको कोहनी में दर्द किस गतिविधि के कारण हो रहा है। कारण पता चलने के बाद डॉक्टर आपके कोहनी के, फिंगर के और हाथों के मूवमेंट में कुछ बदलाव की सलाह दे सकता है। जैसे कि अगर किसी व्यक्ति को टेनिस खेलने के कारण कोहनी में दर्द की समस्या है तो डॉक्टर कुछ विशेष मूवमेंट की सलाह दे सकता है।

अगर किसी व्यक्ति को टाइपिंग के कारण कोहनी में दर्द हैं तो उसके लिए थेरिपी की सलाह दी जा सकती है। मसल्स को धीरे-धीरे फैलाने और फिर उन्हें मजबूत बनाने के लिए फिजिकल एक्सरसाइज की सलाह दी जा सकती है। मुख्य रूप से फोरआर्म की मसल्स की एक्सरसाइज के लिए डॉक्टर कह सकता है। डॉक्टर आपको फोरआर्म स्ट्रेप लेने के लिए कह सकता है। इसे यूज करने से इंजर्ड टिशू में पड़ रहा तनाव कम होता है।

और पढ़ें : विटामिन सप्लीमेंट्स लेना कितना सुरक्षित है? जानें इसके संभावित खतरे

टेनिस एल्बो में सर्जरी और अन्य प्रोसीजर

इंजेक्शन (Injections)

डॉक्टर पेनफुल टेंडन में प्लेटलेट रिच प्लाज्मा, बोटॉक्स(Botox ) या इरिटेंट प्रोलोथेरेपी (irritant prolotherapy) को इंजेक्ट कर सकता है। साथ ही ड्राई निडिल की मदद से डैमेज्ड टेंडन में लगाई जाती है। ऐसा करने से दर्द में राहत मिलती है।

अल्ट्रासोनिक टेनोटॉमी

इस प्रक्रिया में अल्ट्रासाउंड की मदद से डॉक्टर कोहनी में विशेष प्रकार की निडिल डालता है। अल्ट्रासोनिक एनर्जी के कारण कंपन होता जिससे कोहनी के दर्द में राहत मिलती है।

और पढ़ें : स्पाइनल कॉर्ड इंजरी को न करें अनदेखा, जानें क्यों जरूरी है इसका सही समय पर इलाज

सर्जरी

अगर कोहनी के दर्द में 12 महीने तक कोई राहत नहीं मिलती है तो डॉक्टर सर्जरी के लिए कह सकता है। सर्जरी की मदद से डैमेज्ड टिशू को हटाया जाता है। सर्जरी में बड़ा चीरा व छोटा चीरा, दोनों लगाए जा सकते हैं।

अगर आपको भी कभी कोहनी में दर्द की समस्या महसूस हो तो बेहतर होगा कि डॉक्टर से संपर्क करें। शुरुआती दर्द से राहत पाने के लिए थेरेपी का सहारा लिया जा सकता है। हो सकता है कि डॉक्टर आपको कोई फिजिकल एक्सरसाइज सजेस्ट करें।

टेनिस एल्बो से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इससे जुड़े एक्सपर्ट से अवश्य समझें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

लड़का या लड़की : क्या हार्टबीट से बच्चे के सेक्स का पता लगाया जा सकता है?

हार्टबीट से सेक्स का पता लगाया जा सकता है, ऐसी कोई भी स्टडी हुई ही नहीं है। अल्ट्रासाउंड, सेल फ्री डीएनए ( Cell Free DNA), आनुवंशिक परीक्षण से गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की। इसका पता चल सकता है..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Auditory Brainstem Implants : ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट क्या है?

जानें ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट के प्रक्रिया के पहले और बाद में क्या होता है, विस्तार से जानें। ऑडिटरी ब्रेनस्टोम इंप्लांट के क्या रिस्क होते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Electronystagmography: इलेक्ट्रोनिस्टेग्मोग्राफी क्या है?

जानिए इलेक्ट्रोनिस्टेग्मोग्राफी (Electronystagmography) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Electronystagmography क्या होता है, इलेक्ट्रोनिस्टेग्मोग्राफी के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

फेटल अल्ट्रासाउंड (Fetal Ultrasound) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Fetal Ultrasound क्या होता है, फेटल अल्ट्रासाउंड के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वजन घटने से डायबिटीज का इलाज/diabetes and weightloss

क्या वजन घटने से डायबिटीज का इलाज संभव है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
लेसिक सर्जरी

‘लेसिक सर्जरी का प्रभाव केवल कुछ सालों तक रहता है’, क्या आप भी मानते हैं इस मिथ को सच?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
साइकिलिंग से वेट कम-cycling for weight loss

साइकिलिंग से वेट कम करने के साथ-साथ होते हैं कई फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 18, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
गॉलब्लेडर स्टोन सर्जरी-Gallbladder Stone Surgery

Gallbladder Stone Surgery : गॉलब्लेडर स्टोन सर्जरी क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें