बबल व्रैप के कुछ स्वास्थ्य लाभ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आप भी बबल व्रैप देखते ही उसे फोडना शुरू कर देते हैं? इसका उपयोग सिर्फ चीजों को पैक करने या उनकी हिफाजत करने के लिए नहीं होता। यह स्ट्रेस, तनाव कम करने और बच्चों में दिमागी विकास में भी मदद करते हैं। स्टॉप थेरेपी के लिए पॉपिंग इसका उपयोग किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पॉपिंग करते समय तुरंत संतुष्टि मिलती है जो मनोचिकित्सा के लिए बहुत अच्छा है।

बबल व्रैप क्या है?

बबल व्रैप प्लास्टिक की बनी शीट होती है। इसका इस्तेमाल खासकर वैसे सामनों को कवर करने के लिए किया जाता है जिसका टूटने का डर होता है लेकिन, सामानों की सुरक्षा के साथ-साथ ये आपके हेल्थ को फिट रखने में मदद करता है

यह भी पढ़ें : Bone test: बोन टेस्ट क्या है?

मानसिक तनाव में मदद करे:

इसे फोड़ना लगभग हर किसी को मजेदार लगता है। बंद हवा के गुब्बारों को फोड़ने पर जो आवाज निकलती है, वह एंटी-स्ट्रेस होती है और लोग उसे फोड़ते समय टेंशन, स्ट्रेस भूल जाते हैं। बबल व्रैप फोड़ने में आपका अच्छा-खासा समय बीत जाता है और आपको अंदाजा तक नहीं होता।

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार, ”बंद हवा के बबल व्रैप फोड़ना तनाव का स्तर कम करने में मददगार होता है।” जो लोग बबल व्रैप फोड़ते हैं, वह आम लोगों की तुलना में ज्यादा सक्रिय और उत्साही रहते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, इसे फोड़ना एक तरह  की तकनीक है जिससे आराम मिलता है।

लीसेस्टर के छात्र संघ के विश्वविद्यालय ने छात्रों ने बबल व्रैप की पेशकश की ताकि उन्हें परीक्षा के मौसम में आराम में मदद मिल सके। यूनियन का दावा है कि बबल व्रैप  के “तत्काल संतुष्टि” पॉपिंग बबल व्रैप तनाव से निपटने और तनाव को कम करने में छात्रों की मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : Bone marrow biopsy: बोन मैरो बायोप्सी क्या है?

मोटर स्किल्स को बढ़ावा मिलता है:

बबल व्रैप फोड़ने से तनाव का स्तर कम होने के साथ-साथ मानसिक विकास होता है। यह दिमाग की मोटर स्किल्स को बेहतर बनाने और हाथ-आंख का समन्वय बनाए रखने में मदद करता है। यह असल में तब फायदेमंद होता है जब अंगूठा और पहली उंगली एक साथ जोड़ कर व्रैप के हर बबल को एक के बाद एक फोड़ने की कोशिश की जाए। इस तरह बबल व्रैप दिमागी सुकून पहुंचाने, स्ट्रेस में कमी लाने और मसल्स के तनाव में कमी में मदद करता है।

पैरो को आराम मिलता है:

दिन भर चलने के बाद अपने थके हुए पैरों को राहत देने के लिए अक्सर पैरों की मालिश करवाना सबसे अच्छा तरीका है। लेकिन एक विकल्प के रूप में आप हमेशा बबल व्रैप का उपयोग कर सकते है! बस उन्हें एक जूते के आकार में काट लें और इसे जूता पहने के रूप में उपयोग करें। बबल व्रैप में एक मालिश का प्रभाव होता है जो आपके थके हुए पैरों को आराम देगा।

कैम्पिंग को आरामदायक बनाता है:

अगर आप कैम्पिंग पर जाने की योजना बना रहें हैं और आपके पास स्लीपिंग मैट नहीं है, तो बबल व्रैप मैट की तरह काम कर सकता है। मैट न होने की स्थिति में स्लीपिंग बैग के अंदर बबल व्रैप मैट की तरह बिछाकर सोया जा सकता है। बबल व्रैप की वजह से आपको गर्माहट भी महसूस होगी। यही नहीं ट्रैकिंग के दौरान घुटने में बबल व्रैप बांध लेने से चोट लगने की संभावना कम हो सकती है। कार ड्राइव के दौरान भी या कार में बैठने के दौरान भी बैक में इसे रखा जा सकता है। यह आरामदायक हो सकता है।

थेरिपी या मसाज में करता है मदद:

बबल व्रैप की मदद से शरीर पर हल्की मसाज की जा सकती है। यह काफी आसान होता है और मसाज में कोई भी आपकी सहायता कर सकता है।

खाने के टेम्प्रेचर को बनाये रख सकता है:

खाने-पीने के चीजें गर्म हो ठंडी उन्हें उसी टेम्प्रेचर पर बनाये रख सकता है। बस बबल व्रैप में अपने खाद्य पदार्थ या पे पदार्थ को ठीक तरह से कवर करदें। फ्रीज में रखे फ्रूट्स को भी अगर बवल व्रैप कर दिया जाये तो उसे फ्रेश रखा जा सकता है।

राइटिंग की प्रैक्टिस अच्छी होती है:

लिखने के दौरान हाथों की उंगलियां सीधी रहने से हैण्ड राइटिंग अच्छी होती है। इसलिए इस दौरान आप उंगलियों को बबल व्रैप की मदद से सीधी रख सकते हैं।

बबल व्रैप की ही तरह बॉडी व्रैप भी बाजार में आसानी से उपलब्ध होता है।

बॉडी व्रैप क्या है?

जिस तरह बबल व्रैप का इस्तेमाल कर शरीर को कई सारे फायदे होते हैं ठीक वैसे ही बॉडी व्रैप एक तरह का स्पा ट्रीटमेंट है। इससे डेड सेल्स को अलग किया जाता है और बेजान हुई स्किन में फिर से एक नई जान आ जाती है और आपकी त्वचा निखरी-निखरी से नजर आती है। बबल व्रैप की तरह बॉडी व्रैप की मदद से चेहरे के पोर्स खुल जाते हैं। हालांकि बॉडी व्रैप करवाने से पहले यह जरूर तय करें की यह किसी एक्सपर्ट से ही करवायें क्योंकि अगर इसे ज्यादा टाइट शरीर से बंधा गया तो डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।बॉडी व्रैप के बाद त्वचा सॉफ्ट होती हैं और झुर्रियां भी कम हो सकती हैं। शरीर का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और त्वचा संबंधी परेशानी भी धीरे-धीरे ठीक हो सकती है। बॉडी व्रैप से स्किन मॉश्चराइज रहती है ग्लो आता है।

बॉडी व्रैप के फायदे क्या-क्या हैं?

बबल व्रैप की ही तरह बॉडी व्रैप के निम्नलिखित फायदे होते हैं। जैसे-

  • स्किन को टाइट करता है
  • शरीर का थोड़ा वजन कम हो सकता है
  • स्किन में नमी आती है
  • बॉडी को डेटॉक्स करने में सहायक है
  • बॉडी रिलैक्स होती है

बबल व्रैप तो प्लास्टिक होता है लेकिन, बॉडी व्रैप पार्लर में आसानी से उपलब्ध हो सकता है। हालांकि बॉडी व्रैप आप खुद से भी घर पर तैयार कर सकती हैं।

बॉडी व्रैप के प्रयोग से पहले किन-किन बातों का ख्याल रखें?

बॉडी व्रैप के प्रयोग से पहले निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे-

  • बॉडी व्रैप में हर्बल इंग्रीडिएंट्स मिला हो।
  • इसे करवाने से पहले पानी ज्यादा पीएं। शरीर में पानी की कमी डिहाइड्रेशन की समस्या शुरू कर सकता है।

अगर आप बबल व्रैप या बॉडी व्रैप से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें :

Blood Urea Nitrogen Test : ब्लड यूरिया नाइट्रोजन टेस्ट क्या है?

2019 Year End : इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड क्या होता है, कैसे है ये अन्य रिकॉर्ड से सुरक्षित?

खाने की बुरी आदत भी डालती है सेहत पर बुरा असर, पढ़ें

जानें गर्भावस्था में मोटापा कैसे बन सकता है दुश्मन?

बॉडी पार्ट जैसे दिखने वाले फूड, उन्हीं अंगों के लिए होते हैं फायदेमंद भी

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Quiz: क्या आपको भी खड़े होने पर चक्कर आते हैं? तो खेलें ये क्विज और करें देखभाल

    जानिए लो ब्लड प्रेशर के कारण in Hindi, लो ब्लड प्रेशर के कारण कैसे समझें, Low Blood Pressure, Hypotension के उपचार, लो बीपी में क्या खाएं।

    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

    प्रेग्नेंसी में इन 7 तरीकों को अपनाएं, मिलेगी स्ट्रेस से राहत

    प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस से राहत पाना बहुत जरूरी होता है क्योंकि इसका असर मां और बच्चे दोनों पर होता है। प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस से राहत कैसे पाएं की जानकारी in hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

    माइग्रेन के दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये टिप्स

    जानिए माइग्रेन क्या है? माइग्रेन का दर्द क्यों आपको कर देता है परेशान? क्या इस दर्द से बचना है आसान? क्या हैं इस दर्द को दूर करने के उपाय?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

    G6PD Deficiency : जी6पीडी डिफिसिएंसी या ग्लूकोस-6-फॉस्फेट डीहाड्रोजिनेस क्या है?

    जी6पीडी डिफिसिएंसी (G6PD Deficiency) क्या है? इसके होने का कारण क्या है? इसका क्या इलाज है? जी6पीडी डिफिसिएंसी होने पर क्या करना चाहिए?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    अन्य रक्त विकार, रक्त विकार November 21, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    बच्चों को नैतिक शिक्षा

    बच्चों को नैतिक शिक्षा और सीख देने के क्या हैं फायदे? कम उम्र में सीखाएं यह बातें

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ July 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    डिओडरेंट-Deodorant

    डिओडरेंट यूज करने से पहले रखें इन 5 बातों का ध्यान

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ May 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    मानसिक तनाव के प्रकार - type of stress

    मानसिक तनाव के प्रकार को समझकर करें उसका इलाज

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
    प्रकाशित हुआ May 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    नार्कोलेप्सी

    Narcolepsy : नार्कोलेप्सी क्या है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
    प्रकाशित हुआ February 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें