Fat burning Heart Rate: फैट बर्निंग हार्ट रेट के बारे में क्या यह सब जानते हैं आप?

    Fat burning Heart Rate: फैट बर्निंग हार्ट रेट के बारे में क्या यह सब जानते हैं आप?

    फिटनेस प्रोफेशनल और जो लोग शेप में रहना चाहते हैं, उन्हें फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) के बारे में पता होगा। जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए फैट बर्निंग हार्ट रेट प्राप्त करना एक बेहतरीन आईडिया होता है। यह टर्म उस रेट को माना जाता है, जिस पर मैक्सिमम फैट बर्निंग रिजल्ट प्राप्त करने के लिए किसी व्यक्ति के दिल को प्रति मिनट धड़कना चाहिए। आज हम इसी के बारे में आपको जानकारी देने वाले हैं। अब जानते हैं फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) के बारे में विस्तार से।

    फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) किसे कहा जाता है?

    किसी व्यक्ति का हार्ट रेट अक्सर उसके द्वारा किए जा रहे व्यायाम या गतिविधि की इंटेंसिटी का एक अच्छा इंडिकेटर होता है। बैठे हुए एक स्वस्थ व्यक्ति का हार्ट रेट आमतौर पर 60 से 100 बीट्स पर मिनट्स होता है। यह रेट व्यक्ति का रेस्टिंग हार्ट रेट होता है। जब कोई व्यक्ति व्यायाम करता है तो हार्ट रेट बढ़ना शुरू हो जाता है। अक्सर हाय इंटेंसिटी एक्सरसाइज के दौरान व्यक्ति के मैक्सिमम हार्ट रेट को सुरक्षित तरीके से प्राप्त किया जा सकता है। आइए अब जानते हैं फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) को कैलकुलेट करने के बारे में।

    और पढ़ें: क्या एथलीट्स में लोअर रेस्टिंग हार्ट रेट चिंता का कारण बन सकती है?

    फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) को कैलकुलेट कैसे करें?

    हमारा हार्ट रेट हमें एक्सरसाइज की इंटेंसिटी को मेजर करने में मदद कर सकता है। जैसा कि पहले ही बताया गया है कि अधिकतर लोगों के लिए रेस्ट के दौरान हार्ट रेट 60 से 100 टाइम्स पर मिनट के बीच में होती है। एक्सरसाइज के दौरान यह हार्ट रेट बढ़ जाती है। जितना हार्ड हम एक्सरसाइज करते हैं, उतना ही अधिक हार्ट रेट बढ़ता है। जब हम फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) जोन में वर्कआउट करते हैं, तो हमारा शरीर बेसिक शुगर और कार्बोहाइड्रेट का उपयोग करने के बजाय एनर्जी के लिए फैट स्टोर्स में टैप करता है। इससे फैट लॉस में मदद मिलती है। अन्य हार्ट रेट जोन इस प्रकार होते हैं:

    • रेस्टिंग हार्ट रेट (Resting heart rate)
    • मॉडरेट हार्ट रेड (Moderate heart rate)
    • टारगेट हार्ट रेट (Target heart rate)
    • मैक्सिमम हार्ट रेट (Maximum heart rate)

    हमारी फैट बर्निंग हार्ट रेट, मैक्सिमम हार्ट रेट का लगभग 70 प्रतिशत होता है। मैक्सिमम हार्ट रेट, जब हम एक्टिविटी करते हैं तो मैक्सिमम नंबर ऑफ टाइम हार्ट बीट को कहा जाता है। मैक्सिमम हार्ट रेट को जानने के लिए 220 में से अपनी एज को सब्सट्रैक्ट करें। उदाहरण के लिए पैंतीस साल की महिला का मैक्सिमम हार्ट रेट 185 बीट्स पर मिनट होना चाहिए। फैट-बर्निंग जोन के लिए, उसकी हार्ट रेट 185 का 70 प्रतिशत होनी चाहिए, जो लगभग 130 बीट्स पर मिनट है। हार्ट रेट को मेजर कैसे किया जाता है, अब यह जानते हैं।

    और पढ़ें: Best Heart Rate Monitor Watches: हार्ट रेट को मॉनिटर करने के लिए यह वॉचेज आ सकती है आपके काम

    हार्ट रेट (Heart rate) को कैसे मेजर करें?

    एक्सरसाइज के दौरान अपनी हार्ट रेट को मेजर करने के लिए बाजार में कई टूल्स उपलब्ध हैं। लेकिन, इसका अर्थ यह नहीं है कि आपको अपनी बेसिक हार्ट रेट को मापने के लिए किसी फैंसी टूल की जरूरत है। हार्ट रेट को मेजर करने के कुछ टूल्स इस प्रकार हैं:

    ट्रेडिशनल ट्रैकिंग (Traditional tracking)

    हार्ट रेट को मेजर करने का सबसे आसान और सस्ता तरीका है अपनी पल्स को ट्रैक करने के लिए उंगलियों का इस्तेमाल करना। इसके लिए सबसे पहले आपको एक्सरसाइज करना बंद करना होगा और अब आप अपनी गर्दन, कलाई और छाती पर पल्स पॉइंट पर उंगली को रखें। साठ सेकंड्स के लिए हार्टबीट्स को काउंट करें। जो नंबर आप काउंट करेंगे, वो आपका हार्ट रेट है।

    और पढ़ें: हार्ट अटैक के दौरान हार्ट रेट में किस तरह से होता है बदलाव, जानिए

    फैट बर्निंग हार्ट रेट: रिस्ट मॉनिटर (Wrist monitor)

    रिस्ट वाच कुछ दिनों से बहुत लोकप्रिय होती जा रही हैं। क्योंकि, इन्हें आप आम घड़ी की तरह कलाई पर बांध सकते हैं। इससे हम पूरे दिन की पल्स को रिकॉर्ड किया जा सकता है और विभिन्न एक्टिविटीज के दौरान फैट बर्निंग, रेस्टिंग, मॉडरेट या मैक्सिमम जोन को जाना जा सकता है। ट्रेडिशनल ट्रैकिंग की जगह इस डिवाइस का फायदा यह है कि इसमें आपकी हार्ट रेट लगातार मॉनिटर होती है और आपको अपनी एक्टिविटी को इसके लिए रोकना नहीं पड़ता। इससे आपके डेली स्टेप्स, वर्कआउट का डिस्टेंस, कैलोरीज आदि को भी मेजर किया जा सकता है।

    फैट बर्निंग हार्ट रेट, Fat burning Heart Rate,

    चेस्ट स्ट्रेप मॉनिटर (Chest strap monitor)

    चेस्ट स्ट्रेप हार्ट रेट मॉनिटर को चेस्ट के चारों तरह लगाया जाता है और एक्सरसाइज के दौरान हार्ट रेट को रिकॉर्ड किया जाता है। इससे हार्ट रेट को कम्पेटिबल डिवाइस पर सेंड किया जाता है। यह स्ट्रेप्स सॉफ्ट फैब्रिक से बने होते हैं और बॉडी साइज के अनुसार फिट हो जाते हैं। आप अधिकतर एक्टिविटीज जैसे स्विमिंग आदि के दौरान चेस्ट स्ट्रेप मॉनिटर को पहन सकते हैं। यह डिवाइस भी सामान्यतया बाजार में उपलब्ध हैं। अब जानते हैं फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) को कैसे अचीव किया जा सकता है?

    और पढ़ें: Normal vs Dangerous Heart Rate: नॉर्मल और डेंजर हार्ट रेट में फर्क क्या होता है, जानिए यहां!

    फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) को कैसे अचीव करें?

    आप मॉडरेट से हाय इंटेंसिटी एक्सरसाइज के साथ मैक्सिमम हार्ट रेट के 70% -80% पर वर्कआउट करके फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) को प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आप मॉडरेट इंटेंसिटी एक्सरसाइजेज को चुनें, जो टॉलरेबल हों और इनमें इन एक्सरसाइजेज को शामिल किया जा सकता है:

    • ब्रिस्क वॉकिंग (Brisk walking)
    • वॉटर एरोबिक्स (Water aerobics)
    • गार्डनिंग Gardening)
    • टेनिस (Tennis)
    • 10 माइल्स पर ऑवर से स्लो साइकिलिंग (Slow cycling)
    • डांसिंग (Dancing)
    • स्लो जॉगिंग (Slow jogging)

    इसके साथ ही आप हाय इंटेंसिटी वर्कऑउट्स भी कर सकते हैं, जैसे :

    • हाईकिंग अपहिल (Hiking uphill)
    • रनिंग (Running)
    • एरोबिक डांसिंग (Aerobic dancing)
    • रोप जंपिंग (Jumping rope)

    यह तो थी जानकारी फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) के बारे में। अब जानते हैं फैट लूज करने और फिट रहने के अन्य तरीकों के बारे में।

    और पढ़ें: हार्ट रेट को नॉर्मल बनाए रखने के लिए क्या है जरूरी और किन चीजों से बनाएं दूरी?

    फैट लूज करने के अन्य तरीके क्या हैं?

    एक्सरसाइज करने के साथ ही आप हेल्दी हैबिट्स को शुरू कर के फैट को लूज कर सकते हैं और इससे ओवरआल वजन कम हो सकता है। यह हेल्दी हैबिट्स इस प्रकार हैं:

    सही आहार का सेवन करें

    फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) प्राप्त करने, वजन को कम करने के लिए अपने आहार में फल और सब्जियों को अवश्य शामिल करें। इसके साथ ही साबुत अनाज, लीन प्रोटीन और लो फैट डेयरी आदि भी अच्छे विकल्प हैं। आप शुगर और सैचुरेटेड फैट आदि को भी नजरअंदाज करें।

    अधिक पानी पिएं

    जूस और सोडा जैसे पेय पदार्थों में अधिक चीनी और कैलोरीज होते हैं। ऐसे में इनका सेवन करने से बचें। अधिक से अधिक पानी को पीएं। अगर आपको सादा पानी पसंद नहीं है तो आप नींबू या अन्य हेल्दी चीजों का इस्तेमाल करें।

    और पढ़ें: बिगड़ी हुई हार्ट रेट को ठीक कर सकती हैं ये दवाएं, बचा सकती हैं दिल से जुड़ी इस गंभीर बीमारी से

    पोर्शन साइज का ध्यान रखें

    हमेशा कम मात्रा में ही खाएं। आपको कितने पोरशन साइज में आहार को लेना है इसके लिए डॉक्टर या डायटीशियन की सलाह ली जा सकती है।

    धीरे और लगातार वजन कम करने के बारे में सोचें

    अगर आप कम समय में अधिक वजन कम करने का विचार कर रहे हैं, तो यह विचार हेल्दी सही नहीं है। वजन कम करना कोई आसान काम नहीं होता। इसके लिए सब्र और कड़ी मेहनत की जरूरत होती है। इसलिए, लगातार मेहनत करके अपने गोल को प्राप्त करें।

    और पढ़ें: अपनी दिल की धड़कन जानने के लिए ट्राई करें हार्ट रेट कैलक्युलेटर

    यह तो थी जानकारी फैट बर्निंग हार्ट रेट (Fat burning Heart Rate) के बारे में। एक व्यक्ति का फैट बर्निंग हार्ट रेट उनकी उम्र के आधार पर वैल्यूज की रेंज में आता है। हालांकि, व्यायाम करते समय लोग अपनी हार्ट रेट की परवाह किए बिना कैलोरी और फैट बर्न करते हैं। जो व्यक्ति फैट बर्न करने में इंटरेस्टेड है, उसे अपने गोल के बारे में डॉक्टर से अवश्य बात करनी चाहिए। वो आपको आपकी जरूरत और फिटनेस लेवल्स के अनुसार सही एक्सरसाइज और सेफ हार्ट रेट की सलाह देंगे। अगर इस बारे में आपके मन में कोई भी सवाल है तो डॉक्टर से इस बारे में अवश्य जानें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 11/04/2022

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement