home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग उन्हें बचा सकता है हार्ट अटैक से रिस्क से!

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग उन्हें बचा सकता है हार्ट अटैक से रिस्क से!

यह सच है कि नमक के बिना खाना बेस्वाद लगता है, लेकिन यही हमारे हेल्थ के लिए अच्छा हाेता है। अधिक नमक का सेवन कई बड़ी बीमारियों का कारण बन सकता है, अधिकतर लोगों को यह पता भी होता है, लेकिन फिर भी उनका ध्यान इस ओर नहीं जा पाता है। अधिक नमक का सेवन केवल हायपरटेंशन की ही वजह नहीं, बल्कि हार्ट के लिए खतरा भी हो सकता है। कई रिसर्च में भी पाया गया है कि अत्यधिक सोडियम का सेवन, उच्च रक्तचाप दोनों और दिल की विफलता का कारण भी बन सकता है। इसलिए डॉक्टर हार्ट पेशेंट को प्रतिदिन नमक की मात्रा को डायट में सीमित करने की सलाह देते हैं। हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग (Low sodium use in heart patients) उनकी जान को बचा सकता है। इससे लाेग और भी कई गंभीर हेल्थ प्रॉब्लम से बच सकते हैं। आइए जानते हैं हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग (Low sodium use in heart patients) क्यों जरूरी है?

और पढ़ें: प्रोटीन और हृदय रोग : अधिक प्रोटीन का सेवन क्या हार्ट पर पड़ सकता है भारी?

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग (Why heart patients need less sodium)?

यदि आप कंजेस्टिव हार्ट फ्लयोर (Congestive heart floor) के रिस्क के साथ जी रहे हैं या आप हार्ट पेशेंट हैं, तो आपके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपने डायट में सोडियम को प्रतिदिन1,500 मिलीग्राम से कम, सीमित मात्रा में लेना चाहिए। कई रिसर्च भी यहीं कहती हैं कि अपने डेली डायट में नमक के सेवन को सीमित करके खुद को दिल के दौरे के खतरे या अन्य हार्ट डिजीज के रिस्क से बचा जा सकता है। अधिक नमक के सेवन से हाय ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है, जो हार्ट अटैक के प्रमुख कारणों में से एक है। दैनिक आहार में नमक का सेवन सीमित करने से आपका हायपरटेंशन भी कंट्रोल में रहेगा। कम नमक का सेवन वेट लॉस में भी मददगार है, क्योंकि कई बार मोटापा भी हार्ट डिजीज को जन्म देता है। कई रिसर्च में भी यह सामने आया है कि नमक का कम सेवन करने से आप अधिक उम्र में जाकर के भी होने वाले हार्ट प्रॉब्लम के रिस्क को कम किया जा सकता है। हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग बहुत जरूरी है।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर : इसे अपने डायट में शामिल करने से पहले जान लें ये बातें

हार्ट के मरीज इन बाताें का रखें ध्यान (Heart patients should keep these things in mind)

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग जैसा कि बहुत जरूरी है, इसलिए हार्ट के मरीजों को लो सोडियम डायट के लिए इन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है, जैसे कि:

पैक्ड फूड का लेबल जरूर पढ़ें (Be sure to read the label of packaged food)

कुछ खाद्य पदार्थ जिन्हें आप नमकीन नहीं समझते हैं, जैसे ब्रेड या कुकीज में भी छुपी हुई मात्रा में सोडियम की मात्रा हो सकती है। इसलिए पैक्ड फूड खरीदने से पहले, यह जानने के लिए पैकेजिंग की जांच करें और उसके लेबल को पूरी तरह से पढ़ें कि उसमें कितना सोडियम है। दिए गए न्यूट्रीशन फैक्ट्स में एक सर्विंग में सोडियम के मिलीग्राम की सूची दी हुई होगी। यदि अपने डायट में कम नमक खाने की कोशिश करेंगे तो आप फिट रह सकते हैं। इसके लिए 5% डीवी या उससे कम सोडियम वाले खाद्य पदार्थ का चनुें। पैक्ड फूड की सूची में आपको ध्यान रखना होगा कि नमक की जगह आपको सोडियम लिखा मिलेगा, जिसकी मात्रा आपको चेक करनी होगी। इसी के साथ कुछ बातों का भी खास ध्यान रखें, जिनमें शामिल हैं:

  • सोडियम फ्री में आप 5 मिलीग्राम से कम सर्विंग वाले सोडियम पैक्ड फूड चुनें।
  • लो सोडियम सर्विंग में 35 मिलीग्राम से कम सोडियम होता है। भोजन में सामान्य से कम से कम 25% कम सोडियम होता है।

और पढ़ें: हार्ट हेल्थ के लिए बीन्स और दालें हो सकती हैं बेहद फायदेमंद, जान लीजिए इनके नाम

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग में लो सोडियम सॉल्ट भी है विकल्प (Low sodium salt is also an option)

जो लोग कम नमक वाला खाना नहीं खा पर रहे हैं, तो उनके लिए लो-सोडियम नमक एक अच्छा विकल्प है। बाजार में आपको लो सोडियम सॉल्ट अलग से मिल जाएगा। इसका स्वाद बिल्कुल नमक जैसा ही होता है, हां बस इसमें सोडियम क्लोराइड की अधिकांश मात्रा को पोटैशियम सॉल्ट से बदल दिया जाता है। जिससे स्वाद भी मिल जाता है ओर नुकसान भी नहीं होता है।

और पढ़ें : एक्सरसाइज के बारे में ये फैक्ट्स पढ़कर कल से ही शुरू कर देंगे कसरत

हार्ट पेशेंट के लिए कम नमक वाले फूड ऑप्शन (Low salt food options for heart patients)

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग उनकी जान काे बचा सकता है। यदि आप हार्ट के मरीज हैं, तो आप इस तरह के फूड का चुनाव करें, जिनमें शामिल हैं:

  • फ्रूट चाट में आपन नमक की जगह नीबू डालकर खाएं
  • आप बाजार के सॉस या सीजनिंग के उपयोग से बचें। इसमें भी सोडियम अधिक होता है।
  • बेकन, हॉट डॉग, सॉसेजऔर हैम जैसे प्रोसेस्ड मीट में सोडियम की मात्रा अधिक होती है। ऐसे पेक्ड फूड से बचें। यदि यह पैक्ड में 5% सोडियम या उससे कम का DV उपलब्ध है, तो देख सकते हैं।
  • रोस्टेड दलिया एक अच्छा हेल्दी ऑप्शन है। आप इन्हें फल या नट्स के साथ तैयार कर सकते हैं। जिसमें आपको नमक की कमी महसूस नहीं होगी। यदि आप डायबिटीज पेशेंट है, तो नमक का चुनाव सोच समझकर करें।
  • स्नैक्स में अनसाल्टेड पॉपकॉर्न, क्रैकर्स, प्रेट्जेल और नट्स शामिल हैं। इसका चुनाव भी आप कर सकते हैं।
  • दूध, दही और कई अन्य डेयरी उत्पादों में स्वाभाविक रूप से नमक की मात्रा कम होती है। आप इसे भी चुन सकते हैं।
  • साल्सा, सलाद ड्रेसिंग, सोया सॉस और अन्य मसालों के स्टोर से खरीदे गए पैक्ड आइटम में हाय सोडियम हो सकता है। वहां पर भी लेबल का ध्यान जरूर रखें।

और पढ़ें: Arteriosclerosis: बचना है हार्ट की इस बीमारी से, तो आज से अपनाएं हेल्दी लाइफस्टाइल!

हार्ट पेशेंट के लिए लो सोडियम डायट अपनाने के अन्य तरीके (Other ways to adopt a low sodium diet for heart patients):

आप अपने डायट में सोडियम की कमी को पूरा करने के लिए कुछ अन्य उपाय भी अपना सकते हैं, जिनमें शामिल हैं, जैसे कि खाने में हर्ब और मसालों का उपयोग करें। यह हेल्थ के लिए काफी अच्छा होता है। स्वाद के लिए आप काली मिर्च, ऑलस्पाइस, अदरक, इलायची, सोआ, करीपत्ता और इलायची का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा खाने में ऊपर से अलग से कच्चा नमक डालने से बचें। यह हार्ट वालों के लिए जहर की तरह हाेता है। यदि आपको खाने में बहुत अधिक सोडियम लेंगे, तो उसे तुरंत छोड़ दें, न खाएं। नहीं तो यह दिल की विफलता वाले लोगों के लिए समस्या पैदा कर सकता है। अपने सोडियम स्तर को प्रतिदिन ट्रैक करें: ट्रैक करने में आपकी सहायता के लिए आप ऑनलाइन वर्कशीट डाउनलोड कर सकते हैं, या बस अपने स्मार्टफोन पर या पेंसिल और पेपर के साथ नोट्स रख सकते हैं। कम नमक के सेवन के साथ शुरूआत में आपको समय जरूर लगेगा, शायद लगभग 6 से 8 सप्ताह का समय लग सकता है। लेकिन हर दिन छोटे-छोटे बदलाव करें और खुद के साथ धैर्य रखें। फिर धीरे-धीरे आपको इसकी आदत हो जाएगी।

और पढ़ें: जंपिंग जैक के 10 फायदे, जो हेल्दी हार्ट से लेकर वेट लॉस के लिए है बेहतरीन!

रेस्तरां जाते समय अन्य बातों का रखें ध्यान (Other things to keep in mind while going to the restaurant)

हालांकि घर पर खाना बनाना आपके भोजन में सोडियम की मात्रा को नियंत्रित करने का एक अच्छा तरीका है, लेकिन यदि आप कहीं बहार जाते हैं, जैसे कि रेस्तरां, तो आप इन बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • जैसा कि हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग जरूरी है, इसलिए वहां पर कंफर्म कर लें कि कम नमक वाले फूड में क्या उपलब्ध है।
  • अपने खानें को कम नमक में तैयार करने के लिए कहें।
  • आप ऑयली फूड के बजाय, स्टीम्ड, ग्रिल्ड, ब्रोइल्ड, बेक्ड, रोस्टेड या पोच्ड चीजों का सेवन करें।
  • सलाद ड्रेसिंग के बजाय जैतून का तेल और सिरका का चुनाव करें।
  • फलों का सलाद, फेंकी हुई सब्जियां या पालक का सलाद ऑर्डर करें।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट्स के लिए योग है बेहतर उपाय लेकिन ये योग कहीं पैदा न कर दें खतरा!

हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग जरूरी है, इसके बारे में आपने जाना यहां। अधिक नमक का सेवन हार्ट के अलावा कई अन्य बीमारियों का कारण भी बन सकता है, इसलिए अच्छा होगा कि आप लो सोडियम डायट की ही चुनाव करें। ध हार्ट पेशेंट में सोडियम का कम उपयोग के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें और उन्ही के द्वारा बतायी गई मात्रा लें, क्योंकि में सोडिमय की अधिक कमी होना भी अच्छा नहीं है।

 

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड