home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मानव शरीर की 300 हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य

मानव शरीर की 300 हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य

सामान्य ज्ञान के तौर पर अक्सर ये सवाल पूछा जाता है कि बताओं मानव शरीर में कितनी हड्डियां होती हैं? जवाब होता है 206 जो सही है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि नवजात शिशु में 300 हड्डियां होती हैं ? ये सच है की बच्चों में जन्म के समय हड्डियों की संख्या 300 होती हैं और जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं हड्डियों की संख्या कम होकर 206 हो जाती है। तो अगली बार अब आप इस सवाल को बदल कर पूछें कि जन्म के दौरान शरीर में कितनी हड्डियां होती हैं? वहीं इस आर्टिकल में जानें आखिर बाकी हड्डियां हमारे शरीर से कहां गायब हो जाती है? चलिए जानते हैं, हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य।

और पढ़ेंः गर्मियों में तेजी से बढ़ते हैं नाखून (Nails), जानें इस तरह के कई फन फैक्ट्स

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – 94 हड्डियां गायब हो जाती हैं?

नवजात के जन्म के बाद कुछ हड्डियां आपस में मिलकर एक हो जाती हैं। शिशु की हड्डियां पूरी तरह से नरम (Soft), लचीली (Flexible) और टिशू से बनी होती हैं जिन्हें कार्टिलेज कहा जाता है। यही कार्टिलेज धीरे-धीरे बच्चे के विकसित होने पर सख्त हड्डियों में बदल जाती हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार 20 साल की उम्र तक हड्डियां बढ़ती हैं लेकिन, उसके बाद हड्डियों का विकास रुक जाता है।

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – उम्र का हड्डियों पर असर

जब शरीर का विकास पूरा हो जाता है उसके बाद उम्र का हड्डियों पर असर होना शुरू हो जाता है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है वैसे-वैसे हड्डियां कमजोर और पतली होने लगती है। इसलिए बढ़ती उम्र में हड्डी टूटना और कष्टदाई होता है। हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए विटामिन-डी, कैल्शियम और एक्सरसाइज आवश्यक होता है। शरीर में मौजूद हड्डियां रेड और वाइट ब्लड सेल्स बनाने में मदद करती है। इन्हीं हड्डियों की वजह से मनुष्य के शरीर का स्ट्रक्चर बन पाता है। अलग-अलग हिस्से में मौजूद हड्डियां हमारे शरीर की हिफाजत करती हैं, जैसे स्कल ब्रेन को सुरक्षित रखता है और रिब्स हार्ट और लंग्स को सुरक्षित रखता है। वाइट ब्लड सेल्स इंफेक्शन से बचाता है।

और पढ़ेंः सेकेंड हैंड ड्रिंकिंग क्या है?

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य

  • जन्म के कुछ समय बाद तक 300 हड्डियां होती हैं और लगभग 20 साल की उम्र के बाद हड्डियों का बढ़ना बंद हो जाता है।
  • चोट लगने पर क्लैविकल (Collar Bone) हड्डी शरीर के अन्य हड्डियों के मुकाबले सबसे जल्दी टूट सकती है।
  • पैर की हड्डी घुटने की हड्डी से आपस में जुड़ी हैं।
  • स्मोकिंग का बुरा असर दिल और फेफड़ों पर पड़ने के साथ-साथ हड्डियों पर भी पड़ता है।
  • पैर की सबसे लंबी वाली उंगलियों में हड्डियों की संख्या दो होती है, जबकि अन्य चार उंगलियों में हड्डियों की संख्या छोटी-छोटी 3 होती हैं।
  • 206 हड्डियों में कान की हड्डी जिसे स्टेपीस (Stepis) कहते हैं, वो सभी हड्डियों से सबसे ज्यादा छोटी होती हैं।
  • सबसे बड़ी हड्डियों में जांघ की हड्डी आती है। जिसे फिमर (Femur) कहते हैं।
  • हाथ, अंगुली और कलाइयों में 54 हड्डियां होती हैं। दाहिने और बाएं हाथों की अंगुलियों में हड्डियों की संख्या सबसे ज्यादा होती है।
  • पुरुषों और महिलाओं की हड्डियों में थोड़ा अंतर होता है।
  • कोहनी (Elbow) की हड्डी को फनी बोन कहा जाता है। क्योंकि किसी भी चीज से टकराने या चोट लगने की वजह से कोहनी में दर्द और झनझनाहट महसूस होती है।
  • हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम अतिआवश्यक है।

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बचपन से ही रखें ध्यान

हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बचपन से ही इनका ख्याल रखने की जरूरत होती है। बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कई पोषक तत्वों की उनके शुरुआती सालों में ही जरूरत होती है। लेकिन, इन सबमें सबसे ज्यादा जरूरी कैल्शियम को ही माना जाता है। साथ ही मैग्नीशियम, विटामिन के और विटामिन डी भी मजबुत हड्डियों के लिए उतना ही जरूरी है जितना कि कैल्शियम। इसके अलावा फिजीकली एक्टिविटीज भी हड्डियों के लिए जरूरी हैं। बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए उनकी डायट में ओमेगा 3, कोलैजन सप्लीमेंट, हाई कैल्शियम फूड और प्रोटीन को शामिल करने की जरूरत है। साथ ही बच्चों के लिए डायट चुनते समय इस बात का ध्यान रखें कि उनकी डायट उनके सही वजन को मेंटेन करने में मदद करें।

और पढ़ेंः जानें शरीर में तिल और कैंसर का उससे कनेक्शन

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – हड्डियों के लिए कैल्शियम कितना है जरूरी

हड्डियों की देखभाल के लिए आपकी हर मील में सही मात्रा में कैल्शियम होना जरूरी है। कैल्शियम के सोर्स की बात की जाए तो दूध, दही या अन्य डेयरी प्रोडक्ट्स में यह भारी मात्रा में पाया जाता है। वहीं ऐसा भी माना जाता है कि दूध में सबसे ज्यादा मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। यही कारण है कि बच्चों के लिए दूध को काफी जरूरी आहार के रूप में जाना जाता है। साथ ही बच्चों को दिन में दो बार दूध दिए जाने की भी बात की जाती है। इसके अलावा जिन लोगों को डेयरी प्रोडक्ट्स पसंद नहीं है वे लोग इसके लिए ड्राई फ्रूट्स जैसे कि बादाम, ब्रोकली, केला, शलजम और अंजीर का सेवन कर सकते हैं।

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बचपन से ही रखें ध्यान

हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बचपन से ही इनका ख्याल रखने की जरूरत होती है। बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कई पोषक तत्वों की उनके शुरुआती सालों में ही जरूरत होती है। लेकिन, इन सबमें सबसे ज्यादा जरूरी कैल्शियम को ही माना जाता है। साथ ही मैग्नीशियम, विटामिन के और विटामिन डी भी मजबुत हड्डियों के लिए उतना ही जरूरी है जितना कि कैल्शियम। इसके अलावा फिजीकल एक्टिविटीज भी हड्डियों के लिए जरूरी हैं। बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए उनकी डायट में ओमेगा 3, कोलैजन सप्लीमेंट, हाई कैल्शियम फूड और प्रोटीन को शामिल करने की जरूरत है। साथ ही बच्चों के लिए डायट चुनते समय इस बात का ध्यान रखें कि उनकी डायट उनके सही वजन को मेंटेन करने में मदद करें।

और पढ़ेंः कॉफी से जुड़े फैक्ट: क्या जानवरों की पॉटी से बनती है बेस्ट कॉफी?

हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य – हड्डियों के लिए कैल्शियम कितना है जरूरी

हड्डियों की देखभाल के लिए आपकी हर मील में सही मात्रा में कैल्शियम होना जरूरी है। कैल्शियम के सोर्स की बात की जाए तो दूध, दही या अन्य डेयरी प्रोडक्ट्स में यह भारी मात्रा में पाया जाता है। वहीं ऐसा भी माना जाता है कि दूध में सबसे ज्यादा मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। यही कारण है कि बच्चों के लिए दूध को काफी जरूरी आहार के रूप में जाना जाता है। साथ ही बच्चों को दिन में दो बार दूध दिए जाने की भी बात की जाती है। इसके अलावा जिन लोगों को डेयरी प्रोडक्ट्स पसंद नहीं है वे लोग इसके लिए ड्राई फ्रूट्स जैसे कि बादाम, ब्रोकली, केला, शलजम और अंजीर का सेवन कर सकते हैं।

अगर हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य से जुड़ा आपका कोई सावाल है, तो बहेतर समाधान के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 06/10/2019
x