backup og meta

Chinese Gel: चाइनीज जेल से होगा कैविटीज का चुटकियों में इलाज

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Suniti Tripathy द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/12/2021

Chinese Gel: चाइनीज जेल से होगा कैविटीज का चुटकियों में इलाज

चमकते दांत हर किसी के लुक में चार चांद लगा देते हैं। लेकिन दांतों में अगर कैविटी हो जाए तो बड़ी परेशानी हो जाती है। कई लोग दांत के डर की वजह से डेंटिस्ट के पास जाने से घबराते है। पर अब ऐसा नहीं होगा। चाइना जेजियांग यूनिवर्सिटी (China’s Zhejiang University) के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी जेल बनाई है, जो कैविटी भरने के परंपरागत तरीके को पीछे छोड़ देगी। इस चाइनीज जेल (Chinese Gel) की मदद से इनेमल (Enamel) में आने वाली कैविटीज 48 घंटे के अंदर ठीक हो जाएंगी।

और पढ़ें : दांतों में मौजूद प्लाक और धमनियों में मौजूद प्लाक का क्या है आपस में संबंध?

क्या है इनेमल और कैसे चाइनीज जेल (Chinese Gel) करता है काम?

इनेमल दांतों को ढ़कने वाली कवरिंग को कहते हैं ये बहुत ज्यादा कठोर होती है और इसकी वजह से आपके दांत लंबे समय तक सुरक्षित रहते हैं।  जब हम बहुत ज्यादा मीठा या फिर कठोर खाना खाते हैं तब हमारे दांतों में छेद (Tiny holes in teeth) हो जाते हैं, जिन्हें कैविटीज (Cavities) कहते हैं। अगर आपको ऐसी कोई भी समस्या होती है तो जरूरत है कि आप इन कैविटीज को भरवाएं और जल्द इलाज करवाएं।

आमतौर से कैविटीज होने पर आपको मेटल (Metal) या रेसिन (Resin) की फिलिंग करवानी पड़ेगी। अक्सर ऐसी फिलिंग करवाने के कुछ सालों बाद ये फिलिंग बाहर निकल जाती है। इससे दोबारा परेशानियां बढ़ जाती हैं।

लेकिन अब  कैल्शियम और फॉस्फेट से बने हुए जेल का इस्तेमाल करने से फिलिंग ज्यादा मजबूत होगी। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि चाइनीज जेल न केवल कैविटीज को भरेगा बल्कि कैविटी को सेल्फ हीलिंग में भी बढ़ावा देगा। इस चाइनीज जेल (Chinese Gel) से की जाने वाली फिलिंग की संरचना इनेमल जैसी ही होगी।

चाइनीज जेल (Chinese Gel) से बनाया जाने वाला आर्टिफिशियल इनेमल लगभग 3 माइक्रोमीटर मोटा होगा जो की प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले इनेमल से 400 गुना पतला है। हालांकि, शोधकर्ता टैंग (Researcher – Ruikang Tang) कहते हैं कि चाइनीज जेल की एक से ज्यादा बार लेयरिंग करवाने से आप प्राकृतिक इनेमल जैसी ही संरचना पा सकते हैं। चाइनीज जेल (Chinese Gel) से हीलिंग में केवल 48 घंटों का समय लगेगा जो कि परंपरागत इलाज के मुकाबले बेहद कम है।

और पढ़ें : ओरल हाइजीन का रखेंगे ख्याल तो शरीर को भी होने लगेगा फायदा

सुरक्षा भी है जरूरी !

कैल्शियम और फॉस्फेट से बनने वाला ये चमत्कारी जेल आपकी समस्याएं तो कम करता है लेकिन इसके संभावित खतरों पर भी रिसर्च जारी है। डॉक्टर्स निम्नलिखित बातों पर टेस्टिंग जारी है-

1 . खाते समय चाइनीज जेल (Chinese Gel) खाने के साथ कोई हानिकारक रिएक्शन न करे।

2 . साथ ही मुंहके अंदर चाइनीज जेल शरीर में पाए जाने वाले किसी भी एंजाइम के साथ रिएक्शन न करें।

फिलहाल ये जेल अभी टेस्टिंग स्टेज पर है और अगर ये टेस्टिंग सफल होती है तो लोगों को जल्द ही दांत की इस प्रमुख परेशानी का आसान इलाज मिल जाएगा।

चाइनीज जेल (Chinese Gel) की मदद से कैविटी की समस्या से निजात पाने के साथ-साथ इससे अन्य तरह से भी छुटकारा पाया जा सकता है। निम्नलिखित टिप्स फॉलो करें।

खाने के बाद ब्रश करें (Tooth brush after eating) 

कैविटी से बचने का सबसे अच्छा तरीका है अपने दांतों को साफ रखना चाहिए। डॉक्टर भी दिन में कम से कम दो बार दांतों को साफ करने की सलाह देते हैं। जब भी हम कुछ खाते हैं, तो खाने की चीज दांतो में फंस जाते हैं और उसमे कीड़ा लग जाता है। इसलिए सुबह और सोने से पहले ब्रश करने की आदत न छोड़ें। इसलिए चाइनीज जेल (Chinese Gel) के इस्तेमाल के साथ-साथ कम से कम दो बार ब्रश जरूर करें।

और पढ़ें : अक्ल दाढ़ के दर्द से हो गए हैं परेशान तो आजमाएं ये आसान घरेलू उपाय

फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट (Floride tooth pest) का इस्तेमाल करें 

फ्लोराइड से दांत मजबूत होती है और यह दांतों को नुकसान होने से बचता है। इसलिए हमेशा ही फ्लोराइड टूथपेस्ट ही चुनें। इसके प्रयोग से दांतों में कीड़ा नहीं लगता। चाइनीज जेल (Chinese Gel) के साथ-साथ दांतों मजबूत रखने के लिए फ्लोराइड वाले टूथपेस्ट का इस्तेमाल लाभकारी हो सकता है। चाइनीज जेल अपनी परेशानी को दूर करने में कारगर तो है ही लेकिन, इसके साथ ही फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना भी जरूरी है।

मीठी (Sweet) चीजें कम खाएं

मीठे खाद्य पदार्थ या मैदे से बनी चीजें और जंक फूड से दांतों में कीड़ा लगने की संभावना बढ़ जाती है और दांतो को नुकसान होता है। इसलिए इन चीजों को कम खाएं।

फ्लॉसिंग (Flossing)

दांतो के बीच बचा (फसा) खाना या अन्य चीजें कीड़ा लगने की वजह बनती है और यह टूथब्रश से भी नहीं निकलती। ऐसे में फ्लॉसिंग करने से यह चीजें खुद ही निकल जाती हैं। इसलिए, फ्लॉसिंग (Flossing)  करना भी न भूलें।

और पढ़ें : जानिए क्या है प्रेग्नेंसी और ओरल हेल्थ कनेक्शन

शुगर फ्री च्यूइंगम (Sugar free chewing gum) 

बिना चीनी की च्यूइंगम चबाने से मुंह में लार बनती है, जिससे दांतों में कीड़ा नहीं लगता।

इन सब चीजों जैसे फ्लोराइड या सही ब्रश करने के तरीके के अलावा, आपको समय-समय पर अपने डॉक्टर से जांच आवश्यक करानी चाहिए। ऐसा करने से आपको अपने दांतो की स्थिति के बारे में सही जानकारी मिल जाती है। याद रखें, शरीर के अन्य अंगों की तरह दांत भी हमारे शरीर का मुख्य हिस्सा हैं। इसलिए इनकी सेहत को किसी भी कीमत पर नजरअंदाज न करें, बल्कि पूरा ख्याल रखें।

एक रिपोर्ट के अनुसार 50 प्रतिशत स्कूल जाने वाले बच्चों को कैविटी की समस्या होती है। इसलिए बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी कैविटी की समस्या से बचाना चाहिए।

शिशु या बच्चों को दांतों से जुड़ी परेशानी से बचाने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें जैसे-

  • जब बच्चा ब्रश नहीं कर पाता है तो ऐसे में साफ कॉटन के कपड़ों को पानी से गीला कर रोजाना दांत, मसूड़ें और जीभ की सफाई करें। इस दौरान हाथों का आराम से इस्तेमाल करें नहीं तो बच्चे को चोट लग सकती है। ऐसे करने से बैड बैक्टेरिया खत्म हो जायेगा।
  • जब आपका बच्चा ब्रश करने लगे तो उसे बेबी ब्रश से ब्रश करना सिखायें। ध्यान रखें की बच्चे को ज्यादा टूथ पेस्ट न दें और वो दो-तीन मिनट से ज्यादा ब्रश न करें। आप बच्चे को इस दौरान यह भी सिखायें की ब्रश कैसे ठीक तरह से किया जाता है।
  • जब बच्चे के सभी दांत आपस में टच होने लगे या दो दांत आपस में टच हो जाये तो फ्लॉसिंग (Flossing) का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • जब बच्चे की उम्र 2 साल की हो जाये तो उसे ब्रश करने के दौरान कुल्ला करना सिखायें।
  • ब्रश करने के दौरान अपने बच्चे के हमेशा साथ रहें क्योंकि बच्चों को टूथपेस्ट का स्वाद पसंद आता है और वो उसे खाने लगते हैं। इसलिए उन्हें समझाएं की टूथपेस्ट खाने की चीज नहीं है इससे सिर्फ ब्रश करने के दौरान इसका इस्तेमाल किया जाता है।

अगर आप चाइनीज जेल (Chinese Gel) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए खान-पान का विशेष ख्याल रखना चाहिए। इसके साथ ही नियमित और सही योगासन करना आवश्यक माना गया है। आप नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर योग से जुड़े आसनों को समझें और उन्हें अपने जीवन में रोजाना शामिल करें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr Sharayu Maknikar


Suniti Tripathy द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/12/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement