शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स कब रिकमंड किए जाते हैं?

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स कब रिकमंड किए जाते हैं?

    नवजात शिशु को ब्रेन डेवलपमेंट (Brain Development) और हेल्दी रेड ब्लड सेल्स (Red blood cells) के निमार्ण के लिए बिटामिन बी-12 (Vitamin-12) की जरूरत होती है। जिन बच्चों को बिटामिन बी-12 नहीं मिल पाता उनमें इस विटामिन की कमी हो जाती है। अगर इसका इलाज ना किया जाए तो शिशु में विटामिन बी-12 की कमी परमानेंट ब्रेन डैमेज का कारण बन सकता है। ऐसे में कई बार शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) रिकमंड किए जाते हैं। जो बच्चे के लिए मददगार साबित होते हैं। विटामिन बी-12 एनिमल फूड्स से प्राप्त होता है जिसमें मीट, फिश, एग और मिल्क प्रोडक्ट शामिल हैं। जो महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान या हमेशा वीगन डायट फॉलो करती हैं उनमें विटामिन-बी 12 की कमी पाई जाती है।

    बच्चों को ब्रेस्ट मिल्क से विटामिन-बी 12 से प्राप्त होता है? (Babies get vitamin B12 from breast milk)

    विटामिन-बी 12 प्रेग्नेंसी के दौरान प्लासेंटा के जरिए भ्रूण को प्राप्त होता है। वहीं जन्म के बाद उन्हें ब्रेस्ट मिल्क से यह प्राप्त होता है। नवजात जो ब्रेस्ट मिल्क पीते हैं उन्हें विटामिन-बी 12 उचित मात्रा में प्राप्त होता है उन शिशुओं की तुलना में जो इंफेंट फॉर्मूला लेते हैं। अगर मां के अंदर विटामिन-बी 12 की कमी है, तो बच्चा भी इसका शिकार हो सकता है। चूंकि विटामिन-बी 12 एनिमल से मिलने वाले फूड्स से प्राप्त होता है। इसलिए जो मदर्स एनिमल प्रोडक्ट्स नहीं खाती उनमें इसकी कमी होने की आशंका ज्यादा होती है। ऐसे में शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) का उपयोग किया जा सकता है।

    ऐसी महिलाएं जो गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric bypass surgery) से गुजरी हों, जिन्हें परनिसियस एनीमिया हो (Pernicious anemia) (जिसका कारण विटामिन बी-12 की कमी से होने से रेड ब्लड सेल्स में कमी होना होता है) या जिन्हें गेस्ट्रिक डिसऑर्डर हो, वे कई प्रकार के विटामिन और मिनरल्स को एब्जॉर्ब नहीं कर पाती। ऐसे में डॉक्टर की सलाह की जरूरत होती है।

    और पढ़ें: Vitamin B12 Deficiency: विटामिन बी 12 की कमी क्या है?

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 Supplements for Baby)

    विटामिन बी-12 एक जरूरी माइक्रोन्यूट्रिएंट है जो बॉडी की नर्व और ब्लड सेल्स को हेल्दी रखने में मदद करता है। बड़ों में इसकी कमी होने पर वजन में कमी, थकान, कमजोरी, कब्ज, भूख में कमी जैसी परेशानियां होती हैं, लेकिन कम लोग जानते हैं कि नवजात में विटामिन-बी 12 की कमी उनके विकास में रोड़ा डाल सकती है। कई बार मां के दूध का सेवन न पाने से भी बच्चों में विटामिन- बी12 की कमी हो जाती है।

    अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रिशन के अनुसार शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) का उपयोग फीडिंग डिफिकल्टीज को कम करने और माइनर न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम्स, डेवलपमेंट डिले को कम करने में मदद करता है। शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स का उपयोग ऐसे शिशुओं में भी प्रभावी है जिनमें माइल्ड डेफिसिएंशी है।

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स का डोज और इसे किस समय देना सबसे सही होगा यह पता लगाने के लिए अन्य स्टडीज की जरूरत है। ताकि शिशु को ट्रीटमेंट का अच्छे से अच्छा लाभ मिल सके। शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) का उपयोग कब और कैसे करना है इस बारे में डॉक्टर से सलाह लेना सही होगा।

    और पढ़ें : शिशु के लिए सप्लिमेंट्स का उपयोग कब हो जाता है जरूरी?

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns)

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) और कमी के बारे में क्या कहती है स्टडी

    भारतीय नवजात में न्यूट्रिशनल विटामिन बी-12 की डेफिसिएंशी के बारे में 60 साल पहले बताया गया था। 1957 में 25 नवजात शिशुओं में इस विटामिन की कमी के लक्षण जैसे स्किन हायपरपिगमेंटशन और न्यूरोडेवलपमेंट में कमी पाई गई थी।ये नवजात वीगन मदर्स से ब्रेस्टफीड कर रहे थे। भारतीय आबादी में विटामिन बी12 की कमी बहुत आम है। विशेष रूप से, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं और उनके शिशुओं में इसका विशेष वर्णन किया गया है। 60% गर्भवती महिलाओं और उनके 29% नवजात शिशुओं में विटामिन बी12 की कमी होती है।

    शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स कब जरूरी हैं? (When are Vitamin B-12 Supplements Necessary for a Baby?)

    अगर बच्चे के लिए फॉर्मूला मिल्क का यूज करते हैं तो उन्हें फॉर्टिफाइड फॉर्मूला के जरिए विटामिन बी 12 मिल जाता है। इसके अलावा भी ओवर द काउंटर मिलने वाले इंफेंट्स विटामिन ड्रॉप्स और रेडी टू ईट सीरियल्स और सोया मिल्क में भी विटामिन बी 12 होता है। निम्न स्थितियों में शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) जरूरी हो जाते हैं।

    और पढ़ें: बच्चों के लिए विटामिन्स की जरूरत और सप्लीमेंटस के बारे में जानिए जरूरी बातें

    उम्र के अनुसार कितने विटामिन बी-12 (Vitamin B-12) की कितनी जरूरत होती है?

    उम्र के लिए अनुसार निम्न मात्रा में विटामिन बी-12 की जरूरत होती है।

    6 महीने से छोटे बच्चों के लिए 0.4 माइक्रोग्राम
    7 से 12 महीने के बच्चों के लिए 0.5 माइक्रोग्राम
    1 से 3 साल के बच्चों के लिए 0.9 माइक्रोग्राम
    4 से 8 साल के बच्चों के लिए 1.2 माइक्रोग्राम
    9 से 13 साल के बच्चों के लिए 1.8 माइक्रोग्राम
    14 से 28 साल के वयस्कों के लिए 2.4 माइक्रोग्राम (प्रेग्नेंसी के दौरान 2.6 माइक्रोग्राम और ब्रेस्टफीडिंग के समय 2.8 माइक्रोग्राम विटामिन बी-12 की जरूरत होती है।)

    क्या बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंटस (Vitamin supplements for babies) के साथ कुछ रिस्क भी जुड़े हुए हैं?

    अगर विटामिन या मिनरल को अधिक मात्रा में लिया जाए, तो यह बच्चों के लिए बेहद हानिकारक साबित हो सकते हैं। जैसे सर्दी और फ्लू को रोकने के लिए अगर बच्चे को विटामिन C की उच्च खुराक देते हैं तो बच्चे को मतली, दस्त आदि हो सकते हैं। इसके साथ ही कुछ विटामिन सप्लिमेंट बच्चों की अन्य दवाओं के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं। अगर आप चिंतित हैं शिशु के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स को शुरू करने से पहले तो इसके बारे में पूरी जानकारी डॉक्टर से लें। साथ इसके साइड इफेक्ट्स (अगर हैं तो) के बारे में भी जान लें ताकि आप इसके लिए पहले से तैयार रह सकें।

    विटामिन बी12 के सोर्स

    विटामिन बी12 के सोर्स में निम्नलिखित शामिल हैं:

    • अंडे
    • दही और पनीर
    • 3.25% होल मिल्क (9 महीने के बाद)
    • स्टोर से खरीदा शिशु फार्मूला

    नोट: शिशु के लिए सप्लिमेंट्स (Supplements for newborn) का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। हर बच्चे को सप्लिमेंट की जरूरत नहीं होती और हर बच्चे के लिए सप्लिमेंट्स का उपयोग अलग तरीके से किया जाता है। साथ ही परिवार में मौजूद दो शिशुओं में एक जैसे लक्षण दिखने पर भी एक ही प्रकार के सप्लिमेंट का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। अगर डॉक्टर ने आपके शिशु के लिए सप्लिमेंट्स को प्रिस्क्राइब किया है, तो उन्हें डॉक्टर के द्वारा बताए गए तरीके से, उतनी ही डोज में दें।

    उम्मीद करते हैं कि आपको शिशु के लिए विटामिन बी-12 सप्लिमेंट्स (Vitamin B-12 supplements for newborns) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Vitamin B12/https://www.cdc.gov/breastfeeding/breastfeeding-special-circumstances/diet-and-micronutrients/vitamin-b12.html/ Accessed on 9th August 2021

    Vitamin B 12 status and neurodevelopmental delay in Indian infants: a hospital-based cross-sectional study/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/31267850/Accessed on 9th August 2021

    4 Infant Supplements to Ask Your Pediatrician About/https://www.eatright.org/food/vitamins-and-supplements/dietary-supplements/4-infant-supplements-to-ask-your-pediatrician-about/Accessed on 9th August 2021

    Vitamin B-12 supplements in newborns/
    https://health.ucdavis.edu/welcome/features/2013-2014/03/20140317_vitamin_b12.html/Accessed on 9th August 2021

    Vitamin B-12/https://www.cdc.gov/breastfeeding/breastfeeding-special-circumstances/diet-and-micronutrients/vitamin-b12.html/Accessed on 16/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/06/2022 को
    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड