Colic: कोलिक क्या है ?

परिचय|लक्षण|डॉक्टर को दिखाएं|कारण|निदान|इलाज|जोखिम|जटिलताएं
    Colic: कोलिक क्या है ?

    परिचय

    शिशुओं में कोलिक क्या है?

    कोलिक एक ऐसी बीमारी है जिसमें शिशु अधिक रोता है। यह बीमारी की जो आपके शिशुओं में जन्म के पश्चात होता है। कोलिक शिशुओं में तब होता है जब एक स्वस्थ शिशु लंबे समय तक रोता है या बार-बार रोता है। यदि आपका शिशु नियमित रूप से दिन में 3 घंटे से ज्यादा रोता है, तो उसे पेट में दर्द हो सकता है। जन्म के कुछ सप्ताह बाद कोलिक शुरू हो सकता है। यह आम तौर पर 4 से 6 सप्ताह की उम्र के बीच सबसे अधिक प्रभावित होता है। आमतौर पर कोलिक से शिशु 3 से 4 महीने के बाद निकल जाते हैं।

    -कोलिक होने का कोई स्पष्ट कारण सामने नहीं आया है, कभी-कभी आप अपने शिशु को रोता हुआ देखकर भी कुछ नहीं कर पाते हैं जो बच्चे को राहत दे सके। आपके पास सबकुछ है लेकिन शिशु को इस प्रकार रोता हुआ देखकर जब आप कुछ न कर पाएं तो यह माता-पिता के लिए तनावग्रस्त हो जाता है।

    और पढ़े : बच्चों में स्किन की बीमारी, जो बन सकती है पेरेंट्स का सिरदर्द

    लक्षण

    शिशुओं में कोलिक के लक्षण क्या हैं?

    सभी इस बात को जानते हैं कि शिशुओं का रोना सामान्य है, जिन शिशुओं के पेट में दर्द होता है, वे बाकी शिशुओं की तुलना में अधिक रोते हैं। हालांकि उनके स्वास्थ में कोई समस्या नहीं होती है वो पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं। कोलिक को 3 सप्ताह से अधिक प्रति दिन 3 घंटे से अधिक रोने के रूप में बताया गया है। कोलिक के लक्षण इस प्रकार से हो सकते हैं।

    • कभी-कभी शिशु के गैस पास करने या मल त्याग करने के बाद लक्षणों में राहत मिलती है।
    • तीव्र रोना जो चिल्लाने या दर्द की अभिव्यक्ति की तरह अधिक लग सकता है
    • बिना किसी स्पष्ट कारण के रोना (उदाहरण के लिए, उन्हें भूख नहीं है या डायपर बदलने की आवश्यकता है)।
    • प्रत्येक दिन एक ही समय के आसपास रोना।
    • कोलिक बच्चे अक्सर दिन के अंत में उधम मचाते हैं। लेकिन यह किसी भी समय हो सकता है।
    • रोते हुए शारीरिक तनाव, जैसे अपने पैरों को कर्ल करते समय अपनी मुट्ठी को बंद करना।
    • ऐसे रोना जैसे कोछ दर्द हो रहा हो।
    • रोने पर लाल होना आसपास की त्वचा का पीला पड़ना।

    और पढ़े : गर्भ में शिशु का हिचकी लेनाः जानें इसके कारण और लक्षण

    डॉक्टर को दिखाएं

    डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

    अत्यधिक रोना पेट का दर्द या कोलिक या किसी बीमारी का संकेत हो सकता है। इसको अन्देखा न करें सही समय पर अपने शिशु को डॉक्टर को दिखाएं और यह जानें की उनके परेशान होने का कारण क्या है। बच्चे के लक्षण को देखकर डॉक्टर उसका सही रुप से निदान करेगें जिससे उसका इलाज हो सके।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    और पढ़े : गर्भ में शिशु का हिचकी लेनाः जानें इसके कारण और लक्षण

    कारण

    शिशु में कोलिक के कारण क्या हैं?

    आमतौर पर शिशु में कोलिक के कारण स्पष्ट नहीं है। लेकिन यह कई कारकों के परिणामस्वरूप हो सकता है। शोधकर्ताओं ने कोलिक के कई संभावित कारणों पर ध्यान दिया है।इसके कई कारण इस प्रकार से हो सकते हैं।

    • पाचन तंत्र जो पूरी तरह से विकसित नहीं है
    • पाचन तंत्र में स्वस्थ बैक्टीरिया का असंतुलन
    • गैस या अपच से दर्द या तकलीफ।
    • स्तनपान में समस्या
    • सूत्र या स्तन के दूध के प्रति संवेदनशीलता।
    • बचपन के माइग्रेन सिरदर्द का प्रारंभिक रूप।
    • डर, हताशा या उत्तेजना के लिए भावनात्मक प्रतिक्रिया।

    निदान

    शिशुओं में कोलिक का निदान क्या है?

    आपके बच्चे का डॉक्टर निदान करने के लिए कुछ परीक्षण कर सकता है। वह शारीरिक परीक्षा करेगा और अपने इतिहास और लक्षणों की समीक्षा कर सकता है। डॉक्टर अन्य संभावित समस्याओं का पता लगाने के लिए कुछ परीक्षण कर सकते हैं।

    इलाज

    शिशुओं में कोलिक का इलाज क्या है?

    यदि आपके शिशु को कोलिक है, तो निदान के बाद अपने डॉक्टर से इलाज कराएं। इससे उभरने के कई और कारक बताए गएं है।

    अपने बच्चे को दूध पिलाना

    यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं, तो आप क्या खाते हैं और क्या पीते हैं, इस पर ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है।आपके द्वारा उपभोग की गई सभी चीजें आपके बच्चे को मिल जाती हैं और उन्हें प्रभावित कर सकती हैं।इस दौरान आप कैफीन और चॉकलेट से बचें, बता दें की ये उत्तेजक के रूप में कार्य करते हैं। डेयरी उत्पादों और नट्स से बचें, जिनसे आपके बच्चे को एलर्जी हो सकती है। अपने डॉक्टर से पूछें कि इस प्रकार कोई दवाई लेने से आपको कोई समस्या हो सकती है।

    -अपने बच्चे को थोड़ा-थोड़ा भोजन करके कई बार खिलाने की कोशिश करें। अबहुत ज्यादा-ज्यादा भोजन कई बार न खिलाएं। आपके बच्चे का एक बोतल दूध लगभग 20 मिनट चलना चाहिए। यदि आपका बच्चा तेजी से खाता है, तो एक छोटे छेद के साथ एक निप्पल का उपयोग करने का प्रयास करें। इससे उनकी फीडिंग धीमी हो जाएगी।

    अपने बच्चे को पकड़ना

    • जब आप उनकी पीठ की मालिश करते हैं तो अपने बच्चे को अपनी बांह या गोद में पकड़ें।
    • शाम को अपने बच्चे को पकड़ना।
    • अपने बच्चे को दिलासा देना
    • चलते समय अपने बच्चे को पकड़ना।
    • अपने बच्चे को सीधा खड़ा रखें, अगर उन्हें गैस है।
    • अपने बच्चे को अपनी बाहों में रॉक करना या शिशु स्विंग का उपयोग करना।
    • अतिरिक्त त्वचा-से-त्वचा संपर्क प्रदान करना।
    • अपने बच्चे को गर्म स्नान दें।
    • अपने बच्चे की मालिश करना
    • सफेद शोर प्रदान करना, जैसे पंखा, वैक्यूम क्लीनर, वॉशिंग मशीन, हेयर ड्रायर, या डिशवॉशर।
    • अपने बच्चे के साथ उनकी कार की सीट पर ड्राइव के लिए जा रहे हैं।
    • अधिकांश बच्चे 3 से 4 महीने के बाद कोलिक से छुटकारा मिल जाता है।
    • केवल इसलिए कि आपके बच्चे को कोलिक है, इसका मतलब है कि वे अस्वस्थ हैं।

    आपको बता दें कि कोलिक आपके बच्चे के लिए कोई अल्पकालिक या दीर्घकालिक समस्या पैदा नहीं करता है। लेकिन माता-पिता के लिए पेट का दर्द मुश्किल हो सकता है। ऐसे शिशुओं को संभालना और उनकी देखभाल करना कठिन हो सकता है जो रोना बंद नहीं करते हैं। आप बहुत निराशा महसूस करते हैं। अपने बच्चे को देखने में मदद करने के लिए अपने किसी करीबी से पूछें। अपने बच्चे को कभी नहलाएं या नुकसान न पहुंचाएं। शिशु को नहलाने से मस्तिष्क की गंभीर क्षति हो सकती है और मृत्यु भी हो सकती है। इसलिए बच्चे को सावधान रहकर संभाले।

    जोखिम

    शिशुओं में कोलिक के जोखिम

    कोलिक के लिए जोखिम कारक अच्छी तरह से समझ में नहीं आते हैं।इसमें निम्नलिखित रुप से जोखिम बताए गए है। गर्भावस्था के दौरान या प्रसव के बाद धूम्रपान करने वाली माताओं को जन्म देने वाले शिशुओं में पेट के विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।

    और पढ़े : बच्चों को मच्छरों या अन्य कीड़ों के डंक से ऐसे बचाएं

    जटिलताएं

    शिशुओं के कोलिक में जटिलताएं

    कोलिक एक शिशु के लिए अल्पकालिक या दीर्घकालिक चिकित्सा समस्याओं का कारण नहीं बनता है।माता-पिता के लिए कोलिक तनावपूर्ण साबित हो सकता है। कोलिक बच्चे और माता-पिता के लिए कई प्रकार की समस्याएं पैदा करता है।

    • माताओं में प्रसवोत्तर अवसाद का खतरा बढ़ जाता है
    • स्तनपान कराने की प्रारंभिक समाप्ति
    • ग्लानि, थकावट, असहायता या क्रोध की भावनाएं

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    14 Remedies to Try for Colic

    Accessed on 11-04-2020

    Colic in Babies

    Accessed on 11-04-2020

    Colic

    Accessed on 11-04-2020

    Colic Symptoms Explained

    Accessed on 11-04-2020

    Colic

    Accessed on 11-04-2020

    लेखक की तस्वीर badge
    shalu द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/05/2020 को
    डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड