home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

घर में प्राकृतिक तरीके से ब्रेस्ट मिल्क कैसे बढ़ाएं?

घर में प्राकृतिक तरीके से ब्रेस्ट मिल्क कैसे बढ़ाएं?

डिलिवरी के बाद अधिकतर मां को ये चिंता सताने लगती है कि उनमें पर्याप्त मात्रा में दूध यानी ब्रेस्ट मिल्क (Breast Milk) का उत्पादन होगा या नहीं! अगर ऐसा नहीं हुआ तो बच्चे को उचित पोषण कैसे मिलेगा। इस तरह की चिंता अधिकतर मांओं की होती है। यह चिंता होना लाजमी भी है, क्योंकि हर मां अपने बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहती हैं। इस चिंता को उड़न छू करने के लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना है, बस अपने किचन में जाएं और डॉक्टर की सलाह के हिसाब से अपनी डायट (Diet) को बदल डालें।

ब्रेस्ट मिल्क से ही मिलते है शिशु को सभी पोषक तत्व (Breast milk is complete nutrition)

ब्रेस्ट फीडिंग (Breastfeeding)

वाराणसी स्थित ओपल हॉस्पिटल की स्त्री रोग एवं प्रसूति विशेषज्ञ डॉ. पूनम राय ने हैलो स्वास्थ्य को बताया कि गर्भावस्था से ही अपने डायट पर ध्यान देने की सलाह दी है। मां जितना ज्यादा अपनी डायट में पोषक तत्वों को शामिल करेंगी लेगी उतना ही ज्यादा उसको दूध का उत्पादन होगा। ब्रेस्ट मिल्क को बढ़ाने के लिए आपको दवाओं पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं है। ब्रेस्ट फीडिंग (Breastfeeding) कराने वाली मां को सबसे पहले यह कोशिश करनी चाहिए कि वह दवाओं का सेवन कम से कम करें। ज्यादातर प्राकृतिक स्रोतों पर निर्भर रहने की आदत डालें। डॉ. पूनम ने बताया कि मां जिस भी चीज का सेवन कर रही है वह सीधा उसके बच्चे तक जा रहा है। इसलिए मां को हमेशा पौष्टिक चीजों पर ही ध्यान देना चाहिए। डॉ. पूनम ने घर में ही प्राकृतिक तरीके से ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए कुछ पौष्टिक आहार बताए हैं, जिनका सेवन हर मां को करना चाहिए।

पानी (Water) ब्रेस्ट फिडिंग कराने वाली मां के लिए सबसे जरूरी

यूं तो सभी को पूरे दिन में लगभग आठ से गिलास पीना चाहिए। लेकिन, जब बात आती है एक ब्रेस्ट फीड़िंग कराने वाली मां की तो उसे पानी पीने की मात्रा बढ़ा लेनी चाहिए। ऐसा इसलिए भी है कि शिशु के शरीर में छह माह तक मां द्वारा लिया गया ही पानी जाता है। छह माह तक बच्चे को मां के दूध के अलावा कोई भी तरल पदार्थ न पिलाएं। पानी की मात्रा मां के दूध से ही पूरी हो जाती है, इसलिए बच्चे को ऊपर से पानी न पिलाएं।

1. दाल में मौजूद प्रोटीन बढ़ाएगा ब्रेस्ट मिल्क

दाल भारतीयों की थाली का एक अहम हिस्सा है। अमूमन दाल का सेवन सभी लोग करते हैं। ब्रेस्ट फीड़िंग कराने वाली मां के लिए दाल सबसे ज्यादा फायदेमंद आहार है। दाल में प्रोटीन (Protein) की मात्रा के साथ कई तरह के विटामिन भी पाए जाते हैं। जो ब्रेस्ट मिल्क को प्राकृतिक रूप से बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए मां को कई तरह के दालों की मात्रा अपने आहार में शामिल करनी चाहिए। दाल को गर्भावस्था से ही पीते रहना चाहिए, ताकि डिलिवरी (Delivery) के बाद दूध उत्पादन में परेशानी न हो। काबुली चना बहुत अच्छा और फायदेमंद माना जाता है। काबुली चने को अंकुरित कर के या सब्जी बना कर सेवन कर सकती हैं।

और पढ़ें: ब्रेस्ट मिल्क को फ्रिज और रेफ्रिजरेटर करने के टिप्स

2. ड्राई फ्रूट्स (Dry Fruits)

डॉ. पूनम ने बताया कि प्राकृतिक तरीके से दूध बढ़ाने के लिए सूखे फल सबसे ज्यादा कारगर साबित होते हैं। सूखे फलों का सेवन ब्रेस्ट फीडिंग (Breastfeeding) कराने वाली मां को साबूत नहीं बल्कि उसका पेस्ट बना कर करना चाहिए। सूखे फलों का पेस्ट बना कर उसमें दूध मिला कर हलवे के जैसे खाने से ब्रेस्ट मिल्क में इजाफा होता है। इसके अलावा मूंगफली (Peanuts), बादाम आदि भी आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

3. तिल (Sesame seeds)

दूध के उत्पादन के लिए कैल्शियम की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है और तिल कैल्शियम (Calcium) का अच्छा स्रोत है। तिल को पीस कर उसका पेस्ट पका कर खाने से भी दूध की मात्रा में बढ़ोत्तरी होती है। तिल के सेवन से बच्चे की हडि्डयां मजबूत होती है। तिल के लड्डू या उसके पराठे बना कर खाने से ब्रेस्ट मिल्क (Breast milk) बढ़ता है।

और पढ़ें: ब्रेस्ट मिल्क स्टोर करना कितना सही है और कितना गलत

4. सौंफ की चाय (Fennel tea)

सौंफ को हम मसाले की तरह भोजन में इस्तेमाल करते हैं। लेकिन सौंफ (Fennel) की चाय एक मां के लिए काफी अच्छी मानी जाती है। सौंफ का सेवन ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने में मदद करता है। सौंफ की चाय बनाना काफी आसान है। सौंफ को पानी में उबाल लें और उसे ठंडा होने दें। इस चाय को दिन भर थोड़ा-थोड़ा कर के लेती रहें।

5. जीरा (Cumin)

जीरा भारतीय व्यंजनों की जान है। ज्यादातर व्यंजनों में इस मसाले का प्रयोग होता है। स्तनपान कराने वाली मां ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए जीरे को किसी भी तरह से इस्तेमाल कर सकती है। जीरा पाउडर को पानी में मिला कर या दही में डाल कर खा सकती हैं। चाहें तो सलाद में भी जीरा पाउडर छिड़क कर खा सकती हैं।

और पढ़ें: ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए अपनाएं ये 10 फूड्स

6. मेथी (Fenugreek)

मेथी के लड्डू का सेवन करने की सलाह हर मां को दी जाती है। मेथी के पत्तियों का पराठा बना कर खाने से ब्रेस्ट मिल्क बढ़ता है। मेथी में आयरन अधिक मात्रा में पाया जाता है। जो कि ब्रेस्ट मिल्क उत्पादन के लिए काफी अच्छी है। मेथी के दानों तो रात भर पानी में भीगा कर सुबह इस्तेमाल कर सकती हैं। भीगी मेथी को सुबह पानी में डाल कर उबाल लें। इस चाय को रोज सुबह पीने से ब्रेस्ट मिल्क बढ़ता है।

7. लहसुन (Garlic)

लहसुन अपने लेक्टोजेनिक गुणों के लिए जाना जाता है। जो दूध बढ़ाने के लिए काफी अच्छा माना जाता है। लहसुन को सब्जियों के साथ इस्तेमाल कर के खा सकती हैं। इसके अलावा, जल्दी परिणाम के लिए लहसुन की कलियों को घी में भून कर अपने रोज के आहार के साथ खाएं। ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने में जल्दी मदद मिलेगी।

8. सहजन (Drumsticks)

सहजन एक ऐसी सब्जी है जिसे ज्यादातर लोग खाना पसंद करते हैं। सहजन में कैल्शियम की अधिक मात्रा पाई जाती है। जिससे दूध में कैल्शियम की मात्रा नियंत्रित रहेगी। सहजन को आप सब्जी या सांभर में डालकर इस्तेमाल कर सकते है। इसके बीजों को सुखा कर उसे पाउडर बना कर भी दूध या पानी के साथ पी सकती हैं।

9. हरा पपीता (Green papaya) जरूर खाएं

हरा पपीता गैलेक्टोगॉग (Galactagogue) से भरपूर होता है। गैलेक्टोगॉग एक ऐसा तत्व है, तो ब्रेस्ट मिल्क (Breast milk) को बढ़ाने में मददगार होता है। गैलेक्टोगॉग ऑक्सीटोसीन हॉर्मोन (Oxytocin Hormone) को बढ़ाता है जिससे दूध का अधिक उत्पादन होता है। हरे पपीते को सलाद के तौर पर आप खा सकती हैं।

इस तरह के आहार आपके दूध को बढ़ाने के साथ ही पोषक तत्वों से भरपूर कर देते हैं। जो कि शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए काफी अच्छा माना जाता है। डॉ. पूनम राय ने बताया कि कोशिश करनी चाहिए कि बच्चे को छह माह की उम्र तक मां की ही दूध देना चाहिए। इसके बाद फिर ही आप ऊपर से दाल का पानी आदि बच्चे को पिला सकते हैं।

एक्क्सपर्ट से जानिए ब्रेस्टफीडिंग एवं फॉर्मूला फीडिंग से जुड़ी संपूर्ण जानकारी सिर्फ एक क्लिक पर (नीचे दिए इस वीडियो पर क्लिक करें)

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Increasing your breast milk supply/https://www.pregnancybirthbaby.org.au/increasing-your-breast-milk-supply/Accessed on 18/03/2021

How To Increase Breast Milk In One Day/https://milkology.org/content/increase-milk-supply-one-day/Accessed on 18/03/2021

Galactagogues – Boosting Your Milk Supply/https://americanpregnancy.org/healthy-pregnancy/breastfeeding/galactagogues-boosting-your-milk-supply-15391/Accessed on 18/03/2021

Top 10 superfoods for breastfeeding moms/https://news.sanfordhealth.org/womens/top-10-breastfeeding-superfoods/Accessed on 18/03/2021

Low milk supply/https://www.thewomens.org.au/health-information/breastfeeding/breastfeeding-problems/low-milk-supply/Accessed on 18/03/2021

 

 

 

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shayali Rekha द्वारा लिखित
अपडेटेड 01/10/2019
x