home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डिलिवरी के बाद मोटापा कहीं आपके परेशानी का कारण तो नहीं?

डिलिवरी के बाद मोटापा कहीं आपके परेशानी का कारण तो नहीं?

फिटनेस का सफर हर किसी के लिए अलग होता है। आजकल की व्यस्त जीवनशैली में बढ़ते वजन को नियंत्रित करना काफी मुश्किल है। लेकिन, गर्भावस्था में वजन बढ़ना आपके और आपके बच्चे लिए अच्छा माना जाता है। बहुत-सी महिलाएं ज्यादातर डिलिवरी के छह से सात महीने बाद अपना वजन कम करना शुरू करती हैं लेकिन, बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन रामपाल की गर्लफ्रेंड, गैब्रिएला डेमेट्रिएड्स ने डिलिवरी के 11 दिन बाद एक ऐसी पोस्ट शेयर की, जिसमें गैब्रिएला का फ्लैट स्टमक दिखाई दिया। डिलिवरी के बाद मोटापा घटाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए कई बातों पर ध्यान देना पड़ता है।

गैब्रिएला ने अपना रोज का रूटीन और डायट शेयर करते हुए कहा है “ये फोटो डिलिवरी के 11 दिनों बाद ली गई है। शरीर एक अद्भुत चीज है। मेरा मानना यही है कि प्रेग्नेंसी के दौरान अपना व्यायाम बंद न करें। बाहर घूमें, स्वस्थ खाएं, जिससे आप फिट रह सकें। प्रीनेटल योगा की मदद से मेरा पेल्विक भाग मजबूत होने में काफी मदद हुई है। याद रखें कि हर एक का शरीर अलग तरीके से काम करता है। अच्छी चीजों के लिए वक्त लगता है, इसलिए अपने शरीर और दिमाग के साथ सहनशीलता बनाएं रखें।

किसी सेलेब्रिटी मॉम के इस पोस्ट में स्ट्रेच मार्क्स का न होना, फ्लैट स्टमक होना और कुछ ही दिनों में घटाया हुआ अपना वजन यह एक चर्चा का विषय बन गया है। हालांकि, गैब्रिएला यह सब अपने अनुशासन अनुसार कर रही है लेकिन, क्या ऐसे असंभव मापदंड होना जरूरी है? क्यों प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं के शरीर का इतना परीक्षण किया जाता है?

और पढ़ें : पॉलिहाइड्रेमनियोस (गर्भ में एमनियोटिक फ्लूइड ज्यादा होना) के क्या हो सकते हैं खतरनाक परिणाम?

डिलिवरी के बाद मोटापा

हमारे समाज में खूबसूरती के मापदंडों को देखा जाए तो, महिलाओं को डिलिवरी के बाद तुरंत अपनी डायट शुरू करना, व्यायाम करना और अपने पुराने आकार में ढलना जरूरी है। हम चाहते हैं महिलाएं अपने मातृत्व को स्वीकार करें और साथ ही अपने बढ़ते वजन और शरीर को भी ! अपने शरीर को स्वीकार करने के बाद आप अपनी डाइट और व्यायाम फिर से शुरू करें, न कि जहां आपको आपके आकार के आधार पर स्वीकार करने के लिए ऐसे असंभव मापदंडो का पालन करना पड़ें।

#bodygoals के नाम पर असाद्य बातें सामने आने से महिलाएं उससे प्रभावित होती हैं, जिससे उनका और बच्चे के नुकसान होने की संभावना होती है, जिसे वह नजरअंदाज करती हैं। ऐश्वर्या राय बच्चन और करीना कपूर खान को भी अपने डिलिवरी के बाद बढ़े वजन के कारण ट्रोल किया गया था। हमारे सोसाइटी में किसी भी सेलिब्रिटी मॉम को तब तक नजरअंदाज किया जाता हैं, जब तक वह अपनी स्त्री परिपूर्णता के आकार में नहीं ढल जाती। स्त्री परिपूर्णता के इन मापदंडों को मानना कितना सही हैं?

#Avoidbodygoals

पुरुष आबादी द्वारा इन #bodygoals को बनाया गया है जहां महिलाएं अपना मत या विचार नहीं रखती हैं। बहुत कम महिलाएं अपनी प्रेग्नेंसी के बाद का बढ़ता वजन बड़ी सुंदरता से संभालती हैं। माना जाए तो ऐसे #bodygoals को टालना ही बेहतर होगा। आपकी खूबसूरती आपका आनंद हैं, जो चेहरे पर झलकता है, उसे हमेशा बनाएं रखें। साथ ही हमसे अपने अनुभव शेयर करें। #avoidbodygoals

और पढ़ें : गर्भावस्था में आम है ये समस्या, जानें प्रेगनेंसी में सिरदर्द से बचाव के उपाय

गर्भावस्था के बाद मोटापा से दूर रहने के तरीके क्या हैं?

डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए निम्नलिखित उपाय करें। जैसे-

  • ग्रीन टी का सेवन आजकल बहुत सारे लोग करते हैं। डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के नई बनी मां ग्रीन टी भी पी सकती हैं।इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट शरीर के लिए लाभकारी होता है। इसका सेवन एक दिन में दो या तीन कप से ज्यादा न करें। इसके अत्यधिक सेवन से सेहत को नुकसान पहुंच सकता है लेकिन, संतुलित मात्रा में इसका सेवन वजन संतुलित रखने में मददगार हो सकता है। आप चाहे तो इस बारे में डॉक्टर से भी जानकारी ले सकती हैं।
  • डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए या सिर्फ पेट का बढ़ा हुआ वजन कम करने के लिए मेथी भी लाभदायक है। रात को एक चम्मच मेथी दाने को पानी में भिगों कर रख दें और सुबह उसे उबाल कर पी लें। ऐसा करने से डिलिवरी के बाद मोटापा से बचा जा सकता है। हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं की मेथी हॉर्मोन को संतुलित रखने में भी सहायक होता है।
  • डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए स्तनपान कराना बहुत जरूरी है। डिलिवरी के बाद महिलाओं में फैट बहुत बढ़ जाता है। फैट को कम करने के लिए स्तनपान बेहतरीन उपाय है। ब्रेस्टफीडिंग इसलिए महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि स्तनपान कराने से कैलोरी खर्च होती है। ऐसा करने से जहां एक ओर बच्चे को पोषक तत्व भी मिलते हैं और साथ ही मां के शरीर की अतिरिक्त चर्बी भी कम हो जाती है। जो महिलाएं कारणवश स्तनपान नहीं करवा पाती है उन महिलाओं का वजन ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं की अपेक्षा अधिक होता है। अगर महिला को डिलिवरी के बाद दूध नहीं बन रहा है तो डॉक्टर से उसे संपर्क करना चाहिए। कुछ दवाओं का उपयोग करने के बाद मां आसानी से बच्चे को ब्रेस्टफीड करवा सकती है।

और पढ़ें:गर्भावस्था में चिया सीड खाने के फायदे और नुकसान

  • डिलिवरी के बाद मां को बच्चे और अपने स्वास्थ्य के संबंध में स्ट्रेस यानी तनाव हो सकता है। स्ट्रेस के कारण वजन बढ़ना आम बात होती है। स्ट्रेस के कारण अक्सर लोग पौष्टिक आहार नहीं लेते हैं, जिस कारण से तेजी से वजन बढ़ने लगता है। खानपान में संतुलित आहार को शामिल करना बहुत जरूरी है। खाने में प्रोसेस्ड फूड, ऑयली फूड, जंक फूड आदि को शामिल न करें। बेहतर होगा कि आप खाने में फ्रूट्स, वेजीटेबल्स, फाइबर युक्त फूड को शामिल करें। साथ ही नियमित आठ से नौ ग्लास पानी भी पिएं। पानी की सही मात्रा शरीर से एक्ट्रा फैट को हटाने का काम करती है।
  • अगर आपको बार-बार भूख लग रही है तो भी आपको कुछ भी खाने की बजाय हेल्दी फूड लेना चाहिए। आप वेजीटेबल्स सूप, फ्रूट्स आदि को लंच और डिनर के बीच के समय में शामिल कर सकते हैं। साथ ही फिजिकल एक्टिविटी में भी पूरा ध्यान देना चाहिए ताकि वजन अधिक न बढ़े। आप अगर लंबे समय तक भूखे रहते हैं तो ये भी शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। डिलिवरी के बाद मां को बच्चे को स्तनपान करवाना पड़ता है, इसलिए हेल्दी फूड लेना बहुत जरूरी है। साथ ही खाने में प्रोटीन, विटामिन्स, मिनिरल और आयरन युक्त फूड को जरूर शामिल करें।

इन घरेलू उपाय के बाद महिला को एक्सरसाइज भी करना चाहिए। डिलिवरी के बाद वैसे भी खानपान में बदलाव आ जाता है। इसलिए एक्सरसाइज की मदद से डिलिवरी के बाद मोटापा कम किया जा सकता है। आप कुछ बातों का ध्यान रखकर डिलिवरी के बाद वजन बढ़ने की समस्या को कम कर सकते हैं। आप चाहे तो इस बारे में अधिक जानकारी के डॉक्टर से संपर्क करें। अगर आपको डिलिवरी के बाद किसी प्रकार की परेशानी हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं।

और पढ़ें : मां के स्तनों में दूध कम आने की आखिर वजह क्या है? जाने इससे निपटने के उपाय

डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए कौन-कौन सी एक्सरसाइज की जा सकती है?

डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए निम्नलिखित वर्कआउट करें। जैसे-

कीगल एक्सरसाइज

डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए कीगल एक्सरसाइज की जा सकती है। कीगल एक्सरसाइज करने से ब्लैडर की मसल्स टोन होती हैं। ज्यादातर मामलों में महिलाओं को डिलिवरी के बाद इनकोन्टिनेंस की समस्या हो जाती है। कीगल एक्सरसाइज करने से इस समस्या की संभावना कम होती है। इसे करने का तरीका सबसे आसान है। यूरिन पास करते वक्त पेल्विक फ्लोर की एक से अधिक मसल्स इंगेज होती हैं। यूरिन रिलीज करते वक्त आपको कुछ सेकेंड्स के लिए अचानक यूरिन को रोक लेना है। फिर यूरिन को रिलीज करना है। ऐसा आपको कई बार करना है। एक सेट में आप 10 रिपीटेशन ले सकते हैं। इस एक्सरसाइज को यूरिन पास करते वक्त करना जरूरी नहीं है आप इसे दिन में कभी भी कर सकते हैं।

और पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स रुकना क्या है किसी समस्या की ओर इशारा?

वॉकिंग

डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए अगर आप कीगल एक्सरसाइज नहीं कर पा रहीं हैं तो वॉकिंग सबसे बेहतरीन विकल्प है। डिलिवरी के बाद अपने फिटनेस रुटीन को शुरू करने का यह अच्छा विकल्प होता है। शुरुआती दिनों में हल्की वॉकिंग करें। इस दौरान आप शिशु को अपने साथ ले जा सकती हैं। यदि आप उसे बेबी बैग में पीठ या आगे की तरफ रखती हैं तो इससे अतिरिक्त वजन बढ़ेगा। यह आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। वॉकिंग एक तरह से कंप्लीट वर्कआउट माना जाता है। अगर आपको नॉर्मल डिलिवरी हुई है या सी-सेक्शन हुआ है तो भी वॉकिंग आराम से की जा सकती है।

डिलिवरी के कुछ दिनों के बाद वर्कआउट शुरू की जा सकती है लेकिन, हेल्थ एक्सपर्ट से जरूर सलाह लें। अगर आप डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए वर्कआउट कर रहीं हैं, तो बॉडी को डिहाइड्रेट होने से बचायें । इसलिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। आप चाह सकती हैं तो नारियल पानी का भी सेवन कर सकती हैं।

हम आशा करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से डिलिवरी के बाद मोटापा कम करने के संबंध में जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको डिलिवरी के बाद मोटापे के कारण किसी समस्या का सामना करना पड़ रहा हो तो बेहतर होगा कि तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं। अगर आप डिलिवरी के बाद वजन बढ़ने से परेशान हैं और इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। प्रेग्नेंसी या डिलिवरी से संबंधित अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट में विजिट कर सकते हैं। आप हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में प्रश्न भी पूछ सकते हैं। हम आपको उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What Really Helps You Bounce Back After Pregnancy https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000586.htmAccessed on 25/12/2019

Can an internet program help mothers lose weight after pregnancy?   https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6426308/Accessed on 25/12/2019

7 Post-Pregnancy Feelings No One Warns You About https://www.science.gov/topicpages/p/postpartum+weight+loss.htmlAccessed on 25/12/2019

Common emotional problems in parents with new babies https://healthywa.wa.gov.au/Articles/A_E/Common-emotional-problems-in-parents-with-new-babies/Accessed on 25/12/2019

Weight management before, during and after pregnancy  https://www.nhs.uk/Planners/pregnancycareplanner/Documents/NICE_reference_weight_management_pregnancy.pdf Accessed on 25/12/2019

 

 

लेखक की तस्वीर badge
Shilpa Khopade द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x