home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

लैक्टेशन में हो रही है समस्या, तो ये लैक्टेशन टी आ सकती हैं आपके काम!

लैक्टेशन में हो रही है समस्या, तो ये लैक्टेशन टी आ सकती हैं आपके काम!

नवजात शिशु का पेट भरने के लिए एकमात्र भोजन या खाना केवल मां का दूध होता है। पहली बार मां बनने पर महिलाओं के मन में ये सवाल अक्सर आता है कि बच्चा सही से फीडिंग कर पाएगा या फिर नहीं या बच्चे के लिए पर्याप्त मात्रा में दूध बन पाएगा या फिर नहीं। मां के लिए ये चिंता लाजमी भी है। जब बच्चा पैदा होता है, तो शरीर में हॉर्मोनल बदलाव होते हैं और कुछ समय बाद ही मां बच्चे को दूध पिलाने भी लगती है। शुरुआत में दूध थोड़ा बनता है लेकिन जैसे ही मां बच्चे को दूध पिलाना शुरू करती है, धीरे-धीरे दूध अधिक मात्रा में बनने लगता है। कुछ महिलाओं में लैक्टेशन की समस्या भी हो सकती है, जिसके कारण उनमें पर्याप्त मात्रा में दूध नहीं बन पाता है। दूध पर्याप्त मात्रा में न बन पाने के कारण बच्चा फीडिंग (Feeding) सही से नहीं कर पाता है और थोड़ी ही देर में रोने भी लगता है। बच्चा सही से फीड कर पा रहा है या फिर नहीं, इस बारे में बच्चे के वेट बढ़ने से पता लगाया जा सकता है। नवजात शिशु पैदा होने के एक हफ्ते बाद तक दिन में पांच से छह बार तक डायपर गीला करते हैं। अगर दूध की कमी होती है, तो हो सकता है कि बच्चा दिन में एक या दो बार ही ऐसा करे। लैक्टेशन टी (Lactation tea) की मदद से मां दूध की मात्रा बढ़ा सकती हैं। जानिए लैक्टेशन टी (Lactation tea) और उससे संबंधित ब्रांड के बारे में।

और पढ़ें: रिलैक्टेशन के दौरान आपको आ सकती हैं इस तरह की दिक्कतें, जानें क्या करें

लैक्टेशन टी (Lactation tea), जो नहीं होने देगी दूध की कमी

लैक्टेशन टी

लैक्टेशन टी ( Lactation tea) जड़ी-बूटियों यानी हर्ब का एक मिश्रण होता है, जिसका सेवन चाय के रूप में किया जा सकता है। आमतौर पर प्रसव के बाद के समय में महिलाएं इसका सेवन कर सकती हैं और साथ ही ऐसे फूड्स का सेवन भी कर सकती हैं, जो दूध की आपूर्ति को पूरा करने का काम करते हैं। अच्छे मिल्क प्रोडक्शन के लिए ये बहुत जरूरी होता है कि आप दिन भर पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं और पौष्टिक आहार (Nutritious food) खाएं। अगर लैक्टेशन को लेकर समस्या हो रही है, तो ये हॉर्मोन से भी संबंधित हो सकता है। आपको डॉक्टर को इस बारे में जानकारी देनी चाहिए ताकि आपको डॉक्टर कुछ दवाएं दे सके, जो लैक्टेशन को बढ़ाने का काम करती है।

आपको स्तनपान कराने के दौरान स्ट्रेस नहीं लेना चाहिए वरना हॉर्मोन में असंतुलन या गड़बड़ी लैक्टेशन को प्रभावित कर सकती है। आप लैक्टेशन को सुधारने के लिए लैक्टेशन टी (Lactation tea) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लैक्टेशन टी (Lactation tea) में कॉमन हर्ब जैसे कि मेथी ( Fenugreek), ब्लेस्ड थीसल (Blessed thistle), सौंफ (Fennel), स्टींगिंग नैटल (Stinging nettle), मोरिंगा (Moringa) आदि का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप लैक्टेशन टी (Lactation tea) का इस्तेमाल करना चाहती हैं, तो बेहतर होगा कि पहले एक बार प्रोफेशनल लैक्टेशन कंसल्टेंट (Professional lactation consultant) से एक बार बात जरूर करें। हम यहां आपको लैक्टेशन टी (Lactation tea) के बारे में जानकारी दे रहे हैं लेकिन आपको जानकार से पूछने के बाद ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

और पढ़ें:कोरोना वायरस महामारी के दौरान न्यू मॉम के लिए ब्रेस्टफीडिंग कराने के टिप्स

डॉक्टर या एक्सपर्ट दे सकते हैं इन लैक्टेशन टी को पीने की सलाह

अगर ब्रेस्टफीडिंग कराने के दौरान आप लैक्टेशन टी पीना चाहती हैं, तो पहले आपको डॉक्टर या फिर एक्सपर्ट की राय लेनी चाहिए। यहां हम आपको ऐसे ही कुछ चाय के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। जानिए लैक्टेशन टी (Lactation tea) और उससे संबंधित ब्रांड के बारे में।

कायोस मदर्स टी (Kayos Mothers tea)

कायोस मदर्स टी का इस्तेमाल लैक्टेशन टी (Lactation tea) के रूप में किया जा सकता है। इस टी में कैफीन नहीं होती है और ये स्तनपान करने वाले बच्चे के लिए भी सुरक्षित होती है। ये टी दूध के प्रोडक्शन को बढ़ाने का काम करती है। इसमें मेथी, सौंफ, शतावरी आदि का इस्तेमाल इंग्रीडिएंट के रूप में किया जाता है। ये चाय एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में भी काम करती है। इस चाय में इलायची का इस्तेमाल भी किया जाता है, जो इसके स्वाद को बढ़ाने का काम करती है। आप इस चाय को ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। इसकी कीमत 399 रु है। अगर आपको हल्दी या फिर कैमोमाइल (Chamomile) का फ्लेवर पसंद है, तो आप इसका चुनाव भी कर सकते हैं।

पिंक स्टॉर्क लैक्टेशन टी (Pink Stork Lactation Tea)

अगर आप ब्रेस्ट मिल्क बूस्टर सप्लिमेंट्स (Breast milk booster supplements) के रूप में चाय का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो पिंक स्टॉर्क लैक्टेशन टी (Lactation tea) आपके लिए बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है। इस प्रोडक्ट में मेथी (Fenugreek), मिल्क थीसल ( Milk thistle), मार्शमैलो रूट ( Marshmallow root) आदि का मिश्रण होता है। ये डेयरी, सोया (Soy) , ग्लूटन, वीट आदि से मुक्त होता है। आप जब भी इस लैक्टेशन टी ( Lactation tea) का इस्तेमाल करें, तो इस टी के लेबल में इंग्रीडिएंट्स से संबंधित दी गई जानकारी को ध्यान से जरूर पढ़ें। अगर आपको टी के किसी इंग्रीडिएंट से एलर्जी है, तो बेहतर होगा कि आप उस टी का इस्तेमाल न करें। आप चाहे तो इस संबंध में डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें: जानें ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन क्यों है बच्चे के जीवन के लिए जरूरी?

लिटिल वेदा (LittleVeda)

नैचुरल इंग्रीडिएंट से तैयार की गई ये चाय दूध पिलाने वाली मां के लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकती है। इस लैक्टेशन टी(Lactation tea) में मेथी के साथ ही शतावरी, जीरा, कैमोमाइल (Chamomile), फेनल, मोरिंगा, अजवाइन (Celery), अदरक और हल्दी होती है। आपको चाय की पत्ती को उबले हुए पानी में डालना होता है। आप इसे तीन से चार मिनट का रेस्ट देने के बाद पी सकते हैं। आप एक दिन में चार से पांच कप चाय पी सकते हैं लेकिन इस बारे में एक्सपर्ट से एक बार जरूर राय लें। अगर आपको किसी इंग्रीडिएंट से एलर्जी है, तो बेहतर होगा कि आप इसका सेवन न करें। इसकी कीमत 424 रु है। आप इसे आसानी से ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

द इंडियन चाय (The Indian Chai)

द इंडियन चाय का सेवन करने से मां में हो रही दूध की कमी पूरी की जा सकती है। इस लैक्टेशन चाय में फेनल सीड (Fennel Seed), ऑर्गेनिक मिल्क थीसल सीड (Organic Milk Thistle Seed), ऑर्गनिक नेटल लीव्स (Organic Nettle Leaves),ऑर्गेनिक कैमोमाइल फ्लावर (Organic Chamomile Flower),ऑर्गेनिक लेवेंडर फ्लावर (Organic Lavender Flower), मेथी के सीड (Fenugreek Seed),ऑर्गेनिक मोरिंगा लीव्स (Organic Moringa Leaves), जिंजर रूट (Ginger Root), शतावरी (Shatavari),इलायची (Cardamom), दालचीनी (Cinnamon) और हल्दी (Turmeric) होती है। चाय में आपको सौंफ यानी फेनल सीड (Fennel Seed) का स्वाद भी मिलेगा। कैमोमाइल मन को शांत करने और दिमाग को आराम देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आप लैक्टेशन टी (Lactation tea) के बारे में एक्सपर्ट से एक बार जरूर राय लें। अगर आपको किसी इंग्रीडिएंट से एलर्जी है, तो बेहतर होगा कि आप इसका सेवन न करें। इसकी कीमत 350 रु है। आप इसे आसानी से ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

और पढ़ें: स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

टीकरी मदर्स टी फॉर ब्रेस्टफीडिंग मॉम्स (TEACURRY Mothers Tea for Breastfeeding Moms)

टीकरी मदर्स टी फॉर ब्रेस्टफीडिंग मॉम्स नैचुरल्स हर्ब से तैयार की गई चाय है। अगर आपको लैक्टेशन चाय का इस्तेमाल करना है, तो आप इसे भी चुन सकते हैं। इस चाय का सेवन करने के बाद आपको कुछ समय बाद ये लगेगा कि मिल्क प्रोडक्शन बढ़ गया है और बच्चे को भी पर्याप्त मात्रा में दूध मिल रहा है। ये कैफीन फ्री चाय है और साथ ही इसमें इम्यूनिटी को बढ़ाने वाली इंग्रीडिएंट्स भी पाए जाते हैं। ये चाय शरीर में आयरन की कमी को भी पूरा करती है। इसमें मेथी के साथ ही सौंफ भी होती है। आप टी बैग का इस्तेमाल करने से पहले लेबल में दिए गए निर्देशों को ध्यान से जरूर पढ़ें। इसका स्वाद मीठा होता है। इसकी कीमत 499 रु है। आप चाहे तो इसे आसानीसे ऑनलाइन भी खरीद सकती हैं। ये मां के स्वास्थ्य के सात ही बच्चे के स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाने का काम करती है।

और पढ़ें:विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

नेस्टरी मम्माज टी (Nestery Momma’s tea)

लेक्टेटिंग मदर्स के लिए नेस्टरी मम्माज टी का इस्तेमाल फायदेमंद साबित हो सकता है। ये एक कैफीन फ्री टी है, जो सभी मदर्स के लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। इसका एरोमा और टेस्ट आपको पसंद आ सकता है। इस लैक्टेशन टी (Lactation tea) या लैक्टेशन चाय में शतावरी, फेनल, मेथी, जिंजर के साथ ही अन्य हर्ब भी होते हैं, जो दूध के प्रोडक्शन को बढ़ाने का काम करते हैं। अगर आप चाहे तो किसी ब्रेस्टफीडिंग मदर को इसे गिफ्ट के रूप में भी दे सकते हैं। आपको इसे बनाने में और पीने में करीब 15 मिनट का समय लगेगा और इसके बाद आपको रिलेक्स फील होगा। ये वेगन, वेजीटेरियन टी है, इसलिए आपको इस बात को लेकर परेशान होने कि बिल्कुल जरूरत नहीं है कि कहीं इसमें मिल्क प्रोडक्ट तो यूज नहीं किया गया है। इसकी कीमत 475 रु है। आप इसे आसानी से ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

लैक्टेशन टी का करें इस्तेमाल, तो ध्यान रखें ये बातें

लेक्टेटिंग मदर्स जब भी लैक्टेशन टी (Lactation tea) का इस्तेमाल करें, तो इस बात का ध्यान रखें कि एक्सपर्ट से इस संबंध में जानकारी जरूर लें। कुछ हर्ब थायरॉइड पेशेंट मदर्स के लिए परेशानी का कारण बन सकती हैं। अगर मां को हाय ब्लड शुगर (High blood sugar) की समस्या है या फिर अन्य कोई समस्या है, तो ऐसे में डॉक्टर या फिर एक्सपर्ट में इस संबंध में बात करना बहुत जरूरी है। लैक्टेशन टी (Lactation tea) कोई मैजिक नहीं होती है बल्कि आप इन्हें दवा या जड़ी बूटी का नाम दे सकते हैं, जो फायदा तो पहुंचाती हैं लेकिन सावधानी न रखने पर परेशानी का कारण भी बन सकती हैं। लैक्टेशन टी (Lactation tea) में पाई जाने वाली हर्ब प्रोलेक्टिन लेवल को बढ़ाने का काम करती हैं और साथ ही न्यूट्रीशनल सपोर्ट भी देती हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको लैक्टेशन टी (Lactation tea) से संबंधित ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार के ब्रांड का प्रचार नहीं करता है। यहां आपको कुछ ब्रांड्स के बारे में जानकारी मुहैया कराई गई है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

स्तनपान के बारे में है अधिक है जानकारी, तो खेलें क्विज

powered by Typeform

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Accessed on 14/7/2021

 A review of herbal and pharmaceutical galactagogues for breast-feeding.
ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5158159/

Safety of Popular Herbal Supplements in Lactating Women

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25881578/

Fenugreek.
nccih.nih.gov/health/fenugreek

Fennel.
ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK501793/

Herbal teas during pregnancy and breastfeeding.
niagararegion.ca/living/health_wellness/healthyschools/pdf/ppHERBAL%20TEA.pdf

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 14/07/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड