बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे का टूथब्रश कैसा खरीदना चाहिए, इसके लिए मार्केट में आपको कई तरह के विकल्प बड़ी ही आसानी से मिल सकते हैं। लेकिन, जितने सारे विकल्प, उलझन भी उतनी ही बड़ी हो सकती है। इसके अलावा, अपने बच्चे का टूथब्रश को लेकर हर माता-पिता की अपनी अलग-अलग सोच-समझ भी होती है। कुछ माता-पिता जहां टूथब्रश के डिजाइन पर ज्यादा ध्यान देते हैं, ताकि बच्चा आसानी से ब्रश करने के लिए तैयार हो जाए, तो वहीं कुछ पेरेंट्स टूथब्रश की क्वालिटी से किसी तरह का समझौता करना नहीं पसंद करते। हालांकि, इस तरह के पेरेंट्स को अपने बच्चे के ब्रश कराने में काफी मशक्त भी करनी पड़ सकती है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

बच्चे का टूथब्रश क्यों है जरूरी?

नवजात शिशु जब छह माह के हो जाते हैं, तो एक्सपर्ट्स बच्चों को हल्के-फुल्के सॉलिड फूड खिलाने की सलाह देते हैं। हालांकि, बच्चे के दांत सामान्य तौर पर तीन माह से चार माह की उम्र में निकलने शुरू हो जाते हैं। जिन्हें बच्चे के दूध के दांत कहे जाते हैं। जिनमें सड़न भी जल्दी शुरू हो सकती है। इसलिए एक्सपर्ट्स के मुताबिक, जब बच्चे एक साल के हो जाएं, तो आप उन्हें टूथब्रश कराना शुरू कर सकते हैं। भले ही, आप अपने बच्चे के आहार में सॉलिड फूड शामिल करते हों, या नहीं। इसके अलावा, छोटे बच्चे अक्सर कुछ मीठा खाने की जिद करते रहते हैं। उनका खाने का ध्यान मीठी चीजों पर अधिक रहता है, इसलिए अगर आपका बच्चा जब एक साल का हो जाए, तो अपने बच्चे का टूथब्रश जरूर खरीदें।

बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

किसी भी माता-पिता के लिए अपने बच्चे का टूथब्रश खरीदना एक कठिन फैसला हो सकता है। जिसे आसान बनाने के लिए निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं। इसके लिए आपको बच्चे की उम्र, उसकी पसंद और उसके आहार का भी ध्यान रखना होगा। जिसमें शामिल कर सकते हैंः

यह भी पढ़ेंः बच्चों के लिए एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल करना क्या सुरक्षित है?

1 से 5 साल की उम्र तक के बच्चे का टूथब्रश

ये वो पड़ाव हैं जहां पर आप अपने बच्चे के लिए पहला टूथब्रश खरीदेंगे। इस उम्र में बच्चों के दांतों में कैविटी बहुत जल्दी शुरू हो सकती है। इसके अलावा, आप अपने बच्चे का टूथब्रश हार्ड ब्रश वाला भी नहीं खरीद सकते हैं, क्योंकि उनके मसूड़े भी काफी सॉफ्ट होते हैं। वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ डेंटिस्ट्री के सेंटर फॉर पीडियाट्रिक डेंटिस्ट्री के अनुसार, शुरूआत में कोशिश करें कि आप अपने बच्चे के लिए सॉफ्ट टूथब्रश का ही चुनाव करें। छोटे बच्चों का ज्यादातर आहार दूध के तौर पर होता है। दूध से उनके दांतों में पीलापन आना बहुत ही आम हो सकता है। ऐसे में एक अच्छे ब्रश की मदद से आप अपने शिशु के दांतों के रंगों को साफ रख सकते हैं और आपके बच्चे के मुंह की सफाई भी अच्छे से हो जाएगी।

इसके अलावा, बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय यह ध्यान रखें कि, टॉडलर टूथब्रश के सिरे छोटे होने चाहिए और उनके हैंडल बड़े होने चाहिए। ताकि, बच्चे को ब्रश कराते समय ज्यादा परेशानी न हो। इसके अलावा, हर तीन से छह महीने में अपने बच्चे का टूथब्रश एक बार जरूर बदल लें।

5 से 8 साल की उम्र तक के बच्चे का टूथब्रश

पांच साल तक की उम्र का होने पर आपका बच्चा खुद से ही ब्रश करना अच्छे से सीख जाता है। हालांकि, इस उम्र में ब्रश करने की आदत को लेकर इनके नखरे भी कई हो सकते हैं। इसलिए, सबसे पहले आपको अपने इस उम्र के बच्चे के लिए ब्रश के आकार और डिजाइन के बारे में भी सोचना चाहिए। ताकि, बच्चा ब्रश करते समय कोई नखरे न करें। अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक डेंटिस्ट्री के अनुसार, इस उम्र में आपके बच्चे के जबड़े थोड़े बड़े हो जाते हैं, तो आपको ब्रश के सिरे के बारे में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं हो सकती है। इनके लिए आप सॉफ्ट ब्रश वाले ब्रश का चुनाव तो करें ही, साथ ही मार्केट में आपको कार्टून कैरेक्टर्स वाले हैंडल के भी ब्रश आसानी से मिल सकते हैं। ताकि, खुद ही हर सुबह अपने दांतों की सफाई करने के लिए तैयार रहें।

यह भी पढ़ेंः नवजात की देखभाल करने के लिए नैनी या आया को कैसे करें ट्रेंड?

8 साल और उससे बड़ी उम्र के बच्चों के लिए टूथब्रश

इंडियन डेंटल एसोसिएशन के अनुसार, आप अपने आठ साल या इससे बड़े बच्चों के लिए इलेक्ट्रिक या पावर-असिस्टेड टूथब्रश और मैनुअल ब्रश का भी चुनाव कर सकते हैं। हालांकि, बस आपको ब्रश के रेशों का ध्यान रखना चाहिए। हमेशा सॉफ्ट ब्रश का ही इस्तेमाल करें और ब्रश की साफ-सफाई का भी ध्यान रखें।

टूथब्रश करने का सही समय क्या है?

शरीर को मिलने वाले पोषण मुंह के जरिए ही पेट में जाता है। ऐसे में ओरल हेल्थ भी शारीरिक विकास और स्वास्थ्य के लिए सबसे जरूरी माना जाता है। कुछ लोग आमतौर पर दिन में दो बार ब्रश करना पसंद करते हैं। पहली बार सुबह सोकर उठने के बाद और दूसरी बार रात में सोने से पहले। वहीं, कुछ लोग सुबह हल्का-फुल्का नाश्ता करने के बाद ब्रश करते हैं। जिस पर डेंटिस्ट का कहना है कि, अगर आपने रात में सोते समय ब्रश किया था और अगली सुबह उठकर आप जूस या हल्का-फुल्का नाश्ते करने के बाद ब्रश करते हैं, तो यह भी एक अच्छी हैबिट हो सकती है। क्योंकि, इस दौरान मुंह में जो बैक्टीरिया होते हैं वो खाना अच्चे से पचाने में शरीर की मदद कर सकते हैं। हालांकि, अगर आप रात में सोने से पहले ब्रश नहीं करते हैं, तो सुबह उठते ही आपको सबसे पहले ब्रश करना चाहिए। क्योंकि, रात में खाए गए खाने का कण जितनी देर तक आपके दांतों में फंसा होगा, वो आपकी दांतों की सेहत के लिए उतना ही हानिकारक हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

छोटे बच्चों का टूथब्रश बड़े लोगों से कैसा अलग होता है?

छोटे बच्चे और हम बड़े लोगों के दातों में कई तरह की आसामान्यताएं होती है। तो उसी अनुसार उनके ब्रश और हमारे ब्रश में भी आसामान्यताएं भी होनी जरूरी हो सकती है। इसलिए बच्चों के ब्रश और व्यस्कों के ब्रश में निम्न आसामान्यताएं हो सकती हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • बच्चों के लिए टूथब्रश का सिर छोटा होना चाहिए। ताकि यह मुंह के चारों ओर ब्रश की पहुंच अच्छी हो सके और दांत की सतह भी अच्छी से साफ हो सके। छोटे सिरे से बच्चे को ब्रश करने में भी परेशानी नहीं होगी।
  • बच्चे का टूथब्रश का हैंडल बड़ा होना चाहिए। ताकि, हैंडल पर पकड़ने की ग्रिप अच्छी हो।
  • बच्चे का टूथब्रश हमेशा सॉफ्ट ब्रिसल्स वाले ही खरीदें। ताकि, उनके मसूड़ों को कोई नुकसान न हो।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

शिशु की जीभ की सफाई कैसे करें

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

चोट लगने पर बच्चों के लिए फर्स्ट एड और घरेलू उपचार

बच्चों में हिप डिस्प्लेसिया बना सकता है उन्हें विकलांग, जाने इससे बचने के उपाय

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कहीं आप तो नहीं हैं हेलीकॉप्टर पेरेंट्स?

कहीं आप तो नहीं हैं ओवर प्रोटेक्टिव पेरेंट्स? हेलीकॉप्टर पेरेंट्स के फायदे और नुकसान क्या हैं? helicopter parenting effects in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

शिशु को तैरना सिखाने के होते हैं कई फायदे, जानें किस उम्र से सिखाएं और क्यों

शिशु को तैरना सिखाना महज फैशन भर नहीं है बल्कि कई फायदे हैं। बच्चे को शारीरिक और मानसिक रूप से दूसरों बच्चों से आगे करता है। शिशु को तैरना सिखाना in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चों में खांसी होने पर न दे ये फूड्स

जानें बच्चों में खांसी और जुकाम को कम करने के लिए उन्हें किन आहार से परहेज करना चाहिए और किनसे नहीं। Foods to avoid during cough in babies in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

मैटरनिटी लीव एक्ट (मातृत्व अवकाश) से जुड़ी सभी जानकारी और नियम

मैटरनिटी लीव एक्ट क्या होता है? इसके तहत महिलाओं को कितने दिन की पेड लीव प्राप्त होती है। Maternity leave act 2017 का लाभ कौन महिंलाएं उठा सकती हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी अप्रैल 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बच्चों में टाइफाइड

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण को पहचानें, खतरनाक हो सकता है यह बुखार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
आईसीयू में बच्चे की देखभाल

कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ड्राई ड्राउनिंग- dry drowning

ड्राई ड्राउनिंग क्या होता है? इससे बच्चों को कैसे संभालें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स

लॉकडाउन के दौरान पेरेंट्स को डिसिप्लिन का तरीका बदलने की है जरूरत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona Narang
प्रकाशित हुआ मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें