home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

बच्चों में साइनस का कारण एक गंभीर समस्या हो सकती है। हालांकि, बच्चों में साइनस का कारण कुछ सामान्य स्थितियां भी हो सकती हैं। साइनस और सामान्य सर्दी-जुकाम के लक्षण आमतौर पर एक जैसे ही होते हैं। ऐसे में बच्चों में साइनस का कारण समझने के लिए साइनस और सर्दी-जुकाम के लक्षणों को काफी गौर से देखना चाहिए। तभी बच्चों में साइनस का कारण पता लगाया जा सकता है।

और पढ़ें : मानिए डॉक्टर्स की इन बातों को ताकि बच्चे में कोरोना वायरस का डर न करे घर

साइनस क्या है?

मानव शरीर के नाक में स्थित हड्डियों के बीच सांस आने जाने की चार नलियां होती हैं जिसे साइनस कहते हैं। इनमें एक को मैक्सिलरी साइनस, दूसरी को एथमॉइड साइनस, तीसरी को फ्रंटल साइनस और चौथी को स्पैनॉइड साइनस कहा जाता है। जिनमें से मैक्सिलरी साइनस चीक बोन्स के पास स्थित होता है। वहीं, नाक के पिछले हिस्से के चारों ओर एथमॉइड साइनस, माथे के आसपास यानी सामने के हिस्से में साइनस और नाक के पीछे की गहराई से जुड़े हुए हिस्से में स्पैनॉइड साइनस स्थित होता है। जब इन नलियों में बैक्टीरिया के कारण किसी तरह का इंफेक्शन या गंदे कणों का जमाव हो जाता है, तो इनमें सूजन की समस्या हो जाती है, जो बच्चों में साइनस का कारण बन सकता है। साइनस की समस्या बच्चों के साथ-साथ वयस्कों में भी हो सकती है।

जब हमारा साइनस का मार्ग किसी भी कारण से ब्लॉक हो जाता है, तो शरीर से बलगम निकलने का रास्ता भी बंद हो जाता है, जिसे साइनसाइटिस बीमारी कही जाती है। आमतौर पर साइनस एक तरह का नाक में होने वाला संक्रमण होता है। साइनस का संक्रमण होने पर इसकी झिल्ली में सूजन आ जाती है, जिसके कारण झिल्ली में जो हवा भरी होती है उसमें मवाद या बलगम भी भरने लगता है और साइनस की नलियां बंद हो जाते हैं। साइनसाइटिस होने पर नाक ही हड्डी बड़ी या तिरछी भी हो सकती है।

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण क्या है?

सामान्य तौर पर बच्चों में साइनसाइटिस का कारण संक्रमण वायरस, बैक्टीरिया या फफूंद के कारण सांस लेने में परेशानी हो सकती है। इसके अलावा, इन्फ्लूएंजा या फ्लू, दांत के संक्रमण, विभिन्न प्रकार की एलर्जी भी बच्चों में साइनसाइटिस का कारण बन सकता है। बच्चों में साइनसाइटिस होने पर उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगती है। इसके अलावा साइनस की समस्याओं वाले बच्चों को ठंडी हवा, धूल, धुआं आदि से भी परेशानी होने लगती है। एक तरह से देखा जाए, तो ऐसे लोग जो हमेशा धूल या धुएं से भरे इलाके में रहते हैं उन्हें साइनस की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस होने पर क्या होगा बच्चे पर असर?

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण पता करने के लक्षण क्या हैं?

बच्चों में साइनसाइटिस के लक्षण पता करने के लिए आप निम्न स्थितियों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • सिरदर्द होना
  • बच्चे को बुखार रहना
  • बच्चे की नाक से कफ निकलना और बहना
  • सूखी खांसी आना
  • बच्चे के दांत में दर्द रहना
  • बच्चे की नाक से सफेद, हरा या फिर पीला गाढ़ा कफ निकलना
  • बच्चे के चेहरे पर सूजन आना
  • बच्चे को किसी तरह की गंध न आती हो
  • नाक में साइनस की जगह दबाने पर दर्द महसूस करना
  • दिन के मुकाबले रात में अधिक और लगातार खांसी आना
  • आंखों के पीछे दर्द होना
  • बच्चे का हमेशा थका हुआ महसूस करना

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण समझने के लिए जानें इसके प्रकार

साइनसाइटिस तीन प्रकार का हो सकता है, जिसमें शामिल हैंः

एक्यूट साइनसाइटिस

एक्यूट साइनसाइटिस के लक्षण एकदम से दिखाई देते हैं। जैसे- बच्चे का नाक जाम होना या बहना और चेहरे में दर्द होना। आमतौर पर साधारण सर्दी-जुकाम 8 से 10 दिनों में ठीक हो जाते हैं। लेकिन, इसके लक्षण चार हफ्तों या इससे भी अधिक समय तक के लिए बने रह सकते हैं। एक्यूट साइनसाइटिस अक्सर बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण होता है। इसके होने पर सांस की नली के ऊपरी हिस्से में इंफेक्शन हो जाता है।

और पढ़ें : क्या प्रेग्नेंसी में सेल्युलाइट बच्चे के लिए खतरा बन सकता है? जानिए इसके उपचार के तरीके

इलाज

आमतौर पर डॉक्टर एक्यूट साइनसाइटिस के इलाज के लिए एंटी-बायोटिक दवाओं की सलाह देते हैं। ये साइनस से इंफेक्शन साफ करने में असरदार होती हैं। अगर नाक में सूजन होती है, तो उसके लिए डॉक्टर नेजल ड्रॉप्स की भी सलाह दे सकते हैं। घरेलू तौर पर इससे राहत पाने के लिए बच्चे को स्टीम दें सकते हैं।

सब-एक्यूट साइनसाइटिस

साइनसाइटिस के इस लक्षण में चार से आठ हफ्ते तक नाक में सूजन और जलन हो सकती है। इसका इलाज भी आमतौर पर एक्यूट साइनस की तरह एंटी-बायोटिक दवाओं से होता है।

क्रोनिक साइनसाइटिस

क्रोनिक साइनसाइटिस में लंबे समय तक नाक के साइनस वाली जगह में जलन और सूजन हो सकती है। जो कई हफ्तों तक बनी रहती है। अगर साइनस की समस्या इसी तरह बनी रहती है, तो यह भविष्य में अस्थमा का कारण भी सकता है।

रीक्यूरेंट साइनसाइटिस

आमतौर पर रीक्यूरेंट साइनसाइटिस की समस्या अस्थमा या बहुत जल्दी एलर्जी से प्रभावित होने वाले लोगों में होता है।

और पढ़ें : आपके बच्चे के भविष्य को बर्बाद कर सकता है करियर प्रेशर, इन बातों का रखें ध्यान

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण दूर करने के लिए उपचार

बच्चों में साइनसाइटिस के लक्षण दूर करने के कई तरह के उपचारों का विकल्प है। हालांकि, मेडिकल स्टोर या किसी भी तरह के घरेलू उपाय करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण दूर करने के लिए दवाएं

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण दूर करने के लिए आमतौर पर डॉक्टर एंटी-बायोटिक दवाओं की सलाह देते हैं। जो संक्रमण को खत्म करता है। नाक की जलन और खुजली को दूर करने के लिए डॉक्टर नेजल स्पेर की भी सलाह दे सकते हैं। आमतौर साइनस की समस्या से बहुत जल्दी राहत पाई जा सकती है। हालांकि, साइनसाइटिस के लक्षणों का समय रहते उपचार न किया जाए, तो इसकी अवस्था गंभीर हो सकती है और ऑपरेशन की भी जरूरत पड़ सकती है।

साइनसाइटिस के लिए कब ऑपरेशन की सलाह दे सकते हैं डॉक्टर?

  • जब नाक में कोई मस्सा बन गया हो
  • नाक का फंगस या इन्फेक्शन ब्रेन तब पहुंच गया हो
  • साइनस के कारण आंखों पर दवाब पड़ रहा हो

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में कैंसर का बच्चे पर क्या हो सकता है असर? जानिए इसके प्रकार और उपचार का सही समय

बच्चों में साइनसाइटिस का उपचार करने के लिए क्या खिलाएं?

साइनसाइटिस की समस्या होने पर बच्चे को क्या न खिलाएं?

  • बासी खाना
  • गन्ने का रस
  • दही
  • चावल
  • केला
  • ठंडी चीजें, जैसे आइसक्रीम या कोल्ड ड्रिंक्स
  • चॉकलेट
  • बहुत ज्यादा तीखा खाना

बच्चों में साइनसाइटिस दूर करने के लिए इन बातों का भी रखें ख्याल

  • अपने घर और बच्चे के खेलने की जगह को हमेशा साफ रखें
  • बच्चे को धूल या धुएं वाली जगह में न ले जाएं
  • घर में कोई स्मोकिंग करता है, तो उसे घर में स्मोकिंग करने से मना करें
  • हेल्दी फूड्स के साथ-साथ बच्चे को उचित मात्रा में पानी भी पिलाते रहें।

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Daphal के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Ankita mishra द्वारा लिखित
अपडेटेड 07/04/2020
x