home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Stem Cells: स्टेम सेल्स क्या हैं? किन बीमारियों के इलाज में होता है इनका उपयोग

Stem Cells: स्टेम सेल्स क्या हैं? किन बीमारियों के इलाज में होता है इनका उपयोग

स्टेम सेल्स कैसे है उपयोगी?

जरा सोचिए अगर शरीर का एक अंग के खराब होने पर दूसरा अंग पा सकते तो कितना अच्छा होता। मेडिकल साइंस में हुए कई शोधों के बाद स्टेम सेल्स में इस क्षमता को पाया गया है। स्टेम सेल्स वे सेल्स हैं जिनमें नए सेल्स को जन्म देने की क्षमता होती है। ये सेल्स मांसपेशियों से लेकर मस्तिष्क की सूक्ष्म सेल्स को बनाने की क्षमता रखती हैं। डॉक्टर्स तो यह भी मानते हैं कि ये सेल्स टिशू की खराबी को वापस ठीक करने की क्षमता रखती हैं। जिसकी वजह से अल्जाइमर और पैरालिसिस जैसी बड़ी बीमारियों का इलाज भी किया जा सकता है।

स्टेम सेल्स दो प्रकार के होते हैं

  • वयस्कों में पाए जाने वाली स्टेम सेल्स
  • भ्रूण में पाई जाने वाले स्टेम सेल्स

वयस्कों में पाए जाने वाली स्टेम सेल्स

किसी भी व्यक्ति के शरीर में पूरी उम्र स्टेम सेल्स रहता है। शरीर अपने जरूरत के अनुसार इसका उपयोग कर सकता है। इन सेल्स को सोमेटिक स्टेम सेल्स भी कहते हैं। स्टेम सेल्स टिशू में मौजूद रहती हैं। रिसर्च में पाया गया है की शरीर के निम्नलिखित हिस्सों में स्टेम सेल्स की मौजूदगी होती है।

  • मष्तिष्क
  • बोन मैरो
  • ब्लड और ब्लड वेसल्स
  • स्केलेटल मसल्स
  • स्किन
  • लिवर

इन शारीरिक हिस्सों में स्टेम सेल्स की मौजूदगी तो होती है लेकिन, इन्हें ढूंढना काफी कठिन होता है।

और पढ़ें – लिवर साफ करने के उपाय: हल्दी से लहसुन तक ये नैचुरल चीजें लिवर की सफाई में कर सकती हैं मदद

भ्रूण में पाई जाने स्टेम सेल्स

भ्रूण में पाई जाने वाली स्टेम सेल्स प्ल्यूरिपोटेंट होती हैं यानि ये एक से ज्यादा तरह के सेल्स को जन्म दे सकती हैं। आमतौर पर ये सेल्स इन विट्रो फर्टिलाइजेशन से बनाए गए भ्रूण से ली जाती हैं। वयस्कों में पाई जाने वाली स्टेम सेल्स शरीर के कुछ महत्त्वपूर्ण हिस्सों जैसे कि मस्तिष्क, बोन मैरो और त्वचा के निचले भाग में पाई जाती हैं। ये प्ल्यूरिपोटेंट (Pleuripotent) नहीं होती हैं और एक ही तरह के टिशूज सेल्स को बनाते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर स्टेम सेल्स लिवर की हैं तो वे लिवर की सेल्स को ही बनाएंगी।

और पढ़ें जानें लिवर कैंसर और इसके हाेने के कारण क्या हैं?

स्टेम सेल्स का उपयोग कहां किया जा सकता है?

डॉक्टर्स बोन मैरो में बनने वाली स्टेम सेल्स का उपयोग कई जगहों पर करते हैं। जैसे कि :

  • कैंसर के इलाज के दौरान रेडिएशन थेरिपी के कारण हीमैटोपोएटिक सेल्स (Hematopoietic stem cells) खराब हो जाती हैं। इसलिए डॉक्टर बोन मैरो ट्रांसप्लांट करवाने की सलाह देंगे। बोन मैरो में पाई जाने वाली स्टेम सेल्स नई कोशिकाओं को बनाएंगी, जिससे शरीर में खून का संचार सामान्य रूप से हो सके।
  • फैंकोनी सिंड्रोम (Fanconi Syndrome) के इलाज में भी ये सेल्स सक्रिय भाग लेती हैं।
  • कार्डियोवैस्कुलर डिजीज (Cardiovascular Disease) के इलाज में स्टेम सेल्स का उपयोग किया जा सकता है।
  • हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार मस्तिष्क से जुड़ी बीमारी जैसे अल्जाइमर (Alzheimer’s) या पार्किंसंस (Parkinson’s) के इलाज के लिए किया जा सकता है।
  • टिशू के निर्माण में स्टेम सेल्स का उपयोग किया जा सकता है।
  • एडल्ट हेमेटोपोएटिक स्टेम सेल्स की मदद से ल्यूकेमिया की बीमारी, सिकल सेल एनीमिया जैसी बीमारी का इलाज किया जा सकता है।

और पढ़ें – ट्रिपल-नेगिटिव ब्रेस्ट कैंसर (Triple-Negative Breast Cancer) क्या है ?

शोधकर्ता मानते हैं कि आने वाले समय में स्टेम सेल्स का उपयोग क्रोनिक हृदय की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाएगा। इन सेल्स में चोटिल या खराब टिशूज को दोबारा सजीव करने की क्षमता होती है।

रिसर्च में किस तरह से लाभदायक हैं स्टेम सेल्स?

भ्रूण में बनने वाली स्टेम सेल्स का उपयोग कई बार दवाओं की टेस्टिंग के लिए किया जा सकता है। स्टेम सेल्स पर हो रहे शोध मेडिकल साइंस में होने वाले सभी शोधों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। स्टेम सेल्स के बढ़ते उपयोग से कई गंभीर बीमारियों का इलाज आसान हो जाएगा। स्टेम सेल्स में जांच करके संभव है कि डीएनए (DNA) में होने वाले म्यूटेशन का भी इलाज किया जा सके। इससे कई जेनेटिक बीमारियों को शुरुआती स्तर पर ही रोका जा सकता है।

स्टेम सेल्स के इलाज से जुड़े फैक्ट्स क्या हैं?

इसके इलाज से जुड़े निम्नलिखित फैक्ट्स हैं। जैसे-

  • वर्तमान समय में बहुत कम स्टेम सेल्स से उपचार सुरक्षित और प्रभावी साबित हुए हैं।
  • यह एक तरह का असुरक्षित उपचार हो सकता है, जिसका शायद आपको कोई लाभ न मिल पाये।
  • स्टेम सेल्स से अलग-अलग तरह से इलाज किया जाता है।

और पढ़ें – Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

स्टेम सेल्स से जुड़े मिथ और फैक्ट क्या हैं?

मिथ- स्टेम सेल्स थेरिपी लीगल नहीं है।

फैक्ट- थेरिपी के लिए एडल्ट ऑटोलोगस स्टेम सेल्स का उपयोग किया जाता है और यही लीगल भी है।

मिथ- इलाज के लिए भ्रूण से स्टेम सेल्स लिए जाते हैं।

फैक्ट- वयस्कों में मौजूद स्टेम सेल्स की मदद ली जाती है।

मिथ- स्टेम सेल्स का सबसे अच्छा विकल्प है बोन मैरो।

फैक्ट- बोन मैरो स्टेम सेल्स का सबसे सही विकल्प है क्योंकि इसमें यूनीक ग्रोथ होता है।

मिथ- स्टेम सेल्स थेरिपी सुरक्षित नहीं है।

फैक्ट- एडल्ट स्टेम सेल्स थेरिपी के नुकसान न के बराबर हो सकते हैं जबकि ऑटोलोगस स्टेम सेल्स उपयोग किये जाते हैं।

मिथ- किसी भी उपचार के लिए स्टेम सेल्स सबसे बेहतर माना जाता है।

फैक्ट- मेडिकल साइंस इसे काफी सकारात्मक सोच के साथ देखता है और अभी भी इस पर रिसर्च जारी है।

मिथ- जो व्यक्ति स्टेम सेल्स डोनेट करना चाहते हैं उन्हें सर्जरी से गुजरना पड़ता है।

फैक्ट- नहीं ऐसा नहीं। दरअसल पेरीफेरल ब्लड स्टेम सेल्स (PBSC) डोनेशन के दौरान किसी भी तरह की सर्जरी की जरूरत नहीं होती है।

मिथ- स्टेम सेल्स दान करने वाला व्यक्ति अत्यधिक कमजोर हो जाता है।

फैक्ट- स्टेम सेल्स किसी अन्य व्यक्ति को देने के साइड इफेक्ट नहीं होते हैं लेकिन, कभी-कभी कुछ डोनर को परेशानी हो सकती है।

मेडिकल साइंस और रिसर्च के अनुसार भविष्य में एडल्ट ऑटोलोगस स्टेम सेल्स की इलाज के लिए अत्यधिक मदद ली जा सकती है। आने वाले दिनों में जोड़ो में दर्द और टिशू से जुड़ी परेशानी होने पर स्टेम सेल्स काफी कारगर हो सकता है। यही नहीं स्टेम सेल्स ट्रांसप्लांट के लिए भी रिसर्च जारी है और उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में इसका ट्रांसप्लांट भी संभव हो सकता है और कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है।

स्टेम सेल्स को लेकर हो सकता है कि आपके मन में बहुत से सवाल हो, बेहतर होगा कि आप मिथ को न माने और डॉक्टर से सही जानकारी प्राप्त करें। गलत जानकारी से नई तकनीकी के बारे में लोग नहीं जान पाते हैं। उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आप स्टेम सेल्स से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

नोट : नए संशोधन की डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा समीक्षा

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What Are Stem Cells?/https://stemcells.nih.gov/Accessed on 19/12/2019

What is a stem cell?/https://stemcells.nih.gov/info/basics.htm/Accessed on 19/12/2019

Stem Cell research/ https://www.cirm.ca.gov/patients/power-stem-cellsAccessed on 19/12/2019

What are stem cells, and what do they do?/https://www.medicalnewstoday.com/articles/323343.php/Accessed on 19/12/2019

Myths & Facts about Stem Cell Donation/http://www.mdrindia.org/Accessed on 19/12/2019

Stem cells: What they are and what they do/https://www.mayoclinic.org/Accessed on 19/12/2019

लेखक की तस्वीर
04/11/2019 पर Suniti Tripathy के द्वारा लिखा
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x