home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

अनवॉन्टेड थिंकिंग (अनचाहे विचार) से बचने के 15 टिप्स, ऐसे रखें खुद को बिजी

अनवॉन्टेड थिंकिंग (अनचाहे विचार) से बचने के 15 टिप्स, ऐसे रखें खुद को बिजी

कभी-कभी, आपके मन में अनचाहे विचार आ सकते हैं। जैसे चिंताएं, परेशानियां जो दूर नहीं होती हैं। अक्सर, जितना अधिक आप इन विचारों को अपने दिमाग से निकालने की कोशिश करते हैं, उतने ही ज्यादा वे आते जाते हैं। उदाहरण के लिए, एक बड़े हाथी के बारे में न सोचने की कोशिश करें। संभावना है कि जितनी अधिक बार आप हाथी के बारे में नहीं सोचना चाहेंगे, उतना ही आपका मन वास्तव में उस छवि पर ध्यान केंद्रित करेगा। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि किसी चीज को ‘ना’ बोलना दिमाग समझ नहीं पाता। अपने मन को अवांछित या अवांछित विचारों से मुक्त करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप इसे अन्य विचारों के साथ जोड़ दें। आज हम इस लेख में अनचाहे विचारों से खुद को मुक्त कैसे करें? इस बारे में बताएंगे।

और पढ़ें: ओल्ड एज सेक्स लाइफ को एंजॉय करने के लिए जानें मेनोपॉज के बाद शारिरिक और मानसिक बदलाव

अनचाहे विचारों का कारण क्या होता है

अनचाहे विचारों से जुड़े दो सबसे आम कारण चिंता और ऑब्सेसिव-कंपल्सिव डिसऑर्डर (ओसीडी) है। पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD), बायपोलर डिसऑर्डर या अटेंशन डेफिसिट-हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (ADHD), अवसाद के लक्षण भी हो सकते हैं। अनचाहे विचार ओसीडी का एक प्रकार होता है। ओसीडी एक सामान्य बीमारी होती है, जिसमें जुनूनी विचार और बाध्यकारी व्यवहार शामिल होते हैं।

पीटीएसडी वाले लोग भी नेगेटिव और भयावह विचारों का अनुभव करते हैं। पीटीएसडी एक ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति के साथ कुछ दर्दनाक घटना होने पर उसके विचार दिमाग में विकसित हो जाते हैं। जब-जब वह उदास या परेशान होता है, वह फ्लैशबैक में जाकर इस दर्द को दोबारा महसूस करने लगता है।

कुछ मामलों में अनचाहे विचारों का आना ओसीडी या पीटीएसडी जैसी मानसिक स्वास्थ्य स्थिति का परिणाम होता है। यह विचार किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या का भी लक्षण हो सकता है, जैसे कि मस्तिष्क की चोट, पागलपन या पार्किंसन रोग। हालांकि, कुछ अध्ययनों में यह बात भी कही गई है कि अनचाहे विचारों का कारण अभी स्पष्ट नहीं किया जा सका है।

और पढ़ें: World Crosswords And Puzzles Day : जानिए किस तरह क्रॉसवर्ड पजल मेंटल हेल्थ के लिए फायदेमंद है

अनवॉन्टेड थिंकिंग से दूर रहने के टिप्स

1. क्षमा करना (Forgive)

किसी अन्य व्यक्ति (या अपने आप को) को क्षमा करना अतीत से आगे बढ़ने और नकारात्मक भावनाओं और अनचाहे विचारों से खुद को मुक्त करने में मदद कर सकता है।

2. ध्यान (Meditate)

मन को खाली करने और अनचाहे विचारों से मुक्त करने के लिए ध्यान का उपयोग हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। ऐसा करने के लिए मोमबत्ती जलाना और कमल की स्थिति में बैठना जरूरी नहीं है। यह बस आराम से बैठ कर भी हो सकता है। लगातार दस मिनट तक ध्यान करना दिमाग को अनवॉन्टेड थिंकिंग से मुक्त करने के लिए पर्याप्त हो सकता है। इससे मेंटल हेल्थ भी अच्छी होती है।

और पढ़ें: संयुक्त परिवार (Joint Family) में रहने के फायदे, जो रखते हैं हमारी मेंटल हेल्थ का ध्यान

3. बुरे विचारों को दूर करने के लिए करें व्यायाम

व्यायाम शरीर को उसकी शारीरिक आवश्यकताओं पर केंद्रित करता है और आपका ध्यान आपके दिमाग से निकाल देता है। व्यायाम एंडोर्फिन (Endorphin) जारी करता है और कोर्टिसोल को कम करता है। एंडोर्फिन अक्सर अधिक सकारात्मक और खुशहाल मूड बनाता है।

4. दिमाग से अनचाहे विचार को दूर करने के लिए अतीत को जाने दें

अतीत को जाने देना आपको आज पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देता है और आपको अधिक सशक्त विचार चुनने में भी मदद करता है।

5. जरूरी है माइंडफुल होना

माइंडफुल होना रोजमर्रा के कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास है। माइंडफुलनेस का अभ्यास करने से, दिमाग उन अनवॉन्टेड विचारों और भावनाओं के बजाय काम पर ध्यान केंद्रित करता है।

और पढ़ें: लोगों के सामने जाने से लगता है डर, तो हो सकता है सोशल एंग्जायटी डिसऑर्डर

6. ईएफटी का अभ्यास करें (Practice EFT)

भावनात्मक स्वतंत्रता तकनीक ईएफटी (EFT- Emotional Freedom Technique) एक ऐसी चीज है, जिसे कुछ ही मिनटों में सीखा जा सकता है। यह तकनीक आपको तुरंत बेहतर महसूस करवाने में मदद कर सकती है।

7. अनचाहे विचार को दूर करने के लिए दोषी महसूस करना बंद करें (Stop feeling guilty)

अपराधबोध एक भावना है, जिसके अनियंत्रित होने पर आप फंसा हुआ और शक्तिहीन महसूस कर सकते हैं। जब आप दोषी महसूस करते हैं, तो ध्यान करने का अभ्यास करें और दोषी भावनाओं को दूर करने के तरीके खोजें। अनचाहे विचार से दूर रहेंगे, तो आपका मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होगा।

8. मुस्कुराएं और हंसे (Smile and Laugh)

अनुसंधान से पता चलता है कि आप मुस्कुराते और हंसते हुए बेहतर महसूस करते हैं। जब आप मुस्कुराते हैं, तो आपका मस्तिष्क आपके चेहरे की मांसपेशियों की गतिविधियों को नियंत्रित करता है। फिर दिमाग हाॅर्मोन और रसायन छोड़ता है, जो आपको अच्छा महसूस कराते हैं। आपकी सुधरी हुई भावनाएं आपके सोचने के तरीके को आसान बना देंगी।

और पढ़ें: काफी गहरा पड़ता है डिप्रेशन का नींद पर असर, जानिए इसे दूर करने के तरीके

9. अनचाहे विचार को दूर करने के लिए मजेदार फिल्म देखें

मजेदार फिल्म देखना वास्तविकता से बचने का एक शानदार तरीका है। बस एक फिल्म के माध्यम से खुद को दूसरी दुनिया में ले जाइए। ये काम ओवर-थिंकिंग के चक्र को तोड़ने के लिए पर्याप्त होता है।

10. लोगों को खुश करने की आदत को लगाम दें

बहुत से लोग पीपल-प्लीज या अप्रूवल के दीवाने होते हैं, लेकिन इन बर्तावों में उलझकर खुद को फंसा हुआ महसूस करते हैं। जैसे कि आप दूसरों के लिए अपना जीवन जी रहे हैं। इसलिए इन चीजों से परे हटकर खुद पर ध्यान लगाना स्टार्ट कीजिए।

और पढ़ें: क्या म्यूजिक और स्ट्रेस का है आपस में कुछ कनेक्शन?

11. अपने विचारों को कहीं लिखें (Write your thoughts down)

आपके दिमाग में चल रही ये बातें रोजाना की गतिविधियों से आपका ध्यान भटका रही हैं। इससे आप परेशान हैं और एंग्जायटी महसूस करते हैं। इसके लिए सबसे पहले आप एक पेपर लें और दिमाग में चल रही सभी बातों को उस पर लिखें। अपने विचारों को क्रम में लिखें। सबसे पहले वह बात लिखें, जो आपको सबसे ज्यादा परेशान कर रही हैं। इसके बाद वे बातें, जो कम परेशान कर रही हैं।

12. अपनी जिंदगी से टॉक्सिक रिलेशनशिप को खत्म करें (Let go of toxic people)

अनहेल्दी रिलेशनशिप के कारण दिमाग में नेगेटिव विचार आते हैं और आप स्ट्रेस में रहते हैं। इसलिए अपनी जिंदगी को पॉजिटिव रिश्तों के साथ भरें। जो आपके दिमाग को अच्छे विचार और यादों से भरेंगे।

और पढ़ेंः क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

13. अपने सपनों की तरफ रोजाना एक कदम बढ़ाएं

हर चीज की शुरुआत कहीं न कहीं से करनी होती है। इसके लिए आप जो जिंदगी में पाना चाहते हैं, उसके लिए अपना लक्ष्य निर्धारित करें। इसके बाद इसे पाने के लिए आपको क्या-क्या बदलाव करने की जरूरत है, उसकी एक लिस्ट तैयार करें। रोजाना अपने लक्ष्य की तरफ एक कदम बढ़ाएं। धीरे-धीरे आप अपनी मंजिल की तरफ बढ़ते जाएंगे।

और पढ़ें: न्यू ईयर टार्गेट्स को पूरा करने की राह में स्ट्रेस मैनेजमेंट ऐसे करें

14. दिमाग से अनवॉन्टेड थिंकिंग को दूर करने के लिए उन चीजों को करें, जिनमें आपकी रूचि हो

अनचाहे विचार से खुद को बचाने के लिए बेस्ट है कि अपनी हॉबी में खुद को व्यस्त रखें। जैसे अगर आपको डांस करना पसंद है या टीटी खेलना पसंद है, तो अपने फ्री टाइम में इन्हें करें। इससे आपके दिमाग को आराम मिलेगा। आपके दिमाग से अनचाहे विचार दूर होंगे और आप अपने काम पर फोकस कर सकेंगे।

15. अनचाहे विचार से दूर रहने के लिए खुद को प्यार करें

खुद का और अपनी पसंद का सम्मान करें। सबसे ऊपर स्वयं को रखें। खुद को पैंपर करें। खुद के लिए समय निकालें। खुशहाल जिंदगी जीने का यह एक बेहद खूबसूरत तरीका है।

ये रहे हमारे कुछ खास टिप्स, जो आपको अनचाहे विचारों से बचांएगे और आपको बिजी रखेंगे। सरल जीवन में जटिलता बनाने से अच्छा है कि उसे मूल रूप से ही चलाया जाए।

और पढ़ें: पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

इलाज

अनचाहे विचार दिमाग में न आएं, इसके कई तरह के उपचार उपलब्ध हैं।

संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) – यह व्यक्ति के नेगेटिव विचारों को बदलने में मदद कर सकता है कि वे कैसे सोचते और समझते हैं और जो भी विचार उनके दिमाग में आते हैं, उन पर किस प्रकार प्रतिक्रिया कि जाए।

एसआरआई दवाएं – आमतौर पर लोग एसआरआई दवाओं का उपयोग अवसाद को ठीक करने के लिए करते हैं। इन दवाइयों से ओसीडी से ग्रसित व्यक्ति का इलाज भी किया जा सकता है। शुरुआत में अनचाहे विचारों को ठीक करने के लिए 8 से 12 हफ्ते लग सकते हैं।

एडीएए (ADAA) अनचाहे विचारों को सही करने के लिए कुछ सुझाव प्रदान करते हैं। इसमें शामिल है –

  • यह जानने का प्रयास करें कि बिना किसी मतलब के विचार आपके दिमाग में क्यों आते हैं।
  • अपने दिमाग में यह स्पष्ट करें कि जो सोच आपको परेशान कर रही है, उसको अपने डेली रूटीन में न लाएं।
  • अपने आज से भागने कि बजाय उसको अपनाने या उसका सामना करने की कोशिश करें।
  • सामान्य व्यवहार रखें।
  • मेडिटेशन या योग करें।
  • अपने सोचने के तरीके में बदलाव करें।

हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में अनवॉन्टेड थिंकिंग से बचने के कुछ टिप्स दिए गए हैं। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं, तो आप अपना सवाल हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Obsessive-Compulsive Disorder: When Unwanted Thoughts or Repetitive Behaviors Take Over – https://www.nimh.nih.gov/health/publications/obsessive-compulsive-disorder-when-unwanted-thoughts-take-over/index.shtml Accessed February 17, 2019

Mechanisms of symptom reduction in treatment for obsessions. – https://psycnet.apa.org/doiLanding?doi=10.1037%2Fa0024827 Accessed February 17, 2019

Overcoming Negative Thoughts. https://www.cdc.gov/diabetes/prevention/pdf/handout_session11.pdf. Accessed February 17, 2019

Positive thinking: Stop negative self-talk to reduce stress. https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/stress-management/in-depth/positive-thinking/art-20043950. Accessed February 17, 2019

लेखक की तस्वीर badge
Smrit Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/10/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x