home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं ऐसे!

बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं ऐसे!

बच्चों की त्वचा बड़ों के मुकाबले काफी नाजुक और सेंसेटिव मानी जाती है। यही वजह है कि बच्चों की त्वचा और स्किन केयर का खास ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। बच्चों के विकास के शुरुआती सालों में अक्सर उन्हें अलग-अलग तरह के इंफेक्शन होने का खतरा बना रहता है, जिसके चलते माता-पिता को शिशु को इंफेक्शन से बचाना पड़ता है। बच्चों में इंफेक्शन के लिए कई तरह के फैक्टर्स काम करते हैं। अक्सर यह इन्फेक्शन वायरल होते हैं, तो कई बार यह बैक्टीरियल भी होते हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं बच्चों में बैक्टीरियल इन्फेक्शन के एक ऐसे ही प्रकार के बारे में। इस इंफेक्शन का नाम है इंपीटिगो। आम तौर पर बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) का इस्तेमाल किया जाता है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स डॉक्टर कई तरह से प्रिसक्राइब कर सकते हैं, जिसमें कैप्सूल और ऑइंटमेंट का समावेश होता है। आइए जानते हैं बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स से जुड़ी यह जरूरी बातें। लेकिन इससे पहले जानते हैं कि इंपीटिगो की समस्या आखिर क्या होती है।

क्या है इंपीटिगो की समस्या? (Impetigo in children)

इंपीटिगो (Impetigo in children) एक ऐसी संक्रामक बीमारी है, जो त्वचा को नुकसान पहुंचाती है। यही वजह है कि इसे स्किन इन्फेक्शन के तौर पर देखा जाता है। इस समस्या में त्वचा पर इंफेक्शन या घाव जैसी दिक्कत शुरू हो जाती है, जो शरीर के किसी भी हिस्से में फैल सकती है। कुछ खास मामलों में यह नाक, मुंह और हाथों के साथ-साथ पैरों में भी दिखाई देती है। इंपीटिगो की वजह से होने वाले घाव से पीले रंग का तरल पदार्थ भी निकलता है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) का इस्तेमाल किया जाता है। यह समस्या 2 से 5 साल तक के बच्चों में आमतर पर देखी जाती है। आमतौर पर वयस्कों को यह समस्या कम होती हुई देखी गई है। सबसे पहले इसका असर चेहरे पर होता हुआ दिखाई देता है, लेकिन इसे पहचानने के लिए आपको इंपीटिगो के लक्षणों पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने से पहले आइए जानते हैं इसके लक्षणों के बारे में।

और पढ़ें: Paediatric Celiac Disease: बच्चों में हो जाए सीलिएक रोग, तो इन बातों का रखें ध्यान!

क्या हैं इंपीटिगो की समस्या के लक्षण? (Symptoms of Impetigo in children)

जैसा कि आपने जाना इंपीटिगो की समस्या (Impetigo in children) बच्चों में त्वचा संबंधित समस्याओं का कारण बन सकती है। इसलिए समय पर इस तकलीफ को पहचान कर इसका इलाज कराना जरूरी हो जाता है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) तब प्रिसक्राइब की जाती है, जब इससे जुड़े हुए लक्षण बच्चों में दिखाई दें। इंपीटिगो की समस्या में आमतौर पर यह लक्षण नजर आते हैं –

इसके अलावा यदि समस्या का समय पर समाधान न किया जाए तो इसके लक्षण और भी बिगड़ सकते हैं। इसलिए इन लक्षणों को महसूस करने के बाद तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। बच्चों में इंपीटिगो (Impetigo in children) के लक्षण आम तौर पर साधारण इंफेक्शन की तरह नजर आते हैं, लेकिन इसके अन्य लक्षणों को ध्यान में रखकर बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) का इस्तेमाल किया जा सकता है। आइए अब जानते हैं इंपीटिगो की समस्या के पीछे क्या कारण मौजूद होते हैं।

और पढ़ें: बच्चों में मम्प्स होने पर दिखाई देते हैं ऐसे लक्षण, ना करें इनको इग्नोर!

क्या हैं इंपीटिगो की समस्या के कारण? (Causes of Impetigo in children)

इंपीटिगो आमतौर पर एक बैक्टीरियल स्किन इन्फेक्शन है। यही वजह है कि यह एक बच्चे से दूसरे बच्चे में फैल सकता है।इसके लिए दो अलग-अलग तरह के बैक्टीरिया ज़िम्मेदार होते हैं, स्ट्रैप्टॉकोक्कस या स्टेफिलोकोक्कस। यह दोनों ही तरह के बैक्टीरिया इंपीटिगो (Impetigo in children) का कारण बन सकते हैं। शरीर में होने वाले स्किन इन्फेक्शन के कारण बैक्टीरिया का जमाव होता है। ऐसा आमतौर पर एग्जिमा, जलने या कटने की वजह से या कीड़े के काटने की वजह से हो सकता है। साथ ही बच्चों में सर्दी जुकाम की समस्या के चलते भी इंपीटिगो की तकलीफ हो सकती है। इसलिए बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) प्रिस्क्राइब की जाती है। आइए अब जानते हैं बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स के अंतर्गत कौन-कौन सी दवाएं दी जा सकती हैं।

और पढ़ें: बच्चों में स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकते हैं ये कुछ फैक्टर्स, रहें अलर्ट!

बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स के तौर पर किया जा सकता है इन दवाओं का इस्तेमाल (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children)

बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children)

इंपीटिगो (Impetigo in children) की समस्या आमतौर पर स्किन की ऊपरी परत में होती है। कई बार यह कीड़े के काटने, एग्जिमा और अन्य स्किन संबंधित समस्याओं के चलते भी ये सकती है। जिसकी वजह से त्वचा में बैक्टीरिया जमा होते हैं और बैक्टीरियल इनफेक्शन आगे बढ़ता है। बच्चों ने इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स के तौर पर डॉक्टर कई तरह की दवाएं दे सकते हैं। यह दवाएं बच्चे के पूरे चेकअप के बाद जरूरत के अनुसार दी जाती है। इस इलाज में टॉपिकल एंटीबायोटिक्स जैसे कि मुपिरोसिन, रेटापामुलिन और फ्यूसिडिक एसिड (Mupirocin, retapamulin and fusidic acid) का समावेश होता है। आइए अब जानते हैं बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) के तौर पर किन दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टर कर सकते हैं।

और पढ़ें: पीडियाट्रिक फंगल इंफेक्शंस: बच्चों में होने वाले इन संक्रमणों के बारे में क्या यह सब जानते हैं आप?

क्लोक्स-डी 500 कैप्सूल (Klox-D 500 Capsule)

क्लोक्स-डी 500 कैप्सूल आमतौर पर बैक्टीरियल इंफेक्शन के लिए दी जाती है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) के तौर पर यह दवा दी जा सकती है। यह दवा बैक्टीरिया को बढ़ने को रोकती है और त्वचा संबंधित समस्याओं में आराम पहुंचाती हैं। इस दवा का इस्तेमाल खाली पेट करना चाहिए, इसके अलावा आप इसका सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार भी कर सकते हैं। इस दवा को रोजाना एक ही समय पर लिया जाना चाहिए, जिससे इसका असर ठीक तरह से हो। इस दवा का पूरा कोर्स करने की जरूरत पड़ती है, जिससे बैक्टीरियल इनफेक्शन दोबारा ना हो। यदि दवा का कोर्स पूरा ना किया जाए, तो यह समस्या दोबारा हो सकती है। डॉक्टर आपकी जरूरत के अनुसार इसका कोर्स चुन सकते हैं।

यदि आप यह दवा लेना चाहते हैं तो आपको डॉक्टर को आपकी त्वचा से संबंधित एलर्जी के बारे में जरूर बताना चाहिए। आमतौर पर इस दवा से साइड इफ़ेक्ट के तौर पर त्वचा में रैश, उल्टी, डायरिया, मितली जैसी समस्या हो सकती है। समय के साथ यह समस्या ठीक हो जाती है। लेकिन यदि यह समस्या ठीक ना हो, तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

और पढ़ें: अपने बच्चे के आहार को लेकर हैं परेशान, तो जानिए बच्चों के लिए हेल्दी फूड पिरामिड के बारे में

सेफैलेक्सिन 250 एमजी टैबलेट (CEPHALEXIN 250 MG TABLET)

सेफैलेक्सिन 250 एमजी टैबलेट आमतौर पर बैक्टीरियल इंफेक्शन के लिए दी जाती है। बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) के तौर पर यह दवा दी जा सकती है। यह दवा बैक्टीरिया को बढ़ने को रोकती है और त्वचा संबंधित समस्याओं में आराम पहुंचाती हैं। इस दवा का इस्तेमाल खाली पेट करना चाहिए, इसके अलावा आप इसका सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार भी कर सकते हैं। इस दवा को रोजाना एक ही समय पर लिया जाना चाहिए, जिससे इसका असर ठीक तरह से हो। इस दवा का पूरा कोर्स करने की जरूरत पड़ती है, जिससे बैक्टीरियल इनफेक्शन दोबारा ना हो। यदि दवा का कोर्स पूरा ना किया जाए, तो यह समस्या दोबारा हो सकती है। डॉक्टर आपकी जरूरत के अनुसार इसका कोर्स चुन सकते हैं।

यदि आप यह दवा लेना चाहते हैं तो आपको डॉक्टर को आपकी त्वचा से संबंधित एलर्जी के बारे में जरूर बताना चाहिए। आमतौर पर इस दवा से साइड इफ़ेक्ट के तौर पर त्वचा में रैश, उल्टी, डायरिया, मितली जैसी समस्या हो सकती है। समय के साथ यह समस्या ठीक हो जाती है। लेकिन यदि यह समस्या ठीक ना हो, तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में लो कार्ब डायट बच्चे और मां दोनों के लिए हो सकती है नुकसान दायक, अपनाने से पढ़ लें ये लेख

क्लिंडैक ए 1% जेल (Clindac A 1% Gel)

क्लिंडैक ए 1% जेल एक तरह का एंटीबायोटिक जेल माना जाता है, जो बैक्टीरियल इंफेक्शन में कारगर साबित होता है। इसे त्वचा पर हुए बैक्टीरियल इंफेक्शन पर लगाया जाता है, जिससे त्वचा पर इसका प्रभाव दिखाई देता है। इसका इस्तेमाल सिर्फ एक्सटर्नली या बाहरी रूप से ही करना चाहिए। इसके इस्तेमाल से पहले घाव को अच्छी तरह से साफ करने की जरूरत पड़ती है। साथ ही त्वचा में कट या रैश वाली जगह पर इसका इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। इसे आंखों, नाक, मुंह इत्यादि से दूर रखना चाहिए। यदि गलती से यह इन नाजुक अंगों के संपर्क में आती है, तो तुरंत पानी से मुंह धो कर डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और पढ़ें: रसल सिल्वर सिंड्रोम : इस कंडिशन में हो सकती है बच्चे के विकास में देरी, समय रहते इसे पहचानना है जरूरी

बच्चों में इंपीटिगो के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स (Best antibiotic drugs to treat Impetigo in children) के तौर पर इन सभी दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बाद किया जा सकता है। लेकिन डॉक्टर की सलाह के बगैर इंपीटिगो की समस्या में किसी तरह की दवा का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। यह बच्चे की स्किन संबंधी समस्या को और भी बदतर बना सकता है। बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक मानी जाती है। यही वजह है कि डॉक्टर की सलाह के बाद ही किसी भी तरह की दवाएं बच्चे को दी जानी चाहिए,जिससे बच्चों में इंपीटिगो (Impetigo in children) की समस्या का इलाज ठीक ढंग से हो सके।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड