आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

क्या भूख बन सकती है नौसिया यानी जी मिचलाना जैसी परेशानी की वजह?

    क्या भूख बन सकती है नौसिया यानी जी मिचलाना जैसी परेशानी की वजह?

    नौसिया (Nausea) यानी जी मिचलाना को प्रेग्नेंसी का एक मुख्य लक्षण माना जाता है। लेकिन क्या आपके साथ भी ऐसा हुआ है कि किसी जरूरी काम की वजह से जब आपका ब्रेकफास्ट मिस हो गया हो और 8 से 10 घंटे भूखा रहने के बाद जब आपने लंच किया, तो, लंच के बाद आपने नौसिया यानी जी मिचलाना जैसी परेशानी का अनुभव किया। यह समस्या पेट में एसिड या भूख की वजह से पेट में कॉन्ट्रैक्शंस के कारण हो सकती है। आज हम बात करने वाले हैं भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) के बारे में। सबसे पहले जान लेते हैं भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) की क्या हो सकती हैं वजह?

    क्या भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) जैसी प्रॉब्लम हो सकती है?

    हमारे फूड को ब्रेक डाउन करने के लिए हमारा पेट हाइड्रोक्लोरिक एसिड hydrochloric acid. बनाता है। अगर आप लंबे समय तक कुछ भी नहीं खाते हैं, तो इससे पेट में एसिड बनता है जिससे एसिड रिफ्लक्स और नौसिया (Nausea) जैसी समस्याएं हो सकती हैं। खाली पेट भी हंगर प्रॉब्लम्स हो सकती हैं। पेट के अपर मिडिल पार्ट में डिस्कम्फर्ट, स्ट्रांग स्टमक कॉन्ट्रैक्शंस के कारण हो सकता है। हंगर प्रॉब्लम्स दुर्लभ मामलों में किसी मेडिकल कंडिशंस के कारण होती हैं। उन्हें आमतौर पर आपके पेट के खाली होने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) के अन्य कारण भी हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

    एंडोक्राइन सिस्टम द्वारा जनरेटेड हॉर्मोन्स जैसे घ्रेलिन (Ghrelin) और लेप्टिन (Leptin) एपेटाइट के फ्लो में खास भूमिका निभाते हैं। घ्रेलिन (Ghrelin) भूख का कारण है और लेप्टिन तब निकलता है जब शरीर संकेत यह देता है कि वह संतुष्ट है और उसे भूखे रहने की आवश्यकता नहीं है। जब भूख के संकेतों के बावजूद आप खाना नहीं खाते हैं तो इन केमिकल्स के बीच संतुलन तब गड़बड़ा जाता है। यदि आप बिना खाए-पिए काफी देर तक रहते हैं, तो शरीर अधिक घ्रेलिन का उत्पादन करके परेशानी का कारण बन सकता है। अगर यह सिग्नल बहुत अधिक इंटेंस हों, तो यह शरीर का आपको यह बताने का तरीका हो सकता है कि आपको मेटाबोलिक सिंड्रोम के लिए स्क्रीनिंग की आवश्यकता है। अब जानते हैं कि भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) की स्थिति में क्या किया जा सकता है?

    और पढ़ें: Digestive Health Issues : जानिए क्या है पाचन संबंधी विकार और इससे जुड़ी खास बातें

    भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) की स्थिति से कैसे पाएं राहत?

    भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) की समस्या होने पर आप कुछ आसानी तरीकों से छुटकारा पाया जा सकता है। यह तरीके इस प्रकार हैं:

    • इस समस्या से छुटकारा पाने का सबसे बेहतरीन तरीका है, कुछ खा लेना। इससे आपको इस समस्या से राहत मिल सकती है।
    • अगर आप बहुत देर तक भूख को कंट्रोल कर रहे हैं, तो शरीर की न्यूट्रिशनल संबंधी जरूरतों को धीरे से पूरा करें।
    • लो-शुगर पेय पदार्थों का सेवन करें।
    • ऐसे सूप का सेवन करें जिनमें प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट्स हो।
    • प्रोटीन रिच फूड्स का सेवन करें।
    • ड्राई फ्रूट्स खाएं जैसे दाख, खजूर आदि।

    और पढ़ें: Causes Of Heartburn And Nausea: क्या हैं हार्टबर्न और नौसिया के कारण?

    भूख के दौरान अधिक दर्द या नौसिया (Nausea), मेटाबोलिक सिंड्रोम (Metabolic syndrome) का संकेत हो सकते हैं। इसके अन्य लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

    अगर आप भूख में नौसिया की समस्या का अनुभव करें, तो शार्ट इंटरवेल्स में कुछ न कुछ खाने की कोशिश करें। थोड़ी-थोड़ी देर में कम मात्रा में फूड्स का सेवन करने से जी मिचलाने की समस्या से राहत पाया जा सकता है। मील्स की फ्रीक्वेंसी और अमाउंट के साथ एक्सपेरिमेंट करते रहें। इससे आप आप एक ऐसे प्लान के बारे में जान पाएंगे, जो आपकी जीवनशैली के अनुकूल हो, जिससे आपको संतुष्टि मिले, आप ऊर्जावान महसूस करें और आपका वजन सही रहे। इन सब से भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। आपके डॉक्टर या डायटीशियन आपकी जरूरत के अनुसार आपके डायट प्लान को बना सकते हैं। अब जानते हैं नौसिया के अन्य कारण कौन से हो सकते हैं?

    भूख के कारण नौसिया, Nausea due to hunger

    और पढ़ें: इफेक्टिव प्रेग्नेंसी नौसिया प्रोडक्ट्स : प्रेग्नेंसी की इस परेशानी से दिला सकते हैं राहत!

    नौसिया (Nausea) के अन्य कारण क्या हो सकते हैं?

    अगर जी मिचलाना की समस्या का कारण भूख नहीं हैं, तो इसके कुछ अन्य कारण हो सकते हैं। आइए जानें इन कारणों के बारे में:

    डिहायड्रेशन (Dehydration)

    अगर आप भूखे नहीं हैं लेकिन फिर भी नौसिया (Nausea) की समस्या का अनुभव कर रहे हैं तो इसकी संभावना बहुत अधिक है कि इसका कारण डिहायड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी होना है। ऐसे में जितना अधिक हो पानी और हेल्दी पेय पदार्थों का सेवन करें। अधिक समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह लें। अगर जी मिचलाना के साथ ही आपको बहुत अधिक थकावट, चक्कर आना या कन्फ्यूजन जैसी समस्याएं हैं तो यह गंभीर डिहायड्रेशन के लक्षण हो सकते हैं। इन कंडिशंस में तुरंत मेडिकल हेल्प की जरूरत हो सकती है। भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) में यह जानकारी बेहद जरूरी है

    और पढ़ें: अच्छे पाचन से लेकर हेल्दी लिवर तक, गन्ने का रस देता है कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे!

    मेडिकेशन (Medication)

    खाली पेट दवाइयों को लेने से भी कुछ लोग नौसिया (Nausea) की समस्या का अनुभव कर सकते हैं। जिन मेडिकेशन्स के कारण जी मिचलाना साइड इफेक्ट्स के रूप में हो सकता है, वो इस प्रकार हैं:

    ओवर द काउंटर मेडिकेशन्स (Over The Counter Medication)

    कुछ ओवर द काउंटर दवाईयां जैसे विटामिन इ (Vitamin E), विटामिन सी (Vitamin C), एसिटामिनोफेन (Acetaminophen) और नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (Nonsteroidal anti-inflammatory drugs) को अगर खाली पेट लिया जाए, तो जी मिचलाना की समस्या हो सकती है।

    और पढ़ें: दूध का पाचन होने में कितना समय लगता है? जानिए दूध के बारे में सबकुछ

    नौसिया (Nausea) के अन्य कारण

    जी मिचलाना के कुछ ने कारण भी हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

    • केमिकल टॉक्सिन्स के एक्सपोजर में आना
    • अपच
    • मोशन सिकनेस
    • स्ट्रेस
    • फूड पॉयजनिंग
    • अर्ली प्रेग्नेंसी

    कुछ लोगों को लंबे समय तक खाना न खाने पर यह समस्या हो सकती है। ऐसे में इस परेशानी से बचने के लिए फ्रीक्वेंट इंटरवेल्स में कम मात्रा में भोजन करें। अगर ऐसे में भी यह समस्या ठीक न हो तो डॉक्टर से सलाह लें। यह तो थी भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) के बारे में जानकारी। अब जानते हैं कि नौसिया (Nausea) और वोमिटिंग के बारे में।

    और पढ़ें: प्रोटीन का पाचन और अवशोषण शरीर में कैसे होता है? जानें प्रोटीन की कमी को दूर करना क्यों है जरूरी

    नौसिया और वोमिटिंग Nausea and vomiting

    आमतौर पर जब भी कोई व्यक्ति नौसिया (Nausea) यानी जी मिचलाने की समस्या का अनुभव करता है, तो उसे इसके साथ ही उल्टी की इच्छा होने जैसे परेशानी भी हो सकती है। यदि आपको नौसिया की समस्या हो रही है और आपको उल्टी भी हो रही है, तो संभावना है कि इसके पीछे केवल भूख ही कारण नहीं है। ऐसे में, अगर आपको यह दोनों परेशानियां अधिक समय तक रहें तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। अलग-अलग उम्र के लोगों में अधिक देर तक यह परेशानी कॉम्प्लीकेशन्स की वजह बन सकती है। जानिए, किस उम्र के लोगों में कितने समय से अधिक देर तक यह परेशानी घातक सिद्ध हो सकती है।

    • वयस्कों में दो दिन तक
    • एक से दो साल के बच्चों में चौबीस घंटे
    • नवजात शिशुओं में बारह घंटे

    अगर आपको नौसिया (Nausea) और वोमिटिंग (Vomiting) के साथ ही कुछ अन्य लक्षण भी नजर आएं, तो तुरंत मेडिकल हेल्प लेनी चाहिए। यह लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

    • गंभीर पीठ में दर्द
    • बुखार या गले का स्टिफ होना
    • छाती में दर्द
    • कन्फ्यूजन
    • नजरों का धुंधला होना
    • रेक्टल ब्लीडिंग

    और पढ़ें: टॉप डायजेस्टिव एंजाइम्स : यह एंजाइम्स निभाएं पाचन से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका

    उम्मीद है कि भूख के कारण नौसिया (Nausea due to hunger) के बारे में यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। कुछ लोग अधिक देर तक भूखे रहें, तो उन्हें जी मिचलाना की परेशानी हो सकती है। ऐसे में, सही समय पर आहार ग्रहण करना बेहद जरूरी है। अपने आहार को कभी भी स्किप न करें। ऐसा करना कई अन्य समस्याओं का कारण भी बन सकता है। रोगी के लिए अपने लाइफस्टाइल खासतौर पर ईटिंग हैबिट्स को बदलना जरूरी है। लेकिन, अगर जीवन और अपनी ईटिंग हैबिट्स में बदलाव के बाद भी आपको कोई लाभ न हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। अगर आपके मन में इस बारे में कोई भी सवाल हो, तो डॉक्टर से इस बारे में बात करना भी न भूलें।

    आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: