प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल का सेवन नुकसानदायक है या नहीं? जानिए यहां

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल के सेवन की मनाही होती है। वहीं, कुछ लोगों का मानना है कि पहले ट्राइमेस्टर में न्यूनतम मात्रा में इसका सेवन महिलाओं के लिए नुकसानदायक नहीं है। इसको लेकर कई अध्ययन भी किए जा चुके हैं। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान किसी भी तरह और कितनी भी मात्रा में एल्कोहॉल का सेवन करना सुरक्षित नहीं माना जाता। जर्नल ऑब्स्ट्रेटिक एंड गायनेकोलॉजी प्रकाशित तथ्यों के अनुसार पहले ट्राइमेस्टर में न्यूनतम मात्रा में एल्कोहॉल का सेवन करना कम नुकसानदायक होता है। इसमें हाई ब्लड प्रेशर की समस्या और प्रीमैच्योर डिलिवरी का खतरा कम देखा गया है। साथ ही बच्चे का वजन कम होने के संकेत भी नहीं मिले हैं। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल का सेवन करना सही है या नहीं? क्या इसकी कुछ मात्रा निर्धारित है?

प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल का सेवन कितना सही कितना गलत?

गर्भवती महिला के ब्लड में एल्कोहॉल मिलकर गर्भनाल (umbilical cord) के माध्यम से शिशु तक पहुंचती है जो शिशु के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित होती है। गर्भावस्था के दौरान शराब पीने से गर्भपात, स्टिलबर्थ (still birth) और आजीवन शारीरिक, व्यवहारिक और बौद्धिक अक्षमता हो सकती है। इन असामान्यताओं को भ्रूण एल्कोहॉल स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (FASDs) के रूप में जाना जाता है। यह एक साइंटिफिक टर्म है जिसका उपयोग एल्कोहॉल की वजह से गर्भ में पल रहे शिशु के साथ होने वाली समस्याओं के लिए करते हैं। भ्रूण एल्कोहॉल स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर वाले शिशुओं में निम्नलिखित विशेषताएं और व्यवहार हो सकते हैं:

यह भी पढ़ें : लर्निंग डिसेबिलिटी के उपचार : जानें इसके लक्षण और समय रहते करें रोकथाम

एल्कोहॉल पीने से पड़ सकता है मामूली असर

इस पर हावर्ड हेल्थ पब्लिशिंग के चीफ मेडिकल एडिटर डॉक्टर फेरगस मेककेर्थी और आयरलैंड, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के उनके सहयोगियों ने एक अध्ययन किया। उन्होंने 2004 और 2011 के बीच पहली बार शिशुओं को जन्म देने वाली 5,628 महिलाओं के नतीजों का विश्लेषण किया। इनमें से ज्यादातर महिलाओं ने पहले ट्राइमेस्टर में एल्कोहॉल का सेवन किया था।

19 प्रतिशत महिलाओं ने कभी- कभार एल्कोहॉल का सेवन किया। 25 प्रतिशत महिलाओं ने न्यूनतम मात्रा में एल्कोहॉल का सेवन किया या हफ्ते में तीन से सात ड्रिंक्स लीं। दूसरी 15 प्रतिशत महिलाओं ने एक सप्ताह में सात से ज्यादा ड्रिंक्स लीं।

इस अध्ययन से पता चला कि प्री-मैच्योर बर्थ, कम वजन या छोटे आकार के बच्चे और प्री-एक्लम्पसिया-एक संभावित जानलेवा स्थिति जिसमें एक गर्भवती महिला को हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती है। यह स्थितियां एल्कोहॉल का सेवन करने वाली महिलाओं में भी समान रूप से पाई गईं।

यह भी पढ़ें: नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

दिग्गज संस्थानों की राय अलग

पिछले कुछ दशकों से महिलाओं को एल्कोहॉल का सेवन न करने की सलाह दी जाती हैं। अमेरिकन कॉलेज ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी और यूनाइटेड किंगडम का रॉयल कॉलेज ऑफ ओब्स्ट्रेटिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट दोनों ही महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान एल्कोहॉल का सेवन न करने की सलाह देते हैं।

इसके पीछे वजह है प्रेग्नेंसी के दौरान अधिक मात्रा में एल्कोहॉल का सेवन करने से भविष्य में ऐसी बीमारियां हो सकती हैं, जिनका इलाज संभव नहीं है। इन्हें फेटल एल्कोहॉल सिंड्रोम (एफएएस) के नाम से जाना जाता है। इनके अलावा बच्चों में अन्य असामान्यताएं भी हो सकती हैं।

एल्कोहॉल पीने से बच्चे का ऊपर का होठ पतला, आंख खुलने में परेशानी जैसी असामान्यताएं हो सकती हैं। इसके अतिरिक्त बच्चे का सिर छोटा रह सकता है। शिशु अपनी औसत लंबाई से छोटा हो सकता है। उसका वजन भी कम हो सकता है। साथ ही उसका व्यवहार हायपर एक्टिव हो सकता है। दिमागी रूप से ध्यान केंद्रित करने में दिक्कतें आ सकती हैं।

उसकी सोचने समझने की क्षमता कमजोर हो सकती है। देखने और सुनने की समस्या हो सकती है। इसके अलावा शिशु के दिल, गुर्दों और हड्डियों में परेशानी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: इस क्यूट अंदाज में उन्हें बताएं अपनी प्रेग्नेंसी की खबर

शिशु को हो सकती हैं लाइलाज बीमारियां

अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन के अनुसार प्रेग्नेंट महिला के एल्कोहॉल पीने से यह प्लेसेंटा द्वारा भ्रूण तक पहुंच जाती है। इससे कई बार मिसकैरिज, गर्भ में शिशु की मृत्यु तक हो सकती है। इसके साथ ही बच्चा व्यवहारिक और मानसिक रूप से अपंग हो सकता है। इन बीमारियों को फेटल एल्कोहॉल स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एफएडी) के नाम से जाना जाता है। प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल पीने से शिशु में एफएडी होने से उसके नाक-कान, आंख और मुंह में असामान्यता हो सकती है।

यह भी पढ़ें: अनचाही प्रेग्नेंसी (Pregnancy) से कैसे डील करें?

सीडीसी की हिदायत

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, ‘प्रेग्नेंसी के दौरान एल्कोहॉल के सेवन के लिए कोई भी समय सुरक्षित नहीं है। एल्कोहॉल प्रेग्नेंसी की पूरी अवधि के दौरान समस्या पैदा कर सकती है।

यहां तक कि जब तक महिला को पता नहीं चलता कि वह प्रेग्नेंट है तब भी यह नुकसानदायक है। प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीनों में एल्कोहॉल का सेवन करने से शिशु का चेहरा असामान्य हो सकता है। प्रेग्नेंसी की किसी भी अवधि के दौरान एल्कोहॉल का सेवन करने से शिशु का विकास और उसका सेंट्रल नर्वस सिस्टम प्रभावित हो सकता है।’

सीडीसी के अनुसार पूरी गर्भावस्था के दौरान शिशु के मस्तिष्क का विकास होता है और इस अवधि के दौरान एल्कोहॉल के संपर्क में आने से यह प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है। यदि कोई महिला प्रेग्नेंसी के दौरान एल्कोहॉल का सेवन करती है तो जितनी जल्दी हो सके वह इसे बंद कर दे।

अब तो आप समझ ही गईं होगीं कि प्रेग्नेंसी के दौरान शराब का सेवन खतरनाक हो सकता है। एल्कोहॉल का सेवन वैसे भी नुकसान पहुंचाता है तो प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल तो पूरी तरह छोड़ ही देना आपके और शिशु के लिए बेहतर होगा क्योंकि इस दौरान आप जो भी खाती हैं उसका सीधा असर बच्चे पर होता है। सुरक्षा के लिहाज से प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल का सेवन बिल्कुल न करना ही शिशु के लिए सबसे सुरक्षित होता है। उम्मीद है यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा अगर आपका कोई और सवाल है तो कमेंट बॉक्स में आप हमसे पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और भी पढ़ें :-

गर्भावस्था में नट्स चाहें बादाम हो या काजू, सेहत के लिए बेहतरीन

प्रेग्नेंसी में ब्राउन डिस्चार्ज क्यों होता है?

भ्रूण स्थानांतरण क्या है? प्रॉसेस के कंप्लीट होने के बाद कैसे बढ़ाएं प्रेग्नेंसी का सक्सेस चांस?

प्रेग्नेंसी में थकान क्यों होती है, कैसे करें इसे दूर?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ethinyl Estradiol: एथिनिल एस्ट्राडियोल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए एथिनिल एस्ट्राडियोल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एथिनिल एस्ट्राडियोल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Ethinyl Estradiol डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

सामान्य प्रेग्नेंसी से क्यों अलग है मल्टिपल प्रेग्नेंसी?

मल्टिपल प्रेग्नेंसी क्या है? सामान्य प्रेग्नेंसी से क्यों अलग है मल्टिपल प्रेग्नेंसी? ऐसी स्थिति में कब हो सकता है शिशु का जन्म? multiple pregnancy के वक्त क्या करना चाहिए?

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी फ़रवरी 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Prochlorperazine: प्रोक्लोरपेराजाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

प्रोक्लोरपेराजाइन का इस्तेमाल मिचली और उल्टी रोकने के लिए किया जाता है. खासतौर पर सर्जरी या कैंसर के इलाज के दौरान उल्टी रोकने में इसका इस्तेमाल होता है.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 11, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

सरोगेट मां का ध्यान रखना है जरूरी ताकि प्रेग्नेंसी में न आए कोई परेशानी

सरोगेट मां का ध्यान कैसे रखें in hindi. हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए सामान्य गर्भवती महिला की तरह ही सरोगेट मां का ध्यान रखा जाना भी जरूरी है। सरोगेट मां का ध्यान कैसे रखा जा सकता है जानिए यहां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

तीसरी तिमाही में उल्टी होना-Vomiting in third trimester

क्या तीसरी तिमाही में उल्टी होना नॉर्मल है? जानें कारण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
फेटल अल्ट्रासाउंड -Fetal Ultrasound

Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma
Published on मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

वजन घटाने के नैचुरल उपाय अपनाएं, जिम जाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

Written by Manjari Khare
Published on अप्रैल 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
व्हाइट सोपवोर्ट

White soapwort: व्हाइट सोपवोर्ट क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
Published on मार्च 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें