home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

सरोगेट मदर कैसे रखें अपना ख्याल?

सरोगेट मदर कैसे रखें अपना ख्याल?

सरोगेट मदर वो होती है जो अपने गर्भ में किसी दूसरे कपल या किसी दूसरे व्यक्ति के शिशु (भ्रूण) को 9 महीने तक रखती है, जहां भ्रूण डेवलप होकर शिशु का रूप लेता है। इस प्रक्रिया को सरोगेसी (Surrogacy) कहते हैं। सरोगेट मदर (surrogate mother) को गर्भावस्था के दौरान मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है।

सरोगेट मदर कैसे रखें अपना ध्यान? (How to take care of surrogate mother?)

पौष्टिक आहार (Have Nutritious Food)

पौष्टिक आहार का सेवन हमेशा ही करना चाहिए, लेकिन गर्भावस्था के दौरान आहार का विशेष ध्यान रखना चाहिए। प्रेग्नेंसी में पौष्टिक आहार का सेवन करें जैसे- खाने में प्रोटीन, फ्रेश हरी सब्जियां और फलों को शामिल करें। सरोगेट मदर को गर्भावस्था के दौरान कच्चे मीट, अंडे, पैक्ड दूध और वैसी मछलियों का सेवन नहीं करना चाहिए जिनमें मरकरी हो।

[mc4wp_form id=”183492″]

पानी पिएं (Drink plenty of water)

प्रेग्नेंसी के दौरान खूब पानी पिएं क्योंकि पानी की कमी या डीहाइड्रेशन के कारण शिशु का जन्म समय से पहले हो सकता है। पानी में भी कई तरह के विटामिन और मिनरल मौजूद होते हैं जो मां और शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं।

प्रीनेटल विटामिन (Prenatal vitamin)

एम्ब्रियो ट्रांसफर के पहले प्रीनेटल विटामिन का सेवन करना चाहिए। इससे गर्भ में पलने वाले भ्रूण को आवश्यक पोषण मिलता है जिससे शिशु का गर्भ में ठीक तरह से विकास हो सकता है। प्रीनेटल विटामिन डॉक्टर की सलाह अनुसार लें।

और पढ़ें: 4 में से 1 महिला करती है सेकेंड बच्चे की प्लानिंग, जानें इसके फायदे और चुनौतियां

आराम करें (Take proper rest)

सरोगेट मदर को एक दिन में कम से कम 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। प्रेग्नेंसी के दौरान स्लीपिंग पुजिशन पर ध्यान देना चाहिए। पीठ के बल न सोएं इससे शिशु तक ब्लड सप्लाई रुक सकती है और गर्भवती महिला को सिरदर्द हो सकता है।

तनाव से बचें (Avoid stress)

प्रेग्नेंसी में छोटी सी गलती मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकती है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफाॅर्मेशन (NCBI) के अनुसार प्रेग्नेंसी के दौरान प्रेग्नेंट लेडी अगर स्ट्रेस (तनाव) में रहती हैं तो इसका असर बच्चे के दिमाग (मस्तिष्क) पर होता है। सरोगेट मदर को इससे बचना चाहिए।

और पढ़ें: चिंता और तनाव को करना है दूर तो कुछ अच्छा खाएं

एक्टिव रहें (be active)

प्रेग्नेंसी के दौरान एक्टिव रहना बेहद जरूरी है। इसलिए इस दौरान नियमित रूप से 30 मिनट लो-इंपेक्ट वाली फिजिकल एक्टिविटी जैसे योगा, स्विमिंग, वॉक या प्रीनेटल एक्सरसाइज जरूर करें। प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज करने से नॉर्मल डिलिवरी की संभावना ज्यादा होती है। मूड स्विंग की समस्या भी कम हो सकती है।

और पढ़ें: कपल्स में क्यों बढ़ रही है इनफर्टिलिटी की समस्या ?

प्रीनेटल केयर (Prenatal care)

सरोगेसी की शुरुआत से पहले और एम्ब्रियो इम्प्लांट होने के बाद डॉक्टर्स की टीम सरोगेट मदर का विशेष ध्यान रखती है। इसलिए इस दौरान होने वाले चेकअप को टाले नहीं बल्कि समय-समय पर कपल के साथ डॉक्टर से चेकअप करवाते रहें। अगर इस दौरान आपको कोई भी शारीरिक परेशानी समझ आती है या महसूस होती है, तो इसकी जानकारी डॉक्टर को दें। किसी भी शारीरिक परेशानी को डॉक्टर या कपल से छुपाये नहीं।

नशीले पदार्थों के सेवन से बचें (Avoid drug abuse)

प्रेग्नेंसी के दौरान नशीले पदार्थों जैसे एल्कोहॉल, सिगरेट या ड्रग्स का सेवन न करें। इन पे पदार्थों या नशीले पे पदार्थों के सेवन से शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने के साथ-साथ गर्भ में पल रहे शिशु पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है।

एंजॉय करें (Enjoy this period)

प्रेग्नेंसी के दौरान एंजॉय करें। सरोगेट मदर बनने का निर्णय आपका है इसलिए इस समय को एंजॉय करें और खुश रहें। इससे आप और आपके गर्भ में पल रहा शिशु दोनों की सेहत को फायदा मिलेगा।

इन तरीकों को अपनाकर सरोगेट मदर गर्भावस्था के दौरान फिट रह सकती हैं। हालांकि यह ध्यान रखें कि इस वक्त अगर कोई भी परेशानी महसूस होती है तो कपल और डॉक्टर को जल्द से जल्द बताएं।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान डांस करने से होते हैं ये 11 फायदे

सरोगेट मदर मानसिक तौर से कैसे फिट रहे? (How did the surrogate mother become mentally fit?)

सरोगेसी प्रेग्नेंसी के दौरान अपने इमोशन का ख्याल रखें। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार इस दौरान नकारात्मकता भी उत्पन्न हो सकती है इसलिए सरोगेट महिलाओं को प्रोफेशनल काउंसलिंग करवाना चाहिए। अगर आप अपने आपको फिट रखने के लिए योगा या कोई अन्य प्रेग्नेंसी एक्सरसाइज करना चाहती हैं, तो डॉक्टर की सलाह लें और योगा एक्सपर्ट की सहायता से योगा करें।

सरोगेट मदर अपने आपको खुश कैसे रखें? (How to keep surrogate mother happy?)

सरोगेट मदर निम्नलखित तरह से गर्भावस्था के दौरान अपने आपको व्यस्त और खुश रख सकती हैं। इनमें शामिल हैं-

  • आशावादी बनें, लेकिन वास्तविकता याद रखें। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर आप गर्भवती हैं और किसी दूसरे कपल के बच्चे को अपने गर्भ में पाल रहीं हैं तो मन में ये धारणा न लाएं की ये किसी दूसरे का शिशु है। आपको ध्यान रखना चाहिए की सरोगेट मदर बनने का फैसला आपका खुद का है और इसके बदले आपको पैसे मिल रहें हैं। इसलिए मन में नकारात्मक विचार न आने दें।
  • गर्भावस्था के दौरान होने वाली फीलिंग महसूस करें। कई गर्भवती महिलाओं का कहना है गर्भावस्था की फीलिंग काफी अलग होती है जिसे बयां कर पाना मुश्किल है। इसे सिर्फ आप अनुभव कर सकती हैं।
  • अपनी पसंदीदा काम करें, लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा कोई काम न करें जिससे शरीर को नुकसान हो। अगर आपको किताबें पढ़ना पसंद है, म्यूजिक सुनना पसंद है या फिर कोई अन्य काम जिससे शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़े उसे न करें। क्योंकि अगर आप फिट रहेंगी तभी आप गर्भ में पल रहे शिशु को स्वस्थ रख पाएंगी।
  • सरोगेट मदर को सरोगेसी एक्सपर्ट के संपर्क में रहना चाहिए। आप सरोगेसी के बारे में उनसे खुलकर बात कर सकती हैं। जो महिला पहले से सरोगेसी से बच्चे को जन्म दे चुकी हैं वो आपको इससे जुड़ी अहम जानकारी दे सकती हैं। इसलिए उन्हें अपनी गर्भावस्था के दौरान सूचित रखें और आपके किसी भी प्रश्न या चिंताओं के बारे में जानने या उनसे समझने में संकोच न करें। यदि आप गर्भावस्था या सरोगेसी की किसी भी चुनौती से निपटने के लिए संघर्ष कर रही हैं, तो अतिरिक्त सहायता के लिए एक काउंसलर से बात कर सकती हैं। सरोगेसी प्लान करने के पहले भी बनने वाली सरोगेट मदर की काउंसलिंग की जाती है। यह ध्यान रखें की आपकी भावनात्मक सेहत गर्भावस्था के दौरान आपके शारीरिक स्वास्थ्य की तरह ही महत्वपूर्ण है। आपकी सेहत का असर गर्भ में पल रहे शिशु पर भी पड़ता है।

और पढ़ें: बच्चे की प्लानिंग करने से पहले रखें इन कुछ जरूरी बातों का ध्यान

ऊपर दी गई जानकरी को ध्यान में रखकर सरोगेट मदर अपना ख्याल रख सकती हैं, लेकिन अगर आप इससे जुड़े किसी तरह सवाल का जवाब जानना चाहती हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में सरोगेट मदर से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो आप आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Emotional experiences in surrogate mothers: A qualitative study/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4126251/Accessed on 20/01/2020

What are Some Tips for Surrogate Mothers?/https://surrogate.com/surrogates/becoming-a-surrogate/what-are-some-tips-for-surrogate-mothers/Accessed on 20/01/2020

Surrogacy: https://www.pregnancybirthbaby.org.au/surrogacy

Overview of the Surrogacy Process: https://www.hrc.org/resources/overview-of-the-surrogacy-process

Surrogacy: https://childlawadvice.org.uk/information-pages/surrogacy/

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 31/07/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड