प्रेग्नेंसी की शुरुआत में होने वाले दर्द के बारे में जरूरी बातें

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 8, 2020 . 2 मिनट में पढ़ें
Share now

गर्भावस्था के शुरुआती समय में पेट में दर्द या ऐंठन होना असामान्य बात नहीं है। यदि प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में महिलाओं को पेट में कुछ समस्या लगती है तो उनके मन में डर बैठ जाता है कि कहीं ये मिसकैरेज के लक्षण तो नहीं है। यदि आपके के साथ भी यह समस्या है तो यह सामान्य भी हो सकता है। आपकों अपने डॉक्टर को एक बार अवश्य दिखा लेना चाहिए।

क्यों होता है गर्भावस्था में पेट दर्द?

आमतौर पर प्रारंभिक गर्भावस्था में (पहले 12 सप्ताह के दौरान) पेट में हल्का दर्द आपके गर्भ के विस्तार के कारण होता है। आपके बंप के बढ़ने के साथ लिगामेंट्स में खिंचाव होता है। यह दर्द  कभी-कभी स्टिच या हल्के पीरियड के दर्द जैसा महसूस हो सकता है। आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है यदि दर्द हल्का हो रहा है। जब आप स्थिति बदलते हैं तो आपको आराम मिलता है।

इन लक्षणों को न करें अनदेखा

प्रेग्नेंसी की प्रारंभिक अवस्था में हल्का दर्द या ऐंठन होना आम बात है लेकिन जब आपको ऐंठन के साथ ही अन्य लक्षण दिखाई दे तो ये सामान्य नहीं है। वैसे तो किसी भी प्रकार की समस्या होने पर आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए लेकिन दिए गए लक्षणों में यदि कुछ भी दिखाई दे तो ये आपके लिए समस्या खड़ी कर सकता है,

  • यदि पेट में होने वाला हल्का दर्द अचानक से तेज हो जाए।
  • दर्द रुक-रूक कर वापस आए या असहनीय हो जाए।
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द शुरू महसूस हो।

यह भी पढ़ें : अनचाही प्रेग्नेंसी (Pregnancy) से कैसे डील करें?

ऐक्टोपिक प्रेग्नेंसी के लक्षण

पेट के निचले हिस्से में दर्द एक्टोपिक प्रेग्नेंसी का लक्षण हो सकता है । इस दौरान पेट के निचले हिस्से में भयानक दर्द का अहसास होता है।
  • ब्लीडिंग
  • शोल्डर टिप में दर्द होना।
  • भूरे रंग का डिस्चार्ज होना।
  • चक्कर आना या कमजोरी महसूस होना।
  • शौच या यूरिन पास करते समय जलन होना।

प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले दर्द के बारे में जब हैलो स्वास्थ्य ने फोर्टिस हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. अर्चना सिन्हा से बात की तो उन्होंने कहा कि ‘ प्रेग्नेंसी के दौरान थोड़ा दर्द होना आम बात होती है। ये कुछ महिलाओं में होता है, लेकिन कुछ महिलाओं को इस तरह की परेशानी नहीं होती है। अगर आपको अचानक से तेज दर्द उठता है तो इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें। तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें। डॉक्टर सोनोग्राफी के माध्यम से दर्द का कारण जानकर इलाज करेंगे।

इन लक्षणों पर भी दें ध्यान

  • प्रेग्नेंसी के दौरान ब्लीडिंग या बिना ब्लीडिंग के दर्द होना मिसकैरेज या प्लासेंटल एबरप्शन का संकेत हो सकता है।
  • 37 सप्ताह से पहले पेट में रेगुलर पेन प्रीमेच्योर लेबर की निशानी हो सकता है। पेट के निचले हिस्से में दर्द या योनी से गुलाबी रंग का स्राव , पीठ या पेट के निचले हिस्से में दर्द मुख्य लक्षण के रूप में दिख सकता है।
  • प्लेसेंटल एबर्पशन ( PLACENTAL ABRUPTION) में बैक पेन के साथ ही पेट को दबाने में दर्द महसूस होता है।
  • पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द PRE-ECLAMPSIA का लक्षण हो सकता है। इसके साथ ही फेस में सूजन आना, सिर दर्द होना, देखने में दिक्कत होना या वॉमटिंग महसूस हो सकती है। प्रेग्नेंसी के 20वें हफ्ते में ये समस्या हो सकती है।

इन सभी समस्याओं को इग्नोर न करें और अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : क्या प्रेग्नेंसी कैलक्युलेटर की गणना हो सकती है गलत?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    प्रेग्नेंसी का पांचवां महीना: कौन सी एक्सरसाइज करना है सही?

    प्रेग्नेंसी का पांचवां महीना और एक्सरसाइज की जानकारी in hindi. शरीर में अचानक से आए परिवर्तन के कारण महिलाएं परेशान हो जाती हैं। ऐसे में प्रेग्नेंसी का पांचवां महीना एक्सरसाइज शुरू करने के लिए अच्छा हो सकता है।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    जान लें कि क्यों जरूरी है दूसरा बच्चा?

    दूसरा बच्चा प्लान करने से होने वाले फायदों की जानकारी in hindi. दूसरा बच्चा प्लान करने के बारे सोचना हो सकता हो कि आपके लिए कठिन हो। अगर आप second baby planning कर रही हैं तो आपको इसके फायदे जरूर जानने चाहिए।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    प्रेग्नेंसी में रेडिएशन किस तरह से करता है प्रभावित?

    प्रेग्नेंसी में रेडिएशन की जानकारी in hindi. प्रेग्नेंसी में रेडिएशन के कारण होने वाले बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है। सांस लेने पर भी रेडियोएक्टिव मैटीरियल शरीर में जाकर मिल जाते हैं। Radiation effects in Pregnency क्या हैं आइए जानते हैं।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 25, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

    सेकेंड प्रेग्नेंसी प्लानिंग में क्या होती है अलग बात?

    सेकेंड प्रेग्नेंसी की जानकारी in hindi. सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को पहले बच्चे की ओर भी ध्यान देना पड़ता है। Second Pregnancy में महिला का एक्सपीरियंस कुछ अलग हो सकता है।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    कोउवाडे सिंड्रोम

    कोउवाडे सिंड्रोम क्या है, पिता पर क्या पड़ता है असर?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on जनवरी 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    प्लासेंटा

    क्या डिलिवरी के बाद मां को अपना प्लासेंटा खाना चाहिए?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on दिसम्बर 31, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
    फ्रीक्वेंट यूरिनेशन

    प्रेग्नेंसी में फ्रीक्वेंट यूरिनेशन क्यों होता है?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on दिसम्बर 30, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
    सरोगेट मां

    क्या आप सरोगेसी और सरोगेट मां के बारे में जानते हैं ये बातें?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें