प्रेग्नेंसी में इम्यून सिस्टम पर क्या असर होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेगनेंसी में आपको अपने शिशु के साथ-साथ खुद का भी ख्याल रखना जरूरी होता है क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान आपके शरीर पर अत्यधिक स्ट्रेस रहता है। इस स्ट्रेस के कारण प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम पर बेहद प्रभाव पड़ता है। इम्यून सिस्टम एक सुरक्षा प्रणाली होती है जो मां और शिशु दोनों को कीटाणुओं और बैक्टीरिया से बचाने में मदद करती है।

शिशु की ही तरह इम्यून सिस्टम भी आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। यह न केवल कीटाणुओं बल्कि बीमारियों और गंभीर आनुवांशिक विकारों से भी आपको व शिशु को बचाता है। यह एक प्रकार से शील्ड की तरह काम करता है। इम्यून सिस्टम शरीर की बेहद महत्वपूर्ण प्रणाली होती है। इसमें खराबी आने के कारण आपकी और आपके बच्चे की सेहत को खतरा हो सकता है।

ऐसा कहा जाता है कि प्रेगनेंसी में महिलाओं को आसानी से कोई भी संक्रमण या कीटाणु प्रभावित कर सकता है जिसके कारण उनमें बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है। असल में प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम में कमजोरी आने के कारण ऐसा होता है। शरीर बच्चे के विकास और वृद्धि के लिए अपने इम्यून सिस्टम को धीमा और कम कर देता है। इसीलिए गर्भवती महिलाओं का सामान्य से ज्यादा अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है।

आज हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे कि इम्यून सिस्टम के कमजोर होने का मां और आपके शिशु पर क्या प्रभाव पड़ सकता है। इसके अलावा शिशु को स्वस्थ रखने के लिए आप किस तरह अपनी इम्यून पॉवर को बढ़ा सकती हैं।

और पढ़ें – 8 मंथ प्रेग्नेंसी डाइट चार्ट, जानें इस दौरान क्या खाएं और क्या नहीं?

प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम पर प्रभाव

तो आखिर प्रेगनेंसी में कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण आपको और आपके शिशु को किन-किन परेशानियों का सामना करना पड़  सकता है? चलिए विस्तार से जानते हैं –

  • आप पर पड़ने वाले प्रभाव आपके शिशु को भी प्रभावित करते हैं। प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम के कमजोर होने पर शिशु पर संक्रमण, कीटाणु और विषाक्त पदार्थों का हमला करना आसान हो जाता है।
  • आप यह अनुभव करेंगी कि प्रेगनेंसी के दौरान आप अधिक बीमारी पड़ती हैं।
  • प्रेग्नेंसी में थकान और सुस्ती होना आम होता है लेकिन यदि आपका इम्यून सिस्टम कमजोर है तो आपको थकान और आलस का एहसास एक अलग ही स्तर पर महसूस होगा।
  • मॉर्निंग सिकनेस भी गर्भावस्था के दौरान एक सामान्य समस्या होती है। लेकिन प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण इसकी तीव्रता बढ़ जाती है।

प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम कमजोर होने से न केवल आप में कमजोरी आती है बल्कि आपके शिशु में बीमारियां होने की आशंका भी बढ़ जाती है। ऐसे में अधिकतर महिलाओं को समझ नहीं आता कि उन्हें क्या करना चाहिए। शिशु हर मां की पहली प्राथमिकता होती है लेकिन शरीर की कमजोरी के आगे वह भी कई बार कुछ नहीं कर पाती हैं।

लेकिन आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम पर पड़ने वाले प्रभावों को कुछ साधारण उपायों व टिप्स की मदद से ठीक किया जा सकता है।

और पढ़ें –क्या है 7 मंथ प्रेग्नेंसी डाइट चार्ट, इस अवस्था में क्या खाएं और क्या न खाएं?

प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम को बढ़ाने की टिप्स

निम्न कुछ ऐसे टिप्स हैं जिनकी मदद से आप प्रेगनेंसी में अपने शरीर की सुरक्षा प्रणाली को कमजोर पड़ने व पहले से ज्यादा मजबूत बनाने में मदद कर सकती हैं। तो चलिए जानते हैं इन टिप्स के बारे में –

प्रोबायोटिक्स

रोजाना प्रोबायोटिक्स का सेवन करें। प्रोबायोटिक्स प्राकृतिक रूप से केफिर, दही और साउरक्राउट (खट्टी गोभी) से प्राप्त किए जा सकते हैं। लेकिन आप चाहें तो सप्लीमेंट्स का भी सेवन कर सकते हैं। आपको प्रोबायोटिक सप्लीमेंट आसानी से किसी भी ऑनलाइन स्टोर या मेडिकल शॉप पर मिल जाएंगे। लेकिन इनका सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना न करें। प्रोबायोटिक्स आपके और आपके शिशु के इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद करते हैं। यह शिशु को किसी भी प्रकार के अस्थमा और एलर्जी होने से बचाता है और जन्म के बाद भी उसकी इम्युनिटी पावर को स्ट्रांग बनाए रखता है।

और पढ़ें – गर्भावस्था में चिया सीड खाने के फायदे और नुकसान

गर्भावस्था में इम्यून सिस्टम:  पोषक तत्वों से भरपूर आहार

प्रेगनेंसी के दौरान आपको कई विभिन्न प्रकार के व्यंजन खाने की लालसा हो सकती है। हालांकि, अपनी इस भूख को मिटाने के लिए कई बार अपनी मनपसंद चीजें खाना अच्छा भी होता है लेकिन अधिक सेवन करने से आपके शिशु और इम्यून सिस्टम पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। हमेशा इस बात को ध्यान में रख कर ही आहार का चयन करें कि आपको एक नहीं दो लोगों की जरूरत के अनुसार खाना खाना है। प्रेगनेंसी में आपको अपने और शिशु के लिए स्वस्थ आहार चुनने चाहिए जो प्रोटीन, विटामिन का सेवन, कार्ब्स, फैट और कई अन्य पोषक तत्वों से भरपूर हों। किसी भी महत्वपूर्ण पोषक तत्व की कमी के कारण प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम पर प्रभाव पड़ता है। इसे मजबूत बनाए रखने के लिए आप चाहें तो किसी विशेषज्ञ जैसे डायटीशियन से भी सलाह ले सकती हैं।

और पढ़ें – क्यों प्लेसेंटा और प्लेसेंटा जीन्स को समझना है जरूरी?

पर्याप्त मात्रा में लें नींद

प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए नींद एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आपके शरीर को प्रेग्नेंसी के दौरान काफी आराम की आवश्यकता होती है। तो यदि आप अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के बारे में सोच रही हैं तो अपने शरीर पर अधिक स्ट्रेस न डालें और पर्याप्त मात्रा में नींद लेने की कोशिश करें। आपका शरीर इस समय पहले से कई गुना ज्यादा स्ट्रेस से गुजर रहा होता है। यह स्ट्रेस न केवल मानसिक और भावनात्मक होता है बल्कि इसका सीधा असर आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इन सभी से बचने के लिए खुद को थोड़ा आराम दें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

सकारात्मक ऊर्जा बनाएं रखें

अपने आसपास के वातावरण को सकारात्मक बनाए रखें। हंसने से आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। यह भले ही आपको अजीब लगे लेकिन यह सच है। प्रेग्नेंसी के दौरान नकारात्मक ख्यालों व वातावरण में रहना आपके और शिशु के लिए हानिकारक हो सकता है। इससे जितना अधिक हो सके परहेज करने की कोशिश करें।

और पढ़ें – प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए या नहीं?

विटामिन डी

इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए विटामिन डी बेहद जरूरी होता है। प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम और शिशु के विकास के लिए विटामिन डी युक्त आहार का सेवन करें।

गर्भावस्था में इम्यून सिस्टम: पानी और तरल पदार्थ का सेवन

इन सबके अलावा प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी और तरल पदार्थ का सेवन भी इम्युनिटी को बढ़ाने में सहायक होता है क्योंकि इससे शरीर से अवांछित पदार्थ मूत्र के द्वारा बाहर निकल जाते हैं जिससे शरीर स्वस्थ रहता है और पाचन संबंधी समस्याएं भी कम होती हैं।

प्रेगनेंसी में इम्युनिटी मजबूत बनाए रखने के लिए ऊपर दी गई टिप्स को फॉलो करें। इससे न केवल आपको बल्कि आपके शिशु को भी लंबे समय तक फायदा पहुंचेगा।  अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपको अधिक जानकारी चाहिए तो बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

हार्ट अटैक के बाद डायट का रखें खास ख्याल! जानें क्या खाएं और क्या न खाएं

हार्ट अटैक के बाद डायट, हार्ट अटैक के बाद क्या खाएं और क्या नहीं, पाएं हार्ट अटैक के बाद स्वस्थ रहने की पूरी जानकारी, Diet after Heart Attack in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन अगस्त 21, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Aztor Tablet : एज्टर टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एज्टर टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एज्टर टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Aztor Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

गर्भावस्था के दौरान खरबूज का सेवन करने से हो सकते हैं कई फायदे

गर्भावस्था के दौरान खरबूज का सेवन, खरबूज के फायदे, गर्भवती महिला के लिए आहार संबंधी आवश्यक सूचना, प्रेग्नेंसी आहार, Muskmelon in Pregnancy in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Ruby Ezekiel
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जुलाई 28, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Telmikind-H Tablet : टेल्मिकाइंड एच टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

टेल्मिकाइंड एच टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, टेल्मिकाइंड एच टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Telmikind-H Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

हृदय रोगों से जुड़े मिथक

जानें हृदय स्वास्थ्य से जुड़े मिथक को लेकर क्या कहते हैं एक्सपर्ट

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 28, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
हेल्दी हार्ट के लिए क्या करें?

वर्ल्ड हार्ट डे: हेल्दी हार्ट के लिए फॉलो करें ऐसा लाइफस्टाइल, कम होगा हार्ट डिजीज का खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सीटीडी-टी 12.5 टैबलेट

CTD-T 12.5 Tablet : सीटीडी-टी 12.5 टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
इम्यून सिस्टम क्विज

इम्यून सिस्टम क्विज खेल कर जानें इससे जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें