home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान पहुंचता है?

क्या सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान पहुंचता है?

सनस्क्रीन (Sunscreen) क्या है ?

सनस्क्रीन एक ऐसा कॉस्मेटिक प्रोडक्ट है, जो सूर्य की हानिकारक किरणों से हमारी त्वचा को बचाता है। दरअसल सनस्क्रीन में मौजूद मिनिरल ऑयल, ग्लिसरीन, , टाइटेनियम ऑक्साइड जैसे तत्व मौजूद होते हैं, जोकि आपकी त्वचा को टैनिंग और सन बर्न से बचाते हैं। इसलिए घर से बहार जाने से पहले सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूरी है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि इसका बुरा प्रभाव भी हो सकता है।

और पढ़ें: स्किन पॉलिशिंग के बारे में क्या नहीं जानते आप? इससे ऐसे त्वचा निखारें

क्या सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान हो सकता है ?

सनस्क्रीन से होने वाले शारीरिक नुकसान निम्नलिखित हैं:

नुकसान 1: एलर्जी

सनस्क्रीन में कई ऐसे केमिकल्स भी उपलब्ध होते हैं, जो त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। जिससे त्वचा पर जलन, सूजन, रैश्ज, दाने, खुजली या एलर्जी जैसी समस्या हो सकती है। कभी-कभी दाने, सूजन या रैश्ज जल्दी ठीक न होने की स्थिति में एलर्जी की समस्या शुरू हो जाती है। सनस्क्रीन में पारा-एमिनोबेंजोइक एसिड (PABA) का इस्तेमाल किया जाता है। इसी पीएबीए का इस्तेमाल एनेस्थीसिया में भी किया जाता है। सनस्क्रीन में मौजूद पीएबीए और अन्य केमिकल एलर्जी का कारण बनते हैं।

नुकसान 2: मुंहासे

सनस्क्रीन की वजह से मुंहासे की परेशानी भी बढ़ सकती है। सनस्क्रीन के इस दुष्प्रभाव से छुटकारा पाने के लिए आपको नॉन-कॉमेडोजेनिक और नॉन-ऑयली सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। इसलिए ऐसे सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें जो आपकी त्वचा के लिए लाभदायक हो और उससे स्किन को नुकसान न पहुंचे।

नुकसान 3: आंखों पर प्रभाव

आंखों में सनस्क्रीन लगाने पर दर्द और जलन की समस्या हो सकती है। आंखें ज्यादा संवेदनशील होती हैं। कुछ एक्सपर्ट्स का ये भी मानना

है की सनस्क्रीन में मौजूद केमिकल्स अंधापन का कारण बन सकती है। यदि सनस्क्रीन आंखों में जाता है, तो ऐसी परिस्थिति में ठंडे पानी से आंखों में छींटे मारे और श्आंख विशेषज्ञ से जल्द से जल्द मिलें। ध्यान रखें की आंखों की देखभाल सही तरह से करें और उन्हें कॉस्मेटिक प्रोडक्ट से दूर रखें।

नुकसान 4: ब्रेस्ट कैंसर

सनस्क्रीन में ऐसे केमिकल शामिल होते हैं, जो ब्रेस्ट कैंसर सेल्स पर एस्ट्रोजेनिक प्रभाव डाल सकते हैं। कुछ सनस्क्रीन ब्लड में एस्ट्रोजेन के स्तर पर प्रभाव डाल सकती हैं। बच्चों पर सनस्क्रीन के इस्तेमाल से बचें क्योंकि उनकी त्वचा अत्यधिक संवेदनशील होती है।

नुकसान 5: बालों वाली जगहों पर परेशानी

ऐसा पुरुषों के साथ ज्यादा हो सकता है। क्योंकि त्वचा और शरीर पर मौजूद बालों के आस-पास के हिस्से पर लाल निशान या सूजन जैसी समस्या शुरू हो जाती है। सनस्क्रीन की वजह से बाल भी सख्त होने लगते हैं।

नुकसान 6: त्वचा हो सकती है लाल (रेडनेस)

कुछ लोगों को सनस्क्रीन इस्तेमाल करने से चेहरे लाल हो जाते हैं। ऐसे लोगों ऑयल फ्री सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह लेकर भी सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना त्वचा में सनस्क्रीन से होने वाली परेशानी को कम करने में मदद करता है।

इन ऊपर बताई गई परेशानियों या सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। लेकिन, ऐसा नहीं है की इससे बचा नहीं जा सकता है।

और पढ़ें: सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर है जरूरी, शुष्क मौसम छीन लेता है त्वचा की नमी

कैसे बचें सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान या हानिकारक प्रभाव से?

सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान से बचाने के लिए निम्नलिखित टिप्स अपनाने चाहिए। जैसे:-

  • सनस्क्रीन के इस्तेमाल से स्किन पर कोई परेशानी अनुभव होती है, तो इसका इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए।
  • स्किन एक्सपर्ट या केमिस्ट से सलाह लेकर सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना बेहतर होगा।
  • अत्यधिक देर तक बाहर रहते हैं तो 2-2 घंटे पर सनस्क्रीम लगाएं।
  • बच्चों को खुद से सनस्क्रीन लगाने न दें।
  • 6 माह से छोटे बच्चे को सनस्क्रीन न लगाएं।
  • ऑयली स्किन होने पर ऑयल-फ्री और नॉन कॉमेडोजेनिक सनस्क्रीन चुनें।
  • UVA और UVB युक्त सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। डर्मेटोलॉजिस्ट के अनुसार UVA सूर्य की किरणों की वजह से होने वाली झुर्रियों को बचाने के साथ-साथ त्वचा को काला नहीं पड़ने में मददगार होता है। वहीं UVB शरीर में होने वाले टैनिंग और स्किन कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचाता है।
  • एक या दो ड्रॉप सनस्क्रीन का न लेकर थोड़ी ज्यादा मात्रा लें और फिर इसे स्किन पर लगाएं।

सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान से बचाने के लिए ऊपर दी गई टिप्स के साथ-साथ कुछ अन्य बातों को ध्यान रखना जरूरी है। जैसे:-

  • वैसे लोग जिनकी त्वचा ड्राय (रूखी) है, उन लोगों को मॉश्चरायजर युक्त सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। स्प्रे वाले सनस्क्रीन का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि इनमें एलकोहॉल की मात्रा होती है, जो स्किन को रुखा बना सकती है।
  • ऑयली स्किन वालों को जेल बेस्ड टाइप के सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • सेंसेटिव त्वचा के लोगों को एलकोहॉल और फ्रेग्नेंस फ्री सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना लाभकारी होता है।

धूप से बचाने वाले इस क्रीम को घर में कैसे रखें?

कॉस्मेटिक प्रोडक्ट को सही जगह पर रखना भी महत्वपूर्ण है।

  • धूप की हानिकारक किरणों से बचाने वाले इस सनस्क्रीन को ऐसी जगह न रखें जहां सीधे सूर्य की किरणे आती हों।
  • कुछ कॉस्मेटिक प्रोडक्ट को हमसभी फ्रीज में रखते हैं। लेकिन, सनस्क्रीन को फ्रीज में नहीं रखना चाहिए।
  • इसे ऐसी जगह पर रखें जहां नमी न हो।

सनस्क्रीन खरीदते वक्त मैनुफेक्चर डेट और एक्सपायर होने वाली तारीख जरूर देखें। अच्छे ब्रांड के साथ-साथ यह भी सुनिश्चित करें की इसमें मौजूद केमिकल्स क्या-क्या हैं। लेकिन, सनस्क्रीन के इस्तेमाल से कोई भी परेशानी होती है, तो सबसे पहले इसका इस्तेमाल बंद करें और डॉक्टर से मिलें। परेशानी को टाले नहीं बल्कि वक्त रहते इसका इलाज करवाएं।

अगर आप बाहर निकल रहें हैं या रहीं हैं तो अपने त्वचा के अनुसार सनस्क्रीन का इस्तेमाल करने के साथ-साथ हल्के रंग के कपड़े पहनें जो शरीर को पूरी तरह से ढ़कने वाले हों। इसके साथ ही टोपी, छाते और चश्मे का इस्तेमाल जरूर करें। बॉडी को डिहाइड्रेट होने से बचाएं। इसलिए पानी या नारियल पानी का सेवन करें। क लेकिन, तेज धूप स्किन के लिए नुकसानदायक होती है। इसलिए त्वचा संबंधी परेशानियों से बचने के लिए सही सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।

अगर आप सनस्क्रीन से त्वचा को नुकसान को देख चुके हैं या आपको भी सनस्क्रीन के इस्तेमाल से परेशानी होती है, तो इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानने के लिए विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Safety Threshold Considerations for Sunscreen Systemic Exposure: A Simulation Study/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6312469/Accessed on 04/05/2020

Best sunscreen: Understand sunscreen options/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/adult-health/in-depth/best-sunscreen/art-20045110/Accessed on 04/05/2020

Sun protection/https://www.who.int/uv/sun_protection/en/Accessed on 04/05/2020

Every Sunscreen Question You Have, Answered/https://www.healthline.com/health/beauty-skin-care/sunscreen-guide/Accessed on 04/05/2020

 

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 13/10/2019
x