कांच लगने पर उपाय क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

दुर्घटना कभी बताकर नहीं आती है ये तो हम सभी जानते हैं लेकिन, इससे कैसे बचा जाए यह जरूर जानना चाहिए। देखा जाए तो काम करने के दौरान शरीर के किसी भी अंग पर खरोंच आना आम बात है। कभी-कभी कांच या लकड़ी भी चुभ जाती है। यही नहीं अगर घर में छोटे बच्चे हों तो इन परेशानियों से अक्सर ही गुजरना पड़ता है।

मुंबई की रहने वाली 27 वर्षीय कोमल शर्मा पेशे से इंजीनियर हैं। जब हैलो स्वास्थ्य की टीम ने उनसे जानना चाहा कि क्या उन्हें कभी कांच या लकड़ी चुभने जैसी परेशानी हुई है? इस सवाल पर कोमल कहती हैं कि “कुछ महीने पहले मेरे पैर में कांच चुभ गया था और मुझे बहुत परेशानी हुई। मैंने कुछ देर खुद से कोशिश की कि कांच निकल जाए लेकिन, ऐसा नहीं हुआ तो मुझे डॉक्टर के पास जाना पड़ा।” कोमल के साथ ऐसे कई लोग हैं जो ऐसे परेशानियों का खुद या उनके या कोई और करीबी सामना करते रहते हैं, ऐसी स्थति में आप फर्स्ट एड कैसे करें? आज इस आर्टिकिल में हम समझने की कोशिश करेंगे की कांच लगने पर उपाय क्या करना चाहिए? इसके साथ ही जानेंगे कि अगर लकड़ी से चोट लग जाए तो क्या उपाय करना चाहिए?

और पढ़ेंः कीड़े का काटना या डंक मारना कब हो जाता है खतरनाक? क्या है बचाव का तरीका

कांच लगने पर उपाय क्या करें?

किसी भी कारण अगर कांच का टुकड़ा चुभ जाए तो यह काफी कष्टकारी होता है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए निम्नलिखित उपाय या फर्स्ट एड का तरीका अपनाना चाहिए। जैसे-

कांच लगने पर उपाय: स्टेप-1

जिस जगह कांच लगा हो उस जगह को सबसे पहले साफ करें। कांच लगी हुई स्किन को ठंडे पानी से साफ करें। क्लीन करने के लिए आप एल्कोहॉल, नमक और हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल कर सकते हैं। इनके इस्तेमाल से इंफेक्शन की समस्या से बचा जा सकता है।

कांच लगने पर उपाय: स्टेप-2

कांच लगने पर उसके आसपास के एरिया या त्वचा पर दवाब डालें। उंगलियों और अंगूठे से प्रेशर डालें। ऐसा करने से चुभा हुआ कांच धीरे-धीरे निकल सकता है।

कांच लगने पर उपाय: स्टेप-3

अगर आपके पैर या हाथ पर या शरीर पर किसी भी हिस्से पर कांच चुभ जाए तो एक बाल्टी में गर्म पानी लें। गर्म पानी में एप्सोम साल्ट मिला दें। गर्म पानी में अच्छी तरह जब नमक घुल जाए तो उसमें कांच चुभे हुए हिस्से को डालें। कुछ देर या तकरीबन आधे घंटे तक पानी में रहने की वजह से स्किन में थोड़ी सूजन आ जाती है। ऐसे में स्किन से कांच आसानी से निकाला जा सकता है। एप्सोम साल्ट को मैग्नेशियम सल्फेट के नाम से भी जाना जाता है। यह मैग्नेशियम, सल्फर और ऑक्सिजन के केमिकल कंपाउंड से मिलाकर बनाया जाता है। एप्सोम साल्ट का इस्तेमाल कांच लगने पर उसे घरेलू उपाय की तरह किया जाता है।

कांच लगने पर उपाय: स्टेप-4

पैर या हाथ में कांच लगने पर फर्स्ट एड के तौर पर कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल किया जा सकता है। आयुर्वेद के अनुसार कैस्टर ऑयल को कॉटन में पहले लगाएं और फिर इस कॉटन को जिस जगह कांच लगा है वहां लगाकर रखें। ऐसा करने के साथ-साथ कुछ देर बाद वहां की आसपास की त्वचा पर हल्का प्रेशर डालें। ऐसा करने से कांच निकल सकता है।

कांच लगने पर उपाय: स्टेप-5

अगर आपने कांच लगी हुई त्वचा को कुछ देर तक नमक वाले गर्म पानी में रख चुके हैं, तो इसके बाद आप प्लकर का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्लकर की सहायता से कांच के टुकड़ों को निकाल सकते हैं।

और पढ़ेंः सांप काटने का इलाज कैसे करें? जानिए फर्स्ट ऐड

कांच लगने पर उपाय करने के बावजूद भी अगर आपकी परेशानी कम नहीं हुई है, तो ऐसी स्थिति में क्या करें?

अगर आपको हल्की चोट लगी हो और बिना किसी परेशानी के कांच निकाल चुके हैं, तब तो कोई समस्या नहीं है लेकिन, निम्नलिखित परेशानी होने पर खुद फर्स्ट एड करें और जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। इन परेशानियों में शामिल हैं-

  • ब्लीडिंग होना- अगर कांच लगी हुई त्वचा से ब्लीडिंग रुक नहीं रही है, तो इसे नजरअंदाज न करें।
  • ब्लीडिंग के साथ-साथ अगर कोई परेशानी महसूस होती है जैसे सूजन, पस या स्किन का लाल होना या जलन महसूस होना तो हेल्थ एक्सपर्ट से मिलें।
  • अत्यधिक दर्द होना।
  • अगर खुद से आप कांच के टुकड़ों को नहीं निकाल पाएं हैं।
  • इस हल्की सी चोट की वजह से बुखार भी आ सकता है।

इन ऊपर बताई गई बातों को ध्यान में रखें और फिर इलाज करवाएं।

कांच लगने पर उपाय को समझने के साथ-साथ इसे खुद से न करें। ऐसे वक्त में कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखें। जैसे

  • कांच निकालने के लिए आप किसी अन्य व्यक्ति की मदद ले सकते हैं।
  • अगर पैर में कांच लगी है, तो कुछ देर तक जूते न पहनें।
  • टिटनेस का इंजेक्शन लगवाएं।

और पढ़ेंः फर्स्ट डिग्री से थर्ड डिग्री तक जानिए जलने के प्रकार और उनके उपचार

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कांच लगने पर उपाय समझने के बाद अब समझते हैं कि कभी-कभी लकड़ी के छोटे-छोटे हिस्से अगर स्किन में चुभ जाएं तो क्या करें?

जिस तरह से ऊपर बताया गया है कि कांच लगने पर उपाय करें, ठीक इसी तरह से अगर आपको लकड़ी से चोट लग जाती है या लकड़ी चुभ जाती है तो भी यही उपाय अपनाना चाहिए।

कांच निकालने के बाद उस जगह पर एंटीसेप्टिक क्रीम या एंटीसेप्टिक डिसइंफेक्टेंट सॉल्यूशन लगाकर फिर उस जगह पर बैंडेज कर दें। ऐसा करने से परेशानी कम होगी और इंफेक्शन की संभावना भी न के बराबर होगी।

कांच लगने पर उपाय फॉलो करने से पहले अपने पास निम्नलिखित आवश्यक वस्तु जरूर रखें। जैसे:-

  1. कांच के टुकड़े या लकड़ी के टुकड़े को निकालने के लिए चिमटा (प्लकर)
  2. एंटीसेप्टिक क्रीम या एंटीसेप्टिक डिसइंफेक्टेंट सॉल्यूशन
  3. हल्का गर्म पानी 
  4. एप्सोम सॉल्ट (नमक)
  5. कैस्टर ऑयल 
  6. बैंडेज

और पढ़ेंः एरण्ड (कैस्टर) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Castor Oil

कांच लगने पर उपाय के साथ-साथ निम्नलिखित तरीका भी अपनाया जा सकता है। जैसे-

  • जिस जगह कांच या लकड़ी चुभी है उसे निकालने के बाद उसपर हल्दी लगाई जा सकती है। हल्दी एंटीसेप्टिक होने के साथ-साथ एंटीबायोटिक होने की वजह से इंफेक्शन से बचाती है और दर्द में भी राहत दिलाती है।
  • हल्की चोट या खरोंच वाली जगहों पर शहद का इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि शहद में भी औषधीय गुण मौजूद होते हैं।

इन दोनों उपायों को बड़ों के साथ-साथ बच्चों के लिए भी किया जा सकता है।

अगर आप कांच लगने पर उपाय या लकड़ी चुभने से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Electric Shock: इलेक्ट्रिक शॉक क्या है?

जानिए इलेक्ट्रिक शॉक क्या है in hindi, इलेक्ट्रिक शॉक के कारण और लक्षण क्या है, electric shock को ठीक करने के लिए क्या उपचार है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जानें इस तरह करें फ्लू की जांच और इसे फैलने से कैसे रोकें

Influenza is a viral infection that attacks your respiratory system - your nose, throat, and lungs. Influenza is commonly called flu.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Fingernail Injury: उंगली के नाखून में चोट क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए उंगली के नाखून में चोट क्या है in hindi, उंगली के नाखून में चोट के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, fingernail injury को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Nasal Polyps: नेजल पॉलिप्स क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए नेजल पॉलिप्स क्या है in hindi, नेजल पॉलिप्स के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, nasal polyps को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

खाने से एलर्जी

खाने से एलर्जी और फूड इनटॉलरेंस में क्या है अंतर, जानिए इस आर्टिकल में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 23, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
एनवायरमेंटल डिजीज

एनवायरमेंटल डिजीज क्या हैं और यह लोगों को कैसे प्रभावित करती हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
clonidine-suppression-test

Clonidine Suppression Test : क्लोनिडीन सप्रेशन टेस्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
एंटी-न्यूट्रोफिल-साइटोप्लाज्मिक-एंटीबॉडी

Antineutrophil Cytoplasmic Antibodies Test-एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें