दाद (Ringworm) से परेशान लोगों के लिए कमाल हैं ये घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

मौसम के बदलने पर त्वचा से जुड़ी कई परेशानियां जैसे खुजली, दाद आदि होते हैं। कई बार यह कुछ समय में ठीक हो जाते हैं, तो कई बार यह गंभीर हो जाते हैं। कई बार यह ठीक होने के बाद वापस भी लौट आते हैं। आमतौर पर यह नाखूनो, हाथों, पैरों, गर्दन और बालों की जड़ों में होता है, लेकिन यह शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। दाद देखने में जख्म की तरह होते हैं और गोल आकार के होते हैं, जिस वजह से इसे रिंगवॉर्म भी कहा जाता है। यह कम्युनिकेबल डिजीज है, जो आसानी से एक इंसान से दूसरे में फैल सकती है। यदि इसे वक्त रहते रोका न जाए तो यह एग्जिमा का रूप भी ले सकता है। लेकिन अब आपको इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है। आइए जानते हैं दाद के घरेलू उपचार के बारे में…

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

दाद के घरेलू उपचार: लहसुन (Garlic)

दाद से निजात पाने के लिए लहसुन का इस्तेमाल उपयोगी माना जाता है। इसके लिए लहसुन को पीसकर पेस्ट बना लें और इसमें ऑलिव ऑयल या कोकोनट ऑयल को मिलाएं। तैयार हुए पेस्ट की एक पतली परत को प्रभावित जगह पर लगाएं। इसे दो घंटे के लिए छोड़ दें और पानी से वॉश कर लें। दिन में दो बार ऐसा करने से आपको राहत महसूस होगी। यदि इस पेस्ट को लगाने के बाद आपको जलन, सूजन या त्वचा का लाल होना जैसे लक्षण नजर आते हैं, तो इसे तुरंत हटा दें और दोबारा न लगाएं।

दाद के घरेलू उपचार: एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar)

एप्पल साइडर विनेगर में एंटीफंलग प्रॉपर्टीज होती हैं, जो रिंगवॉर्म से लड़ने में कारगर होता है। दाद से निजात पाने के लिए एक कटोरे में एप्पल साइडर विनेगर को निकाले और कॉटन को भिगोकर प्रभावित जगह पर लगाएं। दिन में तीन बार इसे लगाने से आपको दाद से राहत महसूस होगी।

और पढ़ें:  पाइल्स में डायट पर ध्यान देना होता है जरूरी, इन फूड्स का करें सेव

दाद के घरेलू उपचार: हल्दी (Turmeric)

हल्दी हर किसी के किचन में आसानी से मिल जाएगी। हल्दी में एंटी-इन्फलामेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं। हल्दी में कुरकुमिन नामक एक पदार्थ होता है, जो स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फायदेमंद होता है। इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण भी होते हैं। हल्दी की चाय पीने से आपको फायदा होगा। इसके साथ पानी या कोकोनट ऑयल में हल्दी को मिलाकर पेस्ट तैयार करें। इसे स्किन पर लगाकर छोड़ दें। कुछ देर बाद इसे हटा दें। ऐसा कुछ दिनों तक करने पर आपको दाद से आराम मिलेगा।

दाद के घरेलू उपचार:  मुलेठी पाउडर (Powdered licorice)

मुलेठी का इस्तेमाल कई चाइनिज दवाओं में किया जाता है। इसमें एंटीवायरल, एंटीमाइक्रोबियल और एंटीइन्फलामेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं। दाद और अन्य फंगल इंफेक्शन के लिए इसे बेहद उपयोगी माना जाता है। अच्छे परिणामों के लिए, तीन चम्मच मुलेठी पाउडर को एक कप पानी में मिलाएं। इसे उबाल लें। 10 मिनट तक कम आंच पर इसे उबालें। जब यह पानी ठंडा हो जाएगा तो ये पेस्ट की तरह तैयार हो जाएगा। इस पेस्ट को दाद पर दिन में दो बार लगाएं। 10 मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें और फिर साफ कर लें।

और पढ़ें: Urinary Tract Infection : यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) क्या है?

दाद के घरेलू उपचार:  एलोवेरा (Aloe vera)

एक रिसर्च के अनुसार, एलोवेरा में एंटीसेप्टिक एजेंट्स होते हैं, जो दाद में राहत प्रदान करते हैं। इसमें कूलिंग प्रॉपर्टीज होती हैं जो खुजली और सूजन में आराम पहुंचाता है। दिन में इसके जेल को तीन से चार बार लगाने पर कुछ दिनों में दाद दूर हो जाएगा।

दाद के घरेलू उपचार: टी ट्री ऑयल (Tea tree Oil)

कई बैक्टीरिया और फंगल स्किन इंफेक्शन में टी ट्री ऑयल को सालों से इस्तेमाल किया जा रहा है और लाभकारी माना जाता है। दाद के लिए टी ट्री ऑयल एक अच्छा उपाय है। टी ट्री ऑयल को एसेंशियल ऑयल औऱ कोल्ड प्रेस्ड करियर ऑयल में मिलाकर दिन में तीन बार स्किन पर लगाएं। सेंसिटिव स्किन वाले इसका इस्तेमाल करने से परहेज करें।

दाद के घरेलू उपचार: ओरिगेनो ऑयल (Oil of oregano)

ओरिगेनो ऑयल वाइल्ड ओरिगेनो से तैयार होता है। इसमें थाइमोल (thymol) और कारवाकोल (carvacrol) नामक दो स्ट्रांग एंटीफंगल होते हैं। कई रिसर्च के अनुसार ओरिगैनो ऑयल फंगस की ग्रोथ को रोकता है। इसके लिए इसे करियर ऑयल में मिलाकर प्रभावित जगह पर दिन में तीन बार लगाना चाहिए।

दाद के घरेलू उपचार: नारियल का तेल (Coconut oil)

नारियल के तेल में कुछ ऐसे फैटी एसिड होते हैं, जो सेल मेंबरेन्स को नुकसान पहुंचाकर फंगल सेल्स को डैमेज कर सकते हैं। कुछ शोध बताते हैं कि माइल्ड इंफेक्शन वाले लोगों के लिए नारियल का तेल प्रभावी तरीका है। दाद के इलाज के लिए प्रति दिन तीन बार त्वचा पर नारियल तेल लगाने की सलाह दी जाती है। दाद के ठीक हो जाने के बाद भी नारियल तेल को मॉइस्चराइजिंग लोशन के रूप इस्तेमाल करें। इससे भविष्य में दाद संक्रमण होने से बचा जा सकता है।

और पढ़ें: जानें गुदा मैथुन कैसे करें और साथ में किन बातों का रखें ध्यान

दाद के घरेलू उपचार:  अंगूर के बीज का अर्क (Grapefruit seed extract)

कुछ शोध के अनुसार, अंगूर के बीज का अर्क फंगल संक्रमण का इलाज कर सकता है। दाद का इलाज करने के लिए, अंगूर के बीज के अर्क की 1 बूंद को एक चम्मच पानी के साथ मिलाकर रोजाना दो बार त्वचा पर लगाने की सलाह दी जाती है।

दाद के घरेलू उपचार:  लेमनग्रास ऑयल (Lemongrass oil)

लेमनग्रास ऑयल कई तरह के फंगस को कम करने में मददगार है। दाद में इसे करियर ऑयल के साथ मिलाकर दिन में दो बार कॉटन बॉल के साथ लगाने की सलाह दी जाती है।

दाद से बचाव के लिए सीडीसी द्वारा जारी गाइडलाइंस

  • त्वचा को हमेशा साफ और ड्राय रखें
  • कॉमन वॉशरूम और चेंजिंग एरिया में कभी भी खाली पैर न चलें
  • आगे से खुले हुए फुटवियर पहनें जिससे हवा पास हो सके
  • जुराबों और अंडरवियर को रोजाना बदलें
  • नाखुनों को हमेशा साफ रखें
  • तौलिया, चादर और कपड़े शेयर न करें
  • जिम, एक्सरसाइज, खेलने के बाद शॉवर लें

दाद के घरेलू उपायों के बारे में तो आपने जान लिया लेकिन यदि ये 2 हफ्ते तक ठीक नहीं होता है तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। डॉक्टर आपको इसके लिए ओवर-द-काउंटर टॉपिकल लोशन लगाने के लिए दे सकते हैं। कई मामलों में डॉक्टर एंटीफंगल दवाएं भी रिकमेंड कर सकते हैं। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Carlina: कार्लिना क्या है?

कार्लिना का उपयोग क्यों किया जाता है? कर्लिना का उपयोग करते वक्त क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए? कार्लिना साइड इफेक्ट्स क्या हैं? carlina uses

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

हर्पीस (Herpes) इंफेक्शन से होने वाली बीमारी है, अपनाएं ये सावधानियां

हर्पीस इंफेक्शन से होने वाली बीमारी है जो हर्पीस सिम्प्लेक्स नामक वायरस के कारण होती है। ये वायरस  HSV-1 और HSV-2 नाम से जाना जाता है।

Written by Bhawana Awasthi

बच्चों में टिनिया के लक्षण गाल या बाल कहीं भी दिख सकते हैं

बच्चो में टिनिया को दाद भी कहा जाता है। बच्चों में दाद के प्रकार, दाद की दवा, दाद खुजली के उपाय, दाद का इलाज कैसे करें, tinea treatment in hindi, types of tinea in hindi....

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Lucky Singh
बच्चों की स्किन केयर, पेरेंटिंग नवम्बर 28, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Ringworm : दाद (रिंगवर्म) क्या है?

दाद (Ringworm) को डर्माटोफायोटासिस या टिनिया भी कहा जाता है। यह एक त्वचा फंगल संक्रमण है। यह शुरू में त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों पर धब्बों जैसा होेता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 21, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Lulifin Creamm, लुलिफिन क्रीम

Lulifin Cream: लुलिफिन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
इच गार्ड/Itch Guard

Itch Guard: इच गार्ड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
Published on जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में दाद-pregnancy me daad

प्रेग्नेंसी में दाद की समस्या के कारण और बचाव के तरीके

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
Published on अप्रैल 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Rose Geranium Oil: रोज जेरेनियम ऑयल क्या है?

Rose Geranium Oil: रोज जेरेनियम ऑयल क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma
Published on मार्च 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें