लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोविड-19 की शुरुआत दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर से हुई और देखते ही देखते यह दुनियाभर में  फैल गया। आज दुनियाभर में COVID-19 के लगभग 2.4 करोड़ से भी ज्यादा केसेज मौजूद हैं। कोरोना महामारी के चलते ज्यादातर लोग ‘वर्क फ्रॉम होम’ करने पर मजबूर हैं। लॉकडाउन में लंबे समय से घर पर रहते हुए हमारी लाइफस्टाइल में कई बदलाव आए हैं, जिनमें सबसे बड़ा बदलाव हमारी ईटिंग हैबिट्स में भी आया है। सभी की लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं।

हमारे आस-पास हो रहे हर बदलाव का अच्छा और बुरा, दोनों ही प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ते हैं। पूरी दुनिया का कोरोना महामारी की चपेट में आना, हमारी लाइफ में कई बदलाव लेकर आया है। हम लोग अपने घर पर रहने के लिए मजबूर हो गए हैं और घर से काम यानी वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। हालांकि, वर्क फ्रॉम की सुविधा हमे पहले भी मिलती थी पर अब यह सुविधा हमारी जिंदगी का एक हिस्सा बन चुकी है। इस नए हिस्से के साथ हमारी मौजूदा जीवनशैली में कई छोटे-बड़े बदलाव आए और सबसे बड़ा बदलाव हमारे खाने के तरीके में आया, जो कुछ लोगो के लिए सकारात्मक था तो कुछ लोगो के लिए नकारात्मक। इस लेख में हम इस पर एक नजर डालेंगे।

सकारात्मक पहलू

वर्क फ्रॉम होम में ईटिंग हैबिट्स का प्रभाव अलग-अलग लोगों पर अलग तरीके से पड़ रहा है। शादीशुदा जोड़े या फिर परिवारों पर इसका अच्छा प्रभाव देखने को मिला क्योंकि वे अपने स्वास्थ्य के प्रति अब पहले से भी ज्यादा सतर्क हो गए हैं। जैसे-

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स : घर पर खाना बनाना

आमतौर पर ऑफिस में ही ब्रेकफास्ट और लंच करने वाले लोग अब घर पर खाना खाने लगे हैं। कोरोना संक्रमण के फैलने के डर से फूड डिलीवरी ऐप्प्स से ब्रेकफास्ट और डिनर ऑर्डर करने की आदत भी धीरे-धीरे कम हो गई है। आपने भी देखा होगा कि कैसे अचानक से सोशल मीडिया पर हर दिन हजारों होममेड डिशेस (homemade dishes) की तस्वीरें पोस्ट करने का चलन शुरू हो गया। डालगोना कॉफी से लेकर घर पर केक बनाना लोगों ने शुरू कर दिया। जहां एक तरफ यू ट्यूब पर मौजूदा कुकिंग चैनलों के व्यूज और सब्सक्राइबर्स बढ़ने लगे, वहीं खाना पकाने के शौकीन लोगों ने भी अपने चैनल बना डाले। आए दिन अलग-अलग व्यंजनों की रेसिपी के वीडियोज लोगों ने अपलोड करना शुरू कर दिया। जो लोग पहले सिर्फ चाय और मैगी बनाना ही जानते थे, उन्होंने भी सिंपल फूड रेसिपी से असली किचन की दुनिया में कदम रखा। हालांकि, परिवार के साथ रह रहे लोगों के इटिंग पैटर्न में ज्यादा बदलाव नहीं हुए।

और पढ़ें : Healthy Foods For Students: क्या है स्टूडेंट्स के लिए हेल्दी फूड टिप्स

प्रतिरक्षा प्रणाली पर ध्यान

क्योंकि SARS-CoV-2 एक नया वायरस है और अभी तक इसकी कोई वैक्सीन नहीं आई है, इसलिए खुद को संक्रमण से बचाने के लिए घर पर रहना ही सबसे सही तरीका है। वहीं, संक्रमित होने की स्थिति में तेजी से ठीक होने के लिए स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली (Healthy immune system) की जरूरत है। इसलिए, अपनी इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए सदियों पुराने आयुर्वेदिक नुस्खों का इस्तेमाल करना लोगों ने शुरू कर दिया है। जैसे-सोने से पहले हल्दी वाले दूध का सेवन, सुबह-सुबह तुलसी, अदरक और शहद का काढ़ा आदि।

और पढ़ें : लॉकडाउन में पीएं ये खास काढ़ा, इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ वजन होगा कम

पौष्टिक भोजन

लॉकडाउन में वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। हर घर में कपल्स ने अपने अपने फिटनेस गोल्स के साथ ऑनलाइन वर्कआउट सेशंस ज्वाइन करने शुरू कर दिए हैं और साथ ही डाइटिंग भी शुरू कर दी।

फलों के सेवन में बढ़त

जैसे-जैसे हम सभी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हो रहे हैं, हमारे फलों का सामान्य सेवन बढ़ रहा है। अपने दैनिक भोजन में फलों को शामिल करने के लिए पहले से अधिक मात्रा में आज ताजे फल खरीदे जाने लगे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की माने तो किसी भी फ्रूट जूस के मुकाबले उस फल को खाने से हमे ज्यादा लाभ मिलते हैं क्योंकि जूस निकालने की प्रक्रिया में कई सारे पोषक तत्त्व नष्ट हो जाते हैं।

फल कई आवश्यक पोषक तत्वों के स्रोत होते हैं, जैसे पोटैशियम, फाइबर, विटामिन सी और फोलेट (फोलिक एसिड)। आमतौर पर हमारे सामान्य भोजन में इन सब की कमी पाई जाती है। ये पोषक तत्व हमारी इम्युनिटी को बढ़ावा देने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर और हृदय प्रणाली को स्वस्थ बनाए रखने में हमारी मदद करते हैं।

और पढ़ें : रिसर्च : टार्ट चेरी जूस (Tart Cherry Juice) से एक्सरसाइज परफॉर्मेंस में होता है इंप्रूवमेंट

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स : सब्जियों के सेवन में बढ़त

जैसे ही लॉकडाउन शुरू हुआ और लोग कोरोना वायरस के बारे में जागरूक होने लगे, बाजार में सब्जियों की भारी मांग देखी गई। नॉन-वेजिटेरियन लोगों ने भी शाकाहार को अपनाया। बेहतर स्वास्थ्य लाभ और सुरक्षा के लिए शाकाहारी आहार लेना लोगों ने शुरू कर दिया। कई स्टडीज में देखने को मिला कि शाकाहारियों में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल का स्तर, लो/हाई ब्लड प्रेशर और टाइप 2 डायबिटीज की दर मांस खाने वालों की तुलना में कम होती है। साथ ही साथ, वेजिटेरियन लोगों में ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स (BMI), कैंसर दर और लम्बी बीमारियों का जोखिम भी कम होता है।

और पढ़ें : कैसे समझें कि आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है? जानिए कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण

सदियों पुराने सुपरफूड्स की ओर रुख

सदियों से हमारे किचन का अटूट हिस्सा रहे कई पोषक खाद्य पदार्थ (जवार, बाजरा, कुट्टू, गुड़ आदि) की जगह नए सुपरफूड्स (चिया सीड्स, गोजी बेरीज आदि) इस्तेमाल किए जाने लगे हैं। लेकिन, लॉकडाउन में निर्यात और आयात पर लगी पाबंदी से लोगों ने फिर से वही पुराने पोषक खाद्य पदार्थ को रसोई में जगह दे दी है। ये खाद्य पदार्थ आज आहार का एक अहम हिस्सा बन गए हैं। ये फूड्स आयरन, कैल्शियम, फॉस्फोरस और फाइबर जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और आपकी शारीरिक और मानसिक हेल्थ के लिए जरूरी भी।

और पढ़ें : मेंहदी और मानसिक स्वास्थ्य का है सीधा संबंध, जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स : नकारात्मक पहलू

लॉकडाउन के कारण वर्क फ्रॉम होम करने वाले युवा लोगों पर प्रतिकूल प्रभाव भी देखने को मिल रहे हैं। लॉकडाउन में स्लीप साइकिल बिगड़ने से देर रात तक जागना आम बात हो गई है। फिर ऐसे में कुछ-कुछ खाते हुए मूवीज या गेम्स के साथ समय गुजारना लोगों की जीवनशैली का हिस्सा बन गया है। संक्रमण फैलने के डर से लोगों ने बाई और कुक को भी घर में आने से मना कर दिया। नतीजन, युवा वर्ग के लोगों ने बाहर से खाना मंगाना या फिर घर पर ही पैक्ड फूड खाना शुरू कर दिया जिससे स्वस्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

यह महामारी और लॉकडाउन हम सब के लिए एक सीख है कि हमें अपने इम्यून सिस्टम पर ध्यान देने की जरूरत है। साथ ही साथ यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि हमारी जीवनशैली स्वस्थ हो। हमेशा समय पर खाना, समय पर सोना, योग और व्यायाम करना और तले, भुने या पैक्ड खाद्य पदार्थो का सेवन बंद करना ही हमारे स्वास्थ्य और ऐसी महामारियों के समय सुरक्षा को सुनिश्चित करने का एक मात्र तरीका है। अपने भोजन में ज्यादा से ज्यादा कलरफुल सब्जियां, कई प्रकार के फल और सुपरफूड्स को शामिल करके हम वजन और प्रतिरक्षा प्रणाली दोनों ही बेहतर कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

एक्सपर्ट से सुहासिनी मुद्रागणम, चीफ नूट्रिशनिस्ट, ट्रूवेट

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया सुहासिनी मुद्रागणम, चीफ नूट्रिशनिस्ट, ट्रूवेट
स्वस्थ भोजन की आदत

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं। लॉकडाउन के दौरान घर पर हेल्दी फूड्स खाना आपकी इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए जरूरी है। वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। Lockdown eating habits in hindi

के द्वारा लिखा गया सुहासिनी मुद्रागणम, चीफ नूट्रिशनिस्ट, ट्रूवेट
लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

सीरो सर्वे क्या है, एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जाता है, एंटीबॉडी टेस्ट कैसे करते हैं, कोरोना में सीरो सर्वे, आईसीएमआर की गाइडलाइन, Sero survey antibody test Covid-19, ICMR.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस (कोविड 19) का टीका: क्या वैक्सीन के साइड इफेक्ट की होगी चिंता? 

कोरोना वायरस का टीका जल्द ही लॉन्च होनेवाली है। इस वैक्सीन के क्या होंगे साइड इफेक्ट्स? covid 19 vaccine, covid 19 side effects

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोविड 19 उपचार, कोरोना वायरस अगस्त 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

COVID-19 वैक्सीन : क्या सच में रूस ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है?

कोरोना की वैक्सीन अगले सप्ताह रूस में रजिस्टर होने की संभावना है। गमलेई सेंटर के हेड अलेक्जेंडर जिंट्सबर्ग ने गवर्नमेंट न्‍यूज एजेंसी को बताया कि उन्‍हें आशा है कि COVID-19 वैक्सीन 12 से 14 अगस्‍त के बीच 'सिविल सर्कुलेशन' में आ जाएगी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
कोविड-19, कोरोना वायरस अगस्त 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वेट लॉस सर्वे - weight loss survey

क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
वर्क फ्रॉम होम क्विज

Quiz: लॉकडाउन में वर्क फ्रॉम होम करने के टिप्स

के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ अगस्त 31, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें