मूत्र मार्ग संक्रमण से बचने के लिए अपनाएं यह घरेलू उपाय, जानें क्या करें और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 7, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

मूत्र मार्ग इंफेक्शन(यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन) ऐसा संक्रमण है, जो हमारे यूरिनरी सिस्टम के किसी भी भाग में हो सकता है। जैसे गुर्दे, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय और मूत्रमार्ग(urethra) आदि। हालांकि, हमारे शरीर का मूत्र मार्ग इस संक्रमण से अधिक प्रभावित होता है। इस संक्रमण का होना दर्दनाक और कष्टप्रद हो सकता है। अगर यह इंफेक्शन रोगी के गुर्दे में फैल जाता है, तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। ऐसा पाया गया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं इस समस्या से अधिक पीड़ित होती हैं खासतौर पर गर्भावस्था के समय। डॉक्टर आमतौर पर मूत्र मार्ग इंफेक्शन के उपचार के लिए रोगी को एंटीबायोटिक देते हैं। लेकिन मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय और कुछ सावधानियों से भी आप कुछ हद तक राहत पा सकते हैं। जानिए मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय कौन-कौन से हैं।

मूत्र मार्ग संक्रमण के लक्षण

मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय को जानने से पहले आइये इसके लक्षणों के बारे में जानें, ताकि सही समय पर इन लक्षणों को पहचान कर इनका सही उपचार हो सके। इस संक्रमण के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं।

  • मूत्र त्याग की तीव्र इच्छा होना
  • मूत्र त्याग के समय जलन होना
  • बार-बार कम मात्रा में मूत्र त्याग
  • मूत्र का रंग अलग और धुंधला सा होना
  • मूत्र का लाल, चमकदार गुलाबी और भूरा होना- जैसे उसमें खून हो
  • मूत्र से तीव्र दुर्गंध आना
  • महिलाओं में पेल्विक में दर्द (खासतौर पर पेल्विस के केंद्र में और पब्लिक बोन के आसपास के क्षेत्र में)

मूत्र मार्ग संक्रमण कई तरह के हो सकते हैं ऐसे में उनके लक्षण भी अलग हो सकते हैं जैसे:

1) किडनी (acute pyelonephritis) की स्थिति में लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • पीठ के ऊपरी और बगल के हिस्से में दर्द
  • अधिक बुखार आना
  • कंपकंपी या ठंड लगना
  • जी मिचलाना
  • उल्टी आना

2) ब्लैडर इंफेक्शन (cystitis) की स्थिति में लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • पेल्विक में दबाव
  • पेट के निचले हिस्से में बेचैनी
  • लगातार और दर्द भरा मूत्र त्याग
  • मूत्र में खून आना

3) मूत्रमार्ग(urethritis) की स्थिति में लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

और पढ़ें :यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTIs) होने पर क्या करें, क्या न करें?

मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय

कुछ घरेलू उपायों से आप इस समस्या के लक्षणों को कम कर सकते हैं। लेकिन, अगर आपको बहुत अधिक परेशानी हो रही है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय कुछ इस तरह से हैं:

पौष्टिक और हेल्दी आहार

मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय में सबसे पहले है अपने खानपान का ध्यान रखना। जानिए यह समस्या होने पर आपको किन चीजों का सेवन करना चाहिए और किन चीजों को बिलकुल भी नहीं खाना चाहिए।

और पढ़ें : Bacterial Vaginal Infection : बैक्टीरियल वजायनल इंफेक्शन क्या है?

अधिक पानी पीएं

मूत्र मार्ग संक्रमण होने पर आपको दिन में जितना हो सके उतना अधिक पानी पीना चाहिए। यह बहुत अधिक आवश्यक है। क्योंकि, अधिक पानी पीने से शरीर से हानिकारक तत्व बाहर निकल जाते हैं। जिससे यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन को जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है। आप अन्य पेय पदार्थ जैसे नारियल पानी या ताजा जूस भी पी सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे अल्कोहल, कार्बोनेटेड ड्रिंक और कैफीन युक्त पेय पदार्थों के सेवन से बचे। इन्हें पीने से इस दौरान होने वाले लक्षण बढ़ सकते हैं।

क्रैनबेरी जूस पीएं

जब हमारे मूत्र मार्ग में बैक्टीरिया होते हैं तो यह यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का कारण बनते हैं। ऐसे में, अगर आप इस मूत्र मार्ग इंफेक्शन के घरेलू उपाय को अपनाते हैं तो आपको काफी हद तक राहत मिल सकती है। क्रैनबेरी जूस में एक एक्टिव तत्व होता है जिसे (Proanthocyanidins) कहा जाता है। यह तत्व मूत्र मार्ग में मौजूद इन बैक्टीरिया को हटाने में मदद करता है। जिससे यह समस्या को कम होने में भी मदद मिलती है।

लहसुन का सेवन

लहसुन का सेवन करने से हमारी इम्युनिटी बढ़ती है। इसके साथ लहसुन में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं। यही नहीं, लहसुन में मौजूद कंपाउंडस में से एक ‘एलिसिन’ में भी रोगाणुरोधी गुण भी होते हैं। जो बैक्टीरिया दूर या कम करने में प्रभावी है।

कम चीनी का सेवन करें

आपका खानपान और मूत्र पथ इंफेक्शन के घरेलू उपाय इस संक्रमण से राहत पाने में बेहद असरदार हो सकते हैं। ऐसे में, ऐसा माना जाता है कि जो लोग अधिक चीनी या मीठी चीजों का सेवन करते हैं। उन्हें इंफेक्शन होने की संभावना अधिक रहती है। इसलिए अधिक चीनी या मिठाईयां खाने से बचे।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

खीरा

खीरे में अधिक मात्रा में पानी होता है और हाइड्रेट रहने के लिए भी यह एक अच्छा खाद्य पदार्थ है। अगर आपको लगता है कि आप कम मात्रा में पानी पी रहे हैं, तो अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिनमें पानी की मात्रा अधिक हो। इससे भी आप को यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से बचने में आपको मदद मिलेगी। टमाटर, तरबूज, पालक आदि में भी पानी की भरपूर मात्रा होती है आप इन्हें भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर को पानी में मिला कर पीएं। एप्पल साइडर विनेगर में मौजूद एंजाइम और अन्य कम्पोनेंट बैक्टीरिया को दूर करने और उन्हें बढ़ने से रोकने में मददगार हो सकते हैं।

विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ

विटामिन सी हमारे ब्लैडर को स्वस्थ रखता है और हानिकारक बैक्टीरिया के विकास को कम करने में मददगार है। इसलिए अपने आहार में विटामिन सी युक्त खट्टे फल जैसे आंवला, नींबू, संतरा, पुदीना, अंगूर, टमाटर, अमरूद, सेब, चौलाई और पालक आदि को अवश्य शामिल करें।

दही

दही में मौजूद लाइव बैक्टीरिया शरीर में अच्छे बैक्टीरिया की मात्रा को बनाए रखता है और बुरे बैक्टीरिया को शरीर से दूर रखता है। दही अच्छे बैक्टीरिया का प्राकृतिक स्त्रोत है। ऐसे में यह मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय में सबसे बेहतरीन है। दही के सेवन से आपको इस समस्या से राहत मिल सकती है। लेकिन अगर आप दही में चीनी डाल कर खाते हैं तो याद रखें दही में प्रचुर मात्रा में शामिल चीनी प्रोबायोटिक बैक्टीरिया के प्रभाव को रद्द कर देती है।

बीमारियों के उपचार के रूप में योगा के बारे में जानें इस वीडियो के माध्यम से

दालचीनी और हल्दी

मूत्र मार्ग संक्रमण से राहत पाने के लिए आप अपने आहार में दालचीनी और हल्दी को शामिल करें। दालचीनी और हल्दी में कई गुण होता हैं। जैसे दालचीनी एंटी बैक्टीरियल है और इसके सेवन से आपको इंफेक्शन में होने वाले लक्षणों में सुधार होगा। ऐसे ही हल्दी में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं जो बैक्टीरिया से लड़ने में प्रभावी हैं। इन दोनों के सेवन से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होने की संभावना कम हो जाती है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की स्थिति में कभी भी अधिक मिर्च-मसाले,तले-भुने या जंक फूड का सेवन न करें।

सही आहार के साथ ही आपको अन्य मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय का भी ध्यान रखना चाहिए। ताकि, आप इस संक्रमण से बच सके या अगर आप इस समस्या से पीड़ित हैं तो इससे कुछ हद तक राहत पा सकते हैं। जानिए, कौन से हैं यह अन्य उपाय:

हीट थेरेपी

मूत्र मार्ग संक्रमण के कारण पेल्विक एरिया में दर्द या अन्य समस्या हो सकती है। हीट मूत्र पथ संक्रमण की समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकती है। आप गुनगुने पानी से नहाएं। ध्यान रहे पानी गुनगुना हो गर्म नहीं। अपने पेट के निचले हिस्से में हीटिंग पैड या गर्म पानी की बोतल का प्रयोग करें। इन उपायों से आपकी इस समस्या के दौरान होने वाली दर्द कम हो सकती है।

मूत्र को रोके नहीं

जब भी आपको मूत्र त्याग की इच्छा हो तो उसे रोकें नहीं बल्कि तुरंत मूत्र त्याग करें। याद रखें, जब भी आप मूत्र त्याग करते हैं, मूत्र के माध्यम से कुछ संख्या में बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। लेकिन अगर आप मूत्र रोकते हैं, तो आप बैक्टीरिया के विकास में मदद करते हैं। यही नहीं, इससे आपकी यह समस्या बढ़ भी सकती है।

और पढ़ें : Urinary Tract Infection: यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) क्या है?

साफ-सफाई का रखें ध्यान

मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपायों में सबसे आसान और प्रभावी उपाय है- जितना हो सके अपने प्राइवेट पार्टस को साफ और सूखा रखना। मूत्र या मल त्याग के बाद उन क्षेत्रों को आगे से पीछे तक अच्छे से साफ करें। ऐसा करने से बैक्टीरिया आपके प्राइवेट पार्ट में नहीं जा पाएंगे और उन्हें यूरिनरी ट्रैक्ट तक जाने में भी उन्हें बाधा होगी। इसका परिणाम यह होगा की आप यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से बच जाएंगे।

सूती अंडरगार्मेंट पहनें

अगर आप मूत्र मार्ग संक्रमण से बचना चाहते हैं तो ऐसे अंडरगार्मेंट पहनें जो प्राकृतिक फाइबर से बने हों। ताकि, इनमें पसीना या नमी न ठहरे और बैक्टीरिया न पनप पाएं। इसके साथ ही ऐसे कपड़े पहनने से भी बचे, जो बहुत टाइट हों। क्योंकि, इन कपड़ों में से हवा आसानी से पास नहीं हो सकती, जिससे इन बैक्टीरिया को बढ़ने में मदद मिलती है और मूत्र मार्ग संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। जो कपड़े सिंथेटिक फाइबर जैसे नायलॉन से बने होते हैं। उनमें बैक्टीरिया के बढ़ने की संभावना भी बढ़ जाती है। इसलिए कॉटन के अंडरगारमेंट ही पहने।

पीरियड के समय महिलाएं रखें ख्याल

महिलाएं अपने मासिक धर्म के दौरान कुछ बातों का खास ध्यान रखें। इस समय वो अपने मेंस्ट्रुअल पैड, टेंपोन और कप आदि को लगातार बदलते रहें। सिंथेटिक चीजों से बने कम-अब्सॉर्व करने वाले पैड आपके वल्वा(Vulva) को बैक्टीरिया के संपर्क में ला सकते हैं और इससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। टेंपोन के प्रयोग से बैक्टीरिया के तेजी से बड़ने की संभावना अधिक होती है। इसलिए, यह आवश्यक है कि आप नियमित रूप से टेंपोन को बदलते रहें। इसके साथ ही अगर मेंस्ट्रुअल कप को सही तरीके से न लगाया गया हो तो इस के प्रयोग से भी मूत्र मार्ग संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही मासिक धर्म के दौरान अपने  जननांग की सफाई पर खास ध्यान दें।

शुक्राणुनाशक (Spermicide) का प्रयोग न करें

स्पेर्मिसाइड एक तरह का बर्थ कंट्रोल है। जिसे सेक्स से पहले योनि में डाला जाता है ताकि स्पर्म को नष्ट किया जा सके। स्पेर्मिसाइड जलन पैदा कर सकते हैं और बैक्टीरिया के आक्रमण से सुरक्षा के लिए प्राकृतिक बाधाओं को दूर कर सकते हैं। अगर आप मूत्र मार्ग इंफेक्शन का अनुभव कर रहे हैं तो स्पेर्मिसाइड का प्रयोग करने से बचे। इसके साथ ही सेक्स से पहले और बाद में मूत्र त्याग अवश्य करें।

व्यायाम और योग

व्यायाम और योग करने से आपकी इम्युनिटी बढ़ती है। इससे शरीर के कई हानिकरक तत्व भी शरीर से बाहर निकल जाते हैं। ऐसे में रोज कुछ देर व्यायाम के लिए निकालें। अगर आप योग करते हैं। तो यह भी आपके लिए मूत्र मार्ग संक्रमण से बचने का बेहतरीन उपाय हो सकता है। इसलिए भुजंगासना, सूर्य नमस्कार, धनुरासन और इसी तरह के अन्य योगासन जीनिटो (genito)-मूत्र प्रणाली के स्वास्थ्य को उत्तेजित और स्वस्थ रख सकते हैं। दिन में कम से कम आठ घंटे की नींद पूरी करें और इसके साथ ही तनाव से भी बचे।

और पढ़ें : यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTIs) दोबारा हो जाए तो क्या करें?

साबुन का प्रयोग न करें

आमतौर पर हमारे साबुन, बॉडी वाश, बबल बाथ या अन्य क्लीनिंग उत्पादों में कुछ केमिकल होते हैं। जिनके प्रयोग से मूत्र मार्ग संक्रमण होने की संभावना रहती है। ऐसे में, अपने साबुन और अन्य उत्पादों का प्रयोग करते हुए सावधानी बरतें। ऐसे उत्पादों का चुनाव करें, जो डाई और खुशबु रहित हो।

सेक्स करने से बचे

अगर आप मूत्र मार्ग संक्रमण से पीड़ित है तो इस दौरान सेक्स करने से बचे। क्योंकि, इस स्थिति में सेक्स आपकी समस्या को और बढ़ा सकता है। इसलिए, जब तक आपका यूटीआई पूरी तरह से इलाज नहीं हो जाता है, आप अपनी एंटीबायोटिक का कोर्स पूरा नहीं कर लेते और आपको और लक्षण देखने को नहीं मिलते, तब तक इंतजार करना बेहतर है।

मूत्र मार्ग संक्रमण के घरेलू उपाय कुछ हद तक इसके लक्षणों से राहत पाने और इस समस्या से दूर रहने में मदद कर सकते हैं। लेकिन। यह समस्या कई बार अधिक गंभीर हो सकती है ऐसे में तुरंत डॉक्टर की सलाह लेना अनिवार्य है। जैसे अगर आप अपने मूत्र में खून देखें, आपको इस समस्या के अन्य लक्षणों के साथ बुखार और पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाना और सही इलाज कराना अनिवार्य है। क्योंकि, यह घरेलू उपाय इस इंफेक्शन का पूरी तरह से उपचार करने में प्रभावी नहीं हैं। डॉक्टर आपकी जांच करके आपको एंटीबायोटिक या अन्य दवाईयों आदि की सलाह दे सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Novamox Syrup : नोवामोक्स सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

नोवामोक्स सिरप जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, नोवामोक्स सिरप का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Novamox Syrup डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Niftas Tablet : निफ्टास टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

निफ्टास टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, निफ्टास टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Niftas Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कहीं क्लीनर की महक आपको बीमार ना कर दें!

क्लीनर की महक का सेहत पर असर, क्लीनर की महक का इफेक्ट इन हिंंदी, नैचुरल क्लीनर घर पर कैसे बनाएं, cleaner smell effect on health in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

घर के कोने-कोने की सफाई बेहद जरूरी, नहीं तो पड़ेंगे बीमार

घर की सफाई में हम कई जगहों को कर जाते हैं मिस, उन्हें भी अच्छे से साफ करने के लिए आइए डिटेल में जानते हैं वैसी जगहों को जिन्हें साफ न करें तो बीमार होंगे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ड्रॉक्सिल 500 टैबलेट

Droxyl 500 Tablet : ड्रॉक्सिल 500 टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
जेनफ्लॉक्स प्लस टैबलेट

Zenflox Plus Tablet : जेनफ्लॉक्स प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सेट्रोजिल ओ टैबलेट

Satrogyl-O Tablet : सेट्रोजिल ओ टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
ओफ्लोटास ओजी टैबलेट

Oflotas Oz Tablet : ओफ्लोटास ओजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें