जानिए कैसे वजन घटाने के लिए काम करता है अश्वगंधा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

भागदौड़ के चक्कर में जो भी आसानी से मिला खा लिया। फिर जब भूख लगी तो इग्नोर किया और कुछ देर बाद एक साथ ज्यादा खाना ले लिया। खानपान में लापरवाही और पौष्टिक आहार में कमी के कारण वेट अचानक से बढ़ जाता है। वेट बढ़ने के और भी कारण हो सकते हैं। लोग वेट लॉस के लिए बहुत से तरीके अपनाते हैं। लेकिन कहा जाता है कि पौष्टिक आहार और नियमित व्यायाम ही स्वस्थ शरीर की कुंजी होता है।

अगर किन्हीं कारणों से वेट बढ़ गया है तो उसे कम करने के लिए आर्युवेदिक जड़ी बूट का उपयोग करना भी बेहतर उपाय हो सकता है। क्या आपने वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया है? अगर आप वेट लॉस की समस्या से परेशान हैं तो वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग जरूर करके देखें। वेट लॉस के साथ ही अश्वगंधा का प्रयोग कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को सही करने के लिए किया जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि किस तरह से वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया जाए।

यह भी पढ़ें: क्या आपको भी है भूलने की है बीमारी? जानिए याद्दाश्त बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय

अश्वगंधा के बारे में जानते हैं आप?

अश्वगंधा एक औषधीय पौधा है। अश्वगंधा की जड़ों और बीजों का उपयोग औषधीय दवाओं को बनाने के लिए किया जाता है। यह आमतौर पर मानव शरीर में कुछ खास बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। कुछ लोग इसका उपयोग दर्द और सूजन को कम करने, इम्युनिटी बढ़ाने, स्ट्रेस को कम करने और बढ़ती उम्र के प्रभाव को रोकने के लिए करते हैं।

अश्वगंधा का उपयोग एडाप्टोजेन के रूप में शरीर को रोजमर्रा के तनाव से बचाने और सामान्य टॉनिक की तरह भी किया जाता है। इसके अलावा इसको घाव में, पीठ दर्द, वेट लॉस के लिए अश्वगंधा और हेमिप्लेजिया के इलाज के लिए किया जाता है। अश्वगंधा ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित होती है। कुछ लोगों को इससे समस्या भी महसूस हो सकती है। अगर आप अश्वगंधा का प्रयोग पहली बार कर रहे हैं तों डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर लें।अश्वगंधा मार्केट में पाउडर और कैप्सूल के रूप में उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें: सिर दर्द ठीक करने के साथ ही गैस में राहत दिला सकता है केसर, जानें 11 फायदे

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा

अश्वगंधा को भारतीय जिनसेंग भी कहा जाता है। अश्वगंधा का प्रयोग औषधीय रूप में किया जाता है। साथ ही अश्वगंधा का उपयोग यूनानी चिकित्सा पद्धति, सिद्ध चिकित्सा, अफ्रीकी चिकित्सा और होम्योपैथिक चिकित्सा में भी विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अश्वगंधा औषधीय गुणों से भरपूर है। जो लोग अधिक वजन के हैं, अश्वगंधा का चिकित्सक द्वारा बताए गए समय पर सेवन करने से वजन में कमी ला सकते हैं।

अश्वगंधा बाजार में दो रूप में मिल जाती है। पहली तो कैप्सूल के रूप में और दूसरी पाउडर के रूप में। कैप्सूल के रूप में अश्वगंधा को चिकित्सक के बताए गए नियम के अनुसार सेवन करने से वजन में कमी होती है। वहीं पाउडर को दूध में मिलाकर सेवन किया जाता है। अश्वगंधा का स्वाद थोड़ा खराब लग सकता है। जब भी वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करें, दूध में पाउडर मिलाने के साथ ही कुछ मात्रा में शहद भी मिला लें। ऐसा करने से दूध पीने में पेरेशानी नहीं होगी।

यह भी पढ़ें : डिप्रेशन और नींद: बिना दवाई के कैसे करें इलाज?

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग बढ़ा देगा एनर्जी

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने पर शरीर में एनर्जी फील होती है। अश्वगंधा एड्रेनल ग्लैंड्स को रेगुलेट करता है और साथ ही कोर्टिसॉल लेवल को भी ठीक बनाए रखता है। ओवरऑल एनर्जी के बढ़ जाने से वर्कआउट के दौरान बेहतर महसूस होता है। अश्वगंधा एनर्जी लेवल को बढ़ाने के साथ ही थकावट को दूर कर देता है। अश्वगंधा में आयरन भी होता है जो बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने का काम करता है।

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग बनाएगा मसल्स मास

मसल्स मास किसी भी वेट लॉस प्रोग्राम के लिए जरूरी होता है। अश्वगंधा का प्रयोग शरीर में मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने का काम करता है। मेटाबॉलीक रेट के हाई होने से फैट अधिक मात्रा में बर्न होता है। मेटाबॉलिज्म शरीर में होने वाला जरूरी प्रोसेस है। जिस भी व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म रेट अच्छा होता है, उसके शरीर में कम फैट जमा होता है। अश्वगंधा में एंटी-ऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो वजन कम करने में मदद करते हैं। ये एंटी-ऑक्सिडेंट मेटाबोलिज्म को भी मजबूत बनाते हैं।

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग देगा अच्छी नींद

ये बात सच है कि अच्छी नींद शरीर की कई बीमारियों को दूर कर देती है। अश्वगंधा का प्रयोग करने से अच्छी नींद आती है। जिन लोगों को अच्छी नींद नहीं आती है, उनके शरीर में हार्मोन में गड़बड़ी हो जाती है। हार्मोन में गड़बड़ी के कारण शरीर का वजन बढ़ने लगता है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग शरीर में एक साथ व्यवस्थाओं को दुरस्त करने का काम करता है। शरीर से जुड़ी कई गड़बड़ियों का संबंध वजन बढ़ने से होता है। अश्वगंधा का प्रयोग उन्हीं समस्याओं के निदान के लिए किया जाता है। ऐसा करने से वजन कुछ समय बाद कम होने लगता है।

यह भी पढ़ें : क्या होता है BRCA1 और BRCA2 जीन?

इम्युनिटी और वेट लॉस का संबंध

अच्छी इम्युनिटी वेट को अधिक नहीं होने देती है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने पर शरीर की इम्युनिटी में सुधार होता है। साथ ही शरीर को वेट लॉस की प्रोसेस के लिए तैयार करता है। इम्युनिटी कमजोर होने पर शरीर में कई तरह की बीमारियां पनपने लगती है। बीमारी के कारण शरीर का वजन भी बढ़ सकता है। अश्वगंधा से शरीर की सूजन भी कम होती है।

स्ट्रेस का वेट लॉस से संबंध

स्ट्रेस लेने से शरीर में समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। स्ट्रेस के कारण तुरंत किसी भी तरह की परेशानी भले ही नजर न आए, लेकिन कुछ समय बाद शरीर में परिवर्तन देखने को मिलते हैं। अश्वगंधा स्ट्रेस को कम करने का काम करता है। स्ट्रेस खत्म होने से शरीर की आधी परेशानियां भी खत्म हो जाती है। स्ट्रेस के कारण वेट होने की भी संभावना रहती है।

यह भी पढ़ें : भारतीय रिसर्चर ने खोज निकाला बच्चों में बोन कैंसर का इलाज

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है

अश्वगंधा में मौजूद एंटी इंफ्लमैटरी गुण, हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करते हैं जिससे, हमारे हृदय के स्वास्थ्य में सुधार आता है। अध्ययनों  में यह पाया गया कि यह ब्लड फैट को काफी हद तक कम कर देता है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर प्राप्त करें।

ब्लड शुगर कम करे

अश्वगंधा ब्लड शुगर को कम करने में भी मदद करता है। इससे इंसुलिन संतुलित मात्रा में रहता है, जिससे मोटापा कम करने में मदद मिलती है। इसी के साथ टाइप-2 डायबिटीज से भी बचाव होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें :-

 दिमाग तेज करने के साथ और भी हैं चिलगोजे के फायदे, जानकर हैरान रह जाएंगे

चेहरे पर अनचाहे तिल से न हों परेशान, अपनाएं ये 11 घरेलू उपाय

शरीर, त्वचा और बालों के लिए विटामिन ई (Vitamin E) के फायदे

पेट दर्द (Stomach pain) के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    लोहबान के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Loban (Gum Benzoin)

    जानिए लोहबान की जानकारी, फायदे, लाभ, लोहबान के फूल का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कितना लें, Loban के साइड इफेक्ट्स और सावधानियां। Loban in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    शतावरी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Asparagus (Shatavari Powder)

    जानिए शतावरी पाउडर के फायदे और नुकसान, इसका इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स, Asparagus के औषधीय गुण, शतावर की डोज। Asparagus in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    अर्जुन की छाल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Arjun Ki Chaal (Terminalia Arjuna)

    अर्जुन की छाल के फायदे और नुकसान, इस छाल का उपयोग, अर्जुन के फल के साइड इफेक्ट्स, Arjun Ki Chaal क्या है, Terminalia Arjuna के लाभ।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    फालसा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Phalsa (Grewia Asiatica)

    फालसा in hindi, फायदे, फालसा का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, Phalsa के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    दस्त का आयुर्वेदिक इलाज-Ayurvedic treatment for diarrhea

    दस्त का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और किन बातों का रखें ख्याल?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    दूर्वा (दूब) घास - Durva Grass, bermuda grass

    दूर्वा (दूब) घास के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Durva Grass (Bermuda grass)

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    प्रकाशित हुआ जून 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    Librium 10 : लिब्रियम 10

    Librium 10: लिब्रियम 10 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    कचनार - Kachnar (Mountain Ebony)

    कचनार के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kachnar (Mountain Ebony)

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    प्रकाशित हुआ जून 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें