चिंता और निराशा दूर करने का अचूक तरीका है गार्डनिंग

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 9, 2019 . 2 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

गार्डनिंग यानी बागवानी करके न सिर्फ आप प्रकृति को करीब से महसूस कर पाएंगे, बल्कि यह शौक आपके शरीर और मन को भी स्वस्थ रखेगा। मानसिक स्वास्थ्य के लिए गार्डनिंग एक अच्छा विकल्प है, यह उम्र भी बढ़ाता है। गार्डनिंग थेरेपी किसी बीमारी से जल्दी उबरने में मदद करता है। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि कैसे बागवानी किस आपके मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रखती है।

स्वीकार करना सिखाती है गार्डनिंग

लोगों की सबसे बड़ी समस्या है कि वह अपने आसपास की चीज़ों को कंट्रोल करना चाहते हैं। हर चीज को काबू करने की चाहत ही हमारी उदासी और मायूसी का कारण होती है। बागवानी आपको चीजों को बदले बिना वह जैसे है उसे वैसे ही स्वीकार करना सिखाती है। आप बगीचे में कटाई-छंटाई और सिंचाई करके अपनी तरफ से उसे बेहतर बनाने की पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन बगीचा किस तरह से बदलेगा यह आपके नियंत्रण में नहीं रहता, क्योंकि यह कई अन्य कारकों पर निर्भर करता है और आपको हर परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

यह भी पढ़ें- अच्छी मेंटल हेल्थ के लिए श्रीकृष्ण से सीख सकते हैं ये बातें

परफेक्शनिज्म के प्रति धारणा बदलती है गार्डनिंग

जरूरी नहीं कि हर परफेक्ट चीज सुंदर हो। यदि आपको हमेशा परफेक्ट चीजें ही पसंद आती है तो गार्डनिंग आपकी ये सोच बदल देगी और कमियों के साथ चीजों को अपनाना सीखा देगी। हर चीज़ को हमेशा परफेक्ट करने की आदत आपको न सिर्फ परेशान कर देगी, बल्कि हाथ आए मौकें भी निकल सकते हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने एक सुंदर गार्डन बनाने के लिए कितनी अच्छी तरह से प्लानिंग की है, क्योंकि यह कई और चीज़ों से प्रभावित होती है, मगर आपके मन मुताबिक न होने पर भी आपको अपने गार्डन से प्यार रहता है, इस तरह आप हालात और लोगों को भी कमियों के साथ अपनाना सीख जाते हैं। गार्डनिंग आपकी मानसिकता को बड़ा दायरा देती है।

लोगों से जोड़ती है गार्डनिंग

गार्डनिंग आपको लोगों से जुड़ने का अच्छा मौका देता है। इसके जरिए आप लोगों के साथ अच्छे रिश्ते बना सकते हैं, जैसे आप किसी ऐसे शख्स से मिलते हैं जिसे गार्डनिंग का शौक है, तो एक समान शौक होने की वजह से आप दोनों में अपने आप एक रिश्ता जुड़ जाता है।

तनाव कम करता है

अपने बगीचे में बैठकर जब आप चारों तरफ लगे हरे-भरे पेड़-पौधों को देखते हैं, तो इससे न सिर्फ आंखों को सुकून मिलता है, बल्कि सहेत के लिए भी यह फायदेमंद है। अध्ययन के मुताबिक, प्रकृति के करीब रहने से तनाव, चिंता और अवसाद दूर होता है।

बेहतरीन एक्सरसाइज है गार्डनिंग

गार्डनिंग के दौरान आपके शरीर में जो मूवमेंट होती है वह एक तरह की एक्सरसाइज ही है। फिजिकली एक्टिव रहने पर न सिर्फ मूड अच्छा रहता है, बल्कि एंजाइटी भी कम होती है। खुद को फिट रखने के लिए यदि आप जिम नहीं जा पाते हैं, तो कोई बात नहीं। रोजाना अपने गार्डन में टहलना, पौधों को पानी देना और उनकी देखभाल करने से भी आपके मसल्स टोन्ड रहेंगे।

हेल्दी खाने के लिए प्रेरित करता है गार्डनिंग

अपने गार्डन की ताजी सब्जियां और फल यकीनन आपको बहुत प्यारे होंगे, क्योंकि इन्हें आपने मेहनत और प्यार से उगाया है तो जाहिर है इसका स्वाद बाहर की सब्जियों से कहीं ज्यादा अच्छा होगा। इस तरह से गार्डन में उगे फल, सब्जियां आपको हेल्दी खाने के लिए प्रेरित करती हैं।

और पढ़ें:

त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

शिशु की त्वचा से बालों को निकालना कितना सही, जानें क्या कहते हैं डॉक्टर?

कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Quiz: इम्यूनिटी बूस्टिंग के लिए क्या करना चाहिए क्या नहीं , जानने के लिए यह क्विज खेलें

    इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए क्या नहीं? नैचुरल न्यूट्रिशन सप्लीमेंट्स कौन-से होते हैं? इम्यूनिटी बूस्टर क्विज खेलें और जानें।

    के द्वारा लिखा गया Mousumi Dutta
    क्विज जून 17, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Prothiaden: प्रोथीआडेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जानिए प्रोथीआडेन (Prothiaden)की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, प्रोथीआडेन डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

    वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे मैनेज कर सकते हैं? चलना ध्यान करने के पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? Walking Meditation in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mousumi Dutta
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    मानसिक मंदता

    क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    शून्य मुद्रा को करने का तरीका

    सुनने की क्षमता को बढ़ाने में सहायक शुन्य मुद्रा को कैसे करें, क्या हैं इसके लाभ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
    प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    रेक्सिप्रा टैबलेट

    Rexipra Tablet : रेक्सिप्रा टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जुलाई 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    अस्टिमिन फोर्ट

    Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें