युगल सेक्स के बारे में जानिये कुछ दिलचस्प और रोमांचक बातें

Medically reviewed by | By

Update Date जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Share now

स्वास्थ्य के अन्य मामलों की तरह सेक्स भी बेहद महत्वपूर्ण है। यह एक ऐसा मुद्दा है जिसके बारे में सभी जानना चाहते हैं लेकिन एक दूसरे से बात करने में हिचकते हैं। अक्सर कपल के मन में यह जिज्ञासा होती है कि सामान्यतया दूसरे युगल सेक्स कितनी बार करते हैं। ऐसा देखा गया है कि अगर रिश्ता नया हो तो कपल यानी युगल सेक्स में अधिक दिलचस्पी दिखाते हैं। लेकिन जैसे-जैसे रिश्ते को थोड़ा समय हो जाता है तो उनकी दिलचस्पी कम होती जाती है। ऐसा होना बेहद सामान्य है, लेकिन आपकी सेक्स लाइफ आपके रिश्ते के बारे में भी बहुत कुछ बताती है।

सामान्य और स्वस्थ सेक्स 

युगल सेक्स के बारे में जब सोचते हैं तो उनके दिमाग में एक सवाल तो अक्सर आता है कि दिन, सप्ताह या महीने में कितनी बार सेक्स करने को सामान्य और स्वस्थ माना जाता है? इस सवाल का कोई भी सही या गलत जवाब नहीं है। यानी एक सामान्य और स्वस्थ सेक्स लाइफ पर कई चीज़ों का प्रभाव पड़ता है जैसे युगल की उम्र, उनका स्वास्थ्य, तनाव, मूड और सेक्सुअल इच्छाएं आदि। आइये जाने इस बारे में विस्तार से।

और पढ़ें: World Sexual Health Day: यौन संबंध बनाने से पहले और बाद जरूर करें इन नियमों का पालन

सेक्स के फायदे

अन्य सभी बातों से पहले जानते हैं कि सेक्स के फायदे क्या-क्या हैं। युगल सेक्स को केवल मानसिक तनाव या भावनाओं से जोड़ कर न देखें, बल्कि सेक्स करने के कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे भी हैं जैसे

शोध यह भी बताते हैं कि नियमित युगल सेक्स पैसे या कीमती चीज़ों के मिलने से भी अधिक खुशी देता है। ज्यादातर कपल सप्ताह में एक या दो बार सेक्स करते हैं जिससे उनका न केवल संबंध मजबूत होता है बल्कि एक्टिव सेक्स लाइफ के लिए भी यह अवश्यक है भी।

शादी और सेक्स का संबंध

कई लोग ऐसा मानते हैं कि जो लोग साल में दस से भी कम बार सेक्स करते हैं, उनकी शादी एक भयंकर दौर से गुजर रही होती है। हालांकि, कम सेक्स करने का यह मतलब बिलकुल नहीं है कि आपकी शादी खतरे में है। किंतु, सेक्स वो तरीका है जिससे युगल सेक्स के माध्यम से अपने प्यार और इच्छाओं को व्यक्त करते हैं। इसलिए अगर आपकी शादीशुदा जिंदगी में सेक्स की कमी है तो आपको अपनी सेक्स लाइफ को थोड़ा मसालेदार बनाने के बारे में सोचना चाहिए। हर कोशिश के बाद भी अगर स्थिति नहीं सुधरती तो आपका रिश्ता क्रोध, चिचिड़ापन, बेवफाई और अंततः तलाक की तरफ जा सकता है। यानी सेक्स एक चुंबक की तरह है जो युगल को आपस में जोड़े रखता है।

और पढ़ें: First time Sex: महिलाओं के पहली बार सेक्स के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव

सेक्स के विकल्प

जब शादी में युगल सेक्स लाइफ से संतुष्ट नहीं होते तो वो बाहर इसका विकल्प ढूंढते हैंहस्तमैथुन  50 साल से अधिक उम्र के 63 प्रतिशत पुरुषों में आम है और अधिकतर लोग इसे करते हैं। ऐसा भी देखा गया है कि इसी आयु वर्ग के 43 प्रतिशत पुरुष और 36 प्रतिशत महिलाएं अपने जीवनसाथी या दीर्घकालिक साथी के अलावा किसी और के साथ यौन संबंध बनाती हैं। अगर आप अपने पार्टनर के साथ सहज नहीं हैं या आपका रिश्ता असुविधाजनक है तो हस्तमैथुन या बेवफाई करना सेक्स का विकल्प बन सकता है। 

औसतन कितनी बार सेक्स करनी चाहिए?

एक सर्वे के मुताबिक 18 से 29 साल के लोग एक साल में लगभग 112 बार सेक्स करते हैं यानी हर सप्ताह दो बार। 2000 अमेरिका की महिलाओं पर किये सर्वे के अनुसार 32 प्रतिशत महिलाएं हफ्ते में एक या दो बार, 18 प्रतिशत महिलाएं महीने में दो बार और 11 प्रतिशत महिलाएं महीने में एक ही बार सेक्स करती हैं। इन सभी की उम्र 40 से 50 साल के बीच की थी। हालांकि, सेक्स औसतन कितनी बार करना चाहिए इसके बारे में कोई नियम नहीं है। युगल सेक्स को लेकर खुद यह विचार कर सकते हैं या निर्णय ले सकते हैं कि आप दोनों के लिए कितना सेक्स सही है। अगर आपकी सेक्स लाइफ स्वस्थ है तो इसमें कोई शक नहीं कि आपका और आपके पार्टनर का रिश्ता और भी मजबूत होगा

मात्रा या गुणवत्ता

एक अध्ययन के मुताबिक अधिकतर महिलाएं हफ्ते में 3-5 बार सेक्स करने की इच्छुक रहती हैं। लेकिन, कई बार सेक्स के दौरान उन्हें यह महसूस होता है कि उनकी इच्छाएं पूरी नहीं हो रही हैं। यानी, कई लोग जिनमे अधिकतर महिलाएं हैं, उन्हें कई बार सेक्स करने की जगह इसकी गुणवत्ता की इच्छा होती है। सेक्स की गुणवत्ता बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। गुणवत्ता के लिए रिश्ते में सबसे अधिक जरूरी है, अपने पार्टनर से सेक्सुअल भावनाओं को व्यक्त करना या खुल कर आपस में इस बारे में बात करना। अगर आप अधिक बार सेक्स की इच्छा रखते हैं, तब भी आप दोनों इस बारे में एक दूसरे को बताएं।

और पढ़ें: Quiz : चरमसुख यानी ऑर्गेज्म के बारे में जानिए क्विज से

कैसे पूरी करें अपनी यौन इच्छाएं

कपल सेक्स के दौरान अधिक से अधिक संतुष्टि के लिए आप एक-दूसरे की और अपनी सेक्स संबंधी इच्छाओं को जानें और पूरी करें। याद रखें, आप दोनों अलग हैं इसलिए आपकी सेक्स संबंधी इच्छाएं भी अलग-अलग होंगी। यौन इच्छाओं में अंतर लंबे चलने वाले रिश्तों की सबसे बड़ी समस्या है। हालांकि, यह एक जैसी भी हो सकती हैं। लेकिन, आप और आपके पार्टनर की भावनाएं और लाइफस्टाइल में अंतर के कारण इनका अलग होना स्वभाविक है। आप दोनों अलग हैं इसलिए आपके दिमाग एक-दूसरे से अलग काम करते हैं। ऐसे विभिन्न कारण हैं जिनकी वजह से लोग किसी अन्य व्यक्ति से सेक्स की इच्छा रखते हैं जैसे प्यार, स्नेह, इच्छा या आकर्षण आदि। इसके साथ ही ऐसा समय भी आ सकता है जब आप दोनों एक दूसरे से सेक्स करने के इच्छुक न हों।

 कई बार व्यक्तिगत तनाव आपके प्रेमी के सेक्स-ड्राइव को नष्ट कर सकता है, जिससे आपकी सेक्स लाइफ पूरी तरह से खत्म हो सकती है। तनाव या चिंता आदि यौन इच्छाओं में कमी के मुख्य कारण हैं। इसके अलावा और भी कई शारीरिक समस्याएं हैं तो आपके सेक्स में दिलचस्पी कम कर सकती हैं जैसे दवाईयां या अस्वस्थ लाइफस्टाइल। जानिए, इस स्थिति में आप क्या कर सकते हैं:

और पढ़ें: पार्टनर को पसंद है आक्रामक सेक्स (Rough Sex), तो काम आएंगी ये टिप्स

अपनाएं यह उपाय

  • अगर आपका पार्टनर नियमित सेक्स के अलावा आपसे कुछ चाहता है ताकि चिंता आदि दूर हो, लेकिन आपका मूड न हो। तो ऐसे में एक मसाज आप दोनों के तनाव को दूर कर सकता है।
  • एक तीव्र ओर्गास्म का अर्थ सम्भोग नहीं है। फोरप्ले आपके प्रेमी को और भी अधिक मज़ा दे सकता है। अगर आप सम्भोग नहीं करना चाहते तो आपकी उंगलियों और होंठो को काम करने दें।
  • हस्तमैथुन को पुरुषों और महिलाओं दोनों में सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसलिए खुद के लिए समय निकालें और अपनी सेक्स ड्राइव बढ़ाएं।
  • अपनी सेक्स ड्राइव को बढ़ाने के लिए स्वस्थ जीवनशैली का पालन करें। अगर आपका पार्टनर आपके मुकाबले अधिक यौन केंद्रित है तो आप भी कमर कस लीजिये। फल, सब्जियां, विटामिन आदि पुरुष और महिलाओं के यौन अंगों के खून के प्रवाह को बनाये रखते हैं। रोजाना एक्सरसाइज से आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और आपकी सेक्स ड्राइव भी बढ़ेगी। 

यह याद रखना बहुत जरूरी है कि संबंधों के कुछ खास पड़ावों पर आपकी जरूरतें बदल सकती हैं। किंतु, इस बारे में अधिक विचार या चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इससे सेक्स लाइफ और रिश्ते में केवल दबाव ही पड़ता है। साथ ही आप पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। आपका पार्टनर क्या चाहता है और उसकी इच्छाओं के बारे में जानकर उन्हें पूरा करने की कोशिश करने मात्र से ही आपका रिश्ता फिर से खिल उठेगा। सेक्स से जुड़े किसी भी मुद्दे पर अगर आपका कोई सवाल है, तो कृपया इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करें। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र