आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

क्या होता है, जब आप लंबे समय तक सेक्स नहीं करते हैं?

    क्या होता है, जब आप लंबे समय तक सेक्स नहीं करते हैं?

    एडोलसेंट साइकोलॉजी रिसर्च के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि प्यूबर्टी के दौरान सेक्शुअल इंटरेस्ट और डिजायर के बारे में जागरूकता डेवलप हो सकती है, लेकिन यह जरूरी नहीं है। कभी-कभी सेक्स में रुचि तब विकसित होती है जब किसी को अपनी यौन रुचि के बारे में पता होता है। इसका मतलब यह भी हो सकता है कि कुछ लोगों में सेक्शुअल इंटरेस्ट कभी विकसित ही न हो। तो क्या ऐसे लोग सेक्स के लाभ से वंचित रह जाते हैं? लंबे समय तक सेक्स या कभी-भी सेक्स न करने के क्या कुछ नुकसान भी हो सकते हैं? जानते हैं “हैलो स्वास्थ्य” के इस लेख में-

    सेक्स न करने के कारण क्या हो सकते हैं?

    सेक्स करना अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। लेकिन, लोग कई कारणों से सेक्स से दूर हो सकते हैं। जैसे-

    और पढ़ें : सेक्स के बाद दर्द होना हर बार नहीं होता है नॉर्मल, जानिए इसकी वजह

    ब्रह्मचर्य (celibacy) और एसेक्सुअलिटी (asexuality) में अंतर क्या है?

    • एसेक्सुअलिटी (यौन इच्छा का न होना) और ब्रह्मचर्य एक नहीं हैं। सभी एसेक्सुअल लोग ब्रह्मचारी नहीं होते हैं, और सभी ब्रह्मचारी लोग एसेक्सुअल नहीं होते हैं। एसेक्सुअलिटी का मतलब है कि एक व्यक्ति सेक्शुअल अट्रैक्शन का अनुभव नहीं करता है और सेक्स करने की इच्छा महसूस नहीं करता है। दूसरी ओर, ब्रह्मचर्य एक विशेष अवधि या हमेशा के लिए सेक्स के संयम को बताता है। ब्रह्मचर्य खुद की च्वाइस होती है, जबकि एसेक्सुअलिटी कोई विकल्प नहीं है।
    • कुछ अलैंगिक लोग सेक्स करने के लिए चुनते हैं। वे एक साथी को खुश करने के लिए, सामाजिक मानदंडों के अनुरूप करने के लिए, या क्योंकि वे डरते हैं कि उनकी पहचान वैध नहीं है। इसका कोई सबूत नहीं है कि अलैंगिकता किसी मानसिक स्वास्थ्य समस्या की वजह से होती है। एसेक्सुअलिटी को किसी इलाज की जरुरत नहीं है, और लोगों को कभी भी किसी अन्य व्यक्ति पर यौन संबंध बनाने के लिए दबाव नहीं डालना चाहिए।

    और पढ़ें : वर्जिन सेक्स या वर्जिनिटी खोना क्या है? समझें इससे जुड़ी बातें

    लंबे समय तक सेक्स न करने के प्रभाव क्या हैं?

    लोगों को सेक्स के कुछ शारीरिक लाभ मिल सकते हैं। पुरुषों में, इजेकुलेशन (ejaculation) से प्रोस्टेट हेल्थ अच्छी रहती है। 2016 के एक अध्ययन में पाया गया कि हर महीने सिर्फ चार से सात बार इजेकुलेशन करने वाले पुरुषों की तुलना में जिन पुरुषों ने हर महीने कम से कम 21 बार स्खलन किया, उनमें प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम कम था।
    बात की जाए महिलाओं की तो लगातार यौन गतिविधि में लगे रहने से (अकेले या पार्टनर के साथ) पेल्विक फ्लोर मसल्स को मजबूती मिल सकती है। इसलिए, अगर आप लंबे समय तक सेक्स से दूर रहे हैं, तो हो सकता है आपके ये लाभ न मिल सकें।

    और पढ़ें : ये 7 आरामदायक सेक्स पोजीशन (पुजिशन) जिसे महिलाएं करती हैं पसंद

    लंबे समय तक सेक्स न करने शारीरिक प्रभाव

    जब लोग लंबे समय तक ब्रह्मचर्य (celibacy) या संयम के रूप में सेक्स नहीं करते हैं। या जब कोई महीनों या वर्षों तक सेक्स नहीं करता है, तो उन पर किसी भी तरह का नकारात्मक शारीरिक प्रभाव नहीं पड़ता है। हालांकि, शोध से पता चलता है कि नियमित रूप से सेक्स करने के स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं, जिसमें इम्यून सिस्टम में सुधार, ब्लड प्रेशर में कमी, स्ट्रेस का लेवल कम होना और हृदय संबंधी समस्याओं का कम जोखिम शामिल है।

    और पढ़ें : पार्टनर को पसंद है आक्रामक सेक्स (Rough Sex), तो काम आएंगी ये टिप्स

    मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव

    ऐसा माना जाता है कि नियमित रूप से सेक्स करना व्यक्ति की मेंटल हेल्थ के लिए अच्छा होता है। जबकि कुछ लोगों के लिए यह सच है, यह हर किसी के लिए नहीं है। जो लोग यौन इच्छा महसूस नहीं करते हैं, लेकिन ऐसे लोगों को सेक्शुअल एक्टिविटी में भाग लेना पड़ता है तो उनके मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

    और पढ़ें : सेक्स के बाद रोमांस पार्टनर्स को लाता है और करीब, अपनाएं ये टिप्स

    रिश्तों पर प्रभाव

    कई लोग अक्सर बिना सेक्स किए ही रोमांटिक रिलेशनशिप को पूरा करते हैं। दूसरों के लिए, नियमित सेक्स उनके रिलेशनशिप में सुधार करता है। 2015 के एक अध्ययन के अनुसार सेक्शुअल फ्रीक्वेंसी (sexual frequency) केवल वेल बीइंग होने का एक संकेत है। सप्ताह में एक बार सेक्स करने से कपल्स ने पाया कि उनके रिश्ते में सैटिस्फैक्शन का हाई लेवल था। वहीं, हर सप्ताह एक से अधिक बार सेक्स करने से उनके सैटिस्फैक्शन लेवल में कोई अंतर नहीं दिखा।

    कुछ लोगों के लिए, सेक्स रिलेशनशिप में क्लोजनेस और कम्युनिकेशन को बढ़ावा दे सकता है। वहीं, कुछ लोग यौन संबंध न बना पाने की वजह से रिश्ते में इन्सेक्योर फील करते, उन्हें यह भी लगता है कि उनका पार्टनर उनके प्रति आकर्षित नहीं है।

    और पढ़ें : कैसे करें सेक्स की पहल : फर्स्ट टाइम इंटिमेसी टिप्स

    लंबे समय तक सेक्स न करने के बावजूद पाए इसके लाभ

    अगर आप एसेक्सुअल हैं या आपने ब्रह्मचर्य को चुना है तो आपको सेक्स के लाभ न पाने को लेकर दुखी होने की जरुरत नहीं है। सेक्शुअल एक्टिविटी में आप पार्टिसिपेट करें या न करें, लेकिन आप इसके बेनेफिट्स जरूर पा सकते हैं। जैसे-

    • एंडोर्फिन (endorphin) बूस्ट करने के लिए वर्कआउट करें।
    • ऐसे लोगों के साथ समय बिताएं जो आपकी पसंद को समझते हैं और रिस्पेक्ट करते हैं।
    • महिलाएं पेल्विक फ्लोर मसल्स को मजबूत करने के लिए कीगल एक्सरसाइज (kegel exercise) करें।
    • खुद को नेचर के साथ ज्यादा से ज्यादा जोड़ें।
    • अपने नए इंटरेस्ट को ढूंढें।
    • किसी एक के साथ एक स्ट्रॉन्ग इमोशनल बॉन्ड बनाएं (वह आपका दोस्त या परिवार का भी कोई सदस्य हो सकता है)।

    सेक्स करने की कोई सही मात्रा निर्धारित नहीं है। वैसे ही सेक्स फ्रीक्वेंसी भी हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती है। इसलिए, लंबे समय तक सेक्स नहीं करने से कोई नकारात्मक दुष्प्रभाव नहीं हो सकते हैं। लंबे समय तक सेक्स या कभी भी सेक्स न करने से किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को कोई नुकसान नहीं होगा। सेक्शुअल एक्टिविटी में पार्टिसिपेट करना या न करना आपकी च्वॉइस है। इसके साथ ही जो लोग अपनी सेक्शुअल डिजायर के बारे में चिंता महसूस करते हैं, वे डॉक्टर या सेक्स थेरेपिस्ट से इस बारे में बात कर सकते हैं।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Sociodemographic Correlates of Sexlessness Among American Adults and Associations with Self-Reported Happiness Levels: Evidence from the U.S. General Social Survey. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5889124/. Accessed On 26 June 2020

    Sexual Frequency Predicts Greater Well-Being, But More is Not Always Better. https://journals.sagepub.com/doi/abs/10.1177/1948550615616462. Accessed On 26 June 2020

    Ejaculation Frequency and Risk of Prostate Cancer: Updated Results with an Additional Decade of Follow-up. https://www.europeanurology.com/article/S0302-2838(16)00377-8/abstract/ejaculation-frequency-and-risk-of-prostate-cancer-updated-results-with-an-additional-decade-of-follow-up. Accessed On 26 June 2020

    Puberty and adolescent sexuality. https://www.sciencedirect.com/science/article/abs/pii/S0018506X1300069X?via%3Dihub. Accessed On 26 June 2020

    Asexuality. https://vaden.stanford.edu/health-resources/lgbtqia-health/asexuality.Accessed On 26 June 2020

    ORIGINAL RESEARCH—EPIDEMIOLOGY: Correlates of Sexually Related Personal Distress in Women with Low Sexual Desire. https://www.jsm.jsexmed.org/article/S1743-6095(15)32554-6/fulltext. Accessed On 26 June 2020

    Declines in Sexual Frequency among American Adults, 1989–2014. https://www.researchgate.net/publication/314273096_Declines_in_Sexual_Frequency_among_American_Adults_1989-2014. Accessed On 26 June 2020

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/06/2020 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड