क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

रीढ़ की हड्डी में दर्द आजकल एक आम समस्या है। रीढ़ की हड्डी (पीठ के निचले हिस्से) और सर्वाइकल क्षेत्र (गर्दन) में दर्द आजकल युवाओं से लेकर बुर्जुगों के बीच एक आम समस्या है। यह बहुत ज्यादा देर तक बैठ कर काम करने की वजह से भी हो सकता है। कमर दर्द के सबसे आम कारण हैं रीढ़ की मांसपेशियों (Muscles) में खिंचाव या मोच आना। इसके अलावा कुछ लोगों को यह दर्द जेनेटिकली भी ट्रांसफर होता है। इसकी वजह से बहुत देर तक एक पॉश्चर में बैठे रहने से भी दर्द बढ़ जाता है।

और पढ़ेंः जानिए क्या है हड्डियों और जोड़ों की टीबी (Musculoskeletal Tuberculosis)?

लम्बर क्षेत्र (Lumbar Region) और  सर्वाइकल स्पाइन (Cervical Spine) में दर्द आपके रोजाना के कामों में परेशानी बन सकता है। क्योंकि ये वजन उठाने, चलने और झुकने में मदद करते हैं। रीढ़ की हड्डी (Spinal Bone) में दर्द  लिगामेंट्स (Ligaments) जो हड्डियों को एक साथ जोड़ते हैं, के असामान्य रूप से खिंच जाने के कारण होता है।अचानक चोट या बहुत ज्यादा इस्तेमाल होने से ये क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें: आर्थराइटिस के दर्द से ये एक्सरसाइज दिलाएंगी निजात

जब रीढ़ की हड्डी में तनाव या मोच आती है, तो मांसपेशियों में सूजन की समस्या भी आम है। इस सूजन के कारण दर्द होता है और मांसपेशियों में ऐंठन भी हो सकती है। भले ही रीढ़ पर तनाव या मोच कम हो, लेकिन ऐसें में डॉक्टर की सलाह जरूर लें। रीढ़ की हड्डी में दर्द गंभीर समस्या का भी संकेत हो सकता है, जिनमें सर्जरी की जरुरत हो सकती है। इस तरह की समस्याओं में रीढ़ की हड्डी में दर्द होता है। कई बार यह दर्द हाथ, पैर या रिब केज के चारों ओर तक भी फैल सकता है।

तीन तरह की मांसपेशियां रीढ़ को करती हैं सपोर्ट 

  1. एक्सटेंसर्स Extensors  (पीठ और ग्लूटियल मांसपेशियां)
  2. फ्लेक्सर्स Flexors  (पेट और इलिओसोआस मांसपेशियां)
  3. ओब्लिक या रोटेटर्स Oblique or Rotators (किनारे की मांसपेशियां)

और पढ़ेंः Allergy Rhinitis: नाक में एलर्जी की समस्या का घरेलू इलाज क्या है?

बुजुर्गों को होती है अधिक समस्या

बुजुर्ग लोग आम तौर पर इस समस्या से जूझते हैं। वृद्ध महिलाओं को अक्सर ऑस्टियोपोरेसिस होता है,जिसकी वजह से पीठ दर्द होता है। कभी-कभी शरीर के अन्य हिस्सों जैसे कंधे या कूल्हों में दर्द या बीमारी भी पीठ दर्द (Back Pain) का कारण बन सकती है। रीढ़ की हड्डी में दर्द की समस्या बुर्जुगों को अधिक होती है क्योंकि उम्र के साथ उनकी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं।

और पढ़ें: Bunions: बनियन क्या है?

रीढ़ की हड्डी में दर्द का कारण

रीढ़ की हड्डी में दर्द आमतौर पर स्ट्रेन, टेंशन या इंजरी से उपजता है। कमर दर्द के लगातार कारण हैं:

  • तनावपूर्ण मांसपेशियों या लिगामेंट्स
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • मांसपेशी का खिंचाव
  • डैमेज्ड डिस्क
  • चोट, फ्रेक्चर, या गिरना

वे गतिविधियां जिनकी वजह से तनाव या ऐंठन हो सकती है:

  • अनुचित तरीके से कुछ उठाना
  • कुछ ऐसा उठाना जो बहुत भारी हो
  • एक अचानक और अजीब मूवमेंट लेना

और पढ़ेंः बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

रीढ़ की हड्डी में दर्द के लक्षण

  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द और जकड़न महसूस होना
  • रात में दर्द होना
  • पीठ दर्द का कमर और कूल्हों तक फैलना
  • पैर का सुन्न होना
  • चलते समय परेशानी होना
  • चलने या व्यायाम करने पर दर्द और बढ़ जाना

और पढ़ें: Osteogenesis imperfecta: अस्थिजनन अपूर्णता क्या है?

योग कर दर्द नियंत्रण पर पा सकते हैं काबू, वीडियो देख एक्सपर्ट की लें राय

संरचनात्मक समस्याओं की वजह से

कई संरचनात्मक समस्याओं के कारण भी पीठ दर्द हो सकता है।

  1. डिस्क ब्रेक होना:रीढ़ में हर वर्टिब्रे के लिए डिस्क कुशन का काम करता है। यदि डिस्क फटती है तो नसों पर अधिक दबाव पड़ेगा, जिसके परिणामस्वरूप पीठ दर्द होगा।
  2. उभरा हुआ डिस्क: एक ही तरह से टूटे हुए डिस्क के रूप में, एक उभड़ा हुआ डिस्क एक नर्व पर अधिक दबाव डाल सकता है। बल्जिंग डिस्क की वजह से भी रीढ़ की हड्डी में दर्द हो सकता है।
  3. सायटिका (Sciatica): एक तेज और तीखा दर्द बट्स के माध्यम से और पैर के पीछे से होकर, एक नस के दबने या हर्नियेटेड डिस्क के कारण होता है। इसकी वजह से लोगों को बैक में अधिक दर्द महसूस होता है।
  4. गठिया: पुराने ऑस्टियोअर्थराइटिस कूल्हों, पीठ के निचले हिस्से और अन्य स्थानों में जोड़ों के साथ समस्याओं का कारण बन सकता है। कुछ मामलों में, रीढ़ की हड्डी के चारों ओर का स्थान संकरा हो जाता है। इसे स्पाइनल स्टेनोसिस के रूप में जाना जाता है।
  5. रीढ़ की असामान्य वक्रता: अगर रीढ़ असामान्य तरीके से कर्व हो जाता है तो पीठ में दर्द हो सकता है। एक उदाहरण स्कोलियोसिस है, जिसमें रीढ़ एक तरफ झुकने लगता है।
  6. ऑस्टियोपोरोसिस: रीढ़ की वर्टिब्रे सहित हड्डियां आसानी से टूटने वाली हो जाती है और छिद्रपूर्ण हो जाती हैं, जिससे जल्दी फ्रैक्चर की अधिक संभावना होती है।
  7. किडनी की समस्या: किडनी में पथरी या किडनी में संक्रमण के कारण कमर दर्द हो सकता है।

और पढ़ेंः जॉइंट ट्विन्स क्या होते हैं? कैसा होता है इनका जीवन?

नॉन सर्जिकल ट्रीटमेंट

स्ट्रेन, स्प्रेन और न्यूरल कंप्रेशन जैसी समस्याएं कुछ दिन बेड रेस्ट करके और कम भागदौड़ करके ठीक की जा सकती हैं। अगर मोच हल्की है तो आमतौर पर एक से तीन दिन में ठीक हो जाती है। अगर दर्द ठीक हो जाए तो यह बेड रेस्ट को कम कर देना चाहिए, क्योंकि लंबे समय तक बिस्तर पर आराम करने से मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है। इससे मांसपेशियों में जकड़न भी बढ़ सकती है, जिससे दर्द बढ़ सकता है। अगर दर्द हल्का है, तो शुरुआती इलाज में आमतौर पर नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी (non-steroidal anti-inflammatory) दवाएं ली जा सकती हैं।

और पढ़ें: बच्चों की स्ट्रॉन्ग हड्डियों के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स

सोते समय इन बातों का रखें ख्याल

रीढ़ की हड्डी के दर्द का एक कारण गलत तरह के मैट्रेस का चुनना भी हो सकता है। इस बारे में जब हैलो हैल्थ ने सीनियर कंसल्टेंट फिजियोथेरेपिस्ट, डॉ. तिजी मैथ्यू थॉमस से बात की तो उन्होंने कहा, “किसी के लिए भी जरुरी है कि सोते या बैठते समय पॉश्चर ठीक रखें। इसके अलावा रीढ़ की हड्डी के लिए सही सर्पोट मिलना भी जरूरी है ताकि हम लंबे समय तक आराम से बैठ या सोया जा सके। यह अच्छी नींद के लिए जरुरी है। बाजार में अलग-अलग तरह के मैट्रेस उपलब्ध हैं। ऐसा ही एक मैट्रेस रेंज है ड्यूरोपेडिक जिसमें फाइव जोन फुल प्रोन सपोर्ट सिस्टम इस्तेमाल किया गया है। ये फाइव जोन सपोर्ट सिस्टम रीढ़ की हड्डियों और पूरे शरीर को सपोर्ट करता  है, जो नींद में भी आपकी हड्डियों को आराम देता है।

जानें कब लें डॉक्टर की मदद

  • जब दर्द ठीक न हो और आप आराम न कर पा रहे हो
  • गिरने के बाद या फिर इंज्युरी के बाद
  • पैर में सुन्न होने की वजह से
  • शरीर में कमजोरी होने के कारण
  • बुखार होने की वजह से
  • एकाएक वजन में कमी आने से

डॉक्टर ऐसे लगाते हैं बीमारी का पता 

पीठ दर्द की समस्या का पता लगाने के लिए सामान्य तौर पर डॉक्टर मरीज से कुछ सवाल पूछ सकते हैं इसके अलावा उनकी फिजिकल इग्जामिनेशन भी की जाती है। कई मामलों में मरीज की इमेजिंक स्कैनिंग कर समस्या का पता लगाया जाता है। इसके तहत मरीज के पीठ की इमेज स्कैनिंग कर पता किया जाता है कि समस्या है या नहीं। यही जरूरत होती है तो उसके अनुरूप ही एक्सपर्ट इलाज करते हैं। 

इसके अलावा एक्सपर्ट एक्स-रे, एमआरआई और सीटी स्कैन, बोन स्कैन, इलेक्ट्रोमायोग्राफी और ईएमजी आदि टेस्ट कर इलाज की प्रक्रिया शुरू करते हैं। 

एक्सपर्ट की बातों का रखें ख्याल

यदि आपको भी इसी प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो जरूरी है कि समय रहते आप एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। वहीं दिनचर्या में सुधार के साथ एक्सरसाइज, योग जैसे विकल्पों की तलाश करें। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपकी स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है। तो अगर आप रीढ़ की हड्डी के दर्द से परेशान हैं तो अपने सोने का तरीका बदले और मैट्रेस लेते समय ऊपर बताई गई बातों का ध्यान रखें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पीठ दर्द के लिए व्यायाम : इन आसान तरीकों से दूर करें अपना दर्द

पीठ दर्द के लिए व्यायाम कर हम हर उम्र में स्वस्थ रह पाएंगे, वहीं जरूरी है कि आप यदि सक्षम हैं और एक्सरसाइज कर सकते हैं तो इन व्यायाम को कर फायदा उठाएं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या बच्चों को अर्थराइटिस हो सकता है? जानिए इस बीमारी और इससे जुड़ी तमाम जानकारी

बच्चों में अर्थराइटिस की बीमारी होने पर वो सामान्य बच्चों की तरह खेलना-कूदना, स्कूल जाना जैसे कार्य सही तरह से कर नहीं पाते। Arthritis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मई 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Impingement syndrome: इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम क्या है?

इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम या तैराकी कंधे के नाम से भी भी जाना जाता है, क्योंकि यह आमतौर पर अधिक्तर तैराकों को ही होता है लेकिन अब यह अन्य एथलीटों में भी आम हो

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Siddharth srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Dislocated finger : उंगली की हड्डी खिसकना क्या है?

उंगली की हड्डी खिसकना क्या है in hindi, उंगली की हड्डी खिसकना के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Dislocated finger को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कमर दर्द का आयुर्वेदिक इलाज -Back Pain ayurvedic treatment

कमर दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें इसका प्रभाव और उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
एटोशाइन

Etoshine: एटोशाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
स्लिप डिस्क -Slip Disk

Slip Disk : स्लिप डिस्क क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ जून 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सोरियाटिक अर्थराइटिस - Psoriatic arthritis

जानिए सोरियाटिक अर्थराइटिस और उसके लक्षण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें