Chemical Peel : केमिकल पील क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 30, 2019 . 8 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

केमिकल पील (Chemical Peel) क्या है?

केमिकल पीलस (Chemical Peel) एक तरह के कॉस्मेटिक ट्रीटमेंट (cosmetic treatments) होते है, जिनका इस्तेमाल चेहरे, हाथ और गर्दन पर किया जाता है। इनका इस्तेमाल त्वचा को अधिक सुदंर बनाने, रंगत निखारने या मुलायम बनाने के लिए किया जाता है। इससे उपचार के तौर पर इस्तेमाल के दौरान प्रभावित त्वचा पर इस रसायन को लगाया जाता है, जहां से त्वचा की ऊपरी परत छूटने लगती है। जिसके बाद अंदर की नई त्वचा अधिक चिकनी, निखरी हुई, मुलायम और कम झुर्रियों वाली होती है।

केमिकल पील (Chemical Peel) तीन अलग-अलग प्रकार से उपचार में लाए जाते हैं। जो हैंः

सुपरफिशल पील्स – इस ट्रीटमेंट में हल्के एसिड जैसे अल्फा-हाइड्रेक्सी एसिड (alpha-hydroxy acid) का इस्तेमाल किया जाता है। जो त्वचा से धीरे-धीरे छूटता है। इसके इस्तेमाल से सिर्फ त्वचा के सबसे बाहरी परत को ही हटाया जा सकता है।

मीडियम पील्स (Medium peels)- इस ट्रीटमेंट के दौरान त्वचा पर ट्राइक्लोरोएसिटिक या ग्लाइकोलिक एसिड का इस्तेमाल किया जाता है, जो त्वचा की बाहरी और मध्यम परत की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को हटाने का काम करती है।

डीप पील्स (Deep peels)- इस ट्रीटमेंट के दौरान फिनोल या ट्राइकोसॉरसिटिक एसिड का उपयोग किया जाता है जो त्वचा की मध्यम परत की गहराई तक क्षतिग्रस्त त्वचा कोशिकाओं को हटाने का काम करती है।

केमिकल पील (Chemical Peel) क्यों की जाती है?

निम्नलिखित स्थितियों में लोगों को केमिकल पील (Chemical Peel) के ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ सकती है। इस दौरान वे अपने चेहरे से जुड़ी कई परेशानियों को इसमें शामिल कर सकते हैं, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

यह भी पढ़ेंः Dilation and curettage : डायलेशन और क्यूरिटेज़ प्रोसीजर क्या है?

जोखिम

केमिकल पील (Chemical Peel) करवाने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

केमिकल पील्स (Chemical peels) चेहरे को रोम छिद्रों (pore size) को कम नहीं करता है, न ही ये त्वचा के गहरे निशानों को हटाता है और न ही झुर्रियों को खत्म कर सकता है।

केमिकल पील का इस्तेमाल हर किसी को नहीं करना चाहिए। आपका डॉक्टर आपको केमिकल पील के इस्तेमाल से जुड़ी कुछ सावधानियों के निर्देश दे सकता है। साथ ही, अगर आप किसी तरह की स्थिति से  गुजर रहे हैं तो इन बातों पर भी गौर करने के निर्देश दे सकता हैः

  • अगर आपने पिछले छह महीने के दौरान मुंहासे की दवा आइसोट्रेटिनोइन (isotretinoin) (एमनेस्टीम (Amnesteem), क्लारविस (Claravis) या अन्य दवाएं) का इस्तेमाल किया हो।
  • अगर आपकी त्वचा प्राकृतिक तौर पर गहरी रंगत की है।
  • अगर आपको स्कार टिशू (केलोइड्स) के अधिक उत्पादन के कारण चेहरे की त्वचा में पफिनेस की समस्या है तो।
  • अगर आपको जन्म से ही असामान्य स्किन पिगमेंटेशन है तो।
  • अगर आपको चेहरे पर कोल्ड सोर यानी छाले की समस्या हैं तो।

केमिकल पील के क्या साइड इफेक्ट्स और समस्याएं हो सकती हैं?

केमिकल पील के विभिन्न साइड इफेक्ट्स हो सकते हैंः

  • इसके सामान्य उपचार के दौरान त्वचा पर लालिमा की समस्या हो सकती है। वहीं, मीडियम या डीप केमिकल पील के ट्रीटमेंट से चेहरे पर आई लालिमा की समस्या कई महीनों तक बरकरार रह सकती है।
  • केमिकल पील के उपचार से चेहरे के निचले हिस्से पर दाग-धब्बे की समस्या हो सकती है। हालांकि, इसकी संभावना बहुत ही कम होती है। अगर ऐसी समस्या होती है को इन दागों से राहत पाने के लिए एंटीबायोटिक्स और स्टेरॉयड दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • त्वचा की रंगत में बदलाव हो सकती है। केमिकल पील के ट्रीटमेंट के कारण त्वचा की रंगत सामान्य से अधिक उजला (हाइपोपिगमेंटेशन) या अधिक गहरा (हाइपरपिगमेंटेशन) हो सकता है। सुपरफिशल के उपचार के दौरान हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या सबसे आम देखी जाती है, जबकि हाइपोपिगमेंटेशन की समस्या आमतौर पर डीप पील के उपचार के बाद देखी जाती है। इसके अलावा, जिनकी त्वचा अधिक गहरी रंग की होती है उनमें त्वाच के रंग के बदलाव की समस्या सबसे अधिक देखी जा सकती है।
  • केमिकल पील के कारण चेहरे पर दाद के वायरस की समस्या हो सकती है, जो चेहरे पर छाले की भी समस्या बन सकती है। हालांकि, केमिकल पील के कारण बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्शन की समस्या होना बहुत ही दुर्लभ हो सकता है।
  • दिल, किडनी या लिवर को नुकसान पहुंच सकती है। डीप केमिकल के ट्रीटमेंट में कार्बोलिक एसिड (फिनोल) का इस्तेमाल किया जाता है। जो दिल की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकता है। जिसके कारण दिल की गति अनियमित भी हो सकती है। फिनोल के कारण किडनी और लिवर को भी नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए, इसके ट्रीटमेंट को सुरक्षित बनाने के लिए डीप पील के उपचार को पूरा करने के लिए 10 से 20 मिनट के बीच में थोड़ी देर के लिए एक ब्रेक लिया जाता है।

ध्यान रखें कि केमिकल पील का ट्रीटमेंट लेने से पहले इससे जुड़ी सावधानियों और होने वाले संभावित जोखिमों के बारे में पूरी जानकारी लें। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अपने डॉक्टर या सर्जन से इसके बारे में बात करें।

यह भी पढ़ेंः Fissure treatment: बिना सर्जरी के फिशर ट्रीटमेंट कैसे होता है?

प्रक्रिया

केमिकल पील (Chemical Peel) के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

केमिकल पील से पहले, आपके डॉक्टर कुछ स्वास्थ्य स्थिति की जांच करते हैंः

  • आपके स्वास्थ्य स्थिति से जुड़ी सभी बातों की जानकारी पूछेंगे। मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति और पिछले स्वास्थ्य स्थिति से जुड़े सवाल-जवाब करेंगे। खासतौर पर अगर आपको किसी तरह की दिल से जुड़ी समस्या, किडनी या लिवर से जुड़ी कोई समस्या है तो। अगर आप डीप केमिकल का इस्तेमाल करने जा रहे हैं तो इनसे जुड़ी सारी जानकारी अपने डॉक्टर के साथ साझा करें। अगर मौजूदा समय में आप किसी तरह की स्वास्थ्य स्थिति का उपचार करा रहे हैं, तो उसके बारे में अपने डॉक्टर को बताएं। यह कॉस्मेटिक प्रक्रिया आपकी त्वचा को धूप के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकते हैं। अगर आप रेटिनोइड क्रीम जैसे कि ट्रेटिनॉइन (रेनोवा, रेटिन-ए, या अन्य) का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसके बारे में अपने डॉक्टर को बताएं, क्योंकि कुछ केमिकल पील जोखिम भरे हो सकते हैं।
  • डॉक्टर आपका एक शारीरिक टेस्ट लेंगे। त्वचा के जिस स्थान पर ट्रीटमेंट करना होगा आपका डॉक्टर उस स्थान की पूरी जांच करेगा। जिससे उन्हें ट्रीटमेंट से होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलेगी। साथ ही, आपकी त्वचा के लिए किस प्रकार का ट्रीटमेंट बेहतर और सुरक्षित हो सकता है, यह पता लगाने में भी उन्हें मदद मिल सकेगी।
  • अपनी उम्मीदों के बारे में बात करें। इस ट्रीटमेंट से जुड़ी अपनी इच्छाओं और संभावित जोखिमों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। इस दौरान अपने डॉक्टर से इसकी जानकारी लें कि आपको कितने ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ सकती है या फिर इस ट्रीटमेंट की प्रक्रिया पूरी होने में कितना समय लग सकता है और इसका परिणाम क्या हो सकता है।

अगर आपने केमिकल पील के ट्रीटमेंट के बारे में अपना इरादा बना लिया है, तो आपको इसकी भी जरूरत हो सकती हैः

  • आपको एंटीवायरल दवाओं का सेवन करना चाहिए। अगर आप मुंह के आस-पास कभी हर्पीज इंफेक्शन हुआ था, तो डॉक्टर आपको वायरल संक्रमण को रोकने और उससे बचे रहने के लिए उपचार से पहले और उपचार के बाद भी एंटीवायरल दवा खाने की सलाह दे सकते हैं।
  • आपको रेटिनॉयड क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आप हल्के या मीडियम केमिकल पील का उपचार लेते हैं, तो आपका डॉक्टर आपको रेटिनॉयड क्रीम के इस्तेमाल की सलाह दे सकते हैं। जो आपके उपचार को कम से कम समय में ठीक करने में मदद कर सकेंगे।
  • आपको ब्लीचिंग एजेंट का इस्तेमाल करना चाहिए। आपका डॉक्टर आपको ब्लीचिंग एजेंट (हाइड्रोक्विनोन) और रेटिनॉयड क्रीम का इस्तेमाल करने की सलाह दे सकते हैं। ताकि, ट्रीटमेंट के बाद आप त्वचा को काला पड़ने से बचाएं रख सकें।
  • धूप में बाहर निकलने से बचना होगा। उपचार किए गए त्वचा को पिगमेंटेशन के प्रभाव से बचाए रखने के लिए कम से कम चार हफ्तों तक नियमित तौर पर किसी अच्छी क्वॉलिटी के सन स्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए। आपको किस तरह के सन स्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए, इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।
  • आपको कुछ तरह के कॉस्मेटिक उपचार और हेयर रिमूवल के ट्रीटमेंट से बचना चाहिए। पील से एक हफ्ते पहले वैक्सिंग या हेयर रिमूवल क्रीम का इस्तेमाल न करें। साथ ही, ब्लीचिंग, मसाज या फेशियल स्क्रब से भी दूर रहना चाहिए।
  • सुरक्षित तरीके से घर जाना चाहिए। अगर आपने मीडियम या डीप केमिकल का उपचार लिया है, तो बेहतर होगा कि गाड़ी से घर वापस जाएं। क्योंकि, इसके उपचार के बाद आपको चक्कर या बेहोशी की स्थिति हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः Gastric Bypass Surgery : गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी क्या है?

केमिकल पील में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

केमिकल पील के ट्रीटमेंट के लिए किसी क्लीनिक या हॉस्पिटल में जाना चाहिए। इसकी उपचार की प्रक्रिया से पहले, आपका डॉक्टर आपके चेहरे को साफ करेगा और आपकी आंखों को किसी पट्टी या चश्में से कवर करेंगे और बालों को सुरक्षित तरीके से व्यवस्थित करेंगे।

अगर हल्के केमिकल पील से उपचार करा रहे हैं, तो आपको दर्द निवारक दवा की खुराक नहीं दी जाएगी। लेकिन अगर आप मीडियम केमिकल पील का उपचार ले रहे हैं, तो आपका डॉक्टर आपको दर्द निवारक दवा की खुराक या शरीर को सुन्न करने वाली दवा की खुराक दे सकते हैं।

अगर आप डीप केमिकल पील का उपचार ले रहे हैं, तो आपका डॉक्टर आपको लोकल ऐनस्थेटिक की खुराक दे सकता है। ताकि, उपचार की प्रक्रिया के दौरान आपको दर्द का एहसास कम से कम हो।

हल्के केमिकल पील के दौरान:

  • डॉक्टर त्वचा पर ग्लाइकोलिक एसिड या सैलिसिलिक एसिड युक्त रासायन लागने के लिए ब्रश, स्पंज, जाली और कॉटन बॉल का
    इस्तेमाल करेंगे।
  • इन केमिकल्स के इस्तेमाल से आपको त्वचा में हल्के चुनचुनाहट महसूस हो सकते हैं।
  • उपचार की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपका डॉक्टर त्वचा पर लगाए गए रासायनों को साफ करने के लिए किसी माइल्ड क्रीम का इस्तेमाल करेंगे।

मीडियम केमिकल पील के दौरान:

  • आपका डॉक्टर त्वचा पर ट्राइक्लोरोएसेटिक एसिड युक्त रासायन लगाने के लिए कॉटन-टिप्पेड एप्लीकेटर या जाली का इस्तेमाल करेंगे।
  • कुछ मिनट के बाद, आपका डॉक्टर आपकी त्वचा पर ठंडे कम्प्रेस का इस्तेमाल करेंगे, ताकि उपचार किए गए त्वचा में जलन का एहसास न हो।
  • उपचार के बाद आप त्वचा में अगले 20 मिनटों तक जलन महसूस कर सकते हैं।

डीप केमिकल पील के दौरान:

  • नसों के जरिए आपको तरल पदार्थ दिए जाएंगे, ताकि आपके दिल की गति नियमित बनी रहे।
  • त्वचा पर कार्बोलिक एसिड का इस्तेमाल करने के लिए डॉक्टर कॉटन-टिप्पेड एप्लीकेटर का इस्तेमाल करेंगे।
  • फिनोल के जोखिम को कम करने के लिए, डॉक्टर इस उपचार की प्रक्रिया को लगभग 15-15 मिनट के भागों बांट सकते हैं। इस उपचार की प्रक्रिया में कम से कम 90 मिनट का समय लग सकता है।

यह भी पढ़ेंः Gynaecomastia Surgery : गायनेकोमैस्टिया सर्जरी क्या है?

केमिकल पील के बाद क्या होता है?

लाइट केमिकल पील्स

चार से सात दिनों में आपकी त्वचा रिकवरी कर सकती है। जिसके बाद आपके त्वचा की रंगत कुछ समय के लिए हल्की या गहरी हो जाएगी।

मीडियम केमिकल पील्स

पांच से सात दिनों में आपकी त्वचा रिकवरी कर सकती है। नई त्वचा आने तक आपकी त्वचा में हल्का सूजन रह सकता है और चेहरे से छाल निकलने लगेंगे और भूरे धब्बे भी हो सकते हैं।

डीप केमिकल पील्स

डीप केमिकल पील्स के उपचार के बाद त्वचा पर कई तरह के सूजन और लालिमा आ सकती है। साथ ही, आपको त्वचा में जलन भी महसूस हो सकती है। इस दौरान आपकी पलकें भी बंद हो सकती हैं। उपचार के बाद नई त्वचा आने में कम से कम दो सप्ताह का समय लग सकता है। हालांकि, इसके बाद भी त्वचा पर सफेद धब्बे कई दिनों कर रह सकते हैं। वहीं, त्वचा की लालिमा खत्म होने में कई महीनों तक का समय लग सकता है।

रिकवरी के दौरान आपने डॉक्टर द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करें।

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सावल हैं, तो अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक या सर्जन से परामर्श करें।

यह भी पढ़ेंः Aortic Valve Replacement : एरोटिक वाल्व रिप्लेसमेंट क्या है?

रिकवरी

केमिकल पील के बाद मुझे खुद का ख्याल कैसे रखना चाहिए?

किसी भी केमिकल पील के उपचार के बाद, त्वचा की सफाई, मॉइस्चराइजिंग का इस्तेमाल और त्वचा पर मलहम लगाने के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।

एक हल्के केमिकल पील के बाद, उपचारित त्वचा लाल, सूखी और हल्की चिड़चिड़ी हो जाएगी। हालांकि, यह प्रभाव त्वचा की रिकवरी के साथ-साथ कम होने लगेंगे। तब तक के लिए आपका डॉक्टर इन स्थितियों से बचाव करने के लिए त्वचा पर पेट्रोलियम जेली जैसे एक सुरक्षात्मक मरहम लगाने का निर्देश दे सकते हैं।

उपचारित त्वचा को लाइट पील के बाद ठीक होने में लगभग एक से सात दिन का समय लग सकता है। नई त्वचा सामान्य से हल्की या गहरी रंग की हो सकती है।

मीडियम पील के बाद, उपचारित त्वचा लाल, सूखी और सूजी हुई हो सकती है। आपको त्वचा में चुभन का भी एहसास हो सकता है। जिसके उपचार के लिए डॉक्टर आपको पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल करने की सलाह दे सकते हैं। आंखों की पलकों के बचाव के लिए उन पर आइस पैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही, दर्द से राहत पाने के लिए आप दर्द निवारक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकेंगे। आपको अपने उपचार के तुरंत बाद अपने डॉक्टर के साथ एक चेकअप शेड्यूल बनाया होगा ताकि आपकी स्थिति पर आपके डॉक्टर नजर रख सकें। जैसे ही सूजन कम होती है, उपचारित त्वचा एक नई परत बनाने लगेगी और भूरे रंग के धब्बों को गहरा या कम कर सकती है। उपचारित क्षेत्रों को मीडियम पील के उपचार के बाद ठीक होने में लगभग 7 से 14 दिन का समय लग सकता है।

डीप केमिकल पील के बाद, त्वचा पर लालिमा, सूजन और जलन हो सकती है। जिसके उपचार के लिए आपका डॉक्टर आपकी त्वचा पर वाटरटाइट ड्रेसिंग का उपचार कर सकते हैं। इसी के साथ ही, आप इस दौरान दर्द निवारक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकेंगे। उपचार के लगभग दो सप्ताह बाद अपकी त्वचा पर नई त्वचा का विकास होने लगेगा। हालांकि, सफेद धब्बे अगले कई हफ्तों तक दिखाई दे सकते हैं वहीं, त्वचा की लालिमा कई महीनों तक रह सकती है।

ध्यान में रखें कि जब तक आपकी त्वचा पूरी तरह से रिकवरी नहीं कर लेती है, तब तब घर से बाहर घूमने-फिरने न जाएं। न ही किसी तरह के ब्यूटी प्राड्क्ट का इस्तेमाल करें।

और पढ़ेंः Appendectomy: एपेन्डेक्टमी क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

संबंधित लेख: