home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

लिट्टी चोखा (Litti chokha) की आसान रेसिपी और जानिए इसके हेल्थ बेनिफिट्स

लिट्टी चोखा (Litti chokha) की आसान रेसिपी और जानिए इसके हेल्थ बेनिफिट्स

हम भारतीय, खाने के शौकीन होते हैं। यहां हर प्रदेश, जिले या गांव की कोई न कोई स्पेशल डिश आपको खाने को आसानी से मिल जाएगी। जैसे पंजाब की मक्के की रोटी और सरसों का साग प्रसिद्ध है, तो राजस्थान का दाल, बाटी और चूरमा। वैसे ही, प्रसिद्ध है बिहार का लिट्टी-चोखा। लिट्टी-चोखा एक पारंपरिक डिश है, जिसे उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड आदि में बहुत चाव से खाया जाता है। इसे नाश्ते और स्नैक्स के रूप में भी खाया जाता है। लिट्टी-चोखा केवल भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। आजकल तो यह डिश आपको हर शहर में मिल सरलता से मिल जाएगी।

लिट्टी-चोखा (Litti Chokha) का केवल स्वाद ही अच्छा नहीं होता, बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी यह बहुत लाभदायक है। जानिए क्यों लिट्टी-चोखा है, देश भर में पसंद की जाने वाली डिश। यही नहीं, जानिए इसके स्वास्थ्य संबंधी लाभ और इसकी आसान रेसिपी।

और पढ़ेंः संतुलित आहार और भारतीय व्यंजनों का समझें कनेक्शन

लिट्टी-चोखा (Litti chokha) बनाने की विधि

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि इस स्वादिष्ट डिश को बनाया कैसे जाता है :

लिट्टी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • गेहूं का आटा-2 कटोरी
  • नमक-स्वाद के अनुसार
  • घी- एक चम्मच
  • सत्तू- एक कटोरी
  • जीरा– आधा चम्मच
  • सौंफ-आधा चम्मच
  • अजवाइन-आधा चम्मच
  • कलौंजी-आधा चम्मच
  • लाल मिर्च पाउडर-आधा चम्मच
  • हरी मिर्च-कटी हुई एक चम्मच
  • अदरक– कटी हुई एक चम्मच
  • लहसुन– कटी हुई एक चम्मच
  • हरा धनिया-कटी हुई एक चम्मच
  • नींबू का रस- एक चम्मच
  • सरसों का तेल– दो चम्मच

लिट्टी बनाने का तरीका – (How to make Litti)

  • लिट्टी बनाने के लिए दो कटोरी गेहूं का आटा लें और उसमे थोड़ा-सा घी और चुटकी भर नमक मिला लें।
  • अब पानी से इस आटे को गूथ लें।
  • जीरे और सौंफ को पीस लें और इसे सत्तू के साथ मिक्स कर लें।
  • अब इस मिश्रण में लाल मिर्च, हरी मिर्च, लहसुन, अदरक, धनिया, नमक और अजवाइन, कलौंजी आदि डाल कर मिक्स कर लें। इसमें नींबू का रस और सरसों का तेल भी मिला लें।
  • अब गुथे हुए आटे की लोई बना लें और इसके बाद चपाती बना लें।
  • इसमें मिश्रण को भरने के लिए इसे धीरे से दबाएं। सत्तू के मिश्रण को थोड़ा-सा लेकर इसमें भर लें।
  • इसके बाद इसके किनारों को चारों तरफ से दबा कर बेल लें।
  • आप चूल्हे या ओवन में भी इसे पका सकते हैं।
  • इस तरह से आपकी लिट्टी तैयार है।

आलू-चौखा बनाने के लिए सामग्री – (Ingredients required to make aloo chokha)

  • आलू- 2 उबले हुए
  • प्याज– कटा हुआ
  • हरी मिर्च -कटा हुआ (एक चम्मच)
  • लहसुन- कटा हुआ (एक चम्मच)
  • सरसों का तेल– दो चम्मच
  • नींबू का रस-स्वादानुसार
  • नमक-स्वादानुसार

और पढ़ें: विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

[mc4wp_form id=”183492″]

आलू-चोखा कैसे बनाएं? (How to make Aloo-Chokha)

  • उबले हुए आलुओं का छिलका निकाल लें और मैश कर लें।
  • अब इसमें कटा हुआ प्याज, मिर्च, लहसुन, सरसों का तेल और नींबू का रस मिला लें।
  • नमक को स्वादानुसार मिलाने के बाद आपका आलू-चोखा तैयार है।

बैंगन का चोखा बनाने के लिए सामग्री

  • सरसों का तेल – आधा कप
  • टमाटर- 3 कटे हुए
  • बैंगन- 2 भुने हुए
  • आलू- 2 उबले हुए
  • लाल मिर्च पाउडर – आधा चम्मच
  • हल्दी– आधा चम्मच
  • प्याज- एक कटा हुआ
  • हरी मिर्च – 2 कटी हुई
  • एक नींबू
  • हरा धनिया- कटा हुआ
  • नमक- स्वादानुसार

बैंगन चोखा कैसे बनाएं?

  • एक कढ़ाई में सरसों का तेल डालें और इसे गर्म होने दें।
  • अब इसमें टमाटर डाल दें और कुछ देर तक इन्हे इसमें पकाएं, ताकि यह गहरे लाल हो जाएं।
  • भुने हुए बैंगन का छिल्का निकालें और इसका अंदर का गुदा निकल दें।
  • अब मैश किए हुए आलू और बैंगन को कढ़ाई में डाल दें और अच्छे से मिक्स कर लें।
  • अब इस मिश्रण में लाल मिर्च पाउडर, हल्दी और नमक डाल कर इस मिश्रण को कम आंच पर कुछ समय के लिए पकाएं।
  • इसमें प्याज और हरी मिर्च इसमें मिला दें।
  • नींबू का रस और हरा धनिया मिला कर परोसें।
  • इस तरह से आपका स्वादिष्ट लिट्टी-चोखा तैयार है।

और पढ़ें : आसानी से बनाएं ये पांच हेल्दी ब्रेकफास्ट; करेगा आपकी सेहत को काफी अपलिफ्ट

लिट्टी चोखा के हेल्थ बेनिफिट्स (Health Benefits of Litti Chokha)

1.डायबिटीज (Diabetes)

जो लोग डायबिटीज (Diabetes) से पीड़ित हैं, उन लोगों को लिट्टी-चोखा खाने की सलाह दी जाती है। लिट्टी-चोखा खाने से इंसुलिन में हार्मोन डिसऑर्डर को संतुलित किया जा सकता है। लिट्टी को सत्तू के साथ बनाया जाता है। सत्तू को भुने हुए चने के साथ बनाया जाता है, जो इंसुलिन प्रतिरोध की समस्या को नियंत्रित करने में मदद करता है।

2. नियंत्रित शुगर लेवल (Uncontrolled Sugar level)

इसे खाने से शुगर का लेवल भी नियंत्रित रहता है। कई दवाइयों से इंसुलिन (Insulin) को संतुलित होने में कई महीने लग जाते हैं। लेकिन, अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं, तो बिना किसी संकोच के इस स्वादिष्ट डिश का मजा लें।

3. सत्तू के फायदे (Sattu benefits)

इसे सत्तू के साथ बनाया जाता है, जो स्वयं एक औषधि से कम नहीं है। यही नहीं, इसके साथ कई जगह पर आलू या बैंगन के साथ खाया जाता है। इसलिए, इस डिश को खा कर आपको न केवल सत्तू के फायदे, बल्कि बैंगन और आलू के भी सभी फायदे मिलते हैं।

और पढ़ें : अंडरवेट पुरुष खाएं ये चीजें और हो जाएं हेल्दी

4. बैंगन के फायदे

बैंगन का चोखा बनाने के भी अपने ही फायदे हैं। बैंगन खाने से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) लेवल सही रहता है। इसके साथ ही इसमें पोटैशियम और मैंगनीज भी बहुत अधिक होते हैं, जिससे कोलेस्ट्रॉल लेवल नहीं बढ़ता। कई लोग चोखा को आलू, टमाटर, हरी मिर्च, अदरक आदि सब्जियों को मिला कर बनाते हैं, जिससे उन्हें सभी सब्जियों के फायदे प्राप्त होते हैं।

5. फाइबर (Fiber) और एनर्जी (Energy)

इसे गेहूं के आटे और सत्तू से बनाया जाता है, जो न केवल फाइबर से भरपूर होते हैं, बल्कि इससे शरीर को भरपूर एनर्जी भी मिलती है। अगर आप गर्मियों में इस सत्तू से बने आहार को खाते हैं, तो यह अच्छे से पच जाता है। ऐसा कहा जाता है कि गर्मी के दिनों में इसे खाने से लू नहीं लगती। इसे खाने से फाइबर भरपूर मात्रा में मिलता है, जिससे पेट सही रहता है।

लिट्टी-चोखा के इतने फायदों के बारे में जान कर आप समझ ही गए, होंगे कि लिट्टी-चोखा पूरे देश में इतनी पसंद की जाने वाली डिश क्यों है। इसलिए, इस डिश के फायदे पाने के लिए इसे खाना बहुत फायदेमंद है। अगर आपने इस डिश को अभी तक नहीं खाया है, तो आज ही इसे बनाना और खाना न भूलें।

उम्मीद करते हैं कि आपको लिट्टी चोखा के फायदे और इसको कैसे बनाए इससे संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Shivani Verma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/08/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड