home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Alaspan: एलास्पेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन|डोसेज|उपयोग |साइड इफेक्ट्स|सावधानियां और चेतावनी|रिएक्शन|स्टोरेज
Alaspan: एलास्पेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन

एलास्पेन (Alaspan) कैसे काम करती है?

एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट एंटीथिस्टेमाइंस (antihistamines ) ग्रुप से संबंधित है। एलास्पेन का उपयोग एलर्जी की समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। एलर्जिक कंडिशन में इचिंग, स्वेलिंग और रैशेज शामिल है। एलर्जिक कंडिशन में इम्यून सिस्टम हाइपरसेंसिटिव हो जाता है। जिससे वातावरण के कण आदि शरीर में समस्या पैदा करते हैं। इस कारण से हे फीवर, फूड एलर्जी, अस्थमा आदि समस्याएं पैदा हो सकती हैं। ये टैबलेट कॉमन एलर्जी के लक्षण जैसे कि छींक, आंखों से पानी आने की समस्या, पित्ती या फिर बहती नाक की समस्या से राहत दिलाती है। आपको इस टैबलेट की अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

एलास्पेन (Alaspan) का कैमिकल कंपोजीशन क्या है?

एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट में मुख्य रूप से लोरैटैडाइन (Loratadine) पाया जाता है। लोरैटैडाइन (Loratadine) शरीर में नैचुरल कैमिकल हिस्टेमाइन (Histamine) के प्रभाव को कम करने का काम करता है। हिस्टेमाइन (Histamine) के कारण छींक, इचिंग के साथ ही आंखों से पानी आने की समस्या और नाक बहने की समस्या होती है। क्रोनिक स्किन रिएक्शन (chronic skin reactions) से राहत दिलाने का काम भी लोरैटैडाइन करता है। अगर आपको डॉक्टर एलास्पेन खाने की सलाह दें, तभी इसका सेवन करें।

और पढ़ें : Cyra D: सायरा डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

डोसेज

एलास्पेन (Alaspan) का सामान्य डोज क्या है?

एलास्पेन (Alaspan) का डोज बीमारी की जांच करने के बाद डॉक्टर तय करता है। डॉक्टर पेशेंट को दिन में एक या दो बार डोज लेने की सलाह दे सकता है। अगर पेशेंट को एलर्जी से अधिक समस्या हो रही है तो डोज में परिवर्तन भी किया जा सकता है। एलास्पेन (Alaspan) का डोज बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। बच्चों में इस दवा का यूज कैसे करना है, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर लें।

वयस्कों के लिए एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट का एक दिन का डोज – 10 एमजी

2 से 5 साल के बच्चों के लिए एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट का एक दिन का डोज – 5 एमजी

6 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए डोज – 10 एमजी (ओरली)

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट का डोज अधिक लेने पर बॉडी में कुछ साइड इफेक्ट्स भी दिख सकते हैं। अगर गलती से आपने ऐसा किया है तो तुरंत डॉक्टर से इस बारे में बात करें। किसी भी दवा के ओवरडोज से जान का खतरा भी हो सकता है। सही समय पर ट्रीटमेंट मिल जाए तो पेशेंट को गंभीर समस्या से बचाया जा सकता है। बेहतर होगा कि आप दवा का डोज जितना डॉक्टर ने बताया है, उतना ही लें। दवा का कम या फिर ज्यादा डोज आपके शरीर के लिए उपयुक्त नहीं है।

एलास्पेन (Alaspan) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

एलास्पेन ( Alaspan) टैबलेट का डोज समय पर लेना भूल गए हैं तो याद आते ही डोज ले लें। अगर आपकी अगली डोज का समय होने वाला है तो भूले हुए डोज की बजाए, अगली डोज का उपयोग पहले से तय किए गए समय पर करें। एक साथ दो डोज नहीं लेने चाहिए वरना आपको शरीर में साइड इफेक्ट्स भी दिख सकते हैं। आप चाहे तो एक चार्ट तैयार कर सकते हैं और फिर उसे मार्क करें ताकि दवा आप न भूलें।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : Dolonex DT: डोलोनेक्स डीटी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

उपयोग

मुझे एलास्पेन (Alaspan) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट का खाली पेट सेवन करने की सलाह दी जाती है। इस दवा का उपयोग पानी (ओरली) के साथ करना चाहिए। दवा को खाने के दौरान इसे पीसे या फिर पानी में न मिलाएं। दवा के सेवन के कितनी देर बाद आप खाना खा सकते हैं, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर लें। अगर आप समय पर दवा का सेवन नहीं करेंगे तो आपको एलर्जी के लक्षणों से राहत नहीं मिल पाएगी। समय पर दवा लेने से कुछ ही समय बाद एलर्जी के लक्षणों से निजात मिल सकती। दवा का उपयोग करने के बाद आप कुछ समय के लिए आराम करें क्योंकि हो सकता है कि आपको दवा के सेवन के बाद नींद आए।

इन बीमारियों में होता है एलास्पेन (Alaspan) का उपयोग

एलर्जिक राइनाइटिस (Allergic rhinitis)

एलर्जिक राइनाइटिस की समस्या इंफेक्शन के कारण हो सकती है। जब संक्रमण के कारण सर्दी-जुकाम हो जाता है तो लगातार छींक, नाक में खुजली, नाक बहने की समस्या, नाक बंद होने की समस्या, बुखार आदि लक्षण दिखाई देते हैं। एलर्जिक राइनाइटिस की समस्या होने पर अन्य समस्याएं जैसे कि साइनस, अस्थमा आदि होने का खतरा होता है। एलर्जिक राइनाइटिस की समस्या से जूझ रहे लोगों को धूल से समस्या होती है। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए डॉक्टर आपको एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट लेने की सलाह दे सकता है।

अर्टिकेरिया (Urticaria)

इस स्थिति में त्वचा में दाने हो जाते हैं। ये दाने दवा, खाना या फिर किसी फैक्टर (बाहरी कारक) के कारण हो सकते हैं। त्वचा में खुजलीदार चकत्ते, त्वचा पर उभार यानी रैशेज हो जाते हैं। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए डॉक्टर आपको एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट लेने की सलाह दे सकता है।

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। एलास्पेन (Alaspan) टैबलेट का उपयोग कब और कैसे करना है, इस बारे में डॉक्टर से जरूर पूछें।

और पढ़ें: Mala D: माला डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

साइड इफेक्ट्स

एलास्पेन (Alaspan) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

एलास्पेन दवा का सेवन करने से आपको शरीर में विभिन्न प्रकार के लक्षण भी नजर आ सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। दवा का सेवन करने पर कुछ लोगों को शरीर में साइड इफेक्ट्स के रूप में निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते हैं।

ऐसा जरूरी नहीं है कि उपरोक्त दिए गए लक्षण दवा का सेवन करने के बाद सभी व्यक्तियों में नजर आएं। दवा के साइड इफेक्ट्स कुछ व्यक्तियों में दिख सकते हैं। अगर आपको दवा के सेवन के बाद उपरोक्त लक्षण नजर आएं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : Eldoper: एल्डोपर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

सावधानियां और चेतावनी

एलास्पेन (Alaspan) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

  • अगर आपको पित्ती की समस्या है और पहले से ही अन्य दवा का सेवन कर रहे हैं तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। साथ ही पित्ती का रंग और स्किन में कुछ बदलाव नजर आएं तो तुरंत डॉक्टर को बताएं क्योंकि ये अन्य हेल्थ कंडिशन भी हो सकती है।
  • एलास्पेन का सेवन करने से अगर आपको एलर्जी की समस्या अधिक बढ़ जाती है तो इस बारे में तुरंत डॉक्टर को बताएं।
  • किडनी डिजीज, लिवर डिजीज, हार्ट प्रॉब्लम से जूझ रहे व्यक्तियों को इस दवा का सेवन करने से पहले डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।
  • बुजुर्गों में एलास्पेन को खाने के बाद अधिक साइड इफेक्ट्स का खतरा रहता है। अगर आपके दवा के सेवन के बाद समस्या हो रही है तो उसे नजरअंदाज न करें।
  • दिल की बीमारी वाले पेशेंट में अगर दवा का सेवन करने के बाद हार्ट बीट तेजी से बढ़ जाती है तो उन्हें तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।
  • दो साल से कम उम्र के बच्चों में इस दवा का उपयोग नहीं किया जाता है। बच्चों को दवा बिना डॉक्टर से पूछे न दें।

क्या गर्भावस्था या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान एलास्पेन (Alaspan) को लेना सुरक्षित है?

एलास्पेन (Alaspan) का सेवन गर्भावस्था में सुरक्षित नहीं माना जाता है। विशेष परिस्थितियों में डॉक्टर आपको इस दवा का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं। अगर आप प्रेग्नेंट हैं तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। वहीं ब्रेस्टफीडिंग के दौरान एलास्पेन (Alaspan) का इस्तेमाल करना सेफ है या नहीं। इस बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं है। आप बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा का सेवन प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान न करें।

रिएक्शन

कौन-सी दवाइयां एलास्पेन (Alaspan) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

कुछ मेडिसिन एलास्पेन टैबलेट के साथ रिएक्शन कर सकती हैं। एक दवा का सेवन करने के दौरान दूसरी दवाओं का सेवन करना खतरनाक भी साबित हो सकता है। यदि आप पहले से किसी मेडिसिन को ले रहे हैं तो डॉक्टर को जरूर बताएं। दवा के रिएक्शन और शरीर पर पड़ने वाले साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए आपको डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लेना चाहिए।

  • आईबुप्रोफेन (ibuprofen)
  • एस्पिरिन (aspirin)
  • डूलोक्सिटिन (duloxetine)
  • डायफनहाइड्रामीन (diphenhydramine)

एलास्पेन (Alaspan) एल्कोहॉल और फूड के साथ रिएक्शन करती है?

एलास्पेन लेने के दौरान एल्कोहॉल का सेवन करने से शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। दवा के सेवन के साथ शराब का सेवन करने से बेहोशी छा सकती है या लिवर डैमेज की समस्या भी हो सकती है। इस परेशानी से बचने के लिए एल्कोहॉल का सेवन न करें। फूड के साथ इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

एलास्पेन (Alaspan) हेल्थ कंडिशन को प्रभावित कर सकती है?

अगर आपको अस्थमा की समस्या, हार्ट डिजीज, किडनी डिजीज, लिवर डिजीज हो तो डॉक्टर को जरूर बताएं। कुछ हेल्थ कंडिशन पर दवा का बुरा प्रभाव भी पड़ सकता है।

और पढ़ें : T-Bact Cream : टी-बैक्ट क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

स्टोरेज

मैं एलास्पेन (Alaspan) को कैसे स्टोर करूं?

एलास्पेन टैबलेट को स्टोर करने के लिए सबसे बेहतर है उसे 25 से 30 डिग्री सेल्सियस के रूप टेम्प्रेचर पर रखें। कमरे में दवा को रखते समय ध्यान रखें कि सनलाइट या सूर्य की सीधी किरणें न आ रही हों। इसे हीट और नमी से दूर रखें। दवा का सही तरह से स्टोरेज न करने पर उसका इफेक्ट कम हो सकता है। आप इसे ऐसे कंटेनर में रखें जिसे बच्चे आसानी से न खोल पाएं। एलास्पेन को पालतू जानवरों की पहुंच से भी दूर रखें। दवा परचेज करते समय एक्सपायरी डेट जरूर चेक कर लें। इसे फ्रिज या फिर बाथरूम में रखने की भूल न करें। एलास्पेन पैकेज पर दिए गए निर्देशों से आप जानकारी ले सकते हैं या फिर फार्मासिस्ट से भी इस बारे में जानकारी ले सकते हैं। आप डॉक्टर से एलास्पेन के स्टोरेज संबंधी जानकारी हासिल करें। दवा को डिस्पोज करने के लिए टॉयलेट में फ्लश न करें। इस बारे में भी कैमिस्ट से जानकारी प्राप्त करें।

एलास्पेन (Alaspan) किस रूप में उपलब्ध है?

  • टैबलेट
  • सिरप

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड