home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज की है समस्या, तो इस ट्रीटमेंट को अपनाने से दिखेगा असर!

डायबिटीज की है समस्या, तो इस ट्रीटमेंट को अपनाने से दिखेगा असर!

अगर आप 15 से 20 साल पहले की बीमारियों के बारे में याद करेंगे, तो आपके आस पास- या जान-पहचान वाले में ऐसे लोगों की संख्या कम ही होती होगी, जिन्हें डायबिटीज की समस्या हो। अगर अभी के समय की बात करें, तो डायबिटीज पेशेंट आपको आसानी से परिवार या फिर दोस्तों में मिल जाएंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि डायबिटीज के पेशेंट्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है। दुनिया में डायबिटीज से पीड़ित छह लोगों में से एक भारत से है। और भारत विश्व में अधिक डायबिटीज पेशेंट्स के मामलें में दूसरे नंबर पर है। भारत में डायबिटीज पेशेंट्स की 77 मिलियन है। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि भारत में डायबिटीज की बीमारी कितनी तेजी से फैल रही है। डायबिटीज की समस्या इंसुलिन की गड़बड़ी के कारण पैदा हो सकती है। जब ब्लड में शुगर का लेवल हाय हो जाता है, तो मधुमेह की समस्या पैदा हो जाती है। ब्लड शुगर लेवल कम होने पर भी डायबिटीज की समस्या का सामना करना पड़ता है। डायबिटीज के ट्रीटमेंट में दवाइयों का सेवन करने के साथ ही खानपान में एहतियात बरतना बहुत जरूरी होता है। डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes) का सेवन भी असर दिखाता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes) के बारे में आवश्यक जानकारी देंगे और साथ ही इससे संबंधित सावधानियां भी बताएंगे।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज में न्यू ड्रग ट्रीटमेंट : जानिए क्या है ये खास ट्रीटमेंट?

डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes)

डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes)

टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) क्रॉनिक कंडीशन होती है, जिसमें पैंक्रियाज थोड़ा या बिल्कुल न के बराबर इंसुलिन प्रोड्यूस करता है। इंसुलिन हॉर्मोन है, जो शुगर को सेल्स में एनर्जी प्रोड्यूज करने के लिए अनुमति देता है। टाइप 1 डायबिटीज के लिए डिफरेंट फैक्टर जिम्मेदार होते हैं। टाइप 1 डायबिटीज बचपन में या फिर किशोरावस्था में प्रभावित कर सकती है। वहीं टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 diabetes) की समस्या लाइफलॉन्ग होती है। मिडिल एज और अधिक उम्र के लोगों में इस प्रकार की डायबिटीज की अधिक समस्या हो सकती है। इस प्रकार की डायबिटीज की समस्या बच्चों में मोटापे का कारण भी हो सकती है। टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 diabetes) के पेशेंट को इंसुलिन रसिसटेंस की समस्या हो जाती है। अचानक से प्यास लगना, धुंधला दिखना (Blurry vision), थकान का एहसास, चोट लगने के बाद घाव का न भरना, यीस्ट इंफेक्शन, भूख का तेजी से लगना, वजन का तेजी के कम होना आदि बीमारी के लक्षण के रूप में दिख सकता है। डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes) का सेवन करने से कई समस्याओं में राहत मिलती है।

होम्योपैथिक मेडिसिंस का सेवन करने से ब्लड में शुगर के लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है। होम्योपैथिक रेमिडीज या ऑर्गोनोपैथिक रेमिडीज की मदद से ब्लड में शुगर के लेवल को कम किया जा सकता है। होम्योपैथिक दवाओं में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले यूरेनियम नाइट्रिकम (Uranium Nitricum), फॉस्फोरिक एसिड (Phosphoric Acid), साइजियम जंबोलानम (Syzygium Jambolanum), जिमनेमा सिल्वेस्ट्रे (Gymnema sylvestre) और सेफलैंड्रा इंडिका (Cephalandra Indica) आदि का इस्तेमाल किया जाता है। डॉक्टर पेशेंट की परेशानी को जानने के बाद दवाओं का डोज देते हैं। जानिए होम्योपैथिक दवाओं के बारे में।

और पढ़ें: एसजीएलटी2 इनहिबिटर्स टाइप 2 डायबिटीज पेशेंट को दिलाते हैं इन परेशानियों से छुटाकारा!

एसबीएल डिबोनिल ड्रॉप (SBL Dibonil Drop)

डायबिटीज की समस्या से राहत पाने में होम्योपैथिक दवाओं के रूप में एसबीएल डिबोनिल ड्रॉप (SBL Dibonil Drop) का इस्तेमाल किया जा सकता है। ये दवा फ्रीक्वेंट यूरिनेशन (Frequent urination), बार-बार प्यास लगने की समस्या (Excessive thirst), क्रेम्स या मस्कुलर पेन ( Muscular pain) आदि समस्याओं से राहत दिलाने में सहायक है। इस दवा का सेवन करने से मेंटल और फिजिकल थकान से भी राहत मिलती है। ये बॉडी टिशू के फॉर्मेशन में भी हेल्प करता है। डॉक्टर 1/4 कप पानी में दस बूंद दवा को मिलाने की सलाह देते हैं। ये दवा खाने के आधे घंटे पहले पहले और दिन में तीन बार लेनी भी सलाह दी जाती है। आपको बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। दवा की कीमत 100 रु है।

और पढ़ें: क्या टाइप 2 डायबिटीज एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है या नहीं?

डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा: एसबीएल इंसुलिन डायल्यूशन (SBL Insulinum Dilution)

ये दवा इंसुलिन से तैयार की जाती है। इंसुलिन शरीर के ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करता है। बढ़े हुए यूरिन प्रोडक्शन को मैनेज करने का काम करता है। ये स्किन इंफेक्शन (Skin infection) को भी कम करने का काम करता है। डायबिटीज के कारण कुछ लोगों को स्किन इरिटेशन का सामना करना पड़ता है। दवा का सेवन करने से स्किन की खुजली और रेडनेस से भी राहत मिलती है। इसे एलोपैथिक दवाओं के साथ (With allopathic medicines) लिया जा सकता है लेकिन इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर लें। आपको दवा का सेवन करने के सात ही स्ट्रॉन्ग स्मैल वाली चीजों जैसे कि कॉफी, प्याज, गार्लिक आदि से बचने से जरूरत है। दवा की कीमत 90 रु है। डॉक्टर से इस बारे में अधिक जानकारी लें। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता हैं।

और पढ़ें: ओरल हायपोग्लाइसेमिक ड्रग्स: टाइप 2 डायबिटीज के ट्रीटमेंट में हैं उपयोगी, उपयोग का तरीका है आसान

लॉर्ड्स एल 155 पैंक्रियाज ड्रॉप (Lord’s L 155 Pancreas Drop)

लॉर्ड्स एल 155 पैंक्रियाज ड्रॉप होम्योपैथिक दवा है, जो ड्रॉप के रूप में डायबिटिक पेशेंट को दी जाती है। ये दवा पैंक्रियाज से संबंधिक समस्याओं को दूर करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। अगर डायबिटीज के पेशेंट को पैंक्रियाज से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो डॉक्टर इस होम्योपैथिक दवा का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं।

डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा: जिमनेमा सिलवेस्टर एमटी (Gymnema sylvestre MT)

जिमनेमा सिलवेस्टर एमटी डायबिटीज मेलिटस ( Diabetes mellitus) पेशेंट के लिए फायदेमंद होता है। ये दवा सांप के जहर के काटने पर भी इस्तेमाल की जाती है। इस दवा को डिस्ट्रॉयर ऑफ शुगर (Destroyer of sugar) के नाम से भी जाना जाता है। ये दवा कोलेस्ट्रॉल के लेवल (Cholesterol levels) को कम करने के साथ ही ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करने का काम करती है। दवा का सेवन करने से वेट में कमी, डायबिटीज के लक्षणों से राहत, सांस संबंधी इंफेक्शन के छुटकारा आदि समस्याओं से राहत मिलती है। दवा का सेवन बिना डॉक्टर की जानकारी के नहीं करना चाहिए। दवा की कीमत 90 रु है।

और पढ़ें: गैस्ट्रोपैरीसिस : पाचन क्रिया से जुड़ी इस समस्या से हो सकती है टाइप 2 डायबिटीज की तकलीफ!

नैचुरल या हर्बल प्रोडक्ट का इस्तेमाल पूरी तरह से सुरक्षित नहीं होता है। आप अगर बिना डॉक्टर से परामर्श किए होम्योपैथिक दवाओं का सेवन करते हैं, तो आपको बुरे परिणाम देखने को मिल सकते हैं। दवा का सेवन डॉक्टर से अवश्य सलाह बाद ही करें। अगर आपको दवा का सेवन से कोई लाभ नहीं हो रहा है, तो तुरंत डॉक्टर को जानकारी दें और इसका सेवन बंद कर दें। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको डायबिटीज के लिए होम्योपैथिक दवा (Homeopathic medicine for diabetes) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

ग्लूकोज प्रॉडक्शन और रिलीज की अधिक जानकारी के लिए देखें ये 3 डी मॉडल-

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x