home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में एक्टिव रहना कितना है जरूरी, क्या इस बारे में जानते हैं आप?

डायबिटीज में एक्टिव रहना कितना है जरूरी, क्या इस बारे में जानते हैं आप?

डायबिटीज एक क्रॉनिक कंडीशन (Chronic condition) है, जो किसी भी उम्र में हो सकती है। अगर आपको डायबिटीज है या फिर नहीं है, दोनों ही अवस्था में एक्टिव रहना बहुत जरूरी है। फिजिकल एक्टिविटी शरीर को स्वस्थ रखने का काम करती है। डायबिटीज की बीमारी में पैंक्रियाज से निकलने वाला हार्मोन इंसुलिन ब्लड में शुगर के लेवल को बैलेंस नहीं कर पाता है, जिस कारण से मधुमेह की समस्या हो जाती है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको डायबिटीज में एक्टिव रहने के बारे में जानकारी देंगे। बिगड़ी हुई लाइफस्टाइल और खानपान में खराबी डायबिटीज की बीमारी को पैदा कर सकता है। बिना जिम जाए खुद को एक्टिव रखना आसान काम है लेकिन इसके लिए आपको ये पता होना चाहिए कि कौन-सा काम कब करना है। डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) है, तो आपको ये आर्टिकल जरूर पड़ना चाहिए और इन बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज और GI इशूज : क्या है दोनों के बीच में संबंध, जानिए

डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes)

डायबिटीज में एक्टिव रहना

डायबिटीज के दौरान एक्टिव रहना बहुत जरूरी होता है, इसके लिए आपको अपनी दिनचर्या पर ध्यान देने की जरूरत है। यहां पर हम आपको कुछ टिप्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप डायबिटीज के दौरान एक्टिव रह सकते हैं और डायबिटीज की बीमारी पर कंट्रोल भी कर सकते हैं। बीमारी कोई भी हो, हमें सभी छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देने की जरूरत होती है। काम के दौरान अक्सर हम छोटे ब्रेक लेना भूल जाते हैं, जो कि हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होते हैं। अगर काम के दौरान एक्टिव रहें तो, कई समस्याओं से हमें राहत मिल सकती है। जानिए डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) है, तो किन उपायों को अपनाया जाए।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज के लॉन्ग टर्म कॉम्प्लीकेशन में शामिल हो सकती हैं ये समस्याएं!

काम के बीच में ब्रेक देना है जरूरी!

वर्क फ्रॉम होम (Work from home) हो या फिर ऑफिस में बैठ कर लंबे समय तक काम, एक ही स्थान पर बैठे रहके काम करने से कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप 8 से 9 घंटे की जॉब कर रहे हैं, तो आपको करीब आधे घंटे या 25 मिनट के बाद 5 से 10 मिनट का ब्रेक जरूर लेना चाहिए। अगर आप घर में काम कर रहे हैं, तो घर के कुछ कामों को करके आप 5 से 10 मिनट का ब्रेक ले सकते हैं। अगर आप ऑफिस में काम कर रहे हैं तो आप सीढ़ियों से चढ़कर या उतर कर खुद को छोटा सा ब्रेक दे सकते हैं। यह आपके अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। बिना ब्रेक के काम करने से आंखों के स्वास्थ्य में बुरा असर पड़ने के साथ ही बैक प्रॉब्लम शुरू हो जाती है। डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) रहना या मधुमेह में एक्टिव रहना है, तो आपको ये आदत अपनी लाइफस्टाइल (Lifestyle) में जरूर जोड़नी चाहिए।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज का आयुर्वेदिक उपचार: क्या इसे जड़ से खत्म किया जा सकता है, जानें एक्सपर्ट की राय

खाने के बाद जरूर करें वॉक!

बिजी लाइफस्टाइल के चलते रोजाना एक्सरसाइज करना कई लोगों के लिए मुश्किल भरा काम होता है। अगर आप ऐसा नहीं कर सकते हैं, तो कोई बात नहीं। आप खाने के बाद करीब 10 से 20 मिनट के बाद वॉक जरूर करें। डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) है, तो आपको ये आदत जरूर अपनानी चाहिए। रोजाना 30 मिनट का वॉक नहीं कर सकते हैं तो खाने के बाद करीब 10 से 15 मिनट के वॉक जरूर करें। जरूरी नहीं है कि आप एक्सरसाइज करने के लिए बाहर जाएं, आप चाहे तो घर पर भी वॉक कर सकते हैं या फिर ग्राउंड के एक से दो चक्कर लगा सकते हैं। अगर आपके घर में गार्डन है, तो यह आपके लिए पॉजिटिव पॉइंट है। आप गार्डनिंग कर सकते हैं। घास हटाना, पौधों को शेप देना आदि काम जहां एक ओर आप खुशी देते हैं, वहीं दूसरी ओर आप की एक्सरसाइज भी हो जाती है। अगर आप कुछ समय निकालकर गार्डन में समय बिताते हैं, तो ये आपके स्ट्रेस लेवल को कम करने के साथ ही मूड को बेहतर बनाने का काम करता है।

और पढ़ें: क्या टाइप 2 डायबिटीज होता है जेनेटिक? जानना है जवाब तो पढ़ें यहां

डायबिटीज में एक्टिव रहना: नहीं मिल रहा है ट्रेनर, तो ऑनलाइन वीडियो आ सकते हैं काम!

डायबिटिक पेशेंट के मन में यह सवाल रहता है कि अगर उन्हें एक्सरसाइज करनी है, तो उन्हें कहां से ट्रेनिंग लेनी चाहिए। ट्रेनिंग कोच न मिल पाने के कारण या ट्रेनिंग की जानकारी ना होने के कारण वह एक्सरसाइज नहीं कर पाते हैं या फिर एक्सरसाइज करने का मन नहीं बना पाते हैं। हम आपको बता दें कि अगर आप के आसपास कोई ट्रेनर नहीं है, तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप ऑनलाइन वीडियो (Online videos) के माध्यम से एक्सरसाइज के कुछ स्टेप्स सीख सकते हैं। एरोबिक्स हो या फिर कार्डियो एक्सरसाइज (Cardio exercises), आप आसानी से वीडियो के माध्यम से एक्सरसाइज के हो सकते हैं

और पढ़ें: ओरल हायपोग्लाइसेमिक ड्रग्स: टाइप 2 डायबिटीज के ट्रीटमेंट में हैं उपयोगी, उपयोग का तरीका है आसान

अच्छे स्वास्थ्य की शुरुआत करें ग्रुप से!

अगर आपको अकेले वॉक पर जाना अच्छा नहीं लगता है तो आप अपने फ्रेंड को भी साथ में ले जा सकते हैं। ऐसा करने से आपको वॉक के दौरान बेहतर महसूस होगा। आप ग्रुप ही बना सकते हैं, जिसमें डायबिटिक पेशेंट (Diabetic patient) के साथ ही अन्य बीमारी के पेंशेंट्स भी एक साथ शामिल हो सकते हैं। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको कुछ समय बाद खुद महसूस होगा कि आपके शरीर में बहुत से बदलाव आ रहे हैं और आप खुद को पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं। डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) कठिन काम नहीं है लेकिन आपको कुछ बातों का ध्यान रखकर उन्हें रोज अपनाने की जरूरत है। अगर फिर भी आपको लगता है कि आपको अपनी रोजाना की दिनचर्या में अन्य एक्सरसाइज या एक्टिविटी को शामिल करना है, तो आप इस बारे में एक्सपर्ट से जानकारी ले सकते हैं या फिर डॉक्टर से सलाह कर सकते हैं।

डायबिटीज पेशेंट को व्यायाम के साथ ही अपने खानपान पर भी ध्यान देने की आवश्यकता होती है। आपको अपने खाने में लो ग्लाइसेमिक वैल्यू वाली सब्जियों का सेवन करना चाहिए और साथ ही आप जो भी प्रोडक्ट बाहर से खरीद कर खा रहे हैं, उनकी ग्लाइसेमिक वैल्यू पर ध्यान जरूर दें। पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं और आठ से नौ घंटे की नींद ले। स्ट्रेस को दूर करने के लिए आप योग (Yoga) का सहारा ले सकते हैं ऐसा करने से आपके ब्लड में शुगर का लेवल मेंटेन रहेगा और डायबिटीज कंट्रोल में रहेगा। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता है। इस आर्टिकल में हमने आपको डायबिटीज में एक्टिव रहना (Stay active in diabetes) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ दिन पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड