home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में सेब के सेवन से हो सकते हैं ये बड़े फायदे! क्या जानना नहीं चाहेंगे आप?

डायबिटीज में सेब के सेवन से हो सकते हैं ये बड़े फायदे! क्या जानना नहीं चाहेंगे आप?

डायबिटीज (Diabetes) से ग्रसित मरीजों को अपने आहार का खासतौर पर ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। उन्हें ऐसे खाद्य पदार्थों को अपनी डायट में शामिल करना पड़ता है, जो उनके ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सके। हालांकि डायबिटीज डायट में कई ऐसे न्यूट्रिशस फूड सम्मिलित किए गए हैं, जो ना सिर्फ आपके ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखते हैं, बल्कि आपको डायबिटीज से जुड़ी अन्य कॉम्प्लिकेशन से भी बचाते हैं। हम बात कर रहे हैं डायबिटीज में सेब की। डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) आपको कैसे फायदा पहुंचा सकता है, आइये जानते हैं, लेकिन इससे पहले जान लेते हैं डायबिटीज से जुड़ी ये जरूरी बातें।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज में विटामिन डी सप्लिमेंट्स के उपयोग से बच सकते हैं इन तकलीफों से

कैसे होती है डायबिटीज (Diabetes) की समस्या?

डायबिटीज (Diabetes) की दिक्कत तब होती है, जब आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। जब भी आप भोजन करते हैं, तो शरीर उसे शुगर में तोड़ देता है और शरीर की कोशिकाएं ऊर्जा के लिए इसका उपयोग करती हैं। इस उपयोग के लिए पैंक्रियाज को इंसुलिन का उत्पादन करने की जरूरत पड़ती है। जब आप मधुमेह के शिकार होते हैं, तो पैंक्रियाज या तो बेहद कम मात्रा में इंसुलिन पैदा करती है, या इंसुलिन (Insulin) पैदा करना बंद कर देती है। क्योंकि शरीर इसका प्रभावी ढंग से इस्तेमाल नहीं कर पाता, इसलिए व्यक्ति डायबिटीज का शिकार हो जाता है। लेकिन डायबटीज की आहट उसके लक्षणों से पहचानी जा सकती है। इसका इसके लिए आपको कुछ लक्षणों पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है।

क्या हैं डायबिटीज के लक्षण? (Symptoms of Diabetes)

डायबिटीज (Diabetes) की समस्या में शरीर आपको कुछ सिम्टम्स देता है। यह सिम्टम्स यानी कि लक्षण आप को समझने होते हैं। डायबिटीज के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं –

  • बार-बार यूरिनेशन होना
  • बार-बार प्यास लगना
  • बहुत भूख लगना
  • अत्यधिक थकान
  • धुंधला दिखना
  • किसी चोट को ठीक होने में ज्यादा समय लगना
  • लगातार घटता वजन (टाइप1)
  • हाथ / पैर में झुनझुनी या दर्द (टाइप 2)

यदि आप इन लक्षणों को महसूस करते हैं, तो आपको जल्द से जल्द अपना ब्लड शुगर लेवल मापने की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा कुछ ऐसे लक्षण भी हैं, जो जिसके चलते आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इन लक्षणों में हैं –

  • बहुत ज्यादा उल्टी, मतली, चक्कर या कमजोरी महसूस होना
  • बहुत ज्यादा प्यास लगना या बार-बार पेट दर्द के साथ पेशाब होना
  • सांस तेज होना या सांस फूलना

और पढ़ें: मधुमेह की दवा मेटफॉर्मिन बन सकती है थायरॉइड की वजह

ऐसे लक्षण दिखाई देने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर जरूरी टेस्ट करने के बाद आपको डायबिटीज के लिए आवश्यक मेडिसिन प्रिसक्राइब कर सकते हैं। इन दवाइयों की मदद से आप जल्द से जल्द डायबिटीज (Diabetes) को कंट्रोल में ला सकते हैं। यदि समय पर इन समस्याओं का इलाज ना ढूंढा जाए, तो डायबिटीज से जुड़ी अन्य जटिलताएं भी आपके शरीर में घर कर जाती हैं। जैसा कि आपने जाना डायबिटीज में आपको खुद का ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है, इसलिए आपको खान-पान से जुड़ी जानकारी होना बेहद जरूरी है। आइए अब बात करते हैं डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) खाने से आपको क्या-क्या फायदे मिल सकते हैं।

और पढ़ें : डायबिटीज में फल को लेकर अगर हैं कंफ्यूज तो पढ़ें ये आर्टिकल

डायबिटीज में सेब : खाने के हैं फायदे ही फायदे (Apple in diabetes)

डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes)

यह एक ऐसा पौष्टिक फल है, जो हमारे शरीर को कई तरह के पोषक तत्व प्रदान करता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी, फाइबर और अलग-अलग तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं। यह विटामिन सी का भी एक अच्छा स्त्रोत माना जाता है। डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) खाने का एक सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह एक लो कैलोरी फूड माना जाता है, जिससे आपके शरीर में ज्यादा कैलोरी नहीं बढ़ती। आइए जानते हैं डायबिटीज में सेब आपकी कैसे सहायता कर सकता है।

डायबिटीज में सेब : पोषक तत्वों से भरपूर

जैसा कि आप जानते हैं डायबिटीज (Diabetes) में आपको आपके कार्बोहाइड्रेट इनटेक पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। खाने से हमें खास मैक्रोन्यूट्रिएंट्स मिलते हैं, जिसमें कार्ब और प्रोटीन का समावेश होता है। इसमें से कार्बोहाइड्रेट हमारे ब्लड शुगर लेवल को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) के सेवन से आपको बेहद कम मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मिलते हैं। एक मीडियम सेब (Apple) में आपको मात्र 27 ग्राम कार्बोहाइड्रेट प्राप्त होता है, जो आपके शरीर में मौजूद ब्लड शुगर लेवल को नहीं बढ़ाता। वहीं इसमें फाइबर की भरपूर मात्रा होती है, जो आपके ब्लड शुगर लेवल को सामान्य बनाए रखता है। यह फाइबर टाइप टू डायबिटीज में ब्लड शुगर मैनेजमेंट के लिए बेहद सहायक साबित होता है। इसलिए डायबिटीज में सेब खाने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज में सल्फोनिल्युरिएस : डायबिटीज की इस दवा के बारे में जानते हैं आप?

डायबिटीज में सेब : ब्लड शुगर लेवल पर असर (Apple in diabetes)

यदि बात करें ब्लड शुगर लेवल की, तो डायबिटीज में सेब (Apple) खाने से आपको जो नैचुरल शुगर मिलती है, वह है फ्रुक्टोज। फ्रुक्टोज एक ऐसी नैचुरल शुगर है, जो आपके ब्लड शुगर लेवल को बेहद कम प्रभावित करती है। साथ ही साथ इसमें मौजूद फाइबर की वजह से यह अचानक ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ाती। इसमें मौजूद पॉलीफेनॉल शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट के डायजेशन की प्रोसेस को धीमा बनाता है, जिसकी वजह से ब्लड शुगर लेवल फ्लकचुएट नहीं होता। इसलिए डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) का सेवन अच्छा माना जाता है।

डायबिटीज में सेब : लो ग्लाइसेमिक फूड

जैसा कि आप सभी जानते हैं डायबिटीज (Diabetes) में लो ग्लाइसेमिक फूड खाने की सलाह दी जाती है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स और ग्लाइसेमिक लोड एक ऐसी स्केल मानी जाती है, जिसका सीधा प्रभाव आपकी ब्लड शुगर लेवल पर पड़ता है। बात करें डायबिटीज में सेब के सेवन की, तो सेब का ग्लाइसेमिक इंडेक्स ३९ माना जाता है, जो लो ग्लाइसेमिक लेवल माना जाता है। इसलिए डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) खाने की सलाह दी जाती है।

आइए अब आपको डायबिटीज में सेब (Apple) के सेवन से जुड़ी एक और जरूरी जानकारी देते हैं। आपने देखा होगा कि सेब दो रंग में मौजूद होता है – लाल और हरा। लेकिन डायबिटीज में कौन से रंग का सेब खाना आपके लिए फायदेमंद होगा, चलिए यह जान लेते हैं।

और पढ़ें: ओरल हायपोग्लाइसेमिक ड्रग्स: टाइप 2 डायबिटीज के ट्रीटमेंट में हैं उपयोगी, उपयोग का तरीका है आसान

डायबिटीज में सेब : कौन से रंग का करें चुनाव? (Apple in diabetes)

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं, डायबिटीज में सेब (Apple) खाने के कई फायदे हैं। लेकिन इसका सबसे बड़ा फायदा है इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स, जो इसे लो ग्लाइसेमिक फूड बनाता है। लेकिन जब बात करें लाल और हरे सेब की, तो हरे सेब में लाल सेब के मुकाबले ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते हैं। वहीं हरे सेब में नैचुरल शुगर की मात्रा लाल सेब के मुकाबले में कम होती है। वहीं इसमें फाइबर की मात्रा लाल सेब की तुलना में अधिक होती है। यही वजह है कि हरे सेब के सेवन से आपके ब्लड शुगर लेवल पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता।

हरे सेब में कई तरह के फाइबर मौजूद होते हैं, जो आपके मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाते हैं। साथ ही इसमें कई मिनरल्स, जैसे आयरन, जिंक, पोटैशियम, मैगनीज, कॉपर (Iron, Zinc, Potassium, Manganese, Copper) इत्यादि पाए जाते हैं, जो रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाकर मेटाबॉलिज्म बेहतर बनाते हैं। इसलिए डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) के सेवन से पहले आपको इसके रंग को ध्यान से चुनना चाहिए।

और पढ़ें: जीएलपी-1 रिसेप्टर एगोनिस्ट, जो टाइप 2 डायबटीज पेशेंट को बचाते हैं बड़े कॉम्प्लीकेशंस से!

डायबिटीज में सेब (Apple in diabetes) के सेवन से पहले आपको जिस बात का ध्यान रखना है, वह है कि बिना डॉक्टर की सलाह के आपको कोई भी खाद्य पदार्थ अपनी डायट में शामिल नहीं करना चाहिए। आपकी शारीरिक जरूरत के मुताबिक एक सीमित मात्रा में किसी भी फल का सेवन करना आपके लिए बेहतर माना जाता है। जैसा कि आप जानते हैं इसमें नैचुरल शुगर भी होती है, जो आपके शरीर में अचानक ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकती है। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बाद एक सीमित मात्रा में सेब का सेवन करना चाहिए। डायबिटीज में सेब (Apple) के सेवन से पहले आपको इन बातों का ख्याल जरूर रखना चाहिए।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट एक हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड