home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर का होना क्यों जरूरी है‌?

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर का होना क्यों जरूरी है‌?

कई लोगों के मन में यह सवाल होता है कि क्या डायबिटीज के मरीजोें के लिए एक्सरसाइज करना लाभदायक है या नहीं? कई अध्ययनों में भी पता चला है कि व्यायाम बेहतर रक्त शर्करा के नियंत्रण स्तर को बढ़ावा देता है और वेट मैनेमेंट करने में भी मदद करता है, क्योंकि डायबिटीज के मरीजों के लिए यह दोनों ही स्थितियां जोखिम भर है। चाहें फिर वो हाय ब्लड शुगर लेवल हो या अत्यधिक वजन। वैसे तो, विशिष्ट प्रकार के व्यायाम स्वास्थ्य समस्याओं में भी मदद कर सकते हैं। मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर (Physical fitness behavior in diabetics) जरूरी है, क्योंकि व्यायाम न करने से टाइप 2 मधुमेह से जुड़े कुछ जोखिम बढ़ सकते हैं। इन जोखिमों में हृदय रोग शामिल है। तो आइए जानते हैं कि मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर (Physical fitness behavior in diabetics) क्या है?

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम और उचार, जानें यहां

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर का होना क्या है‌ (What is the physical fitness behavior in diabetics)?

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (एडीए) के अनुसार, ब्लड शुगर मैनेजमेंट के लिए व्यायाम अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसके लिए आपका यह समझना भी जरूरी है कि टाइप 2 डायबिटीज, शरीर में रक्त शर्करा को कैसे बढ़ाता है, यह स्पष्ट करता है कि शारीरिक गतिविधि कैसे मदद कर सकती है। हमारे शरीर में अग्न्याशय इंसुलिन हाॅर्मोन का निमार्ण करता है, जो कोशिकाओं को रक्त से ग्लूकोज को ऊर्जा के रूप में उपयोग करने का काम करता है। टाइप 2 वाले लोगों में, इंसुलिन रेजिस्टेंस नामक समस्या उत्पन्न हो जाती है, जिससे कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति कम संवेदनशील हो जाती हैं। अग्न्याशय कोशिकाओं के फंक्शन के लिए अधिक इंसुलिन का निमार्ण करता है। ऐसे में जब इंसुलिन का निमार्ण कम होता है, तो रक्त शर्करा का स्तर अंततः बढ़ जाता है। तो ऐसे में व्यायाम कई तरह से टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में इस समस्या का मुकाबला करने में मदद करता है। यह इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाता है, जो कोशिकाओं को रक्त से ग्लूकोज लेने के लिए किसी भी उपलब्ध इंसुलिन का उपयोग करने में मदद करता है। इसके अलावा, जब व्यायाम के दौरान मांसपेशियों की कोशिकाएं सिकुड़ती हैं, तो इंसुलिन के कम होने पर भी वे ग्लूकोज का इस्तेमाल करने में भी सक्षम होती हैं। व्यायाम के बाद लगभग 24 घंटे तक रक्त शर्करा का प्रभाव रहता है। मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर में कुछ एक्सरसाइज शामिल हो सकती हैं।

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर में एरोबिक व्यायाम: नियमित एरोबिक एक्सरसाइज करने से रक्तचाप और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को नियंत्रित करने में मददगार है। शोध ने मध्यम से हाय इंटेस्टी वाले एरोबिक व्यायाम को मधुमेह वाले लोगों में कार्डियोवैस्कुलर जोखिम को काफी कम करने के लिए देखा गया है।

और पढ़ें: वेटलॉस और टाइप 2 डायबिटीज की रोकथाम के लिए जीवनशैली में ये बदलाव करना है जरूरी!

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर में रेजिस्टेंस एक्सराइज : खराब मांसपेशियों की ताकत के लिए मधुमेह एक जोखिम कारक है। प्रतिरोध प्रशिक्षण इस प्रभाव का मुकाबला करने में मदद करता है, क्योंकि यह मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है।

मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर में अन्य प्रकार के व्यायाम: डायबिटीज के मरीजों के लिए अन्य तरह की एक्सरसाइज भी शामिल है। स्ट्रेचिंग व्यायाम लचीलेपन और गति की सीमा को बढ़ाते हैं, जबकि संतुलन प्रशिक्षण से गिरने का खतरा कम होता है। मधुमेह के लक्षणों को कम कर सकती है जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करते हैं।

और पढ़ें: मोटापे और डायबिटीज से इंसुलिन रेजिस्टेंस का होना हो सकता है खतरे का संकेत!

व्यायाम न करने के जोखिम क्या हैं (what are the risks of not exercising)?

कार्डियोवस्कुलर फिटनेस (Cardiovascular fitness)

व्यायाम न करने से कार्डियोवैस्कुलर फिटनेस का स्तर बिगड़ सकता है, जो मधुमेह वाले लोगों के लिए एक विशेष समस्या हो सकती है क्योंकि हृदय रोग का जोखिम बिना स्थिति वाले लोगों की तुलना में दो से चार गुना अधिक होती है। उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मोटापा सहित कई स्वास्थ्य समस्याएं इस बढ़े हुए जोखिम में योगदान करती हैं। एक्सरसाइज करने से दिल की हेल्थ अच्छी बनी रहती है और रक्त का संचार भी ठीक ढंग से होता है।

हाय ब्लड शुगर का स्तर (Elevated blood sugar level)

व्यायाम के प्रभाव के बिना, रक्त शर्करा अन्यथा की तुलना में अधिक रहता है। अध्ययन उच्च ए1सी स्तरों को मधुमेह की जटिलताओं से जोड़ते हैं जो रक्त वाहिका क्षति से संबंधित हैं। उच्च रक्त ग्लूकोज रक्त वाहिकाओं को इस तरह से नुकसान पहुंचाता है जिससे कई स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं, जैसे कि रेटिना का डैमेज होना, जो अंधापन का कारण बन सकती है। व्यायाम रक्त शर्करा को स्वस्थ स्तर पर रखने में मदद करता है। स्वस्थ रक्त शर्करा का स्तर रक्त वाहिकाओं को नुकसान से बचाता है।

और पढ़ें: एकरबोस: जानिए, टाइप 2 डायबिटीज में प्रयोग होने वाली इस दवा के क्या हैं साइड इफेक्ट्स?

किस तरह का व्यायाम है जरूरी (what type of exercise is necessary) ?

हेल्दी और फिट रहने के लिए सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मीडियम इंस्टेंसिटी एक्सरसाइज करने की सलाह दी जाती है। मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर की बात करें, तो डायबिटीज पेशेंट कई की फिजिकल एक्टिवटी अपना सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • वॉक या तेज स्पीड से चलना
  • साइकलिंग करना
  • डांस
  • घर के काम जैसी फिजिकल एक्टिविटी
  • तैराकी
  • स्पोटर्स
  • लिफ्ट की जगह सीढ़ी से चलना

यदि आप डायबिटीज के साथ हार्ट पेशेंट भी हैं, तो कोई भी एक्सरसाइज अपने मन से न करें। इसके लिए वो डाॅक्टर की सलाह लें।

और पढ़ें: एनपीएच इंसुलिन: ब्लड शुगर लेवल को तुरंत कर देता है कम, डायबिटीज टाइप 1 और टाइप 2 दोनों के लिए है उपयोगी

टाइप 2 मधुमेह के लिए अन्य जीवनशैली उपचार (Other lifestyle treatments for type 2 diabetes)

टाइप 2 डायबिटीज को मैनेज करने में लाइफस्टाइल प्रैक्टिस बहुत फायदेमंद होती है। व्यायाम करने के अलावा, कुछ निम्नलिखित बातों का भी ध्यान रखें, जिनमें शामिल है:

अच्छी तरह से संतुलित डायट लें

अच्छा संतुलित आहार में कई पोषक तत्व शामिल होते हैं और गैर-पौष्टिक भोजन के सेवन को सीमित करते हैं। पौष्टिक भोजन में शामिल हैं:

  • साबुत अनाज, जैसे ओट्स और ब्राउन राइस आदि
  • हरी सब्जियां और फल खाएं
  • ओमेगा -3 फैटी एसिड में युक्त मछली या सैल्मन
  • अनसाल्टेड नट, बीज, और फलियां
  • चिकन या टर्की स्तन

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज का ट्रीटमेंट आसान बनाती हैं ये दवाएं, ब्लड शुगर को कम करने में करती हैं मदद

वेट मैनेजमेंट की तरफ ध्यान दें

अत्यधिक मोटापे के शिकार वाले लोगों के लिए ब्लड शुगर को मैनेज करना मुश्किल हो जाता है। एक व्यक्ति अपना वजन कम कर सकता है, यदि वह अपने वर्कआउट से कम कैलोरी का सेवन करता है। कुल शरीर के वजन को प्रबंधित करने के अलावा, अतिरिक्त पेट की चर्बी कम करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि कमर में जमा अत्यधिक फैट मधुमेह के खतरे में डाल देती है।

स्ट्रेस मैनेमेंट

तनाव कभी-कभी अधिक खाने और धूम्रपान करने का कारण बन सकता है, जो बदले में रक्त शर्करा पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। कुछ तनाव कम करने वाली गतिविधियों में शामिल हैं:

और पढ़ें: मोटापे और डायबिटीज से इंसुलिन रेजिस्टेंस का होना हो सकता है खतरे का संकेत!

धूम्रपान छोड़ें

धूम्रपान रक्त शर्करा को बढ़ाता है और मधुमेह की जटिलताओं के जोखिम को बढ़ाता है। इसका ऐसा प्रभाव है कि धूम्रपान करने वाले लोगों में धूम्रपान न करने वालों की तुलना में टाइप 2 मधुमेह विकसित होने की संभावना 30-40% अधिक होती है। स्मोकिंग शरीर में कई परेशानियों का कारण बन सकता है। इसलिए अपनी आदत को जितनी जल्दी हो सके छोड़ दें।

डायबिटीज वाले लोगों के लिए जरूरी है कि वो अपने एक्सराइज के प्रति खास ध्यान दें। मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर का होना बहुत जरूरी है। इससे वो डायबिटीज के साथ और इसके कारण होने वाली कई गंभीर बीमारियों से बच जाएंगे। मधुमेह रोगियों में शारीरिक फिटनेस बिहेवियर के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/12/2021 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड