टायफाइड का बुखार हो सकता है जानलेवा, जानें इसका इलाज

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Share now

बुखार होना बहुत ही सामान्य बीमारी है, जो कि कई कारणों की वजह से बढ़ने वाले शारीरिक तापमान के कारण होता है। लेकिन, कई बार यह गंभीर वजहों से भी हो सकता है, जो कि व्यक्ति के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसी ही एक वजह है टायफाइड (Typhoid), जो कि एक बैक्टीरियल इंफेक्शन (Bacterial Infection) है। टायफाइड से बचाव व इलाज के लिए जरूरी जानकारी होना आवश्यक है। इस आर्टिकल में आप विस्तारपूर्वक जानेंगे टायफाइड और उसके इलाज (Typhoid Treatment) के बारे में।

और पढ़ें- नवजात शिशु को बुखार होने पर करें ये 6 काम और ऐसा बिलकुल न करें

टायफाइड बुखार क्या है?

टायफाइड बुखार क्या है यहां जानें

जैसा कि आप जान चुके हैं, टायफाइड बुखार एक बैक्टीरियल इंफेक्शन है, जो पूरे शरीर में फैलकर कई शारीरिक अंगों को प्रभावित करता है, इसलिए इसका इलाज जरूरी है। इसका मुख्य कारण साल्मोनेला एन्ट्रिका सेरोटाइप टाइफी (Salmonella Entrica Serotype Typhi) बैक्टीरिया होता है। इस बैक्टीरिया के अलावा, टायफाइड बुखार साल्मोनेला पैराटाइफी ((Salmonella Paratyphi)) से भी हो सकता है। अगर इस बीमारी में शीघ्र उपचार उपलब्ध नहीं होता है, तो यह शारीरिक समस्या जानलेवा भी साबित हो सकती है। टायफाइड बुखार दूषित पानी या खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आसानी से हो सकता है। जिसमें मुख्य रूप से शारीरिक दर्द, त्वचा पर रैशेज और हाई फीवर होने लगता है।

और पढ़ें- बच्चों में टाइफाइड के लक्षण को पहचानें, खतरनाक हो सकता है यह बुखार

क्या टायफाइड बुखार संक्रामक होता है?

टायफाइड बुखार

इस सवाल का जवाब है, हां। टायफाइड बुखार संक्रामक है और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। लेकिन, यह एक दूसरे को छूने से नहीं फैलता। बल्कि, अगर संक्रमित व्यक्ति के स्टूल और यूरिन में मौजूद बैक्टीरिया के संपर्क में कोई और व्यक्ति आ जाता है, तो टायफाइड फैल सकता है। इसके अलावा, अगर कोई व्यक्ति इस बैक्टीरिया से दूषित खाद्य पदार्थ या तरल पदार्थों का सेवन करता है, तो उसकी इस बैक्टीरियल इंफेक्शन से संक्रमित होने की आशंका बढ़ जाती है और उसे टायफाइड बुखार हो सकता है।

और पढ़ें- जुकाम और फ्लू में अंतर पहचानने के लिए इन लक्षणों का रखें ध्यान

टायफाइड बुखार के लक्षण क्या होते हैं?

टायफाइड बुखार के लक्षण शुरुआत में सामान्य बुखार के अन्य लक्षणों जैसे हो सकते हैं। लेकिन, यह गंभीर हो सकते हैं और आगे चलकर अन्य शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकते हैं। जरूरी नहीं कि टायफाइड बुखार के लक्षण निम्नलिखित ही हों, बल्कि इसके लक्षण नीचे बताए गए लक्षणों से अलग भी हो सकते हैं या निम्नलिखित में से एक से ज्यादा भी हो सकते हैं। आइए, टायफाइड बुखार के मुख्य लक्षणों के बारे में जानते हैं।

इन लक्षणों के अलावा टायफाइड की वजह से कुछ गंभीर जटिलताएं भी हो सकती हैं। जिसमें इंटेस्टाइनल ब्लीडिंग या आंतों में छेद की वजह से होने वाला इंफेक्शन हो सकता है। जिसे सेप्सिस (Sepsis) भी कहा जाता है, जो कि जानलेवा स्थिति हो सकती है। इस समस्या की वजह से जी मिचलाना, उल्टी और गंभीर पेट दर्द हो सकता है। आइए, अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं जानते हैं। जैसे-

  • किडनी या ब्लेडर इंफेक्शन
  • निमोनिया बीमारी
  • एंडोकार्डिटिस
  • मायोकार्डिटिस
  • पैंक्रियाटाइटिस, आदि

और पढ़ें- सर्दी-जुकाम की दवा ने आपकी नींद तो नहीं उड़ा दी?

टायफाइड बुखार का पता कैसे चलता है?

दूषित खाद्य पदार्थ या पानी का सेवन करने से साल्मोनेला बैक्टीरिया आपकी आंतों के द्वारा आपकी ब्लडस्ट्रीम में अस्थाई रूप से रहने लगता है। यह बैक्टीरिया आगे चलकर व्हाइट ब्लड सेल्स की मदद से लिवर, स्प्लीन और बोन मैरो में पहुंचता है, जहां इसकी संख्या बढ़ने लगती है और फिर यह दोबारा ब्लड स्ट्रीम में चला जाता है। इस दौरान, संक्रमित व्यक्ति को बुखार होने लगता है। इसके बाद बैक्टीरिया गॉलब्लेडर, बिलरी सिस्टम और बोवेल के लिंफेटिक टिश्यू पर आक्रमण करते हैं और वहीं अपनी संख्या और बढ़ाते हैं। बैक्टीरिया के इंटेस्टाइनल ट्रैक्ट से गुजरने की वजह से स्टूल सैंपल के द्वारा इस बीमारी की जांच की जा सकती है। स्टूल टेस्ट के अलावा, यूरिन और ब्लड सैंपल, कंप्लीट ब्लड काउंट, ब्लड कल्चर, प्लेटलेट्स काउंट भी इसको डायग्नोज करने में मदद कर सकते हैं।

और पढ़ें- Typhoid Fever : टायफॉइड फीवर क्या है?

टायफाइड बुखार होने का खतरा किसे ज्यादा होता है?

टायफाइड बुखार होने की आशंका कुछ कारकों पर निर्भर करती है। आइए, इन कारकों के बारे में जानते हैं। जैसे-

  • टायफाइड बुखार की आशंका भौगोलिक स्थिति पर निर्भर करती है। क्योंकि, जिस क्षेत्र में साफ-सफाई न होने की वजह से पानी और खाद्य पदार्थ दूषित रहते हैं, वहां यह बैक्टीरिया ज्यादा आसानी से फैल सकता है। भारत समेत कई देशों में इस बीमारी का खतरा ज्यादा रहता है।
  • इसके अलावा, उम्र भी टाफाइड बुखार को निर्धारित करती है। क्योंकि, छोटे बच्चों और बुजुर्गों में इसका खतरा ज्यादा होता है और इन दोनों में भी बच्चे इस बैक्टीरियल इंफेक्शन के ज्यादा जल्दी शिकार होते हैं। क्योंकि, बच्चों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है और वह साफ-सफाई का भी ज्यादा ध्यान नहीं रखते। लेकिन इन सबके बावजूद एक बात और है कि, बच्चों में वयस्कों के मुकाबले टायफाइड बुखार के लक्षण ज्यादा गंभीर नहीं होते हैं।

और पढ़ें- Hay Fever: हे फीवर क्या है?

क्या टायफाइड बुखार से बचाव किया जा सकता है?

सबसे पहले हमें यह ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि टायफाइड बुखार असुरक्षित खानपान व गंदगी के कारण होता है। ऐसे दूषित जगहों पर जाने या रहने से इस बैक्टीरियल इंफेक्शन के होने का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन, कुछ टिप्स को अपनाकर टायफाइड बुखार का बचाव किया जा सकता है। जैसे-

  1. अगर आप कहीं ऐसी जगह जा रहे हैं, जहां दूषित पानी या खाद्य पदार्थ मिल सकते हैं, तो कम से कम वहां जाने से 2 हफ्ते पहले टायफाइड बुखार से बचाव करने वाला इंजेक्शन लगवा लें।
  2. हर बार कहीं जाने से पहले इंजेक्शन लगवाना इतना सरल चुनाव नहीं है। ऐसी स्थिति में आप साफ-सफाई का ध्यान रखकर इस बीमारी से बच सकते हैं। जैसे-
  • बोतलबंद पानी का सेवन करें या सामान्य पानी को कम से कम 1 मिनट तक उबालने के बाद उपयोग में लाएं। हालांकि, बोतल का कार्बोनेटेड पानी अनकार्बोनेटेड पानी के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित होता है।
  • अच्छी तरह पका हुआ और गर्म खाने का सेवन करें।
  • अगर आप कहीं भी पीने के लिए पानी मांगते हैं, तो बर्फ रहित पानी मंगवाएं और अगर बर्फ लेनी ही हो तो बोतलबंद या उबले हुए पानी को ठंडा करने के बाद बनी बर्फ का ही इस्तेमाल करें। इसके साथ, फ्लेवर वाली बर्फ का उपयोग करने से दूर रहें।
  • बिना छिली या कच्ची सब्जियां और फल खाने से परहेज करें।
  • खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं
  • गली-नुक्कड़ या सड़क किनारे मिलने वाले स्ट्रीट फूड को सेवन करने से बचें।

और पढ़ें- नवजात शिशु को बुखार होने पर करें ये 6 काम और ऐसा बिलकुल न करें

टायफाइड बुखार का इलाज क्या है?

टायफाइड बुखार का इलाज उसके लक्षणों पर निर्भर करता है। हालांकि, टायफाइड इलाज के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए डॉक्टर से सलाह लें। आइए, टायफाइड बुखार के संभावित इलाज के बारे में जानते हैं।

  1. टायफाइड बुखार की वजह से शरीर में पानी की कमी हो जाती है। जिसके लिए, आईवी फ्लूड्स (IV Fluids) ट्रीटमेंट का इस्तेमाल किया जाता है।
  2. शरीर में बैक्टीरियल इंफेक्शन को फैलने से रोकने और खत्म करने के लिए एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) मेडिसिन का सेवन करवाया जाता है।
  3. टायफाइड बुखार के कारण होने वाली उल्टी और जी मिचलाने की समस्या से राहत दिलाने के लिए एंटीएमेटिक्स (Antiemetic) मेडिसिन दी जाती हैं।
  4. टायफाइड से ग्रसित व्यक्ति के बुखार को कम करने के लिए एंटीपायरेटिक (Antipyretic) दवाओं का सेवन करवाया जाता है।
  5. इस बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होने वाले पेट दर्द में आराम दिलाने के लिए  एनलजेसिक (Analgesics) दवाओं का सेवन किया जाता है।

टायफाइड वैक्सीन किस रूप में उपलब्ध हो सकती है?

टायफाइड बुखार से बचने का प्रभावी तरीका टायफाइड वैक्सीन है। जो कि निम्नलिखित रूप में उपलब्ध हो सकती है। जैसे-

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Viral Fever: वायरल फीवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए वायरल फीवर के कारण, वायरल फीवर का उपचार, बुखार क्या हैं, बुखार के लक्षण क्या हैं, Viral Fever के घरेलू उपचार, Viral Fever के जोखिम फैक्टर।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

गले में छाले होने की वजह से आपको खाने-पीने, बात करने आदि में दर्द व परेशानी हो सकती है। आइए, जानते हैं कि गले में छाले के लक्षण, कारण और इलाज क्या होता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लिवर में सूजन आने की समस्या को हेपेटाइटिस कहा जाता है। इससे बचने के उपाय व इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं। Hepatitis in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Testicular Pain : अंडकोष में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

अंडकोष में दर्द कई कारणों से हो सकता है। आइए, इससे बचाव व इसके उपचार के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं। Testicular Pain in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

विधारा - elephant creeper

विधारा (ऐलीफैण्ट क्रीपर) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Vidhara Plant (Elephant creeper)

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
Published on जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Amorolfine cream: अमोरोलफिने क्रीम

T-Bact Cream : टी-बैक्ट क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Ethamsylate: इथामसाइलेट

Acemiz MR : एसीमिज एमआर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
Published on जून 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Fatty Liver : फैटी लिवर

Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें