Bulging Eyes : कुछ लोगों की आंखें उभरी हुई क्यों होती है?

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

आपने ऐसे कई लोगों को देखा होगा जिनकी आंखें मोटी-मोटी और उभरी हुई होती हैं। साधारण तौर पर उभरी हुई आंखें लोगों के आकर्षण का केंद्र माना जाता है। ऐसे लोगों का व्यक्तित्व भी प्रभावशाली हो सकता है। क्योंकि, जब भी कोई बात करता है, तो उनका फोकस आंखों पर ज्यादा होता है। ऐसे लोगों के साथ बात करने का अनुभव भी काफी शानदार हो सकता है। लेकिन, उनकी उभरी हुई आंखें प्राकृतिक तौर पर ऐसी ही हैं या इसके पीछे कोई बीमारी है?

हालांकि, प्राकृतिक तौर पर उभरी हुई आंखें बहुत ही कम लोगों की होती हैं, जो पूरी तरह से स्वस्थ्य भी हो सकती हैं। लेकिन, अगर अचानक किसी की आंखें मोटी या उभरी हुई दिखाई देने लगें, तो उन्हें तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

मोटी आंखें या उभरी हुई आंखें होने के पीछे कारण क्या है?

उभरी हुई आंखों में आंखों की सफेद कॉर्निया आंखों की पुतलियों के ऊपर दिखाई देते हैं। इसे प्रोपेटोसिस या एक्सोफथैलमोस (Exophthalmos) के रूप में भी जाना जाता है। यह स्थिति तब होती है, जब आंखों के पीछे मांसपेशियों में चर्बी या टिश्यू में सूजन होती है। यह आंखों के लिए खतरनाक स्थिति हो सकती है, क्योंकि इसके कारण आंखों में हमेशा दर्द भी रहता है। कुछ स्थितियों में इसके कारण ऑप्टिक तंत्रिका में भी दबाव पड़ सकता है, जिसके कारण आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

यह भी पढ़ें : आंखों में खुजली/जलन (Eye Irritation) कम करने के घरेलू उपाय

प्रोपेटोसिस या एक्सोफथैलमोस (Exophthalmos) होने की वजह?

थायरॉयड की बीमारी

थायरॉयड की बीमारी आंखों के उभार बढ़ाने में सहायक होती है। आंखों में उभार आने का सबसे आम कारण हाइपरथायरॉइडिज्म या ओवरएक्टिव थायरॉयड ग्रंथि को माना जाता है। यह थायरॉयड ग्रंथि गर्दन के सामने स्थित है, जो कई हार्मोन जारी करता है, जो भोजन पचाने की क्रिया को भी नियंत्रित करने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें : स्मार्टफोन ऐप से पता चलेंगे बच्चों की आंख में कैंसर के लक्षण

ग्रेव्स रोग

उभरी हुई आंखें ग्रेव्स रोग के कारण सबसे ज्यादा देखी जाती हैं। यह एक ऑटोइम्यून स्थिति है, जहां थायरॉइड ग्रंथि गलती से हानिकारक कोशिकाओं को छोड़ देती है और एंटीबॉडी रिलीज करती है, जिसके कारण आंखों की मांसपेशियों काम करना बंद कर देती है और इनमें सूजन आ जाती है। इसका खतरा 30 साल से 60 साल की उम्र की महिलाओं को सबसे अधिक रहता है।

इसके अलावा ऊभरी हुई आंखें ग्लूकोमा, ल्यूकेमिया जैसे कई और कारणों से भी हो सकती है। जैसेः

न्यूरोब्लास्टोमा : यह एक प्रकार का कैंसर है, जो तंत्रिका तंत्र (sympathetic nervous system) को प्रभावित कर सकता है।

ल्यूकेमिया : यह एक प्रकार का कैंसर है, जो सफेद रक्त कोशिकाओं को प्रभावित कर सकता है।

रैबडोमायोसरकोमा : यह एक प्रकार का कैंसर हैं, जो कोमल ऊत्तकों में विकसित हो सकता है।

चोट के कारण आंखों के पीछे से खून बहना।

यह भी पढ़ें : हड्डियों को मजबूत करने के साथ ही आंखों को हेल्दी रख सकती है पालक, जानें दूसरे फायदे

उभरी हुई आंखों के लक्षण क्या हैं?

  • आंखों को पूरी तरह से बंद करने में कठिनाई
  • कॉर्निया का बार-बार सूखना
  • देखने में परेशानी
  • आंखों में जलन
  • आंखों का लाल होना
  • आंखों में दर्द
  • इन सब लक्षणों के साथ ही वजन घटाना, भूख में परिवर्तन, बहुत ज्यादा पसीना आना और दस्त लगना

यह भी पढ़ें : आंखों की अच्छी सेहत के लिए जरूर खाएं ये 10 फूड

इसका इलाज क्या होगा, वो सूजी हुई आंखों के कारण पर निर्भर करता है। जांच के आधार पर डॉक्टर आपको नीचे बताए गए उपचार सुझा सकते हैं :

  • आई ड्रॉप
  • एंटीबायोटिक्स
  • सूजन से राहत पाने के लिए कॉर्टिकॉस्टेरॉयड्स
  • आंखों की सर्जरी
  • कैंसर ट्यूमर को ठीक करने के लिए सर्जरी, कीमोथैरिपी या रेडिएशन

अगर आपको इस तरह के कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो अफने डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि, कुछ लोगों की आंखों प्राकृतिक तौर पर ही उभरी होती हैं, जो जन्म से ही हो सकती हैं। इसलिए, अगर उम्र बढ़ने के साथ आंखों में उभार आए, तो एक बार अपने डॉक्टर को इसकी जानकारी जरूर दें।

यह भी पढ़ें : हेट्रोक्रोमिया: जानिए क्यों अलग होता है दोनों आंखो का रंग?

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 7, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 14, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे