home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

रिलेशन में होने के बावजूद 50 फीसदी महिलाओं के पास हैं बैक-अप पार्टनर्स!

रिलेशन में होने के बावजूद 50 फीसदी महिलाओं के पास हैं बैक-अप पार्टनर्स!

हाल ही में डेली मेल की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग आधे से ज्यादा महिलाओं के पास अपने वर्तमान साथी से अलग होने की स्थिति में एक बैक-अप प्लान तैयार होता है। जी हां, आपने सही सुना लगभग सभी महिलाओं का बैकअप पार्टनर होता है जिसको वह अपने वर्तमान साथी से अलग होने की स्थिति के लिए रखती हैं। इसका मतलब यह है कि महिला के पास अपने लिए प्लान-बी के रूप में एक और पुरुष होता है, जिसे वह ब्रेक-अप के बाद के बाद के लिए दिमाग में रखती है। महिलाओं का बैकअप पार्टनर कोई भी हो सकता है खासकर वो जो उनका रिश्ता टूटने के बाद उन्हें संभाल सके। भारत में डेटिंग का ट्रेंड लगातार बढ़ रहा है। इसका सबूत है गूगल की ताजा रिपोर्ट, जिसमें यह बात सामने आयी है कि भारत में इंटरनेट के जरिए डेटिंग पार्टनर खोजने में 40% की बढ़ोतरी हुई है। जबकि मैट्रिमोनियल साइट्स के जरिए जीवन साथी तलाशने में सिर्फ 13% की बढ़ोतरी। वास्तव में, विवाहित महिलाओं के लिए रिश्ते उन लोगों की तुलना में एक दूसरा विकल्प होने की अधिक संभावना है, जो रिलेशनशिप मे हैं।

और पढ़ें: क्यों कुछ लोगों को लगता है बार-बार होता है उन्हें सच्चा प्यार?

बैकअप पार्टनर क्या है?

बैकअप पार्टनर क्या है? वैसे तो ये बहुत ही पेंचिदा सवाल है, लेकिन फिर भी आपको बताएं तो बैकअप पार्टनर का मतलब है। यदि आप किसी के साथ रिलेशन में हैं, भले ही आप खुश हों। लेकिन इसके अलावा भी आपका एक दोस्त या पार्टनर होता है। जिसे आप पसंद करते हैं। आपके इस रिश्ते में आपका दोस्त आपको बेहद पसंद भी करता होता है। लेकिन आप किसी और को के साथ रिश्ते में बंधी होती हैं। आप दोनों रिश्ते को लगभग साथ लेकर चलती हैं। कहीं न कहीं महिलाओं के मन में ये ख्याल होता है कि यदि हमारा ये रिश्ता किसी कारण आगे तक नहीं चल पा रहा है या उनका मौजूदा पार्टनर उन्हें धोखा देता है। तो ऐसी स्थिति में हो दूसरे व्यक्ति यानि बैकअप पार्टनर के पास जा सकें। वैसे बैकअप पार्टनर होने के और उन्हें चुनने के कई और भी कारण हो सकते हैं।

और पढ़ें: क्लिटोरिस को क्यों कहते हैं फीमेल पेनिस, जानें इसके बारे में

कौन हो सकता है महिलओं का बैकअप पार्टनर

महिलाओं का बैकअप पार्टनर ये सुनने में थोड़ा अजीब लग सकता है। लेकिन असल में ऐसा है कि महिलाएं अपने लिए बैकअप रखती हैं। लेकिन यह फॉल-बैक पार्टनर कौन हो सकता है? अध्ययन में कहा गया है कि ज्यादातर मामलों में यह एक पुराना दोस्त हो सकता है, जिसके लिए महिला में पहले से भावनाएं हो या फिर यह एक पुराना-प्रेमी या पूर्व-पति भी हो सकता है। इसके अलावा वह ऑफिस में साथ काम करने वाला सहकर्मी या जिम में उसका दोस्त भी हो सकता है। महिलाओं का बैकअप पार्टनर कोई भी ऐसा पुरूष हो सकता है, जिसके वह भावनात्मक तौर पर करीब हो। महिलाओं का बैकअप पार्टनर ज्यादातर वह पुरूष होता है, जिसमें वो सारी खूबियां होती हैं, जो महिला को अपने पति या पार्टनर में नहीं मिलती।

लगभग एक हजार महिलाओं ने इस सर्वे में भाग लिया और उनमें से कुछ ने यह भी कहा कि प्लान-बी में कोई ऐसा व्यक्ति हो सकता है। जिसे वे सात साल या उससे ज्यादा समय से जानती हैं। इसके अलावा दस में से एक महिला ने यह भी कहा कि उनके प्लान-बी ने पहले ही उनसे अपनी भावनाओं को व्यक्त कर दिया है। महिलाओं का बैकअप पार्टनर कोई ऐसा दोस्त भी हो सकता है, जिसको वह काफी पहले से जानती हैं। वह चाहे कोई स्कूल का दोस्त हो या कॉलेज फ्रेंड। इसके लिए महिलाओं का बैकअप पार्टनर वह पुरूष भी हो सकता है, जो पहले कभी महिला से अपनी भावनाएं बता चुका हो।

और पढ़ेंः डिप्रेशन में डेटिंग के टिप्सः डिप्रेशन का हैं शिकार तो ऐसे ढूंढ़ें डेटिंग पार्टनर

दस में चार से अधिक महिलाओं ने कहा कि वे अपने मौजूदा रिश्ते के दौरान दूसरे आदमी या प्लान बी से परिचित हैं। कुछ प्रतिशत महिलाओं ने यह भी कहा कि उनके बैक-अप प्लान के लिए उनकी भावनाएं उनके पार्टनर के बराबर थीं। महिलाओं का बैकअप पार्टनर वो इंसान भी हो सकता है जिसके लिए वह कुछ महसूस करती हो। ज्यादातर महिलाएं ऐसे प्लान बी को तवज्जों देती हैं जो जिनके लिए उनके मन में कुछ भावनाएं हो। महिलाओं का बैकअप पार्टनर जहां उनकी दूसरी पसंद होता है वहीं वह उसके साथ अपनी आगे की जिंदगी भी देखती हैं। बार-बार एक ही गलती ना हो इसके लिए महिलाओं का बैकअप पार्टनर उनके वर्तमान पार्टनर से एकदम अलग होता है। महिलाओं का बैकअप पार्टनर चुनते समय वह सारी बातें ध्यान में रखती हैं जैसे क्या यह पार्टनर पुराने पार्टनर से अलग है, क्या उनका यह निर्णय पहले वाले की तरह गलत साबित हो सकता है। डेली मेल द्वारा कराए गए अध्ययन के अनुसार, लगभग बारह प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि प्लान बी के लिए उनकी भावनाएं उनके वर्तमान साथी की तुलना में और अधिक थीं।

क्या महिलाओं का बैकअप पार्टनर होना गलत है?

बैकअप पार्टनर पर किसी प्रकार की टिप्टणी देना सही नहीं होगा। दरअसल यह महिलाओं की अपनी पसंद, सुरक्षा और जरूरत ऐसी कई बातों पर निर्भर करती है। प्रत्येक व्यक्ति अपनी पसंद के व्यक्ति के साथ रहना पसंद करता है, लेकिन जब वो आपके पार्टनर में नहीं दिखाई देता है, तो भी आप उस रिश्ते को चलाते हैं। लेकिन कभी आपके जीवन में कोई ऐसा व्यक्ति अचानक से आ जाता है, जिसमें आपकी पसंद की सभी आदतें शामिल होती है।लेकिन आप पहले ही एक रिश्ते में किसी साथ रह रहे हैं, इसलिए खुलकर अपनी पसंद को जाहिर नहीं कर पाते हैं। बैकअप शब्द का इस्तेमाल करना कुछ महिलाओं के लिए सम्मानजनक नहीं लगता है। इसी कारण से किसी महिला को सही या गलत टिप्पणी देना गलत होगा।

और पढ़ेंः सेक्स के दौरान पुरुषों की ये 5 गलतियां पार्टनर का कर देती हैं मूड खराब

महिलाओं के मन में होता है डर

बैकअप पार्टनर होने का एक कारण महिलाओं के अंदर होने वाला डर है। जी हां महिलाओं के अंदर अपने पार्टनर के लेकर कई तरह के डर होते हैं। जो इस प्रकार से हैं-

  • शादी न करने के डर
  • शादी के बाद बहुत लड़ाई होने का डर
  • शादी के बाद तलाक का डर
  • धोखा मिलने का डर
  • अपनी जिम्मेदारी से पीछे हट जाने का डर
  • रिश्ता टूट जाने का डर

नोट: इस प्रकार के कई ऐसे डर महिलाओं के अंदर होते हैं, जिनके कारण वो अपनी सुरक्षा और साथ के लिए अपने किसी दोस्त या जानने वाले को बैकअप के तौर पर रखती हैं। कई बार उनकी मंशा गलत नहीं होती है, क्योंकि वो केवल अपनी सुरक्षा की चिंता करती हैं। आजकल बहुत कम रिश्ते लंबे समय तक चल पाते हैं। ऐसे में महिलाओं को अकेले रहने का और धोखा मिलने का डर सताता रहता है।

महिलाओं का बैकअप पार्टनर पर पुरुषों की क्या है राय

इस सर्वे में हिस्सा लेने वालों में से अधिकांश ने स्वीकार किया कि उनके वर्तमान साथी उनके बैक-अप प्लान के बारे में जानते थे। कुछ महिलाओं ने कहा कि, उनके साथी उनके बैक-अप्स के बारे मे मजाक में बात करते थे। लेकिन, दूसरी ओर कुछ महिलाओं ने कहा कि कुछ पुरुष महिलाओं के बैकअप पार्टनर के बारे में बात करने में ‘असहज’ महसूस करते हैं। कुछ महिलाओं ने कहा कि उनका बैकअप प्लान उनके वर्तमान साथी का दोस्त था। लेकिन इस सर्वे में केवल इतना ही नहीं था। इसमें पुरुषों के लिए एक यह बात भी थी कि तीन में से एक महिला ने कहा कि उन्हें संदेह है कि प्लान-बी के साथ उनका भविष्य होगा या नहीं।

और पढ़ें: फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

वीडियो देखें, शरीर के साथ मानसिक स्वास्थ्य को कैसे बेहतर बनाता है योगा?

सर्वे के बारे में बताते हुए, ऑनलाइन मार्केट रिसर्च कंपनी वन पोल डॉट कॉम (OnePoll.com) के एक प्रवक्ता ने डेली मेल को बताया कि रिलेशनशिप में मौजूद 50 प्रतिशत महिलाओं का ‘प्लान बी’ होना एक चिंताजनक बात है। इसके अलग-अलग कारण हो सकते है। महिलाओं से उनके रिश्ते के बारे में यह कहना कि सब कुछ ठीक है या आने वाले समय में सब ठीक हो जाएगा, उन्हें उनके जीवन का फैसला लेने से नहीं रोकता है। वे जानती हैं कि आने वाले समय में कुछ भी हो सकता है और यह भी सुनिश्चित कर रही हैं कि उनके पास एक ठोस बैकअप प्लान होना चाहिए, जिससे भविष्य में अपने साथी के साथ चीजें गलत होने पर वह अपना बैकअप इस्तेमाल कर सकें। वहीं सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक और ट्विटर ने महिलाओं और पुरुषों को अपने पुराने दोस्तों के साथ संपर्क में रहना आसान बना दिया है। महिलाओं का बैकअप पार्टनर ढूंढने में कई बार सोशल मीडिया भी बड़ा रोल निभाती है। आजकल का दौर सोशल मीडिया का दौर है, ऐसे में पुराने दोस्तों से जुड़ाव रखने में यह महिलाओं की काफी मदद करता है।

भागदौड़ की इस जिंदगी में काम और स्ट्रेस ने लोगों के जीवन में परेशानियां बढ़ा दी है लेकिन कोई भी परेशानी आपस में बात करके हल की जा सकती है। अपने लाइफ में चल रहे स्ट्रेस के बारे में अपने पार्टनर से बात करें और साथ में किसी भी परेशानी का हल निकालें।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Partner insurance : women may have backup romantic partners as a mating strategy https://dspace.sunyconnect.suny.edu/handle/1951/67467 Accessed on 5/12/2019

Half of women have a fall-back partner on standby who has always fancied them, in case their current relationship sours Accessed on 5/12/2019

HALF of women have a fall-back partner on standby who has always fancied them, in case their current relationship turns sour https://www.dailymail.co.uk/femail/article-2769593/HALF-women-fall-partner-standby-fancied-case-current-relationship-turns-sour.html Accessed on 5/12/2019

AOPA’S AVIATION INSURANCE PARTNER ASSUREDPARTNERS AVIATIONhttps://www.aopa.org/About/AOPA-Partners/assuredpartners-aerospace  Accessed on 5/12/2019

 

 

लेखक की तस्वीर badge
Lucky Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/10/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x