home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन पर WHO ने की वाहवाही

कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन पर WHO ने की वाहवाही

कोरोना के खिलाफ भारत: भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है और आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) के मुताबिक कोविड- 19 इंफेक्शन (Covid- 19 Infection) से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 11 हजार के पार जा चुका है। ऐसे में भारत के सामने कोरोना वायरस से लड़ाई करने के लिए ठोस और सख्त कदम उठाने के अलावा कोई रास्ता नहीं है और नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली भारत सरकार कई ठोस और प्रभावशाली उपाय कर रही है। अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन की जमकर तारीफ की और देश की पीठ थपथपाई है। दरअसल, इंडिया को यह वाहवाही 14 अप्रैल के बाद भी लॉकडाउन (Lockdown 2.0) बढ़ाने के कारण मिली है। तो आइए जानते हैं कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने क्या कहा।

कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन पर क्या बोला WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा मंगलवार को की गई घोषणा में 3 मई तक मौजूदा लॉकडाउन बढ़ाने के रूप में कोरोना वायरस के खिलाफ “भारत की सख्त और समय पर कार्रवाई” की तारीफ की है। भारत की वाहवाही करते हुए डब्ल्यूएचओ की साउथ-ईस्ट एशिया रीजनल डायरेक्टर, डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा कि, “अभी परिणामों के बारे में बात करना जल्दबाजी होगी, लेकिन 6 हफ्तों का देशव्यापी लॉकडाउन फिजीकल डिस्टेंसिंग (Physical and Social Distancing) को प्रभावी रूप से लागू करने और कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की जांच, आइसोलेशन और कॉन्टेक्ट ट्रैसिंग (Contact Tracing) करने में काफी मदद करेगा और यह कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।”

यह भी पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

कोविड- 19 (Covid- 19) के खिलाफ भारत की प्रतिबद्धता शानदार

डॉ. पूनम ने आगे कहा कि, “भारत में बड़ी और कई चुनौतियां होने के बावजूद भी यह देश महामारी से लड़ाई में शानदार प्रतिबद्धता का प्रदर्शन कर रहा है। ऐसी परीक्षा की घड़ी में ऐसी कार्रवाई और निर्णय जितने समुदाय के लिए महत्वपूर्ण होते हैं, उतना ही अधिकारियों और हेल्थ वर्कर्स के लिए भी मददगार होते हैं। दरअसल यह समय ऐसा है, जहां प्रत्येक और हर किसी को इस खतरनाक वायरस को हराने के लिए अपना बेस्ट देना है।“

यह भी पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

कोरोना के खिलाफ भारत का एक्शन

इंडिया ने कोरोना वायरस की महामारी को फैलने से रोकने के लिए शुरुआत में ही सोशल डिस्टेंसिंग, स्क्रीनिंग और लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी। जिससे देश में इस महामारी के फैलने का खतरा काफी हद तक कम हुआ है। वरना, भारत जैसी घनी आबादी वाले और विकासशील देश में यह वायरस काफी खतरनाक अंजाम दे सकता था। पीएम मोदी ने 24 मार्च की आधी रात से ही 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी, जो कि 14 अप्रैल को समाप्त होने वाली थी। लेकिन, हालात को देखते हुए यह लॉकडाउन 3 मई तक आगे बढ़ा दिया गया। इसके अलावा भारत ने सही समय पर अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में इंवेस्टमेंट शुरू कर दी है और पहले ही आइसोलेशन बेड, अस्पताल और कोरोना वायरस की टेस्टिंग करने वाले लैब की संख्या बढ़ानी शुरू कर दी है। इन सभी ठोस एक्शन की वजह से पूरी दुनिया और विश्व स्वास्थ्य संगठन भारत की तारीफ करने में लगा है।

यह भी पढ़ें: Lockdown 2.0- भारत में 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 20 अप्रैल के बाद सशर्त मिल सकती है छूट

कोरोना से जंग में भारत ने की दुनिया की मदद

कोरोना वायरस की बीमारी कोविड- 19 के इलाज में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स को प्रभावी माना जा रहा है। जिस वजह से अमेरिका, फ्रांस, इटली जैसे संपन्न और बेहतरीन स्वास्थ्य सेवा रखने वाले देश भी भारत से मदद मांग रहे थे। कोरोना के खिलाफ भारत ने इन देशों समेत करीब 30 देशों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स का निर्यात किया। इसके अलावा, भारत ने नेपाल, श्रीलंका जैसे पड़ोसी देशों की भी काफी मदद की, जिससे अंतर्राष्ट्रीय राजनीति और स्तर पर भारत का कद काफी बढ़ा है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

कोरोना वायरस के भारत में मरीज (How many cases of coronavirus in India?)

भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 15अप्रैल 2020 को सुबह 8 बजे तक देश में 9756 कोरोना वायरस इंफेक्शन से संक्रमित मरीजों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से 1305 का इलाज करने के बाद छुट्टी दे दी गई है, वहीं 377 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक भारत में संक्रमित मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या महाराष्ट्र में हो गई है, जहां 2687 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसके बाद दिल्ली 1561 मामले और तमिलनाडु 1204 केस का नंबर आता है।

कोरोना के खिलाफ भारत : डब्ल्यूएचओ के आंकड़े

डब्ल्यूएचओ ने अपनी दैनिक सिचुएशन रिपोर्ट 85 में कोरोना वायरस से जुड़े आंकड़े पेश किए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, 14 अप्रैल 2020 को सुबह 10 बजे तक दुनियाभर में 18,44,863 संक्रमित मरीज पाए जा चुके हैं, जिसमें से 1,17,021 लोगों की जान जा चुकी है।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

कोरोना वायरस से सावधानी

कोरोना के खिलाफ भारत ने लड़ाई लड़ने के लिए इस महामारी से लोगों को बचने के लिए कुछ सलाह दे रखी हैं। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सबसे पहले हाथों की साफ सफाई का ध्यान रखने की सलाह दी गई है। इसके लिए दिन में कई बार हाथों को अच्छी तरह से धोने के लिए कहा गया है
  2. कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में लॉकडाउन है। इसको फैलने से रोकने के लिए बेवजह घर से बाहर निकलने के लिए मना किया गया है। बहुत जरूी हो तभी किसी से मिलें। कहीं भी भीड़ लगाने से बचें।
  3. कोरोना वायरस हाथों से आपकी आंख, नाक या मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश कर सकता है। यही कारण है कि चेहरे को टच करने से बचने की सलाह दी जा रही है।
  4. अगर आपको कोविड-19 के लक्षण जैसे बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी बिना देरी करें डॉक्टर से कंसल्ट करें।
  5. भारत सरकार का कहना है कि अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  6. एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  7. मास्क को उतारते समय इसे हमेशा पीछे की ओर से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  8. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Why India has the upper hand against COVID-19: https://www.weforum.org/agenda/2020/04/india-covid19-coronavirus-response-kerala-uttar-pradesh/ Accessed on 17/4/2020

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 15/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 15/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 15/4/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 85 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200414-sitrep-85-covid-19.pdf?sfvrsn=7b8629bb_4 – Accessed on 15/4/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 15/4/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Surender aggarwal द्वारा लिखित
अपडेटेड 16/04/2020
x