home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस का इलाज ढूंढने में जुटा भारत, कुष्ठ रोग की दवा का इंसानों पर क्लीनिकल ट्रायल शुरू

कोरोना वायरस का इलाज ढूंढने में जुटा भारत, कुष्ठ रोग की दवा का इंसानों पर क्लीनिकल ट्रायल शुरू

दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना वायरस की वैक्सीन ढूंढने में जुटे हुए हैं। भारत में भी सभी रिसर्च संस्थान कोरोना वायरस की वैक्सीन ढूंढने में पीछे नहीं हैं। CSIR यानी काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च का मानना है कि लेप्रोसी और सेप्सिस जैसी बीमारियों में इस्तेमाल किए जाने वाला टीका कोरोना में कारगर हो सकता है। दवाइयों के क्षेत्र में इस टीके को फिलहाल एमडब्लू (माइक्रो बैक्टोरियल डब्लू) के नाम से जाना जाता है। कोरोना वायरस के इलाज के लिए एमडब्लू वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो गया है। काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ने इसके लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से अप्रूवल लिया है।

कोरोना वायरस के इलाज के लिए एमडब्लू वैक्सीन

शोधकर्ताओं के अनुसार, अब तक किए गए अध्ययनों में देखा गया है कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए एमडब्लू वैक्सीन कारगर साबित हो सकती है। क्योंकि एमडब्लू वैक्सीन में कोरोना जैसी डीएनए को खत्म करने की क्षमता है। यही कारण है कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने भी अब इसे कोरोना पर क्लीनिकल ट्रायल की मंजूरी दे दी है। कोरोना पेशेंट्स पर एमडब्लू वैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर काम शुरू हो गया है। फिलहाल इसके ट्रायल की शुरूआत कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों और गंभीर मरीजों से शुरु की गई है।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

कोरोना वायरस की प्रजाति को लेकर काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ने दी ये जानकारी

काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ने बताया कि भारत में कोरोना वायरस की कई प्रजाति मौजूद हैं। हमारे यहां अलग-अलग देशों से लोग आए हुए हैं। कुछ लोगों में वुहान वाला वायरस नजर आया है। ईरान से जो लोग आए हैं उनमें भी वुहान जैसा ही वायरस पाया गया है। लेकिन इटली से आए लोगों में यूरोप और यूएस के वायरस दिखे हैं। इस तरह हमारे देश में अलग-अलग कोरोना वायरस की प्रजति नजर आ रही हैं। ऐसे में यह देखना है कि किस किस्म के वायरस पर कौन सी दवा असर करती है। हमने इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए वैक्सीन बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। कोरोना वायरस के इलाज के लिए एमडब्लू वैक्सीन कितनी कामयाब है, इसके नतीजे अगले कुछ हफ्तों में सामने आने शुरू हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना वायरस के इलाज के लिए बीसीजी वैक्सीन पर भी वैज्ञानिक कर रहे हैं शोध

इससे पहले एक शोध में यह सामने आया था कि बीसीजी वैक्सीन (BCG Vaccine) लेने वाले लोगों में कोरोना वायरस का खतरा 6 गुना कम होता है। आपको बता दें कि, बीसीजी का टीका ट्यूबरकुलोसिस (Tuberculosis) यानी टीबी से बचाव करने के लिए लगाया जाता है। दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस से बचाव में इस टीके के प्रभाव का टेस्ट किया जा रहा है। बीसीजी के टीके को लेकर माना जा रहा है कि इससे अन्य संक्रमण के खिलाफ व्यक्ति की इम्यूनिटी काफी बढ़ जाती है और वह कोरोना वायरस महामारी से बच सकता है अथवा कोरोना वायरस से होने वाली मौत का खतरा कम किया जा सकता है।

बीसीजी टीके को लेकर भारत सहित कई देशों में कोरोना का प्रभाव कम होने की चर्चा शुरू हुई। यही वो समय था जब भारतीय वैज्ञानिकों का ध्यान एमडब्लू वैक्सीन की तरफ गया। बीसीजी पर फिलहाल कई देश रिसर्च कर रहे हैं। हालांकि यह दावे अपुष्ट हैं। कुछ लोगों का मानना है कि यह परिणाम इसलिए दिख रहा है क्योंकि बीसीजी टीके अधिकतर पिछड़े क्षेत्रों में लगे हैं। वहां ट्रेवल कम होता है और शायद इसीलिए कोरोना का कम असर दिखा।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

कोरोना वायरस के इलाज के लिए एमडब्लू वैक्सीन को लेकर क्या कहते हैं रिसर्चर

काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआइआर) के महानिदेशक डॉ शेखर सी मांडे को उम्मीद है कि यह टीका कोरोना के इलाज में कारगार साबित होगा। उन्होंने बताया फिलहाल निष्कर्ष पर जाने से पहले इसके क्लीनिकल ट्रायल की प्रक्रिया को पूरा करना होगा। क्लीनिकल ट्रायल की प्रक्रिया को पूरा होने में दो महीने का समय लगेगा। उन्होंने कहा कि इस टीके के प्रोडक्शन में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आएगी। अभी भी यह टीका देश में बन रहा है। इस टीके को बनाने के लिए जिन चीजों का इस्तेमाल हो रहा है वो सारी चीजें भारतीय ही हैं। वैसे भी कोरोना की जंग में हमारा पूरा जोर इस बात पर है, कि हम जो भी बनाए, वह भारत में उपलब्ध चीजों से ही बनाया जाए।

1966 में बनी थी ये वैक्सीन

आपको बता दें, एमडब्लू वैक्सीन इम्यूनिटी बढ़ाने वाली बीसीजी वैक्सीन के परिवार की ही वैक्सीन है। इस वैक्सीन को भारतीय वैज्ञानिकों ने 1966 में बनाया था। इसका इस्तेमाल कुष्ठ रोग से बचाव के लिए किया गया। इसके साथ ही एमडब्लू वैक्सीन टीबी और कैंसर में भी उपयोगी पाई गई है। एमडब्लू वैक्सीन का इसतेमाल कुष्ठ रोग (लेप्रोसी) से बचाव के लिए किया जाता है। इसके क्लीनिकल ट्रायल को तीन चरणों में पूरा किया जाएगा। इस ट्रायल में यह पता लगाया जाएगा कि कोरोना वायरस के नियंत्रण में यह वैक्सीन कितनी कारगर साबित होती है। इस दवा के लिए किए जाने वाले परीक्षण में कोविड-19 के गंभीर मरीजों को शामिल नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की जानकारी गलत, जानें क्या है इसका मतलब

कोरोना वायरस से सावधानी

कोरोना की दवा को लेकर पूरी दुनिया में शोध चल रहे हैं। फिलहाल सोशल डिस्टेंस ही इससे बचाव का एकमात्र माध्यम है। भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचना चाहिए।
  2. हाथों को 20 सेकेंड तक अच्छी तरह से धोएं
  3. बेवजह लोगों से न मिलें, भीड़ न लगाएं।
  4. छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर ढकें।
  5. अगर आपको बुखार, खांसी व सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  6. हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  7. अगर आप मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  8. अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें कि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  9. एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  10. मास्क को पीछे की तरफ से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  11. मास्क को इस्तेमाल करने के बाद तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x