home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण फैलने की बात आई सामने, जानें कितनी है इसकी संभावना

डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण फैलने की बात आई सामने, जानें कितनी है इसकी संभावना

डेड बॉडी से कोरोना संक्रमण फैलने की बात कई दिनों से लोगों की चिंता का कारण बनी हुई थी। विश्वभर में अभी तक कोई भी ऐसा मामला नहीं आया था, जहां ये कहा जा सके कि डेड बॉडी से कोरोना संक्रमण फैलता है। लेकिन थाईलैंड से आई खबर सभी लोगों को चौंका सकती है। जी हां ! थाईलैंड में ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक डेड बॉडी से कोरोना संक्रमण फैलने के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई है। थाईलैंड से खबर आई कि कोरोना संक्रमित मरीज की डेडबाडी का पोस्टमार्टम करने से एक शव परीक्षक को कोरोना संक्रमण हो गया। शव परीक्षक की संक्रमण से मौत भी हो गयी। ये अपनी तरह का पहला केस है जहां शव से किसी व्यक्ति को कोरोना का संक्रमण हुआ है। इस घटना के बाद से मुर्दाघर और अंतिम संस्कार स्थलों से कोरोना संक्रमण फैलने की चिंता जताई जा रही है। फिलहाल ये अपनी तरह का पहला केस है। शव से कोरोना संक्रमण फैलता है या फिर नहीं, इस बारे में वैज्ञानिक बता चुके हैं।

ये भी पढ़ेंः नोवल कोरोना वायरस संक्रमणः बीते 100 दिनों में बदल गई पूरी दुनिया

डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण (Coronavirus Spreading From a Dead Body)

आप कोरोना वायरस के लक्षण और कोरोना फैलने के तरीकों के बारे में तो जानते ही होंगे। लेकिन अब तक आपने डेड बॉडी से कोरोना वायरस फैलने की बात नहीं सुनी होगी। थाइलैंड की खबर आने से पहले ही श्रीलंका में कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की अंत्येष्टि जलाकर करने का फैसला लिया जा चुका है। इस वजह से श्रीलंका की सरकार को विशेष समुदाय का विरोध भी झेलना पड़ रहा है। महाराष्ट्र में इस तरह का फैसला लिया गया था, लेकिन कुछ ही दिनों में इसे वापस भी ले लिया गया। अभी तक दुनिया में किसी भी देश से डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण फैलने की खबर सामने नहीं आई थी। शव से कोरोना संक्रमण फैलने की जानकारी जनरल ऑफ फॉरेंसिक एंड लीगल मेडिसिन स्टडी में दी गई है। फोरेंसिक टीम के सदस्य की मौत वाकई पूरी दुनिया के लिए सवाल बन चुका है।

डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण: भारत में छिड़ गई थी बहस

भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शव के दहन के लिए कुछ दिशा-निदेश जारी किए हैं। दिल्ली में COVID-19 के कारण मृत्यु होने के बाद एक महिला के शव के संस्कार को लेकर बहस छिड़ गई थी। उस दौरान दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने यह दावा किया कि डेडबॉडी के अंतिम संस्कार से कोरोना वायरस नहीं फैलता है। इस घटना के बाद चिकित्सकों की एक टीम की निगरानी में महिला का अंतिम संस्कार किया गया था। यानी लोगों के मन में ये शंका जरूर भरी है कि कहीं डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण का खतरा तो नहीं होता है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना के पेशेंट को क्यों पड़ती है वेंटिलेटर की जरूरत, जानते हैं तो खेलें क्विज

शव/डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण: जारी की गई गाइडलाइंस

मेडिकल स्टाफ के लिए सावधानियां

  • शव को शिफ्ट करते समय पीपीई का यूज करें। पीपीई के तहत बड़ा चश्मा, एन95 मास्क, दस्ताने और एप्रन शामिल है। बिना सेफ्टी के शव के पास जाने की इजाजत नहीं है।
  • पेशेंट के शरीर में लगीं सभी ट्यूब बड़ी सावधानी से हटाई जाएं। ब्लीडिंग होने की अगर आशंका हो तो उस स्थान को खुला न छोड़ा जाए।
  • शव से किसी भी प्रकार के तरल पदार्थ का रिसाव नहीं होना चाहिए। इस बात पर पूरी तरह से गौर किया जाए।
  • डेडबॉडी को प्लास्टिक के लीक-प्रूफ बैग में रखा जाए। बैग को एक प्रतिशत हाइपोक्लोराइट की मदद से कीटाणुरहित बनाया जाए। इसके बाद ही डेडबॉडी को सफेद चादर से ढका जाए।
  • परिवार के अलावा किसी को भी डेडबॉडी न देखने दी जाए।
  • कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के इलाज के दौरान जितने भी मेडिकल उपकरण, बैग या चादरें यूज की गई हो, उन्हें नष्ट कर दिया जाए।
    मेडिकल स्टाफ की ये जिम्मेदारी है कि मृतक के परिवार को सावधानी संबंधि सभी जानकारी उपलब्ध कराएं।

ये भी पढ़ेंः डब्ल्यूएचओ ने कोविड-19 के दौरान आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं के लिए जारी किए ये दिशानिर्देश

डेडबॉडी से कोरोना संक्रमण: शवगृह से जुड़ी गाइडलाइंस

  • भारत सरकार के अनुसार, कोविड-19 से संक्रमित शव को ऐसे चेंबर में रखा जाए जिसका टेम्परेचर चार डिग्री सेल्सियस होना चाहिए।
  • शवगृह पूरी तरह से साफ होना चाहिए, यानी गीलापन नहीं होना चाहिए।
  • कोविड-19 से संक्रमित शव को सुरक्षित रखने के लिए उस पर कोई लेप नहीं लगाया जा सकता है। इस पर पूरी तरह से रोक है।
  • कोरोना संक्रमित डेडबॉडी की ऑटोप्सी जरूरी होने पर ही की जाए, वरना न की जाए।
  • शवगृह से COVID-19 शव निकाले जाने के बाद सभी दरवाजे, फर्श और ट्रॉली सोडियम हाइपोक्लोराइट से अच्छी तरह से साफ की जाएं।
  • जिस वाहन को ऐसा शव ले जाने के लिए इस्तेमाल किया गया है, उसे भी बाद में अच्छी तरह से साफ किया जाए।
  • अंतिम संस्कार के दौरान उन्हीं धार्मिक क्रियाओं की अनुमति होगी जिनमें शव को छुआ ना जाता हो।

ये भी पढ़ेंः सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

इन बातों पर दें ध्यान

  1. अगर आपको बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  2. अगर आपको कुछ दिनों से तबियत सही नहीं लग रही है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  3. अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  4. अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें कि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  5. एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें
  6. मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  7. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

भारत में अगर किसी व्यक्ति की कोरोना वायरस के कारण मृत्यु हुई है तो उसे सरकार की ओर से जारी की गई इन गाइडलाइंस का पालन करना बहुत जरूरी है। अगर जारी की गई गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है तो डेडबॉडी से कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा न के बराबर है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

(Accessed on 16/4/2020)

Government of India – Ministry of Health & Family Welfare Directorate General of Health Services (EMR Division) – https://www.mohfw.gov.in/pdf/1584423700568_COVID19GuidelinesonDeadbodymanagement.pdf

Infection Prevention and Control for the safe management
of a dead body in the context of COVID-19 – https://apps.who.int/iris/bitstream/handle/10665/331538/WHO-COVID-19-lPC_DBMgmt-2020.1-eng.pdf

Collection and Submission of Postmortem Specimens from Deceased Persons with Known or Suspected COVID-19 – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/hcp/guidance-postmortem-specimens.html

Precautions for Handling and Disposal of Dead Bodies – https://www.chp.gov.hk/files/pdf/grp-guideline-hp-ic-precautions_for_handling_and_disposal_of_dead_bodies_en.pdf

What to Do After Someone Dies – https://www.nia.nih.gov/health/what-do-after-someone-dies

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 17/04/2020
x